हरछठ का व्रत कैसे करते है – हरछठ में क्या खाया जाता है – हलषष्ठी व्रत कथा हिंदी

भारत भर में हरछठ जिसे हलषष्ठी भी कहते है, कही कही इसे ललई छठ भी कहते है। हरछठ का व्रत भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाया जाता है। यह पर्व भगवान श्रीकृष्ण के ज्येष्ठ भ्राता श्री बलराम जी के जन्मोत्सव के रूप में भी मनाया जाता है। इसी दिन श्री बलरामजी का जन्म हुआ था। इसी को बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

 

 

 

हरछठ व्रत कैसे करते है – हरछठ में क्या खाया जाता है

 

भाद्र कृष्णा षष्टी को यह व्रत और पूजन होता है। व्रत रहने वाली स्त्रियाँ उस दिन महुआ की दातून करती हैं। ज्यादातर लड़के वाली स्त्री ही यह व्रत करती है। हरछठ के उपवास मे हल द्वारा जोता-बोया हुआ अन्न या कोई फल नहीं खाया जाता। गाय का दूध-दही भी मना है। सिर्फ भैंस के दूध-दही या घी स्त्रियां काम में लाती है। शाम के समय पूजा के लिए मालिन हरछठ बनाकर लाती है। उसमें झडबेरी, कास और पलास तीनो की एक- एक डालियाँ एकत्र बँधी होती हैं। ज़मीन लीपकर और चौक पूरकर स्त्रियाँ हरछट वाले गुलदस्ते को गाड़ देती हैं। कच्चे सूत का जनेऊ पहनाकर तब उसको चन्दन, अक्षत, धूप, दीप, नैवैद्य यादि से पूजा करती हैं। पूजा मे सतनजा (गेहूँ, चना, जुआर, अरहर, धान, मूँग, मक्का ) चढ़ाकर सूखी धूलि, हरी कजरियाँ, होली की राख या चने का होरहा, और होली की भुनी गेहूँ की बाल भी चढ़ाती हैं। इसके अलावा कुछ गहना, हल्दी से रंगा हुआ कपड़ा आदि चीज़ों को भी हरछठ के आसपास रख देती हैं। पूजा के अन्त में भैंस के मक्खन का भोग किया जाता है। तब कथा कही जाती है। हरछठ को श्रावण के त्योहारों की अन्तिम अवधि समभनी चाहिए।

 

 

 

हरछठ की कथा – हलषष्ठी व्रत कथा हिंदी

 

हरछठ की कथा इस प्रकार है कि एक ग्वालिन गर्भ से थी। एक तरफ तो उसका पेट दर्द कर रहा था, दूसरी तरफ उसका दही-दूध बेचने को रखा था। उसने अपने मन में सोचा कि यदि बच्चा हो जायेगा तो फिर दही-दूध न बिक सकेगा। इस कारण जल्द जाकर बेच आना चाहिए। वह दही- दूध की मटकियाँ सर पर रखकर घर से चली।

 

 

वह चलती हुईं एक खेत के पास पहुँची। खेत मे किसान हल जोत रहा था। उसी जगह स्त्री के पेट में अधिक पीड़ा होने लगी। वह भडबेरी के झाड़ों को आड़ मे उसी जगह बैठ गई और लड़का पैदा हो गया। उसने लडके को कपडे सें लपेटकर उसी जगह रख दिया और स्वयं दही-दूध बेचने चली गई।

 

 

हरछठ का त्यौहार
हरछठ का त्यौहार

 

 

उस दिन हरछठ थी। उसका दूध गाय-भैंस का मिला हुआ था, परन्तु ग्वालिन ने अपने दही-दूध को केवल भैंस का बतलाकर गाँव में बेच दिया। इधर हलवाले के बैल विदककर खेत की मेड़ पर चढ़ गये। हलवाले को क्‍या मालूम था कि यहाँ बच्चा रखा है। दुर्भाग्यवश हल की नोक लड़के के पेट मे लग गई, उसका पेट फट गया और वह मर भी गया। हलवाले को इस घटना पर बहुत दुःख हुआ, पर लाचारी थी। उसने झड़बेरी के कॉटों से लड़के के पेट मे टाँके लगा दिए और उसे यथास्थान पड़ा रहने दिया।

 

 

इतने में ग्वालिन दूध-दही बेचकर आई। उसने जो देखा तो बालक मरा पड़ा था। वह समझ गई कि यह मेरे पाप का परिणाम है। मैने अपना दूध-दही बेचने के लिए झूठी बात कहकर सब व्रत वालियों का धर्म नष्ट किया। यह उसी की सज़ा है। अब मुझे जाकर अपना पाप प्रकट कर देना चाहिये। आगे भगवान की जो मरजी होगी।

 

 

यह निश्चय करके यह उसी गाँव को फिर वापस चली गई, जहाँ दूध बेचकर आईं थी। उसने वहाँ गली-गली घूमकर कहना शुरू किया— मेरा दही-दूध गाय-भैंस का मिला हुआ था। यह सुनकर स्त्रियों ने उसे आशीर्वाद देने शुरू किये। उन्होंने कहा– तूने बहुत अच्छा किया जो सच-सच कह दिया। तूने हमारा धर्म रखा। ईश्वर तेरी लज्जा रखे। तू बढ़े, तेरा पूत बढ़े।

 

 

अनेक स्त्रियों के ऐसे आशीर्वाद लेकर वह फिर उसी खेत पर गई, तो उसने देखा कि लड़का पलास की छाया मे पड़ा खेल रहा है। उसी समय से उसने प्रण किया कि अब अपना पाप छिपाने के लिए झूठ कभी न बोलूगी। क्योंकि पाप का परिणाम बुरा होता है। जिस पाप को छिपाने के लिए झूठ बोला जाता है, वह भी उम्र हो जाता है और झूठ बोलने का दूसरा पाप सिर चढ़ता है। हरछठ के संबंधित एक दूसरी कथा और प्रचलित है।

 

 

हरछठ की दूसरी कथा

 

देवरानी-जेठानी दो स्त्रियाँ थी। देवरानी का नाम था सलोनी और जेठानी का नाम तारा था। सलोनी जैसी सुन्दरी थी, वैसी ही सदाचारिणी सुशीला और दयावान थी। परन्तु तारा ठीक उसके प्रतिकूल, पूर्ण दुष्टा और दयाहीन थी।

 

 

एक बार दोनों ने हरछठ का व्रत किया। संध्या को दोनों भोजन बनाकर ठंडा होने के लिए थालियाँ परोस आई और आँगन में बैठकर एक दूसरी के सिर में जूँ देखने लगीं। उस दिन देवरानी ने खीर बनाई थी और जिठानी ने महेरी बनाई थी। दुर्भाग्यवश दोनों के घरों मे कुत्ते घुस पड़े और परोसी हुई थालियाँ खाने लगे। घरों के भीतर “चप चप” शब्द सुनकर वे अपने-अपने घरों में दौड़ी गई। सलोनी ने देखा कि कुत्ता खीर खा रहा है। वह कुछ न बोली बल्कि जो कुछ खीर बची-बचाई बनाने के बरतन में लगी थी, उसे भी उसने थाली मे परोसकर कहा— यह सब भोजन तेरे हिस्से का है अच्छी तरह खां ले। मुझे जो कुछ ईश्वर देगा सो देखा जायगा।

 

 

 

उधर तारा ने घर में कुत्ते को देखकर हाथ से मूसल उठाया, ओर कुत्ते को घर के भीतर छेककर इतना मारा कि उसकी कमर टूट गई। कुत्ता अधमरा हो किसी तरह जान बचाकर भागा। कुछ देर के बाद दोनों कुत्ते आपस मे मिले। तब एक ने दूसरे से पूछा— कहो, क्या हाल है? दूसरे ने कहा— पहले तुम्हीं कहो। मेरा तो जो हाल है, सो देखते हो? तब पहला बोला— भाई ! बड़ी नेक स्त्री थी, मुझे उसने खीर खाते देखकर उफ भी नहीं किया। मैने भर पेट भोजन किया और आराम से चला आया। मेरी आत्मा उसे आशीर्वाद देती है। मै तो भगवान से बार-बार यही मांगता हूँ कि अब जो मरूँ, तो उसी का पुत्र होकर आजन्म उसी की सेवा करूँ और जैसे उसने आज मेरी आत्मा तृप्त की है, वैसा मे जन्म भर उसकी आत्मा को सन्‍तोष देता रहूं।

 

 

तब दूसरा बोला— मेरी तो बुरी दशा हुईं, पहले तो थाली में मुँह डालते दाँत गोठले हो गये। परन्तु भूख के मारे फिर दो-चार निवाले चाटकर में भागने ही वाला था, तब तक वह आ गई। उसने तो मार-मारकर मेरी कमर हो तोड़ दी। अब में इश्वर से यह मांगता हूँ कि अब की बार मर कर में उसका पुत्र होऊं तो उससे अपना पूरा बदला लूँ। उसने मूसलों से मेरी कमर तोड़ी है, परन्तु मैं भीतरी मार से उसका दिल और कमर दोनों तोड़ दूँगा।

 

 

 

देवात्‌ दूसरा कुत्ता उसी दुःख में मर गया और उसी स्त्री का पुत्र होकर जन्मा। दूसरी हरछठ को जब घर घर पूजा होती थी, वह लड़का मर गया। तारा को इससे बहुत दुख हुआ। परन्तु मरने-जीने पर किसी का कुछ वश नहीं चलता, यह सोचकर उसने सन्‍तोष कर लिया। किन्तु अब तो यह एक नित-नियम सा हो गया कि हर साल उसके लड़का होता ओर हर साल ठीक हरछठ के दिन मर जाता था। तब उसे शंका हुईं कि इसका कोई विशेष कारण है। वह रात्रि में पड़ी-पड़ी भगवान्‌ से प्रार्थना करने लगी— हे प्रभु! मेरा जाने-अनजाने का पाप क्षमा करो! मुझे समझ में नहीं आता कि मैने कौन सा ऐसा पाप किया है जिसके कारण मेरा हर त्योहार को अनिष्ट होता है।

 

 

 

इसी विचार में वह सो गई। स्वप्न में उसी कुत्ते ने सामने आकर उससे कहा— में ही तेरा पुत्र होकर मर जाता हूँ। तू ने जो मेरे प्रति दुष्टता की थी अब में उसी का बदला तुमसे ले रहा हूं। स्त्री ने पूछा— अब जिससे तू राजी हो सके कह में वही करूँगी। उसने जवाब दिया— अब से हरछट के व्रत मे हल का जोता-बोया अन्न या फल ही खाना। गाय का दूध-मठ्ठा नहीं खाना। होली की भूनी बाल, होली की धूलि इत्यादि चीज़े हरछठ की पूजा में चढ़ायेगी तो मैं तेरे यहाँ रहूँगा अन्यथा नहीं। तेरी पूजा के समय तारागण छिटकें, तब तू समझना कि अब रहूंगा। उसने कहा– तारागण छिटकाना तो मेरे वश का नहीं। उसके स्थान सें धान या ज्वार के लावा बखेर दूँगी। कुत्ते ने कहा– यह भी हो सकता है। परन्तु इस बात का मन में निश्चय संकल्प कर ले कि अब ऐसी दुष्टता और निर्यता का व्यवहार किसी के साथ न करोगी। तारा ने अपनी आदते बदलने का कसम खाई। तभी से उसके लड़के जीने लगे।

 

 

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:——

 

 

ओणम दक्षिण भारत के सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों मे से एक है। यह केरल के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक
भारत विभिन्न संस्कृति और विविधताओं का देश है। यहा के कण कण मे संस्कृति वास करती है। यहा आप हर
थेय्यम केरल में एक भव्य नृत्य त्योहार है और राज्य के कई क्षेत्रों में प्रमुखता के साथ मनाया जाता है।
भारत के प्रसिद्ध त्यौहारों में से एक, केरल नौका दौड़ महोत्सव केरल राज्य की समृद्ध परंपरा और विविध संस्कृति को
अट्टूकल पोंगल केरल का एक बेहद लोकप्रिय त्यौहार है। अट्टुकल पोंगल मुख्य रूप से महिलाओं का उत्सव है। जो तिरुवनंतपुरम
तिरूवातिरा केरल का एक प्रसिद्ध त्यौहार है। मलयाली कैलेंडर (कोला वर्षाम) के पांचवें महीने धनु में क्षुद्रग्रह पर तिरुवातिरा मनाया
मंडला पूजा उत्सव केरल के त्योहारों मे एक प्रसिद्ध धार्मिक अनुष्ठान फेस्टिवल है। मंडला पूजा समारोह मलयालम महीने के वृश्चिक
अष्टमी रोहिणी केरल राज्य में ही नही बल्कि पूरे भारत मे एक प्रमुख त्यौहार है। यह त्यौहार भगवान कृष्ण के
भारत में अन्य त्योहारों की तरह, लोहड़ी भी किसानों की कृषि गतिविधियों से संबंधित है। यह पंजाब में कटाई के
दुर्गा पूजा भारत का एक प्रमुख त्योहार है। जो भारत के राज्य पश्चिम बंगाल का मुख्य त्योहार होने के साथ
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
मुहर्रम मुस्लिम समुदाय का एक प्रमुख त्यौहार है। जो बड़ी धूमधाम से हर देश हर शहर के मुसलमान बड़ी श्रृद्धा भाव
गणगौर का व्रत चैत्र शुक्ला तृतीया को रखा जाता है। यह हिंदू स्त्री मात्र का त्यौहार है। भिन्‍न-भिन्‍न प्रदेशों की
बिहू भारत के असम राज्य का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह तीन त्योहारों का मेल है जो अलग-अलग दिनों
भारत शुरू ही से सूफी, संतों, ऋषियों और दरवेशों का देश रहा है। इन साधु संतों ने धर्म के कट्टरपन
नौरोज़ फारसी में नए दिन अर्थात्‌ नए साल की शुरुआत को कहते हैं। ईरान, मध्य-एशिया, कश्मीर, गुजरात और महाराष्ट्र के
अगर भारत की मिली जुली गंगा-जमुना सभ्यता, हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे के आपसी मेलजोल को किसी त्योहार के रूप में देखना हो
ईद मिलादुन्नबी मुस्लिम समुदाय का प्रसिद्ध और मुख्य त्यौहार है। भारत के साथ साथ यह पूरे विश्व के मुस्लिम समुदाय
ईद-उल-फितर या मीठी ईद मुसलमानों का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह रमजान के महीने के समाप्त होने की खुशी
बकरीद या ईद-उल-अजहा ( ईदुलजुहा) ईदुलफितर के दो महीने दस दिन बाद आती है। यह ईद चूंकि महीने की दस
बैसाखी सिक्ख धर्म का बहुत ही प्रमुख त्योहार माना जाता है। इस दिन गुरु गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की
चैत्र शुक्ला प्रतिपदा को अरुंधती व्रत रखा जाता है। इस व्रत को रखने से पराये मर्द या परायी स्त्री से
रामनवमी भगवान राम का जन्म दिन है। यह तिथि चैत्र मास की शुक्ला नवमी को पड़ती है। चैत्र पद से चांद्र
चैत्र पूर्णिमा श्री रामभक्त हनुमान का जन्म दिवस हैं। इस दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है। कुछ लोग यह जन्म दिवस
वैशाख, आषाढ़ और माघ, इन्हीं तीनों महीनों की किसी तिथि में रविवार के दिन आसमाई की पूजा होती है। जो
ज्येष्ठ बदी तेरस को प्रातःकाल स्वच्छ दातून से दन्तधोवन कर उसी दिन दोपहर के बाद नदी या तालाब के विमल
ज्येष्ठ शुक्ला दशमी को गंगा दशहरा कहते हैं। गंगा दशहरा के व्रत का विधान स्कन्द-पुराण और गंगावतरण की कथा वाल्मीकि रामायण
रक्षाबंधन:-- श्रावण की पूर्णिमा के दिन दो त्योहार इकट्ठे हुआ करते है।श्रावणी और रक्षाबंधन। अनेक धर्म-ग्रंथों का मत है कि
श्रावण शुक्ला पंचमी को नाग-पूजा होती है। इसीलिये इस तिथि को नाग पंचमी कहते हैं। भारत में यह बडे हर्षोल्लास
कजरी की नवमी का त्योहार हिन्दूमात्र में एक प्रसिद्ध त्योहार है। श्रावण सुदी पूर्णिमा को कजरी पूर्णिमा कहते है। इसी
भाद्र शुक्ला द्वितीया को अधिकांश गृहस्थो के घर बापू की पूजा होती है। यह बापू की पूजा असल में कुल-देवता
गणेशजी के सम्पूर्ण व्रतों में सिद्धिविनायक व्रत प्रधान है। सिद्धिविनायक व्रत भाद्र-शुक्ला चतुर्थी को किया जाता है। पूजन के आरम्भ
श्रावण मास की शुक्ला चतुर्थी से लगाकर भादों की शुक्ला चतुर्थी तक जो मनुष्य एक बार भोजन कर के एक
भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तीज हस्ति नक्षत्र-युक्त होती है। उस दिन व्रत करने से सम्पूर्ण फलों की प्राप्ति
भाद्रपद शुक्ल सप्तमी को संतान सप्तमी व्रत किया जाता है। इसे मुक्ता-भरण व्रत भी कहते है। यह व्रत सध्यान्ह तक
अश्विन शुक्ला अष्टमी को जीवित्पुत्रिका व्रत होता है। इस व्रत को जीतिया व्रत के नाम से भी जाना जाता है।
कार्तिक कृष्णा-अष्टमी या अहोई अष्टमी को जिन स्त्रियों के पुत्र होता है वह अहोई आठे व्रत करती है। सारे दिन
कार्तिक कृष्णा द्वादशी को गोधूलि-बेला मे, जब गाये चर- कर जंगल से वापस आती हैं, उस समय उन गायों और बछडों

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *