कजरी की नवमी कब और कैसे मनाते है – कजरी पूर्णिमा का व्रत और कथा

कजरी की नवमी का त्योहार हिन्दूमात्र में एक प्रसिद्ध त्योहार है। श्रावण सुदी पूर्णिमा को कजरी पूर्णिमा कहते है। इसी को श्रावणी पूर्णिमा भी कहते हैं। इसी दिन श्रावणी कर्म होता है और रक्षाबंधन भी होता है। किन्तु बुन्देलखण्ड की श्रावणी पूर्णिमा मे कुछ विशेषता है। वह यह कि, वहाँ श्रावणी पूर्णिमा को संध्या के समय कजरी का जुलूस निकलता है। पूर्णिमा से एक सप्ताह पूर्व यानी श्रावण शुक्ला नवमी को कजरी बोई जाती है। सात दिन तक बराबर सन्ध्या को धूप और आरती हुआ करती है। गेहूँ या जौ पानी में फुलाकर दोने मे बो देते हैं ओर उनको ऐसी जगह रखते हैं जहाँ हवा न लगने पाये। हवा न लगने से कजरी का रंग पीला रहता है। कजरी के रंग का सगुन-असगुन भी माना जाता है। जिस नवमी को कजरी बोई जाती है, उसे कज़री की नवमी कहते हैं।

 

 

कजरी की नवमी को जिनके यहाँ कज़री बोई जाती है, लड़के वाली स्त्री व्रत रखती है। उसी दिन गाँव की स्त्रियाँ किसी नियत स्थान पर कजरी बोने की मिट्ठी लेने जाती हैं। वहाँ भी एक छोटा सा मेला जैसा हो जाता है। मिट्टी को घर में लाकर दोनों या खप्परों में भरती है। पुनः जिस कोठे में कजरी को रखना होता है, उस कोठे में दीवार पर नवमी लिखी जाती है। भगवती की प्रतिमा सूचक एक पुतली लिखी जाती है। उसी के समीप एक मढ़ो या मकान, लड़के समेत एक पालना, एक नेवले का बचा और एक स्त्री की आकृति हल्दी से बनाई जाती है। इसी अनगढ़ चित्रकारी को नवमी कहते हैं। इसी नवमी की पूजा करके स्त्रियाँ कजरी बोती हैं। तब फिर नवमी के व्रत के सम्बन्ध की कथा कहती है। कथा के बाद कजरी बोने का गीत गाया जाता है।

 

 

 

कजरी पूर्णिमा की कथा – कजरी की नवमी की कहानी

 

एक स्त्री जन्म-बन्ध्या थी। उसने एक ऐसे नेवले के बच्चे को पाला जिसकी माँ मर गई थी। स्त्री को बाल-बच्चा कुछ तो था ही नही, इस कारण वह नेवले का लड़के की तरह पालन-पोषण करतो थी। दैवयोग से उस सत्री को गर्भ रह गया और नौ महीने बाद एक सुन्दर बालक पैदा हुआ। स्त्री नेवले को अपने पुत्र का बड़ा भाई करके मानती थी।

 

 

श्रावण सुदी नवमी की बात है। स्त्री लड़के को पालने पर लिटाकर आप जल भरने चली गई। चलते समय उसने नेवले से कहा –“जब तक में न आऊँं, तू भाई की रक्षा करना। स्त्री चली गई। नेवला लड़के के पालने के चारों ओर फेरा लगाता हुआ पहरा देने लगा। उसा समय एक सर्प पालने की तरफ झपटा। नेवले ने उसे काटकर टुकड़े-टुकड़े कर दिया।

 

 

सर्प को मारकर नेवला माता को अपनी कृतज्ञता या बहादुरी दिखलाने के लिये बाहर दौड़ा गया। उघर से माँ सिर पर भरे हुए घड़े रखे चली आ रही थी। उसने नेवले के मुख पर रक्त लगा देखकर समझा कि यह लड़के को मारकर अब भागा जा रहा है। इसी कारण क्रोध मे आकर उसने नेवले के ऊँपर घड़ा पटक दिया। नेवला तत्क्षण मर गया। स्त्री दौड़ी हुई घरके भीतर गई, तो देखती क्या है कि लड़का पालने में पड़ा खेल रहा है। उसी के समीप एक बड़ा भयानक सर्प टुकड़े-टुकड़े हुआ पड़ा है। अब उसने जाना कि नेवला सर्प को मारकर मेरे पास दौड़ा गया था। वह अपनी मूर्खता पर पछताने लगी कि मेंने सहसा क्रोध करके बड़ा अनर्थ किया है। बड़े लोगों का यह मत है कि आँखो देखी बात सहसा न मान लेनी चाहिये। हर बात का निर्णय कर लेना चाहिये। हाय ! “मैंने न मानो, तो कौन सुने मेरी विपति कहानी।

 

कजरी की नवमी या कजरी पूर्णिमा
कजरी की नवमी या कजरी पूर्णिमा

 

वह स्त्री सारे दिन रोती रही। दोपहर बाद पड़ोस की स्त्रियाँ उसे नवमी की मिट्टी लाने के लिये बुलाने आई। परन्तु उसको रोते देखकर और उसका कार्य कारण समझकर उन्होने कहा —बीती बात पर पश्चात्ताप करने से क्‍या होता है ? तू ने अब तक खाना नहीं खाया। यह तेरा नवमी का व्रत हो गया। अब चलकर मिट्टी लाओ ओर जहाँ नवमी लिखी जाय उसी जगह इस घटना का चित्र लिखकर पूजा करो। हम लोग भी इस नेवले की कृतज्ञता को चिर – स्मरण रखने के लिये प्रति नवमी को इसकी पूजा किया करेंगे।

 

 

निदान उस स्त्री सब पड़ोसिनो के साथ-साथ नवमी का पूजन किया। कहा जाता है कि उसी दिन से नवमी के व्रत की परंपरा चली है, क्योंकि अब भी सिर्फ लड़के वाली स्त्रियाँ ही कजरी की नवमी का व्रत करती है। कजरी पूर्णिमा को भगवती की आराधना और पूजा भी होती है। कजरी पूर्णिमा के संबंध में एक दूसरी कथा भी प्रचलित है।

 

 

कजरी की नवमी की दूसरी दंतकथा

 

एक स्त्री का नाम बारीबहू था। कजरियों की नवमी को उसने पड़ोसियों से पूछा — आज क्या करना चाहिये। उन्होने कहा कि आज व्रत रहना चाहिये तथा शाम को नवमी की पूजा करनी चाहिये और जो मन आवे सो दान-पुण्य करना चाहिये। तब वह घर मे आकर चादर ओढ़कर लैटी रही। दोपहर को जब उसका आदमी आया और उसने पूछा कि आज रसोई क्यों नही बनाई, वह बोली कि आज तो मेंने व्रत रखा है। तब पति ने कहा– खैर, तूने व्रत रखा है, मैने तो व्रत नही रखा। क्या में योही भूखों मरूँ? स्त्री ने जवाब दिया — चाहे जो हो, में तो नवमी का पूजन किये बिना कोई भी काम नहीं करूँगी। तब पुरुष बोला — अच्छा, तो जो तेरी मर्जी आवे सो कर, मैं तो दूसरे गाँव को जाता हूँ। मुझे जरूरी काम है।

 

 

यह कहकर वह स्त्री के देखते तो बाहर चला गया। परन्तु इधर-उधर करके स्त्री की नजर बचाकर वह कोठिला के भीतर छिपा रहा। अब पति को गया हुआ जानकर स्त्री उठी और बाजार से दो गन्ने लाकर उनको चूस गई। फिर उसने रोटियाँ बनाई और खूब घी लगाकर खाई। थोड़ी देर बाद उसने सिवाई बनाई और घी शक्कर के साथ उसे खा गई। इतने पर भी उसे सन्‍तोष न हुआ। तब उसने खिचड़ी पकाई और घी डालकर इसे भी खा लिया।

 

 

इस प्रकार की पूजा से निवृत्ति लेकर अब उसने नवमी की पूजा की तैयारी की। वह फूहड़ तो थी ही, नवमी लिखना जानती नहीं थी। इसलिये गोबर घोलकर दीवार पर पोत दिया। इसके बाद स्नान करके उसने नवमी की बिढ़ई बनाई और तब पूजा करने बैठी। जैसी नवमी बनाई थी वैसी ही मनमानी पूजा करके वह बोली — “नवमो बाई बिढ़ई खायगी ? पुरुष ने कोठिला से से उत्तर दिया — “हूँ! उसे इस पर आश्चर्य हुआ कि मेरी नवमी बोलती क्‍यों है। फिर उसने कहा–“नौ बासी नौ ताती नौ के चूरे खायगी? पुरूष ने कहा “ हूँ! तब तो उसने गाँव मे जाकर स्त्रियों से कहा— मेरी पूजा से प्रसन्न होकर मेरी नवमी तो बोलती है। यह सुनकर सब स्त्रियों को आश्चर्य हुआ। उन्होने पूछा— तुमने ऐसी कैसी नवमी लिखी है जो बोलती है? उसने उत्तर दिया— मैं नवमी लिखना तो जानती ही नहीं थी— इस कारण मैने गोबर से पोत दिया था।

 

 

गाँव की स्रियाँ फूहड़ की नवमी की बोली सुनने दौड़ी आई। उन्होने फूहड़ के कहे अनुसार वही सवाल किया— नवमी बाई नौ बिढ़ई’ खायगी? पुरुष ने फिर भी पहले जैसा कह दिया। इस पर स्त्रियों को बड़ी ईष्या हुई कि हम लोग जो इतनी श्रद्धा-भक्ति से व्रत और पूजन करती है, हमारी नवमी कभी बोलती ही नहीं। इस फूहड़ की नवमी बोलती है। यह बड़े आश्वर्य की बात है। परन्तु देवताओं की गति देवता ही जाने।

 

 

स्त्रियों के चले जाने पर फूहड़ ने बिढ़ुई भी खाई। फिर वह चारपाई पर बिछौना बिछाकर लैटी रही। संध्या को पुरुष कोठिला से निकलकर खाँसता-खखारता बाहर से घर मे आया। उसने स्त्री को पुकारकर कहा— अरी! किवाड़ तो खाल दे। उसने करवट बदलते हुए कहा— मेरा तो जी अच्छा नहीं है। उठे तो कौन उठे? करवट बदलने मे चारपाई चरचराई, तो वह बोली– देखो मेरी पसलियाँ चरचरा रही हैं, मे उठ नहीं सकती। तब पुरुष किसी तरह किवाड़ खोलकर भीतर आया।

 

 

स्त्री ने पूछा— तुम जिस गाँव को जाने को कहते थे, वहाँ तक गये ही नहीं क्‍या? उसने कहा— हाँ, ऐसी ही बात है। रास्ते मे एक बड़ा सर्प मिल गया, इसीलिए लौट आया हूँ। स्त्री ने पूछा— सर्प कितना बड़ा था?। पुरुष ने कहा— जितना बड़ा गन्ना होता है। वह सरकता कैसे था? जैसे खिचड़ी मे घी सरकता है? यह कहकर उसने झोंटा पकड़कर पीटना शुरू किया। यहाँ तक ठोका कि वह बदहोश हो गई। उसकी पुकार सुनकर पड़ोस की स्त्रियाँ दौड़ आई। पुरुष निकल कर बाहर चला गया। स्त्रियों ने पूछा— अरी ! हुआ क्या? वह बोली— क्या बताऊँ, क्‍या हुआ ? कजरी की नवमी की पूजा हुईं और क्या हुआ।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:——

 

 

ओणम दक्षिण भारत के सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों मे से एक है। यह केरल के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक
भारत विभिन्न संस्कृति और विविधताओं का देश है। यहा के कण कण मे संस्कृति वास करती है। यहा आप हर
थेय्यम केरल में एक भव्य नृत्य त्योहार है और राज्य के कई क्षेत्रों में प्रमुखता के साथ मनाया जाता है।
भारत के प्रसिद्ध त्यौहारों में से एक, केरल नौका दौड़ महोत्सव केरल राज्य की समृद्ध परंपरा और विविध संस्कृति को
अट्टूकल पोंगल केरल का एक बेहद लोकप्रिय त्यौहार है। अट्टुकल पोंगल मुख्य रूप से महिलाओं का उत्सव है। जो तिरुवनंतपुरम
तिरूवातिरा केरल का एक प्रसिद्ध त्यौहार है। मलयाली कैलेंडर (कोला वर्षाम) के पांचवें महीने धनु में क्षुद्रग्रह पर तिरुवातिरा मनाया
मंडला पूजा उत्सव केरल के त्योहारों मे एक प्रसिद्ध धार्मिक अनुष्ठान फेस्टिवल है। मंडला पूजा समारोह मलयालम महीने के वृश्चिक
अष्टमी रोहिणी केरल राज्य में ही नही बल्कि पूरे भारत मे एक प्रमुख त्यौहार है। यह त्यौहार भगवान कृष्ण के
भारत में अन्य त्योहारों की तरह, लोहड़ी भी किसानों की कृषि गतिविधियों से संबंधित है। यह पंजाब में कटाई के
दुर्गा पूजा भारत का एक प्रमुख त्योहार है। जो भारत के राज्य पश्चिम बंगाल का मुख्य त्योहार होने के साथ
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
मुहर्रम मुस्लिम समुदाय का एक प्रमुख त्यौहार है। जो बड़ी धूमधाम से हर देश हर शहर के मुसलमान बड़ी श्रृद्धा भाव
गणगौर का व्रत चैत्र शुक्ला तृतीया को रखा जाता है। यह हिंदू स्त्री मात्र का त्यौहार है। भिन्‍न-भिन्‍न प्रदेशों की
बिहू भारत के असम राज्य का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह तीन त्योहारों का मेल है जो अलग-अलग दिनों
भारत शुरू ही से सूफी, संतों, ऋषियों और दरवेशों का देश रहा है। इन साधु संतों ने धर्म के कट्टरपन
नौरोज़ फारसी में नए दिन अर्थात्‌ नए साल की शुरुआत को कहते हैं। ईरान, मध्य-एशिया, कश्मीर, गुजरात और महाराष्ट्र के
अगर भारत की मिली जुली गंगा-जमुना सभ्यता, हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे के आपसी मेलजोल को किसी त्योहार के रूप में देखना हो
ईद मिलादुन्नबी मुस्लिम समुदाय का प्रसिद्ध और मुख्य त्यौहार है। भारत के साथ साथ यह पूरे विश्व के मुस्लिम समुदाय
ईद-उल-फितर या मीठी ईद मुसलमानों का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह रमजान के महीने के समाप्त होने की खुशी
बकरीद या ईद-उल-अजहा ( ईदुलजुहा) ईदुलफितर के दो महीने दस दिन बाद आती है। यह ईद चूंकि महीने की दस
बैसाखी सिक्ख धर्म का बहुत ही प्रमुख त्योहार माना जाता है। इस दिन गुरु गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की
चैत्र शुक्ला प्रतिपदा को अरुंधती व्रत रखा जाता है। इस व्रत को रखने से पराये मर्द या परायी स्त्री से
रामनवमी भगवान राम का जन्म दिन है। यह तिथि चैत्र मास की शुक्ला नवमी को पड़ती है। चैत्र पद से चांद्र
चैत्र पूर्णिमा श्री रामभक्त हनुमान का जन्म दिवस हैं। इस दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है। कुछ लोग यह जन्म दिवस
वैशाख, आषाढ़ और माघ, इन्हीं तीनों महीनों की किसी तिथि में रविवार के दिन आसमाई की पूजा होती है। जो
ज्येष्ठ बदी तेरस को प्रातःकाल स्वच्छ दातून से दन्तधोवन कर उसी दिन दोपहर के बाद नदी या तालाब के विमल
ज्येष्ठ शुक्ला दशमी को गंगा दशहरा कहते हैं। गंगा दशहरा के व्रत का विधान स्कन्द-पुराण और गंगावतरण की कथा वाल्मीकि रामायण
रक्षाबंधन:-- श्रावण की पूर्णिमा के दिन दो त्योहार इकट्ठे हुआ करते है।श्रावणी और रक्षाबंधन। अनेक धर्म-ग्रंथों का मत है कि
श्रावण शुक्ला पंचमी को नाग-पूजा होती है। इसीलिये इस तिथि को नाग पंचमी कहते हैं। भारत में यह बडे हर्षोल्लास
भारत भर में हरछठ जिसे हलषष्ठी भी कहते है, कही कही इसे ललई छठ भी कहते है। हरछठ का व्रत
भाद्र शुक्ला द्वितीया को अधिकांश गृहस्थो के घर बापू की पूजा होती है। यह बापू की पूजा असल में कुल-देवता
गणेशजी के सम्पूर्ण व्रतों में सिद्धिविनायक व्रत प्रधान है। सिद्धिविनायक व्रत भाद्र-शुक्ला चतुर्थी को किया जाता है। पूजन के आरम्भ
श्रावण मास की शुक्ला चतुर्थी से लगाकर भादों की शुक्ला चतुर्थी तक जो मनुष्य एक बार भोजन कर के एक
भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तीज हस्ति नक्षत्र-युक्त होती है। उस दिन व्रत करने से सम्पूर्ण फलों की प्राप्ति
भाद्रपद शुक्ल सप्तमी को संतान सप्तमी व्रत किया जाता है। इसे मुक्ता-भरण व्रत भी कहते है। यह व्रत सध्यान्ह तक
अश्विन शुक्ला अष्टमी को जीवित्पुत्रिका व्रत होता है। इस व्रत को जीतिया व्रत के नाम से भी जाना जाता है।
कार्तिक कृष्णा-अष्टमी या अहोई अष्टमी को जिन स्त्रियों के पुत्र होता है वह अहोई आठे व्रत करती है। सारे दिन
कार्तिक कृष्णा द्वादशी को गोधूलि-बेला मे, जब गाये चर- कर जंगल से वापस आती हैं, उस समय उन गायों और बछडों

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *