Read more about the article महाबोधि मंदिर का इतिहास और परिचय
महाबोधि मंदिर

महाबोधि मंदिर का इतिहास और परिचय

भारत के बिहार राज्य में बोध गया एक बौद्ध तीर्थ नगरी है। वैसे तो यहां अनेक बौद्ध मंदिर और तीर्थ है परंतु यहां का मुख्य मंदिर महाबोधि मंदिर है। जिसके बारे में हम अपने इस लेख में विस्तार से जानेंगे। बौद्ध गया जहां महाबोधि मंदिर है पहले इस जगह का नाम उरुविल्व था और यहाँ बहुत बड़ा जंगल था और एक निरंजना नाम की नदी थी।…

Continue Readingमहाबोधि मंदिर का इतिहास और परिचय
Read more about the article वृन्दावन धाम – वृन्दावन के दर्शनीय स्थल, मंदिर व रहस्य
वृन्दावन के प्रसिद्ध मंदिरों के सुंदर दृश्य

वृन्दावन धाम – वृन्दावन के दर्शनीय स्थल, मंदिर व रहस्य

दिल्ली से दक्षिण की ओर मथुरा रोड पर 134 किमी पर छटीकरा नाम का गांव है। छटीकरा मोड़ से बाई तरफ पूरब की दिशा में वृन्दावन रोड़ है। इस रोड़ पर 6 किमी के फासले पर राधाकृष्ण के प्रेम रस में सराबोर वृन्दावन धाम स्थित है। वृन्दावन से मथुरा 10 की दूरी पर है। और गोवर्धन पर्वत जिनकी परिक्रमा की जाती है वह 27…

Continue Readingवृन्दावन धाम – वृन्दावन के दर्शनीय स्थल, मंदिर व रहस्य
Read more about the article तारापीठ मंदिर का इतिहास – तारापीठ का श्मशान – वामाखेपा की पूरी कहानी
तारापीठ तीर्थ के सुंदर दृश्य

तारापीठ मंदिर का इतिहास – तारापीठ का श्मशान – वामाखेपा की पूरी कहानी

तारापीठ पश्चिम बंगाल के वीरभूमि जिले में स्थित है। यह जिला धार्मिक महत्व से बहुत प्रसिद्ध जिला है, क्योंकि हिन्दुओं के 51 शक्तिपीठों में से पांच शक्तिपीठ वीरभूमि जिले में ही है। बकुरेश्वर, नालहाटी, बन्दीकेश्वरी, फुलोरा देवी और तारापीठ। तारापीठ यहां का सबसे प्रमुख धार्मिक तीर्थ है। और यह एक सिद्धपीठ भी है। यहां पर एक सिद्ध पुरूष वामाखेपा का जन्म हुआ था, उनका…

Continue Readingतारापीठ मंदिर का इतिहास – तारापीठ का श्मशान – वामाखेपा की पूरी कहानी
Read more about the article तारकेश्वर मंदिर – तारकेश्वर महादेव कोलकाता, बाबा तारकनाथ मंदिर
तारकेश्वर मंदिर के सुंदर दृश्य

तारकेश्वर मंदिर – तारकेश्वर महादेव कोलकाता, बाबा तारकनाथ मंदिर

भारत के बंगाल राज्य की राजधानी कोलकाता से 85 किलोमीटर की दूरी पर हुुगली जिले में तारकेश्वर नामक एक प्रमुख शहर है। यह शहर यहां स्थित ताड़केश्वर मंदिर के रूप में काफी प्रसिद्ध है। इस शहर का नाम भी इस मंदिर के ऊपर ही पड़ा है। तारकेश्वर मंदिर भगवान तारकनाथ को समर्पित है, जो भगवान शिव के ही एक रूप है। अपने इस लेख…

Continue Readingतारकेश्वर मंदिर – तारकेश्वर महादेव कोलकाता, बाबा तारकनाथ मंदिर
Read more about the article गुरूवायूर मंदिर केरल का इतिहास – गरूवायूर टेम्पल दर्शन व हिस्ट्री
गुरूवायूर मंदिर के सुंदर दृश्य

गुरूवायूर मंदिर केरल का इतिहास – गरूवायूर टेम्पल दर्शन व हिस्ट्री

गुरूवायूर मंदिर केरल के गुरुवायूर में स्थित प्रसिद्ध मन्दिर है।यह कई शताब्दी पुराना है और केरल में सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण मन्दिर है। मंदिर के देवता भगवान गुरुवायुरप्पन हैं जो बालगोपालन के रूप में हैं। यह दक्षिण भारत का एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल भी है। कहा जाता है कि स्वंय धर्मराज ने इस मंदिर की प्रतिष्ठा की थी। ममीयूर में भगवान शिव ममीयूरप्पन नाम से प्रख्यात…

Continue Readingगुरूवायूर मंदिर केरल का इतिहास – गरूवायूर टेम्पल दर्शन व हिस्ट्री
Read more about the article कालहस्ती मंदिर का इतिहास, कालहस्ती मंदिर तिरूपति की कथा
कालहस्ती मंदिर के सुंदर दृश्य

कालहस्ती मंदिर का इतिहास, कालहस्ती मंदिर तिरूपति की कथा

श्री कालाहस्ती मंदिर आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले में तिरूपति शहर के पास स्थित कालहस्ती नामक कस्बे में एक शिव मंदिर है। ये मंदिर पेन्नार नदी की शाखा स्वर्णामुखी नदी के तट पर बसा है और कालहस्ती के नाम से भी जाना जाता है। दक्षिण भारत में स्थित भगवान शिव के तीर्थस्थानों में इस स्थान का विशेष महत्व है। दक्षिण भारत में भगवान शिव के…

Continue Readingकालहस्ती मंदिर का इतिहास, कालहस्ती मंदिर तिरूपति की कथा
Read more about the article कुंभकोणम मंदिर – कुंभकोणम तमिलनाडु का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल
कुंभकोणम के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य

कुंभकोणम मंदिर – कुंभकोणम तमिलनाडु का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल

कुंभकोणम दक्षिण भारत का प्रसिद्ध तीर्थ है। यह तमिलनाडु राज्य में चिदंबरम से 32 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। प्रति बारहवें वर्ष यहां कुंभ का मेला लगता है। जिसमें लाखों की संख्या में यात्री एकत्र होते है। तथा कावेरी नदी के इस परम पवित्र तट पर स्नान करते है। कुंभकोणम का संस्कृत नाम कुंभघोवण है। कहते है कि ब्रह्मा जी ने एक घड़ा (कुंभ) अमृत…

Continue Readingकुंभकोणम मंदिर – कुंभकोणम तमिलनाडु का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल
Read more about the article तिरूपति बालाजी दर्शन – तिरुपति बालाजी यात्रा
तिरूपति बालाजी धाम के सुंदर दृश्य

तिरूपति बालाजी दर्शन – तिरुपति बालाजी यात्रा

तिरूपति बालाजी भारत वर्ष के प्रसिद्ध तीर्थ स्थलों मे से एक है। यह आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले मे स्थित है। तिरूपति तमिल भाषा का शब्द है। तिरू का अर्थ है श्री तथा पति का अर्थ है प्रभु। इस प्रकार तिरूपति का सम्मिलित अर्थ है - श्री प्रभु । तिरूमलै वह पर्वत है, जिस पर लक्ष्मी जी के साथ स्वयं विष्णु जी विराजमान है। तिरूपति इसी पर्वत के नीचे…

Continue Readingतिरूपति बालाजी दर्शन – तिरुपति बालाजी यात्रा
Read more about the article चित्रकूट धाम की महिमा मंदिर दर्शन और चित्रकूट दर्शनीय स्थल
चित्रकूट धाम के सुंदर दृश्य

चित्रकूट धाम की महिमा मंदिर दर्शन और चित्रकूट दर्शनीय स्थल

चित्रकूट धाम वह स्थान है। जहां वनवास के समय श्रीराजी ने निवास किया था। इसलिए चित्रकूट महिमा अपरंपार है। यह सदा से ही तपो भूमि रही है। महर्षि अत्रि का आश्रम यही था। आस पास बहुत से ऋषि- मुनि रहते थे।वहां महर्षियै के कुल रहा करते थे। किसी एक तेजस्वी, तपोधन, शास्त्रज्ञ ऋषि के सहारे आस-पास दूसरे तपस्वी, साधनिष्ट व मुनिगण आश्रम बना लेते…

Continue Readingचित्रकूट धाम की महिमा मंदिर दर्शन और चित्रकूट दर्शनीय स्थल
Read more about the article मथुरा दर्शनीय स्थल – मथुरा दर्शन की रोचक जानकारी
मथुरा दर्शनीय स्थलो के सुंदर दृश्य

मथुरा दर्शनीय स्थल – मथुरा दर्शन की रोचक जानकारी

मथुरा को मंदिरो की नगरी के नाम से भी जाना जाता है। मथुरा भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक धार्मिक और पर्यटन महत्व वाला शहर है। मथुरा दर्शनीय स्थल व मंदिर यहा की विरासत है। यह शहर भगवान श्रीकृष्ण की जन्मभूमि के लिए भी प्रसिद्ध है। मथुरा के पर्यटन स्थल व मथुरा के आकर्षक स्थलो में यहा के कलात्मक मंदिर और मथुरा की…

Continue Readingमथुरा दर्शनीय स्थल – मथुरा दर्शन की रोचक जानकारी