हरिराव होलकर का जीवन परिचय हिन्दी में

महाराज हरिराव होलकर

इंदौर  राज्य के महाराजा हरिराव होलकर का जन्म सन् 1795 में हुआ था। इनके पिताका नाम विठोजी राव होलकर था। इन्होंने सन् 1834 से सन् 1843 तक इंदौर राज्य के राज्य सिंहासन पर राज्य किया। इनके शासनकाल में इंदौर राज्य कोई उन्नति न कर सका। अपने इस लेख में हम इन्हीं महाराजा हरिराव होलकर के बारे में कुछ बातें जानेंगे।

 

 

इंदौर के महाराजा हरिराव होलकर का परिचय

 

 

महाराजा मल्हारराव द्वितीय को कोई पुत्र नहीं था। अतएव उनकी रानी साहिबा गौतमाबाई ने अपने पति की मृत्यु के कुछ समय पूर्व ही मार्तण्डराव होलकर को गोद ले लिया था। सन्‌ 1833 की 27 अक्टूबर को वे गद्दी-नशीन हुए। अंग्रेज सरकार ने भी इनकी गद्दी नशीनी मंजूर कर ली। पर इसके कुछ ही समय बाद महाराजा यशवन्तराव के भतीजे हरिराव उनके साथियों द्वारा महेश्वर के किले से मुक्त कर दिये गये। इन्हें स्वर्गीय महाराजा मल्हारराव ने कैद किया था। इनका राजगद्दी पर विशेष अधिकार था। इनके साथी इन्हें मंडलेश्वर में पोलिटिकल ऑफिसर के पास ले गये और वहाँ वे होल्कर राज्य की गद्दी के असली उत्तराधिकारी सिद्ध हुए।

 

 

राज्य की प्रजा और सिपाहियों ने भी मातेण्डराव का पक्ष त्याग कर हरिराव का पक्ष ग्रहण किया। स्वर्गीय महाराजा मल्हारराव द्वितीय की माता तथा पत्नी ने रेसिडेन्ट के आगे मार्तण्डराव के पक्ष का बहुत कुछ सर्मथन किया। पर उनकी एक न चली। अंग्रेज सरकार ने आखिर हरिराव ही को असली उत्तराधिकारी मान कर उन्हें होल्कर राज्य की गद्दी का स्वामी घोषित कर दिया।

 

 

सन्‌ 1834 की 17 अप्रैल को रेसिडेन्ट की उपस्थिति में हरिराव होलकर मसनद पर बिराजे। हरिराव ने रेवाजी फनसे को राज्य का दीवान मुकर्र किया। यह आदमी बहुत खराब चाल-चलन का था। इसे राज्य-शासन का कुछ भी अनुभव न था। इसकी नियुक्ति से राज्य में निराशा ओर असंतोष छा गया। राज्य की आमदनी घट कर 9 लाख रह गई । खर्च बढ़ कर 24 लाख तक पहुँच गया।

 

 

महाराज हरिराव होलकर
महाराज हरिराव होलकर

 

12 लाख केवल फौज के लिये खर्च होते थे। इससे राज्य में अशान्ति और अव्यवस्था का साम्राज्य छा गया। इस अव्यवस्था के कारण लोकमत हरिराव के विरुद्ध ओर मार्तण्डराव के पक्ष में होने लगा। तीन सौ मकरानी और राज्य की फौज के कुछ अफसर मार्तण्डराव से आ मिले। इन सबों ने मिल कर राजमहल को घेर लिया। इन्होंने स्वर्गीय महाराजा मल्हारराव की माता से सहायता के लिये प्रार्थना की। पर उस बुद्धिमती महिला ने इन्कार कर दिया।

 

 

आखिर ये सब लोग तितर-बितर कर दिये गये। इसी समय रेवाजी की बद अशुभ दीवानगिरी का भी अन्त हुआ। सन्‌ 1836 के नवम्बर में रेवाजी अपने पद से अलग कर दिये गये। इनके बाद भी राज्य की दशा खराब ही रही। पश्चात्‌ महाराजा हरिराव के भवानीदीन नामक एक मर्जीदान को दिवानगीरी का पद मिला। यह रेवाजी से भी खराब और अयोग्य था। यह भी उक्त पद से बर्ख्वास्त कर दिया गया। अब महाराजा हरिराव ने अपने हाथों से राज्य-व्यवस्था चलाने का निश्चय किया। पर उनकी तन्दुरुस्ती ने उनका साथ नहीं दिया। अतएव उन्हें बीच बीच में फिर दिवानों को नियुक्त करने की आवश्यकता प्रतीत होने लगी। उन्होंने राज-कार्य में सहायता देने के लिये राजाभाऊ फनसे को बुलाया। पर यह बड़ा शराबी था। इसने भी शासन-काय में अपनी अयोग्यता का परिचय दिया। इसके बाद नारायणराव पलशीकर इस कार्य के लिये बुलाया गया। पर सन्‌ 1837 के अक्टूबर में उक्त दीवान साहब का भी शरीरान्त हो गया। महाराजा हरिराव की तन्दुरुसती गिरती ही गई। राज्य-सम्बन्धी चिन्ताओं ने उनकी तन्दुरुसती को बड़ा धक्का पहुँचा था। आखिर सन्‌ 1843 की 24 अक्टूबर को उनका परलोक-वास हो गया।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

 

बीजापुर का युद्ध
महाराजा जयसिंह जी को दक्षिण भेजते समय औरंगजेब ने उनसे कह दिया था कि शिवाजी और बीजापुर के शासक दोनों Read more
पुरंदर का युद्ध
महाराजा जयसिंह जी मुगल बादशाह के सेनानायके थे। महाराजा जयसिंह जी जैसे अपूर्व रणनीतिज्ञ कुशल थे वैसे ही असाधारण राजनीतिज्ञ Read more
राणा सांगा और बाबर का युद्ध
राणा सांगा और बाबर का युद्ध सन् 1527 में हुआ था। यह राणा सांगा और बाबर की लड़ाई खानवा में Read more
तिरला का युद्ध
तिरला का युद्ध सन् 1728 में मराठा और मुगलों के बीच हुआ था, तिरला के युद्ध में मराठों की ओर Read more
सारंगपुर का युद्ध
मालवा विजय के लिये मराठों को जो सब से पहला युद्ध करना पड़ा वह सारंगपुर का युद्ध था। यह युद्ध Read more
1971 भारत पाकिस्तान युद्ध
भारत 1947 में ब्रिटिश उपनिषेशवादी दासता से मुक्त हुआ किन्तु इसके पूर्वी तथा पश्चिमी सीमांत प्रदेशों में मुस्लिम बहुमत वाले क्षेत्रों Read more
1857 की क्रांति
भारत में अंग्रेजों को भगाने के लिए विद्रोह की शुरुआत बहुत पहले से हो चुकी थी। धीरे धीरे वह चिंगारी Read more
आंग्ल मराठा युद्ध
आंग्ल मराठा युद्ध भारतीय इतिहास में बहुत प्रसिद्ध युद्ध है। ये युद्ध मराठाओं और अंग्रेजों के मध्य लड़े गए है। Read more
आंग्ल मैसूर युद्ध
भारतीय इतिहास में मैसूर राज्य का अपना एक गौरवशाली इतिहास रहा है। मैसूर का इतिहास हैदर अली और टीपू सुल्तान Read more
बक्सर का युद्ध
भारतीय इतिहास में अनेक युद्ध हुए हैं उनमें से कुछ प्रसिद्ध युद्ध हुए हैं जिन्हें आज भी याद किया जाता Read more
ऊदवानाला का युद्ध
ऊदवानाला का युद्ध सन् 1763 इस्वी में हुआ था, ऊदवानाला का यह युद्ध ईस्ट इंडिया कंपनी यानी अंग्रेजों और नवाब Read more
पानीपत का तृतीय युद्ध
पानीपत का तृतीय युद्ध मराठा सरदार सदाशिव राव और अहमद शाह अब्दाली के मध्य हुआ था। पानीपत का तृतीय युद्ध Read more
प्लासी का युद्ध
प्लासी का युद्ध 23 जून सन् 1757 ईस्वी को हुआ था। प्लासी की यह लड़ाई अंग्रेजों सेनापति रॉबर्ट क्लाइव और Read more
करनाल का युद्ध
करनाल का युद्ध सन् 1739 में हुआ था, करनाल की लड़ाई भारतीय इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान रखती है। करनाल का Read more
दिवेर का युद्ध
दिवेर का युद्ध भारतीय इतिहास का एक प्रमुख युद्ध है। दिवेर की लड़ाई मुग़ल साम्राज्य और मेवाड़ सम्राज्य के मध्य में Read more
सिंहगढ़ का युद्ध
सिंहगढ़ का युद्ध 4 फरवरी सन् 1670 ईस्वी को हुआ था। यह सिंहगढ़ का संग्राम मुग़ल साम्राज्य और मराठा साम्राज्य Read more
हल्दीघाटी का युद्ध
हल्दीघाटी का युद्ध भारतीय इतिहास का सबसे प्रसिद्ध युद्ध माना जाता है। यह हल्दीघाटी का संग्राम मेवाड़ के महाराणा और Read more
पंडोली का युद्ध
बादशाह अकबर का चित्तौड़ पर आक्रमण पर आक्रमण सन् 1567 ईसवीं में हुआ था। चित्तौड़ पर अकबर का आक्रमण चित्तौड़ Read more
पानीपत का द्वितीय युद्ध
पानीपत का प्रथम युद्ध इसके बारे में हम अपने पिछले लेख में जान चुके है। अपने इस लेख में हम पानीपत Read more
कन्नौज का युद्ध
कन्नौज का युद्ध कब हुआ था? कन्नौज का युद्ध 1540 ईसवीं में हुआ था। कन्नौज का युद्ध किसके बीच हुआ Read more
%d bloggers like this: