हरतालिका तीज व्रत कथा – हरतालिका तीज का व्रत कैसे करते है तथा व्रत क्यो करते है

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तीज हस्ति नक्षत्र-युक्त होती है। उस दिन व्रत करने से सम्पूर्ण फलों की प्राप्ति होती है। इस व्रत को हरतालिका तीज व्रत कहते है। हरतालिका तीज व्रत के बारे में कहा जाता है कि एक बार।महादेव जी ने पार्वतीजी से कहा था–हे देवी ! सुनो। पूर्व-जन्म में जिस प्रकार इस हरतालिका व्रत को तुमने किया, सो सब कथा में तुम्हारे सामने कहता हूँ। तब पार्वतीजी बोलीं–“अवश्य ही हे प्रभु ! मुझे वह कथा सुनाइये।

 

 

 

हरतालिका तीज व्रत की कथा

 

 

तब शिवजी बोले — उत्तर दिशा में हिमालय नाम का प
पर्वत है। वहाँ गंगाजी के किनारे बाल्यावस्था में तुमने बड़ी कठिन तपस्या की थी। तुमने बारह वर्ष पर्यन्त अर्ध-मुखी ( उलटे ) टंगकर केवल धूम्रपान पर रहीं। चौबीस वर्ष तक सूखे पत्ते खाकर रहीं। माघ के महीने में जल में वास किया और वैशाख मास मे पन्ण्चधूनी तपीं। श्रावण के महीने में निराहार रहकर बाहर वास कियां। तुमको इस प्रकार कष्ट सहते देखकर तुम्हारे पिता को बड़ा दुःख हुआ। उसी समय नारद मुनी तुम्हारे दशनों के लिए वहाँ गये। तुम्हारे पिता हिमालय ने अर्ध-पाद्यादि द्वारा विधिवत्‌ पूजन करके नारद से हाथ जोड़कर प्रार्थना की— हे मुनिवर ! किस प्रयोजन से आपका शुभागमन हुआ है, सो कृपाकर आज्ञा कीजिये।

 

 

 

तब नारदजी बोले— हे हिमवान! में श्री विष्णु भगवान का भेजा हुआ आया हूँ। वे आपकी कन्या के साथ विवाह करना चाहते है। यह सुनकर हिमालय ने नम्रतापूर्वक उत्तर दिया— यदि विष्णु भगवान स्वयं मेरी कन्या के साथ विवाह करना चाहते हैं, तो इसमें मुझे कोई आपत्ति नहीं है। यह सुनकर नारदजी विष्णु-लोक में गये और विष्णु भगवान से बोले— मैंने हिमालय की पुत्री पाती के साथ आपका विवाह निश्चय किया है। आशा है कि आप भी उसे स्वीकार करेंगे।

 

 

 

इधर नारदजी के चले जाने पर हिमालय ने पार्वती से कहा— हे पुत्री! मैने श्री विष्णु भगवान के साथ तुम्हारा विवाह करने का निश्चय किया है। पार्वती को पिता का यह वचन बाण के समान लगा। उस समय तो वह चुप रहीं। परन्तु पिता के पीठ फेरते ही अति दुखी होकर विलाप करने लगी। पार्वती को अत्यन्त व्याकुल और विलाप करते हुए देखकर एक सखी ने कहा— आप क्यों इतनी दुःखी हो रही हैं? अपने दुःख का कारण मुझसे कहिये। में उसे दूर करने का उपाय करूँगी।

 

 

 

तब पार्वती बोलीं— मेरे पिता ने विष्णु के साथ मेरा विवाह करने का निश्चय किया है, परन्तु मे महादेवजी के साथ विवाह करना चाहती हूँ, इसलिये अब मे प्राण त्यागने के लिये उद्यत हूँ। तू कोई उचित सहायता दे। तब सखी बोली— प्राण त्यागने की कोई आवश्यकता नही। मे तुमको ऐसे गहन वन मे ले चलती हूँ कि जहाँ पिताजी को पता भी न मिलेगा। ऐसी सलाह करके सखी श्री पार्वती जी को घोर सघन वन में लिवा ले गई।

 

 

 

जब हिमालय ने पार्वती को घर मे न पाया ते वह इधर- उधर खोज करने लगे, पर कहीं कुछ पता न चला। तब तो हिमालय बड़ा सोच में पड़ गया कि नारदजी से में इस लड़की के विवाह का वचन दे चुका हूँ। यदि विष्णु भगवान ब्याहने आ गये, तो में क्या जवाब दूँगा । इसी चिन्ता और दुख से व्याकुल होकर वह मूर्छित हो भूमि पर गिर पडे। अपने राजा की यह दशा देखकर सब पर्वतों ने कारण पूछा। तब हिमालय राजा ने कहा–मेरी कन्या को न जाने कौन चुरा ले गया है। यह सुनते ही समस्त पर्वतगण जहाँ-तहाँ जंगलों में राजकन्या पाती की खोज करने लगे।

 

 

 

 

इधर पार्वती जी सखी समेत नदी-किनारे एक गुफा में प्रवेश करके शिवजी का भजन पूजन करने लगीं। भादों सुदी तीज को हस्ति नक्षत्र मे पार्वतीजी ने बालू (रेत) का शिवलिंग स्थापित करके, निराहार हरतालिका व्रत करते हुए पूजन आरम्भ किया। रात्रि को गीत-वाद्य ( गाने-बजाने ) सहित जागरण किया। महादेव जी बोले —हे प्रिये ! तुम्हारे हरतालिका तीज व्रत के प्रभाव से मेरा आसन डोल उठा। जिस जगह तुम व्रत-पूजन कर रही थीं, उसी जगह में गया और मैंने तुमसे कहा कि में प्रसन्न हूँ, वरदान मांगे। तब पार्वती (तुम) ने कहा— यदि आप प्रसन्न हैं, तो मुझको अपनी अर्धांगिनी बनाना स्वीकार करें। इस पर महादेवजी वरदान देकर केलाश को चले गये।

 

 

हरतालिका तीज व्रत
हरतालिका तीज व्रत

 

 

सवेरा होते ही पार्वती ने पूजन की सामग्री नदी में विसर्जन की, स्नान किया और सखी-समेत पारण किया। हिमालय स्वयं कन्या को खाजते हुए उसी जगह जा पहुँचे। उन्होंने नदी के किनारे पर दो सुन्दर बालिकाओं के देखा और पार्वती के पास जाकर रुद्रन करते हुए पूछा— तुम इस घोर वन में केसे आ पहुँचीं? तब पाती ने उत्तर दिया— तुमने मुझको विष्णु के साथ विवाहने की बात कही थी, इसी कारण में घर से भागकर यहाँ चली आई हूँ। यदि तुम श्रीशिवजी के साथ मेरा विवाह करने का वचन दो तो में घर को चलूँ , अन्यथा में इसी जगह पर रहूंगी। इस पर हिमालय कन्या को सब प्रकार से सन्तुष्ट करके घर लिवा लाये और फिर कालान्तर में उन्होने विधिपू्र्वक पार्वती का विवाह शिवजी के साथ कर दिया।

 

 

 

हरतालिका तीज व्रत क्यों करते है – हरतालिका तीज व्रत करने की विधि

 

 

 

शिवजी बोले–“हे देवी! जिस व्रत को करने से तुमको यह सौभाग्य प्राप्त हुआ है, सो में कथा कह चुका। अब यह भी जान लो कि इस व्रत को हरतालिका तीज व्रत क्‍यों कहते है। पार्वतीजी ने कहा— हाँ प्रभु! अवश्य कहिये और साथ ही कृपा करके यह बतलाइये कि इस हरतालिका तीज व्रत का क्‍या फल है, हरतालिका तीज व्रत को करने से क्या पुण्य मिलता है, और हरतालिका व्रत करने की विधि है?।

 

 

यह सुनकर शिवजी बोले— तुम ( पार्वती ) को सखी हरण कर के बन मे लिवा ले गई, तब तुमने यह व्रत किया इसका (हरत-आलिका) हरतालिका नाम पड़ा। और इसका फल जो पूछा, सो सौभाग्य को चाहने वाली स्त्री इस व्रत को करे। हरतालिका तीज व्रत की विधि यह है कि प्रथम घर को लोप-पोत कर स्वच्छ कर, सुगन्ध छिड़के, केले के पत्रादि को खम्भ आरोपित कर के तोरण पताकाओं से मण्डप को सजाये, मण्डप की छत पर सुन्दर वस्त्र लगाये। शंख, भेरी, मृदंग आदि बाजे बजाये और सुन्दर मंगल गीत गाये। उक्त मण्डप में पार्वती समेत बालुका (रेत ) का शिवलिंग स्थापित करे। उसका षोड़शोपचार से पूजन करे। चन्दन, अद्यत, धूप, दीप से पूजन करके ऋतु के अनुकूल फल-मूल का नेवेद्य अर्पण करे। रात्रि भर जागरण करे। पूजा करके और कथा सुनकर यथाशक्ति ब्राह्मणों को दक्षिणा देवे। वस्त्र, स्वर्ण, गौ, जो कुछ बन पड़े दान करे। यदि हो सके तो सौभाग्यवती स्त्रियों को सौभाग्यसूचक वस्तुएँ भी दान करें। हे देवी! इस विधि से किया हुआ यह हरतालिका व्रत स्त्रियो को सौभाग्य देने और उसकी रक्षा करने वाला है।

 

 

 

परन्तु जो स्त्री व्रत रखकर फिर मोह के वश हो भेाजन कर लेवे, वह सात जन्म पर्यन्‍त बांझ रहती है और जन्म-जन्मान्तर विधवा होती रहती है। जो स्त्री उपवास नहीं करती। कुछ दिन व्रत रहकर छोड़ देती है, वह घोर नर्क में पड़ती है। पूजन के बाद सोने, चांदी या बाँस के बर्तन में उत्तम भोज्य पदार्थ रख कर ब्राह्मण को दान करे, तब आप पारण करे। हे देवि! जो स्त्री इस विधि से हरतालिका व्रत को करती है वह तुम्हारे समान अटल सौभाग्य और सम्पूर्ण सुख को प्राप्त होकर अन्त में मोक्ष पद लाभ करती है। यदि हरतालिका तीज व्रत न कर सके तो हरतालिका तीज व्रत की कथा को सुनने मात्र से ही अश्वमेघ यज्ञ का फल प्राप्त होता है।

 

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:———–

 

 

ओणम दक्षिण भारत के सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों मे से एक है। यह केरल के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक
भारत विभिन्न संस्कृति और विविधताओं का देश है। यहा के कण कण मे संस्कृति वास करती है। यहा आप हर
थेय्यम केरल में एक भव्य नृत्य त्योहार है और राज्य के कई क्षेत्रों में प्रमुखता के साथ मनाया जाता है।
भारत के प्रसिद्ध त्यौहारों में से एक, केरल नौका दौड़ महोत्सव केरल राज्य की समृद्ध परंपरा और विविध संस्कृति को
अट्टूकल पोंगल केरल का एक बेहद लोकप्रिय त्यौहार है। अट्टुकल पोंगल मुख्य रूप से महिलाओं का उत्सव है। जो तिरुवनंतपुरम
तिरूवातिरा केरल का एक प्रसिद्ध त्यौहार है। मलयाली कैलेंडर (कोला वर्षाम) के पांचवें महीने धनु में क्षुद्रग्रह पर तिरुवातिरा मनाया
मंडला पूजा उत्सव केरल के त्योहारों मे एक प्रसिद्ध धार्मिक अनुष्ठान फेस्टिवल है। मंडला पूजा समारोह मलयालम महीने के वृश्चिक
अष्टमी रोहिणी केरल राज्य में ही नही बल्कि पूरे भारत मे एक प्रमुख त्यौहार है। यह त्यौहार भगवान कृष्ण के
भारत में अन्य त्योहारों की तरह, लोहड़ी भी किसानों की कृषि गतिविधियों से संबंधित है। यह पंजाब में कटाई के
दुर्गा पूजा भारत का एक प्रमुख त्योहार है। जो भारत के राज्य पश्चिम बंगाल का मुख्य त्योहार होने के साथ
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
मुहर्रम मुस्लिम समुदाय का एक प्रमुख त्यौहार है। जो बड़ी धूमधाम से हर देश हर शहर के मुसलमान बड़ी श्रृद्धा भाव
गणगौर का व्रत चैत्र शुक्ला तृतीया को रखा जाता है। यह हिंदू स्त्री मात्र का त्यौहार है। भिन्‍न-भिन्‍न प्रदेशों की
बिहू भारत के असम राज्य का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह तीन त्योहारों का मेल है जो अलग-अलग दिनों
भारत शुरू ही से सूफी, संतों, ऋषियों और दरवेशों का देश रहा है। इन साधु संतों ने धर्म के कट्टरपन
नौरोज़ फारसी में नए दिन अर्थात्‌ नए साल की शुरुआत को कहते हैं। ईरान, मध्य-एशिया, कश्मीर, गुजरात और महाराष्ट्र के
अगर भारत की मिली जुली गंगा-जमुना सभ्यता, हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे के आपसी मेलजोल को किसी त्योहार के रूप में देखना हो
ईद मिलादुन्नबी मुस्लिम समुदाय का प्रसिद्ध और मुख्य त्यौहार है। भारत के साथ साथ यह पूरे विश्व के मुस्लिम समुदाय
ईद-उल-फितर या मीठी ईद मुसलमानों का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह रमजान के महीने के समाप्त होने की खुशी
बकरीद या ईद-उल-अजहा ( ईदुलजुहा) ईदुलफितर के दो महीने दस दिन बाद आती है। यह ईद चूंकि महीने की दस
बैसाखी सिक्ख धर्म का बहुत ही प्रमुख त्योहार माना जाता है। इस दिन गुरु गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की
चैत्र शुक्ला प्रतिपदा को अरुंधती व्रत रखा जाता है। इस व्रत को रखने से पराये मर्द या परायी स्त्री से
रामनवमी भगवान राम का जन्म दिन है। यह तिथि चैत्र मास की शुक्ला नवमी को पड़ती है। चैत्र पद से चांद्र
चैत्र पूर्णिमा श्री रामभक्त हनुमान का जन्म दिवस हैं। इस दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है। कुछ लोग यह जन्म दिवस
वैशाख, आषाढ़ और माघ, इन्हीं तीनों महीनों की किसी तिथि में रविवार के दिन आसमाई की पूजा होती है। जो
ज्येष्ठ बदी तेरस को प्रातःकाल स्वच्छ दातून से दन्तधोवन कर उसी दिन दोपहर के बाद नदी या तालाब के विमल
ज्येष्ठ शुक्ला दशमी को गंगा दशहरा कहते हैं। गंगा दशहरा के व्रत का विधान स्कन्द-पुराण और गंगावतरण की कथा वाल्मीकि रामायण
रक्षाबंधन:-- श्रावण की पूर्णिमा के दिन दो त्योहार इकट्ठे हुआ करते है।श्रावणी और रक्षाबंधन। अनेक धर्म-ग्रंथों का मत है कि
श्रावण शुक्ला पंचमी को नाग-पूजा होती है। इसीलिये इस तिथि को नाग पंचमी कहते हैं। भारत में यह बडे हर्षोल्लास
कजरी की नवमी का त्योहार हिन्दूमात्र में एक प्रसिद्ध त्योहार है। श्रावण सुदी पूर्णिमा को कजरी पूर्णिमा कहते है। इसी
भारत भर में हरछठ जिसे हलषष्ठी भी कहते है, कही कही इसे ललई छठ भी कहते है। हरछठ का व्रत
भाद्र शुक्ला द्वितीया को अधिकांश गृहस्थो के घर बापू की पूजा होती है। यह बापू की पूजा असल में कुल-देवता
गणेशजी के सम्पूर्ण व्रतों में सिद्धिविनायक व्रत प्रधान है। सिद्धिविनायक व्रत भाद्र-शुक्ला चतुर्थी को किया जाता है। पूजन के आरम्भ
श्रावण मास की शुक्ला चतुर्थी से लगाकर भादों की शुक्ला चतुर्थी तक जो मनुष्य एक बार भोजन कर के एक
भाद्रपद शुक्ल सप्तमी को संतान सप्तमी व्रत किया जाता है। इसे मुक्ता-भरण व्रत भी कहते है। यह व्रत सध्यान्ह तक
अश्विन शुक्ला अष्टमी को जीवित्पुत्रिका व्रत होता है। इस व्रत को जीतिया व्रत के नाम से भी जाना जाता है।
कार्तिक कृष्णा-अष्टमी या अहोई अष्टमी को जिन स्त्रियों के पुत्र होता है वह अहोई आठे व्रत करती है। सारे दिन
कार्तिक कृष्णा द्वादशी को गोधूलि-बेला मे, जब गाये चर- कर जंगल से वापस आती हैं, उस समय उन गायों और बछडों

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *