होवरक्राफ्ट क्या है इसका आविष्कार कब और कैसे हुआ

होवरक्राफ्ट ये नाम भारत के अधिकतर लोगों के लिए नया है, अधिकतर लोग होवरक्राफ्ट के बारे में नहीं जानते। होवरक्राफ्ट क्या है, यह एक विचित्र प्रकार का वाहन है जो समुंद्र में पानी पर और समुद्र तट, तथा किचड़ में भी चल सकता है। अपने इस लेख में हम जानेंगे कि होवरक्राफ्ट का आविष्कार किसने किया और कैसे हुआ तथा इसका उपयोग किस लिए होता है।

 

 

होवरक्राफ्ट का आविष्कार किसने किया और कैसे हुआ

 

 

होवरक्राफ्ट वाहन इस शताब्दी के अनेक विलक्षण साधनों में से एक है। इस विचित्र वाहन का निर्माण कार्य एक अंग्रेज इंजीनियर सी एस काकरल ने 1953-54 में शरू किया था। छह वर्ष के अथक परिश्रम के बाद सन 1959-60 मे उन्होंने अपने द्वारा बनाए वाहन को प्रदर्शित किया। इन्ही दिनों ऐसे ही वाहन के निर्माण में स्विटजरलैंड के एक आविष्कारक काल वाइलैंड भी लगे हुए थे। अमेरिका की कुछ कंपनियां भी ऐसे ही वाहन के विकास पर कार्य कर रही थी।

 

 

परतु होवरक्राफ्ट के आविष्कार का श्रेय ब्रिटेन के काकरेल को
ही जाता है। इस वाहन को वायुयान और जलयान के मध्य का वाहन माना जाता है। दरअसल काकरेल महोदय जहाज की उस प्रतिरोधक समस्या के हल की तलाश में थे, जो जलयान की सतह और पानी के बीच घर्षण से पैदा होती है और इस घर्षण से उर्जा का बहुत बडा भाग फिजूल में ही नष्ट हो जाता है इस घर्षण के परिणामस्वरूप जहाज की गति भी सीमित हो जाती है। अतः वे इस युक्ति पर विचार कर रहे थे, जिसके आधार पर जहाज का पानी की सतह से ऊपर उठाकर वायु के गद्दे पर चलाया जाए। इस विचार को कार्यरूप देने के लिए उन्होंने एक वाहन बनाया जो इस प्रकार था- वाहन के पदे में लगें एक बडे पंखे से वायु का एक अति उच्च दाब (High Pressure) वाला वायु का गद्दा-सा निर्मित हो जाता था। और हवा आस-पास कई टोटीदार छिद्गों से बाहर निकलती रहती थी। इस प्रकार ‘एक लचकीला-सा आवरण इस वायु को जहाज के तल के नीचे गद्दे की सूरत में बनाए रखता था और जहाज पानी, जमीन या बर्फ अथवा किसी भी ऊंची-नीची, ऊबड-खाबड जगह पर लगभग तीन-चार फूट ऊपर ही टंगा रहता था। इस क्रिया के लिए किसी सतह, पानी या जमीन का आधार होना आवश्यक था। बिना आधार के यान ऊपर टंगा नही रह सकता था। साथ ही यह बहुत ऊंचा भी नहीं उठ सकता था। ऐसे यान का नाम होवरक्राफ्ट रखा गया।

 

होवरक्राफ्ट
होवरक्राफ्ट

 

इसी आधार पर निर्मित सन्‌ 1959 में एक चार टन भारी होवरक्राफ्ट का सफल परीक्षण किया गया। यह वाहन लगभग 30 नॉट के वेग से चलता हुआ समुद्र की सतह पर ऊपर उठकर दौडने लगा और समुद्र से बाहर निकलकर बालू पर दौडने लगा। बालू के ढेर से निकलकर यह एक सडक पर आ गया। इस विचित्र वाहन को सभी सतहो पर समान रूप से दौडता देख लोग विस्मित रह गए। ब्रिटेन के सागर तटों पर इस वाहन के कई परीक्षण किए गए। उसके बाद 1968 से इंग्लिश चेनल के आर-पार एक नियमित होवरक्राफ्ट सेवा आरम्भ कर दी गयी।

 

 

एक होवरक्राफ्ट लगभग 250 यात्रियो को तथा तीस मोटर कारो को लेकर लगभग 60-70 नॉट के वेग से समुद्र की सतह के ऊपर दौड सकता है। तेज रफ्तार में इसकी ऊचाई छह फुट तक हो जाती है। समुद्र की ऊंची-ऊंची लहरे इसके लिए कोई बाधा उत्पन्न नही करती। काकरेल के इस आविष्कार से अन्य कई देशो के
इंजीनियरो ने भी प्रेरणा ली ओर इसमे कुछ सुधार कर इसे और अधिक सुविधाजनक बनाया।

 

 

ब्रिटिश इंजीनियरो का मत है कि होवरक्राफ्ट उन देशो के लिए बडे उपयोगी सिद्ध हो सकते है, जहां संचार साधनों का पर्याप्त विकास नही हो पाया है। उदाहरण के लिए भारत, अफ्रीका, उत्तरी कनाडा, मध्य आस्ट्रेलिया आदि ऐसे देश है। इन देशो में 50 से 100 टन वाले होवरक्राफ्ट नदियों के ऊपर, रेगिस्तान में खंदको आदि में सवारियों और सामान को सरलता से एक स्थान से दूसरे स्थान तक ढो सकते है। इस वाहन को न सड़को की जरूरत है, न बदरगाहों की।

 

 

अमेरीकी इंजीनियरों ने एक ऐसी होवर-रेल का परीक्षण किया है, जो पटरियो को बिना छुए वायु की एक पतली-सी गद्दी पर लगभग 300 मील प्रति घंटे की रफ्तार से दौडती है। फ्रांस, अमेरीका, रूस, जर्मनी आदि देशो में इस किस्म की माना रेले बन चुकी है और उन्हे अधिक सफल बनाने का कार्य तजी से हो रहा है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—-

 

 

ट्रांसफार्मर
ए° सी० बिजली किफायत की दृष्टि से 2000 या अधिक वोल्ट की तैयार की जाती है। घर के साधारण कामों के Read more
डायनेमो सिद्धांत
डायनेमो क्या है, डायनेमो कैसे बने, तथा डायनेमो का आविष्कार किसने किया अपने इस लेख के अंदर हम इन प्रश्नों Read more
बैटरी
लैक्लांशी सेल या सखी बैटरी को प्राथमिक सेल ( प्राइमेरी सेल) कहते हैं। इनमें रासायनिक योग के कारण बिजली की Read more
रेफ्रिजरेटर
रेफ्रिजरेटर के आविष्कार से पहले प्राचीन काल में बर्फ से खाद्य-पदार्थों को सड़ने या खराब होने से बचाने का तरीका चीन Read more
बिजली लाइन
कृत्रिम तरीकों से बिजली पैदा करने ओर उसे अपने कार्यो मे प्रयोग करते हुए मानव को अभी 140 वर्ष के Read more
प्रेशर कुकर
प्रेशर कुकर का आविष्कार सन 1672 में फ्रांस के डेनिस पपिन नामक युवक ने किया था। जब डेनिस पपिन इंग्लेंड आए Read more
इत्र
कृत्रिम सुगंध यानी इत्र का आविष्कार संभवतः सबसे पहले भारत में हुआ। प्राचीन भारत में इत्र द्रव्यो का निर्यात मिस्र, बेबीलोन, Read more
कांच की वस्तुएं
कांच का प्रयोग मनुष्य प्राचीन काल से ही करता आ रहा है। अतः यह कहना असंभव है, कि कांच का Read more
घड़ी
जहां तक समय बतान वाले उपरकण के आविष्कार का प्रश्न है, उसका आविष्कार किसी वैज्ञानिक ने नहीं किया। यूरोप की Read more
कैलेंडर
कैलेंडर का आविष्कार सबसे पहले प्राचीन बेबीलोन के निवासियों ने किया था। यह चंद्र कैलेंडर कहलाता था। कैलेंडर का विकास समय Read more
सीटी स्कैन
सीटी स्कैन का आविष्कार ब्रिटिश भौतिकशास्त्री डॉ गॉडफ्रे हान्सफील्ड और अमरीकी भौतिकविज्ञानी डॉ एलन कोमार्क ने सन 1972 मे किया। Read more
थर्मामीटर
थर्मामीटर का आविष्कार इटली के प्रसिद्ध वैज्ञानिक गेलिलियो ने लगभग सन्‌ 1593 में किया था। गेलिलियो ने सबसे पहले वायु का Read more
पेनिसिलिन
पेनिसिलिन की खोज ब्रिटेन के सर एलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने सन् 1928 में की थी, लेकिन इसका आम उपयोग इसकी खोज Read more
स्टेथोस्कोप
वर्तमान समय में खान पान और प्राकृतिक के बदलते स्वरूप के कारण हर मनुष्य कभी न कभी बिमारी का शिकार Read more
क्लोरोफॉर्म
चिकित्सा विज्ञान में क्लोरोफॉर्म का आविष्कार बडा ही महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। क्लोरोफॉर्म को ऑपरेशन के समय रोगी को बेहोश करने Read more
मिसाइल
मिसाइल एक ऐसा प्रक्षेपास्त्र है जिसे बिना किसी चालक के धरती के नियंत्रण-कक्ष से मनचाहे स्थान पर हमला करने के Read more
माइन
सुरंग विस्फोटक या लैंड माइन (Mine) का आविष्कार 1919 से 1939 के मध्य हुआ। इसका आविष्कार भी गुप्त रूप से Read more
मशीन गन
एक सफल मशीन गन का आविष्कार अमेरिका के हिरेम मैक्सिम ने सन 1882 में किया था जो लंदन में काम कर Read more
बम का आविष्कार
बम अनेक प्रकार के होते है, जो भिन्न-भिन्न क्षेत्रों, परिस्थितियों और शक्ति के अनुसार अनेक वर्गो में बांटे जा सकते Read more
रॉकेट
रॉकेट अग्नि बाण के रूप में हजारों वर्षो से प्रचलित रहा है। भारत में प्राचीन काल से ही अग्नि बाण का Read more

write a comment