Almorda tourist place उत्तराखण्ड अल्मोडा जिले के प्रमुख पर्यटन स्थल

प्रकृति की गोद में बसा अल्मोडा कुमांऊ का परंपरागत शहर है। अल्मोडा का अपना विशेष ऐतिहासिक, सांस्कृतिक व राजनीतिक महत्व है। ( almorda tourist place ) कभी कुमाऊ की राजधानी रहे अल्मोडा में वर्ष भर सांस्कृतिक उत्सवो की छटा बिखरी रहती है। इस पर 9वी शताब्दी में कत्यूरी वंश के शासको का शासन था। 16वी शताब्दी के मध्य तक इस पर चंद्रवंशीय शासको ने अधिकार कर लिया। अल्मोडा को 1563 में बसाने का स्रेय राजा बालो कल्याण चंद्र को जाता है। 1790 से इस पर गोरखाओ ने शासन किया और 1815में यह अंग्रेजो के आधिपत्य में चला गया। कत्यूरी व चंद्रवंशीय शासको द्धारा बनवाये गए महल व किले आज भी अतीत की यादो को संजोए है। अल्मोडा से हिमाच्छादित शिखरो की लंबी कतार का नयनाभिराम दृश्य दिखाई पडता है। स्लेट की छत वाले पुराने मकान, लालमंडी का किला तथा नरसिंह मंदिर इस नगर की मध्यकालीन विरासते है। अल्मोडा जिला लगभग 3083 वर्ग किलोमीटर मे फैला हुआ है जिसकी सीमाए छ: जिले चमोली, बागेश्वर, पिथौरागढ, चम्पावत, नैनीताल तथा पौडीगढवाल जिलो से मिली हुई है। अल्मोडा जिले में अनेक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है।

 

 

 

Almorda tourist place
अल्मोडा जिले के सुंदर दृश्य

 

 

 

 

Almorda tourist

place

information in

hindi

Utrakhand tourist place neares almorda

 

 

 

 

उत्तराखण्ड अल्मोडा के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल:-

 

 

 

चितई मंदिर:-
यह प्रमुख मंदिर अल्मोडा से लगभग 8 किमी की दूरी पर स्थित है। इस मंदिर को पूरे कुमाऊ छेत्र मे मान्यता है। मंदिर परिसर में असंख्य घंटिया टंगी है।

 

 

 

 

डियर पार्क:-
यह पार्क अल्मोडा से 3 किमी की दूरी पर स्थित है। इस पार्क को एनटीडी के नाम से भी जाना जाता है। तथा इस पार्क मे हिरण की विभिन्न प्रजातिया देखने को मिलती है और सांयकाल के समय लोग यहाँ घूमने भी आते है।

 

 

 

कसार देवी:-
कसार देवी की यह मंदिर अल्मोडा से 5 किमी की दूरी पर स्थित है। द्धितीय शताब्दी में निर्मित यह प्राचीन मंदिर पहाडी की चोटी पर स्थित है। इसके पास ही एक किलोमीटर की दूरी पर कालीमठ एक भ्रमणीय स्थल है।

 

 

 

सिमतोला:-
सिमतोला चीड व देवदार से ढकी सुंदर पहाडियो के मध्य स्थित एक मनोरम स्थल व व्यू पवाइट है। यह अल्मोडा से लगभग तीन किमी की दूरी पर स्थित है।

 

 

 

ब्राइट एंड कार्नर:-
यह स्थान अल्मोडा से 2किमी की दूरी पर स्थित है। यहाँ से सूर्योदय व सूर्यास्त का अत्यन्त सुंदर दृश्य दिखाई देता है। यहाँ रामकृष्ण कुटीर में स्वामी विवेकानंद पुस्तकालय है जहाँ पर आध्यात्मिक चिंतन के कई साहित्य उपलब्ध है। पास ही में विवेकानंद का स्मारक भी है।

 

 

 

कोसी मंदिर:-
कत्यूरी वंश द्धारा 12वी शताब्दी में निर्मित यह भारत के प्राचीन सूर्य मंदिरो में से एक है। यह मंदिर अल्मोडा से 10किमी की दूरी पर स्थित है।

 

 

 

गणनाथ:-
गणनाथ प्राकृतिक गुफाओ और अत्यंत प्राचीन शिव मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। प्रतिवर्ष कार्तिक पूर्णिमा के दिन यहाँ मेला लगता है। यह स्थल अल्मोडा 47किमी की दूरी पर स्थित है।

 

 

 

कौसानी:-
कौसानी की दूरी अल्मोडा से लगभग 50 किमी है। कौसानी कुमाऊं हिमालय की धरा का स्वर्ग है। यह नगर एक पहाड की चोटी पर बसा हुआ है। जिसके दोंनो ओर दूर दूर तक फैली हुई हरी भरी फूलो से भरी घाटियां है।यहां की सुंदरता पर्यटको को सम्मोहित सा कर देती है। महात्मा गांधी ने 1929 में अनासक्ति योग नामक पुस्तक की संरचना यही पर की थी।

 

 

 

Almorda tourist place
Utrakhand tourist place nearest ranikhet

 

 

 

रानीखेत:-
प्रकृति का अनुपम सौंदर्य रानीखेत के कणकण में बसा है। यहाँ का शांत वातावरण, चीड व देवदार के घने जंगल, दूर दूर तक फैली घाटियां, सीढिदार खेत, ठंडी हवा के झोके, फूलो से ढके रास्ते व परिंदो की सूरीली आवाज पर्यटको को मंत्रमुग्ध कर देता है। रानीखेत की अल्मोडा से दूरी लगभग 44किमी है।

 

 

 

झूलादेवी मंदिर:-
यह एक प्रसिद प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर की कलाकृति को देखकर सभी अभिभूत हो जाते है। झूलादेवी मंदिर रानीखेत से 7 किमी की दूरी पर स्थित है।

 

 

 

बिनसर महादेव:-
चीड के पेडो के घने जंगलो के मध्य स्थित यह प्राचीन शिव मंदिर है। करीब ही माता दुर्गा और भगवान राम के दर्शनीय मंदिर भी है। बिनसर महादेव की रानीखेत से दूरी 19किमी के लगभग है।

 

 

 

 

चिलियानौला:-
रानीखेत से चिलिनौला की दूरी 4किमी के लगभग है। यहां पर हेडाखान बाबा का भव्य मंदिर है। इस आधुनिक मंदिर में सभी देंवी देवताओ की कलात्मक मूर्तिया देखने लायक है।

 

 

 

 

ताडीखेत:-
यह स्थान गाँधी कुटी और प्रेम विधालय के कारण प्रसिद है। यह अपनेे प्राकृतिक सौंदर्य के लिए भी जाना जाता है। रानीखेत से ताडीखेत की दूरी चार किमी के लगभग है।

 

 

 

चौबटिया:-
यहां सुंदर बाग बगीचे है। यहां सरकारी उधान व फल अनुसंधान केंद्र भी देखने योग्य है। पास ही में पानी का झरना भी है। जिसके ऊचाई से गिरते संगमरमर जैसे पानी का दृश्य मनमोह लेता है। रानीखेत से चौबटिया की दूरी दस किमी है।

 

 

 

उपत एंव कालिका:- almorda tourist place
यह स्थान रानीखेत अल्मोडा मार्ग पर रानीखेत से छ: किमी की दूरी पर स्थित है। यहां सुंदर गोल्फ का मैदान है। कालिका में कालीदेवी का प्रसिद मंदिर है।

 

 

 

 

चम्पावत जिले के पर्यटन स्थल

चमोली जिले के पर्यटन स्थल

टिहरी जिले के पर्यटन स्थल

देहरादून जिले के पर्यटन स्थल

उधमसिंह नगर जिले के पर्यटन स्थल

बागेश्वर जिले के पर्यटन स्थल

रूद्रप्रयाग जिले के पर्यटन स्थल

 

 

 

मनीला:-
यह मछलियो के शीकार व प्राकृतिक सौदर्य के लिए जाना जाता है।

 

 

 

 

डूंगरी:-
रानीखेत से डूंगरी की दूरी 52किमी के लगभग है। यहाँ दुर्गा माता का एक प्रसिद मंदिर है। इसके आसपास मे देखने योग्य स्थान सुखदेव मुनि आश्रम जो यहा से दो किमी है तथा पांडुखोली जो यहां से दस किमी पर स्थित है।

 

 

 

 

जागधे्श्वर:- almorda tourist place
यह तीर्थ स्थल अल्मोडा से 34 किमी की दूरी पर स्थित है। यहां का शिवलिंग भगवान शिव के बारहा ज्योतिलिंगो मे से एक माना जाता है। देवदार के घने जंगल के मध्य यहां पुरातात्विक महत्व के 164 मंदिरो का समूह है। मंदिरो की नक्क्शी स्थापत्य कला तथा द्धार सजावट मध्यकाल की वास्तुकला व मूर्तिकला का अनुपम संगम है।

 

 

 

(Almorda tourist place) अल्मोडा कैसै पहुँचे:-
हवाई मार्ग- अल्मोडा से निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर 127 किमी दूर है।
रेल मार्ग- निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम 91 किमी की दूरी पर है। दिल्ली, हावडा, बरेली, रामपुर आदि शहरो से यहाँ रेल आती है।
सडक मार्ग- अल्मोडा के लिए उत्तर प्रदेश परिवहन तथा उत्तराखण्ड परिवहन की बसे प्रदेश के सभी प्रमुख शहरो व दिल्ली से निरंतर आती जाती है।

 

 

 

 

उत्तराखंड राज्य के अन्य पर्यटन स्थलों के बारे मे भी पढ़ें

 

 

 

आफिस के काम का बोझ   शहर की भीड़ भाड़ और चिलचिलाती गर्मी से मन उब गया तो हमनें लम्बी
गणतंत्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है । अगर पर्यटन की
पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
बर्फ से ढके पहाड़ सुहावनी झीलें, मनभावन हरियाली, सुखद जलवायु ये सब आपको एक साथ एक ही जगह मिल सकता
हिमालय के नजदीक बसा छोटा सा देश नेंपाल। पूरी दुनिया में प्राकति के रूप में अग्रणी स्थान रखता है ।
नैनीताल मल्लीताल, नैनी झील
देश की राजधानी दिल्ली से लगभग 300किलोमीटर की दूरी पर उतराखंड राज्य के कुमांऊ की पहाडीयोँ के मध्य बसा यह
मसूरी के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
उतरांचल के पहाड़ी पर्यटन स्थलों में सबसे पहला नाम मसूरी का आता है। मसूरी का सौंदर्य सैलानियों को इस कदर
कुल्लू मनाली पर्यटन :- अगर आप इस बार मई जून की छुट्टियों में किसी सुंदर हिल्स स्टेशन के भ्रमण की
हर की पौडी हरिद्वार
उत्तराखंड राज्य में स्थित हरिद्वार जिला भारत की एक पवित्र तथा धार्मिक नगरी के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है।
भारत का गोवा राज्य अपने खुबसुरत समुद्र के किनारों और मशहूर स्थापत्य के लिए जाना जाता है ।गोवा क्षेत्रफल के
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
हरिद्वार जिले के बहादराबाद में स्थित भारत का सबसे बड़ा योग शिक्षा संस्थान है । इसकी स्थापना स्वामी रामदेव द्वारा
खजुराहो ( कामुक कलाकृति का अनूठा संगम भारत के मध्यप्रदेश के झांसी से 175 किलोमीटर दूर छतरपुर जिले में स्थित
भारत की राजधानी दिल्ली के पुरानी दिल्ली इलाके में स्थित ऐतिहासिक मुगलकालीन किला है " लाल किला"। लाल पत्थर से
जामा मस्जिद दिल्ली के सुंदर दृश्य
जामा मस्जिद दिल्ली मुस्लिम समुदाय का एक पवित्र स्थल है । सन् 1656 में निर्मित यह मुग़ल कालीन प्रसिद्ध मस्जिद
उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जनपद के पलिया नगर से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित दुधवा नेशनल पार्क है।
पीरान कलियर शरीफ उतराखंड के रूडकी से 4किमी तथा हरिद्वार से 20 किमी की दूरी पर स्थित   पीरान  कलियर
सिद्धबली मंदिर उतराखंड के कोटद्वार कस्बे से लगभग 3किलोमीटर की दूरी पर कोटद्वार पौड़ी राष्ट्रीय राजमार्ग पर भव्य सिद्धबली मंदिर
राधा कुंड उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर को कौन नहीं जानता में समझता हुं की इसका परिचय कराने की शायद
भारत के गुजरात राज्य में स्थित सोमनाथ मंदिर भारत का एक महत्वपूर्ण  मंदिर है । यह मंदिर गुजरात के सोमनाथ
जिम कार्बेट नेशनल पार्क उतराखंड राज्य के रामनगर से 12 किलोमीटर की दूरी  पर स्थित जिम कार्बेट नेशनल पार्क  भारत का
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
जम्मू कश्मीर भारत के उत्तरी भाग का एक राज्य है । यह भारत की ओर से उत्तर पूर्व में चीन
जम्मू कश्मीर राज्य के कटरा गाँव से 12 किलोमीटर की दूरी पर माता वैष्णो देवी का प्रसिद्ध व भव्य मंदिर
मानेसर झील या सरोवर मई जून में पडती भीषण गर्मी चिलचिलाती धूप से अगर किसी चीज से सकून व राहत
भारत की राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन तथा हजरत निजामुद्दीन दरगाह के करीब मथुरा रोड़ के निकट हुमायूँ का मकबरा स्थित है। यह
कुतुबमीनार के सुंदर दृश्य
पिछली पोस्ट में हमने हुमायूँ के मकबरे की सैर की थी। आज हम एशिया की सबसे ऊंची मीनार की सैर करेंगे। जो
भारत की राजधानी के नेहरू प्लेस के पास स्थित एक बहाई उपासना स्थल है। यह उपासना स्थल हिन्दू मुस्लिम सिख
पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कमल मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर की थी। इस पोस्ट
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध स्थल स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर

Add a Comment