ईद उल फितर क्यों मनाया जाता है – ईद किस महिने के अंत में मनाई जाती है

ईद-उल-फितर या मीठी ईद मुसलमानों का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह रमजान के महीने के समाप्त होने की खुशी में मनाया जाता है। मुस्लिम महीने चांद के कैलेंडर से चलते हैं, इस कारण से मुस्लिम त्योहार अलग-अलग मौसमों में आते रहते हैं।

 

 

ईद उल फितर क्यों मनाई जाती है

रमजान का महीना, इबादत, नफ्शक॒शी (सांसारिक इच्छाओं का दमन) और परहेजगारी का महीना होता है। गर्मी हो या सर्दी सूरज निकलने से पहले सेहरी खा ली जाती है। सेहरी में आमतौर पर दूध, सेवइयां और दूसरी हल्की-फुल्की चीजें खायी जाती हैं। सुबह की अजान होने से दिन डूबने तक खाना यहां तक कि पानी, सिगरेट, बीड़ी पीना तक मना होता है। रोज़ादार के लिए दुनिया की सारी जिम्मेवारिया पूरी करना भी आवश्यक हैं क्‍योंकि इस्लाम तकें-दुनिया (सांसारिक मोह से अलग होना) की शिक्षा नहीं देता ।

 

 

गर्मियों के रोज़े प्यास के कारण बहुत सख्त महसूस होते हैं। रोज़ा मनुष्य को उन गरीबों का दुःख-दर्द महसूस करना सिखाता है, जिनको दो वख्त की रोटी नहीं मिल पाती । इस महीने में संपन्‍न मुसलमानों पर अपनी जायदाद, नगदी और जेवर इत्यादि के मूल्य का ढाई प्रतिशत भाग जकात के रूप में गरीबों में देना भी फर्ज है। रमज़ान का महीना बड़ी धूम-धाम से गुजरता है

 

 

ईद उल फितर
ईद उल फितर

 

सेहरी के समय लोग अधिकतर खुदा-रसूल की शान में मुनाजात और नातें गाते हुए, गली-गली रोजादारों को जगाते फिरतें हैं। रोजा खोलने अर्थात्‌ इफ्तार का नजारा देखने योग्य होता है। रोजादार और यहां तक कि जो रोजा नहीं रहते वह भी फलों, पकोड़ों, चाट और खजूर इत्यादि की इफ्तारी पूरी खुशी से तैयार करते हैं। और मुहल्ले वालों, गरीबों को और मस्जिदों में भिजवाते हैं।

 

 

दिल्‍ली की मस्जिदों में इफ्तार समय होते ही प्रकाश किया जाता है और गोले दागे जाते हैं। सायरन भी बजते हैं। सभी छोटे-बड़ों का एक साथ रोजा खोलना बड़ा भला लगता है। इफ्तार के बाद मगरीब की नमाज पढ़ी जाती है। फिर रोजेदारर आराम करके रात का खाना खाते हैं।

 

 

इन दिनों रात की विशेष नमाज भी पढ़ी जाती है, जिसे तरावीह कहते हैं। इसके दौरान हाफिज लोग कुरआन सुनाते हैं। मस्जिद में जब कुरआन करीम पुरा होता है तो मिठाई बांटी जाती है और हाफिज साहब को कपड़े और उपहार दिए जाते हैं।

 

ईद कैसे मनाई जाती है

रमजान का महीना खत्म होने पर ईद का चांद दिखाई देता है। बच्चे विशेष रूप से छतों पर चढ़ कर चांद देखने के लिए आसमान पर नजर रखते हैं। अगर बादल वर्षा के कारण एक शहर में चांद दिखाई नहीं देता तो दूसरे शहरों के आलिमों की गवाही पर भी चांद का एलान कर दिया ज़ाता है। चांद का एलान होते ही हर ओर हलचल मच जाती है।

 

 

औरतें और लड़कियां अपने जोड़े, चूडियां, मेंहदी और आभूषण सही करने लगती हैं। बच्चे नए कपड़े, जूते, टोपी, रूमाल मिलने की खुशी में मगन होते हैं। चांद रात को सारे बाजार रात भर खुले रहते हैं। सुबह-सवेरे उठकर मर्द और बच्चे सिवाइयां, मिठाई और फल खा कर शहर से बाहर ईदगाह /बडी मस्जिदों में ईद की विशेष नमाज पढ़ने जाते हैं।

 

 

नमाज के बाद लोग गले मिल कर पिछले गिले-शिकवे दूर करते हैं। बच्चे बड़ों से अधिक पैसे ईदी” के नाम पर वसूल करते हैं। संबंधी और मित्र एक दूसरे के घर ईद मिलने जाते हैं। हर ओर “ईद-मुबारक’ का शोर, दावतों की भरमार और मिठाइयां ही मिठाइयां होती हैं। और दो तीन दिनों तक दावतों और सैर-सपाटों का वातावरण रहता है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े——

 

 

ओणम फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
ओणम दक्षिण भारत के सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों मे से एक है। यह केरल के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक Read more
विशु पर्व के सुंदर दृश्य
भारत विभिन्न संस्कृति और विविधताओं का देश है। यहा के कण कण मे संस्कृति वास करती है। यहा आप हर Read more
थेय्यम पर्व नृत्य के सुंदर दृश्य
थेय्यम केरल में एक भव्य नृत्य त्योहार है और राज्य के कई क्षेत्रों में प्रमुखता के साथ मनाया जाता है। Read more
केरल नौका दौड़ महोत्सव के सुंदर दृश्य
भारत के प्रसिद्ध त्यौहारों में से एक, केरल नौका दौड़ महोत्सव केरल राज्य की समृद्ध परंपरा और विविध संस्कृति को Read more
अट्टूकल पोंगल फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
अट्टूकल पोंगल केरल का एक बेहद लोकप्रिय त्यौहार है। अट्टुकल पोंगल मुख्य रूप से महिलाओं का उत्सव है। जो तिरुवनंतपुरम Read more
तिरूवातिरा नृत्य फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
तिरूवातिरा केरल का एक प्रसिद्ध त्यौहार है। मलयाली कैलेंडर (कोला वर्षाम) के पांचवें महीने धनु में क्षुद्रग्रह पर तिरुवातिरा मनाया Read more
मंडला पूजा के सुंदर दृश्य
मंडला पूजा उत्सव केरल के त्योहारों मे एक प्रसिद्ध धार्मिक अनुष्ठान फेस्टिवल है। मंडला पूजा समारोह मलयालम महीने के वृश्चिक Read more
अष्टमी रोहिणी फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
अष्टमी रोहिणी केरल राज्य में ही नही बल्कि पूरे भारत मे एक प्रमुख त्यौहार है। यह त्यौहार भगवान कृष्ण के Read more
लोहड़ी
भारत में अन्य त्योहारों की तरह, लोहड़ी भी किसानों की कृषि गतिविधियों से संबंधित है। यह पंजाब में कटाई के Read more
दुर्गा पूजा पर्व के सुंदर दृश्य
दुर्गा पूजा भारत का एक प्रमुख त्योहार है। जो भारत के राज्य पश्चिम बंगाल का मुख्य त्योहार होने के साथ Read more
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने Read more
मुहर्रम की झलकियां
मुहर्रम मुस्लिम समुदाय का एक प्रमुख त्यौहार है। जो बड़ी धूमधाम से हर देश हर शहर के मुसलमान बड़ी श्रृद्धा भाव Read more
गणगौर व्रत
गणगौर का व्रत चैत्र शुक्ला तृतीया को रखा जाता है। यह हिंदू स्त्री मात्र का त्यौहार है। भिन्‍न-भिन्‍न प्रदेशों की Read more
बिहू त्यौहार के सुंदर दृश्य
बिहू भारत के असम राज्य का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह तीन त्योहारों का मेल है जो अलग-अलग दिनों Read more
हजरत निजामुद्दीन दरगाह
भारत शुरू ही से सूफी, संतों, ऋषियों और दरवेशों का देश रहा है। इन साधु संतों ने धर्म के कट्टरपन Read more
नौरोज़ त्यौहार
नौरोज़ फारसी में नए दिन अर्थात्‌ नए साल की शुरुआत को कहते हैं। ईरान, मध्य-एशिया, कश्मीर, गुजरात और महाराष्ट्र के Read more
फूलवालों की सैर
अगर भारत की मिली जुली गंगा-जमुना सभ्यता, हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे के आपसी मेलजोल को किसी त्योहार के रूप में देखना हो Read more
ईद मिलादुन्नबी त्यौहार
ईद मिलादुन्नबी मुस्लिम समुदाय का प्रसिद्ध और मुख्य त्यौहार है। भारत के साथ साथ यह पूरे विश्व के मुस्लिम समुदाय Read more
बकरीद या ईदुलजुहा
बकरीद या ईद-उल-अजहा ( ईदुलजुहा) ईदुलफितर के दो महीने दस दिन बाद आती है। यह ईद चूंकि महीने की दस Read more
बैसाखी
बैसाखी सिक्ख धर्म का बहुत ही प्रमुख त्योहार माना जाता है। इस दिन गुरु गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की Read more
अरुंधती व्रत
चैत्र शुक्ला प्रतिपदा को अरुंधती व्रत रखा जाता है। इस व्रत को रखने से पराये मर्द या परायी स्त्री से Read more
रामनवमी
रामनवमी भगवान राम का जन्म दिन है। यह तिथि चैत्र मास की शुक्ला नवमी को पड़ती है। चैत्र पद से चांद्र Read more
हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा श्री रामभक्त हनुमान का जन्म दिवस हैं। इस दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है। कुछ लोग यह जन्म दिवस Read more
आसमाई व्रत कथा
वैशाख, आषाढ़ और माघ, इन्हीं तीनों महीनों की किसी तिथि में रविवार के दिन आसमाई की पूजा होती है। जो Read more
वट सावित्री व्रत
ज्येष्ठ बदी तेरस को प्रातःकाल स्वच्छ दातून से दन्तधोवन कर उसी दिन दोपहर के बाद नदी या तालाब के विमल Read more
गंगा दशहरा व गंगा अवतरण कहानी
ज्येष्ठ शुक्ला दशमी को गंगा दशहरा कहते हैं। गंगा दशहरा के व्रत का विधान स्कन्द-पुराण और गंगावतरण की कथा वाल्मीकि रामायण Read more
रक्षाबंधन और श्रावणी पूर्णिमा
रक्षाबंधन:-- श्रावण की पूर्णिमा के दिन दो त्योहार इकट्ठे हुआ करते है।श्रावणी और रक्षाबंधन। अनेक धर्म-ग्रंथों का मत है कि Read more
नाग पंचमी
श्रावण शुक्ला पंचमी को नाग-पूजा होती है। इसीलिये इस तिथि को नाग पंचमी कहते हैं। भारत में यह बडे हर्षोल्लास Read more
कजरी की नवमी या कजरी पूर्णिमा
कजरी की नवमी का त्योहार हिन्दूमात्र में एक प्रसिद्ध त्योहार है। श्रावण सुदी पूर्णिमा को कजरी पूर्णिमा कहते है। इसी Read more
हरछठ का त्यौहार
भारत भर में हरछठ जिसे हलषष्ठी भी कहते है, कही कही इसे ललई छठ भी कहते है। हरछठ का व्रत Read more
गाज बीज माता की पूजा
भाद्र शुक्ला द्वितीया को अधिकांश गृहस्थो के घर बापू की पूजा होती है। यह बापू की पूजा असल में कुल-देवता Read more
सिद्धिविनायक व्रत कथा
गणेशजी के सम्पूर्ण व्रतों में सिद्धिविनायक व्रत प्रधान है। सिद्धिविनायक व्रत भाद्र-शुक्ला चतुर्थी को किया जाता है। पूजन के आरम्भ Read more
कपर्दि विनायक व्रत
श्रावण मास की शुक्ला चतुर्थी से लगाकर भादों की शुक्ला चतुर्थी तक जो मनुष्य एक बार भोजन कर के एक Read more
हरतालिका तीज व्रत
भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तीज हस्ति नक्षत्र-युक्त होती है। उस दिन व्रत करने से सम्पूर्ण फलों की प्राप्ति Read more
संतान सप्तमी व्रत कथा
भाद्रपद शुक्ल सप्तमी को संतान सप्तमी व्रत किया जाता है। इसे मुक्ता-भरण व्रत भी कहते है। यह व्रत सध्यान्ह तक Read more
जीवित्पुत्रिका व्रत कथा
अश्विन शुक्ला अष्टमी को जीवित्पुत्रिका व्रत होता है। इस व्रत को जीतिया व्रत के नाम से भी जाना जाता है। Read more
अहोई आठे
कार्तिक कृष्णा-अष्टमी या अहोई अष्टमी को जिन स्त्रियों के पुत्र होता है वह अहोई आठे व्रत करती है। सारे दिन Read more
बछ बारस का पूजन
कार्तिक कृष्णा द्वादशी को गोधूलि-बेला मे, जब गाये चर- कर जंगल से वापस आती हैं, उस समय उन गायों और बछडों Read more

Add a Comment