Category: भारत के हिल्स स्टेशन

कौसानी इंडिया आकर्षक स्थल – कौसानी के बारे में जानकारी

उत्तराखंड राज्य में स्थित कौसानी भारत का एक खूबसूरत हिल्स स्टेशन है। समुद्र तल से लगभग 1980 मीटर की ऊंचाई पर बसा यह पर्वतीय स्थल अपने प्राकृतिक सौंदर्य व मनोहारी दर्शनीय स्थलो के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है। इस पर्वतीय...

तिरूवनंतपुरम के पर्यटन स्थल – तिरूवनंतपुरम के टॉप 10 दर्शनीय स्थल

केरल राज्य की राजधानी तिरूवनंतपुरम को “त्रिवेंद्रम” के नाम से भी जाना जाता है। तिरूवनंतपुरम के पर्यटन स्थल अपनी अदभुत प्राकृतिक सुंदरता व शांत वातावरण के कारण दुनिया भर के सैलानियो लुभाता रहता है। तिरूवनंतपुरम 7 पहाडियो पर बसा हुआ है। यहां अरब...

नेतरहाट पर्यटन स्थल – नेतरहाट के टॉप 5 दर्शनीय स्थल

नेतरहाट झारखंड राज्य के लातेहार जिले में स्थित एक खूबसूरत पहाडी पर्यटन स्थल है। नेतरहाट पर्यटन स्थल अपने अंदर इतनी खूबसूरती समेटे हुए है कि जिसके कारण नेतरहाट को झारखंड का मसूरी भी कहा जाता है। झारखंड की राजधानी रांची से...

मेघालय का इतिहास, खाना, पहनावा, त्यौहार, सांस्कृति, और 10 प्रमुख डिश

भारत देश के उत्तर पूर्वी भाग में एक पहाडी पटटी है। यह पहाडी पट्टी पूर्व से पश्चिम तक लगभग 300 किलोमीटर लंबी और लगभग 100 किलोमीटर चौडी है। इस पहाडी पटटी का कुल क्षेत्रफल 22429 वर्ग किलोमीटर है। यह पहाडी पट्टी...

मैसूर के दर्शनीय स्थल – मैसूर पर्यटन

मैसूर कर्नाटक राज्य का एक खुबसूरत शहर है। मैसूर को बाग बगीचो, महलो और मंदिरो का शहर भी कहा जाता है। यह नगर कभी वोद्यार राजाओ की राजधानी हुआ करता था। यहा विशाल गुम्बद, मीनारे, महल, बाग बगीचे व मंदिर देखने...

मणिपुर का इतिहास पर्यटन खाना नृत्य और 10 प्रमुख डिश व रोचक जानकारी

प्रिय पाठको हमने अपनी उत्तर-पूर्वी भारत की यात्रा के अंतर्गत हमने अपने पिछले कुछ लेखो में उत्तर-पूर्वी भारत के सात राज्यो में से जिन्हे सेवन सिस्टर्स यानि सात बहने कहकर पुकारा जाता है। इमसे से नागालैंड मिजोरम त्रिपुरा मेघालय आदि राज्यो...

जबलपुर पर्यटन – जबलपुर के टॉप 5 पर्यटन स्थल

मध्य प्रदेश का प्रमुख शहर जबलपुर अपनी सांस्कृतिक गतिविधियो व संगमरमरी चट्टानो के लिए विश्व भर में जाना जाता है। गौंड राजाओ की राजधानी तथा कलुचरी वंश के राजाओ की कर्म भूमि रहे जबलपुर को राजा जाजल्यदेव ने बसाया था। वैसे...

लैंसडाउन पर्यटन स्थल – बर्फबारी के सुंदर दृश्य

उत्तराखंड राज्य के पौडी गढवाल जिले में स्थित लैंसडाउन एक खुबसूरत व स्वच्छ हिल्स स्टेशन है। लैंसडाउन समुद्रतल से 1706 मीटर की ऊंचाई पर बसा है। अपने अब तक के जीवन काल में मैने भारत वर्ष के अनेको पर्यटन स्थलो की सैर...

Chamunda devi tample – चामुण्डा देवी का मंदिर कांगडा हिमाचल प्रदेश

श्री महापुराण की कथा के अनुसार सती पार्वती के शव को लेकर जब भगवान शिव तीनो लोको का भ्रमण कर रहे थे तो भगवान विष्णु ने उनका मोह दूर करने के लिए सती के शव को अपने सुदर्शन चक्र से काट...

त्रिपुरा पर्यटन – त्रिपुरा का इतिहास – त्रिपुरा की भाषा – त्रिपुरा का भोजन – त्रिपुरा सुंदरी

प्रिय पाठको हमने अपनी पिछली पोस्ट में उत्तराखंड के खुबसूरत पर्यटन स्थल औली के बारे में विस्तार से जाना था और औली के पर्यटन स्थलो की सैर की थी। अपनी इस पोस्ट में हम भारत के ही एक खुबसूरत राज्य त्रिपुरा...

पहलगाम पर्यटन – पहलगाम का मौसम – पहलगाम से अमरनाथ यात्रा

पहलगाम कश्मीर का सबसे खूबसूरत स्थल है। पहलगाम पर्यटन के शांत, आकर्षक व मनमोहक स्थल सैलानीयो को बरबस ही अपनी ओर आकर्षित करते है। पहलगाम जम्मू कश्मीर प्रान्त के अनंतनाग जिले का एक कस्बा है जो लिद्दर नदी के तट पर...

गुलमर्ग पर्यटन – गुलमर्ग यात्रा – गुलमर्ग के दर्शनीय स्थल – गुलमर्ग का मौसम – गुलमर्ग जम्मू कश्मीर

गुलमर्ग पर्यटन की दृष्टि से भारत के हिल्स स्टैशनो में सबसे खुबसूरत स्थल है। इसकी सुंदरता के कारण इसे ” धरती का स्वर्ग ” एंव ” भारत का स्विट्जरलैंड” भी कहा जाता है। यह जम्मू कश्मीर के साथ साथ देश के...

मशोबरा हिमाचल प्रदेश – मशोबरा शिमला के पास एक खुबसुरत हिल्स स्टेशन

मशोबरा हिमाचल प्रदेश ब्रिटिश दौर का यह छोटा सा खुबसूरत हिल स्टेशन है। मशोबरा समुद्र तल से लगभग 7700 फुट की ऊंचाई पर बसा है। मशोबरा शिमला से मात्र 11 किलोमीटर की दूरी पर शिमला से उत्तर दिशा में स्थित है।...

किन्नौर हिमाचल प्रदेश – किन्नौर का इतिहास – किन्नौर कैलाश – किन्नौर आकर्षक स्थल

किन्नौर हिमाचल प्रदेश का एक जिला है। पर्यटन के इतिहिस में कभी किन्नौर और लाहुल स्पिति जैसे जनजातीय क्षेत्र आम पर्यटको की पहुंच से दूर थे। केवल साधु संन्यासी और साहसी लोग ही अपनी जान जोखिम में डालकर यहा आया जाया...

लाहौल स्पीति – लाहौल स्पीति यात्रा – लाहौल स्पीति वैली – लाहौल स्पीति जिला

एक जिले के रूप में लाहौल स्पीति का अस्तित्व आजादी के बाद उस समय सामने आया था जब हिमाचल प्रदेश का गठन हुआ था। प्राचीन काल से ही लाहौल स्पीति घुमक्कडों. बौद्ध साधको, व्यापारियो और खोजियो को निमंत्रण देता आया है।...