Tag: भारत के नोबेल पुरस्कार विजेता

अमर्त्य सेन की बायोग्राफी – अमर्त्य सेन की जीवनी,नोबेल पुरस्कार, सिद्धांत

क्या गरीब होना किस्मत की बात है? क्या अकाल से होने वाली मौतों को किसी भी प्रकार रोका या कम किया जा सकता है? क्यो आज भी विश्व के अधिकांश देश भूखमरी और कुपोषण जैसी गंभीर समस्या से ग्रस्त है, जबकि वे खाद्यान्न के...

वेंकटरमन रामकृष्णन का जीवन परिचय – वेंकटरमन रामकृष्णन महिती इन हिन्दी

एक बार फिर अरबों भारतवासियों के होठों पर आत्म स्वाभिमान की मुस्कराहट खिल उठी। एक बार फिर सारा देश अपनी माटी के एक सपूत की असाधारण ऊपब्धि पर झूम उठा एक बार फिर तिरंगा आसमान में गर्व और उत्साह से लहराकर...

सुब्रह्मण्यम चंद्रशेखर की जीवनी – सुब्रमण्यम चंद्रशेखर नोबेल पुरस्कार विजेता

सुब्रह्मण्यम चंद्रशेखर एक महान खगोल वैज्ञानिक थे। सुब्रमण्यम चंद्रशेखर को खगोल विज्ञान के के क्षेत्र में किए गए उनके महान खोजो व कार्यों के लिए 1983 में विश्व का सबसे प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) प्रदान किया गया था। अपने इस लेख...

मदर टेरेसा की जीवनी – मदर टेरेसा जीवन परिचय, निबंध, योगदान

मदर टेरेसा कौन थी? यह नाम सुनते ही सबसे पहले आपके जहन में यही सवाल आता होगा। मदर टेरेसा यह वो नाम हैं जिसे भारत का बच्चा बच्चा जानता है। क्योंकि स्कूलों के पाठयक्रमों मे मदर टेरसा के बारें में पढ़ाया...

डॉक्टर हरगोविंद खुराना की जीवनी – डॉक्टर हरगोविंद खुराना जीवन परिचय

डॉक्टर हरगोविंद खुराना का जीवन परिचय— सन् 1930 में भौतिकी विज्ञान के क्षेत्र में पाने वाले पहले भारती वैज्ञानिक चंद्रशेखर वेंकटरमन ने एक बार कहा था, कि भारत में मेरे जैसे न जाने कितने ही रमन भरे पड़े है। किंतु आवश्यक...

चन्द्रशेखर वेंकट रमन की जीवनी – वेंकट रमन बायोग्राफी इन हिन्दी

विज्ञान के क्षेत्र में भारत की पताका विश्व भर में फहराने वाले महान वैज्ञानिक चन्द्रशेखर वेंकट रमन का जन्म 7 नवंबर 1888 को दक्षिण भारत के तमिलनाडु राज्य के तिरूचिरापल्ली जिले के थिरूवनैक्कवल नामक गांव में एक साधारण, किंतु ज्ञान-विज्ञान से समृद्ध...

रवीन्द्रनाथ टैगोर की जीवनी – Rabindranath tagore biography

रवीन्द्रनाथ टैगोर, यह वो नाम है, जो भारतीय जनमानस के ह्रदयों में गुरूदेव के नाम से भी सम्मानित है। रवीन्द्रनाथ एक महान कवि साहित्यकार, शिक्षाविद, चित्रकार, संगीत विशारद, नाटककार और राष्ट्रवादी विचारों वाले थे। महाकवि गुरूदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर को विश्व का...