Tag: कर्नाटक के पर्यटन स्थल

नानक झिरा बीदर साहिब – गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब का इतिहास

गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान है। यह उस पठार के किनारे से थोडी दूरी पर है, जहां बीदर स्थित है। गुरूद्वारा की रोड़ से नीचे उतरने...

चिदंबरम मंदिर दर्शन – चिदंबरम टेम्पल हिस्ट्री इन हिन्दी

कर्नाटक राज्य के चिदंबरम मे स्थित चिदंबरम मंदिर एख प्रमुख तीर्थ स्थल है। तीर्थ स्थलों में चिदंबरम का स्थान अति महत्वपूर्ण है। यब मंदिर सब मंदिरों का मंदिर समझा जाता है। प्रसिद्ध नटराज शिवमूर्ति यही स्थापित है। भगवान शिव के पंचतत्व...

चिकबल्लापुर पर्यटन स्थल – चिकबल्लापुर कर्नाटक के टॉप दर्शनीय स्थल

चिकबल्लापुर शहर बैंगलोर से 57 किमी दूर स्थित है। प्रशासनिक रिकॉर्ड के अनुसार, यह शहर कर्नाटक राज्य के नियंत्रण में आता है। और कर्नाटक राज्य का एक प्रमुख जिला है। यह शहर विभिन्न ऐतिहासिक और प्राकृतिक स्थलों का एक आकर्षक दृश्य...

कोलार पर्यटन स्थल – कोलार बेस्ट डेस्टिनेशन इन हिन्दी

बैंगलोर से 80 कि.मी. की दूरी पर, कोलार एक छोटा सा शहर है जो एक समय सोने की खानों के लिए प्रसिद्ध था। सोलार कर्नाटक का एक जिला भी है। कोलार में सोमेश्वर मंदिर और कोलारामा मंदिर जैसे कई पर्यटक आकर्षण...

सकलेशपुर पर्यटन स्थल – सकलेशपुर के टॉप 7 दर्शनीय स्थल

बेलूर से 37 किमी की दूरी पर, और हसन से 44 किमी की दूरी पर, सकलेशपुर या सकलेशपुरा एक पहाड़ी हिल स्टेशन है। कर्नाटक के हसन जिले में यह हिल स्टेशन 3061 फीट की ऊंचाई पर स्थित है, सकलेशपुर, बैंगलोर के...

श्रवणबेलगोला कर्नाटक मे स्थित प्रमुख जैन तीर्थ स्थल

बैंगलोर से 140 कि.मी. की दूरी पर, हसन से 50 किमी और मैसूर से 83 किलोमीटर दूर, श्रवणबेलगोला दक्षिण भारत में सबसे लोकप्रिय जैन तीर्थस्थल केंद्र में से एक है। इस जगह का नाम शहर के मध्य में तालाब के नाम...

बेलूर कर्नाटक राज्य में स्थित मंदिरों का शहर और पर्यटन स्थल

चिकमंगलूर से 25 किमी की दूरी पर, और हसन से 40 किमी की दूरी पर, बेलूर कर्नाटक राज्य के हसन जिले में स्थित बहुत प्रसिद्ध मंदिर शहर है। यह विष्णु के अवतार भगवान चेनेकेव को समर्पित भव्य होसाला मंदिर के लिए...

बीदर का किला – बीदर कर्नाटक के टॉप 10 दर्शनीय स्थल

हैदराबाद से 140 किमी दूर, बीदर कर्नाटक के उत्तर-पूर्वी हिस्से में स्थित एक शहर और जिला मुख्यालय है। बिदर हेदराबाद के पास जाने के लिए सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है और दो दिवसीय यात्रा के लिए प्रसिद्ध हैदराबाद...

शिवनासमुद्र फाल्स – शिवनासमुद्र कर्नाटक में एख खुबसूरत झरना

भारत की खूबसूरत, सुंदर, प्राकृतिक आश्चर्यों से भरपूर धरा मे अनेक खुबसूरत और मनमोहक झरने या जलप्रपात या वाटरफॉल है। उन्हीं में से एक शिवनासमुद्र नामक खूबसूरत झरना है। जिसे शिवसमुद्रम के नाम से भी जाना जाता है। अपने इस लेख...

बांदीपुर नेशनल पार्क जीप सफारी और जंगल में ट्रैकिंग का आनंद

बांदीपुर नेशनल पार्क, मैसूर से 80 किमी की दूरी और ऊटी से 70 किमी और बैंगलोर से 215 किमी दूरी पर बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान भारत के अच्छी तरह से संरक्षित राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है। यह कर्नाटक के चमारजनगर जिले...

कारवार बीच पर्यटन – कर्नाटक के कारवार समुद्र की यात्रा

कारवार हुबली से 167 किमी और बैंगलोर से 517 किमी दूर,और गोवा से 86 किमी की दूरी पर कारवार कर्नाटक के उत्तर कन्नड़ जिले का प्रशासनिक केन्द्र है और कर्नाटक राज्य में स्थित है। यह एक सागर तटीय क्षेत्र है और...

दांदेली कर्नाटक में अभ्यारण्य, ट्रैकिंग, राफ्टिंग, सहासी गतिविधियों का स्थान

दांदेली धारवाड़ से 55 किमी की दूरी पर, हुबली से 73 किमी, बेलगाम से 89 किमी, दांदेली काली नदी के तट पर कर्नाटक के उत्तरा कन्नड़ जिले में एक सुरम्य शहर है। दंदेली कर्नाटक पर्यटन के शीर्ष स्थलों में से एक...

पट्टदकल कर्नाटक के स्मारक परिसरों की जानकारी हिन्दी में

बागलकोट से 45 किलोमीटर, बादामी से 21 किमी और एहोल से 13.5 किलोमीटर दूर, पट्टदकल, मालप्रभा नदी के तट पर कर्नाटक के बागकोट जिले में एक प्रसिद्ध विरासत स्थल है। यह यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है जिसमें बदामी और एहोल...

एहोल पर्यटन स्थल – एहोल के बारें मे जानकारी हिन्दी में

बागलकोट से 33 किमी, बादामी से 34 किमी और पट्टाडकल से 13.5 किलोमीटर दूर, एहोल, मलप्रभा नदी के तट पर कर्नाटक के बागकोट जिले में एक ऐतिहासिक स्थल है। यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल की स्थिति के लिए इसे महत्वपूर्ण माना...

बादामी पर्यटन स्थल – बादामी के टॉप 10 दर्शनीय स्थल

बागलकोट से 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित बादामी, जिसे वाटापी भी कहा जाता है, कर्नाटक के बागलकोट जिले में स्थित एक ऐतिहासिक स्थान है। बदामी 540 से 757 ईस्वी तक शक्तिशाली चालुक्य की राजधानी थीं जिन्होंने 6 वीं और 8...