हनुमान जयंती का महत्व – हनुमान जयंती का व्रत कैसे करते है और इतिहास

चैत्र पूर्णिमा श्री रामभक्त हनुमान का जन्म दिवस हैं। इस दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है। कुछ लोग यह जन्म दिवस कार्तिक कृष्ण चतुदर्शी को मानते है। किन्तु अधिकतर चैत्र पूर्णिमा के ही पक्ष में हैं। हम भी यही मानते हैं। हनुमान, युग प्रसिद्ध रामभक्त ओर हमारे देश की एक विशेष जाति वानर के नेता है। वे सदा ही अपने को रामभक्त कहते है। उनके लिए संसार में राम के सिवा और कुछ नहीं है। हनुमान जैसा भक्त कोई नही हुआ।

 

 

हनुमान जयंती का महत्व

हनुमान के पिता पवन हैं, और माता अंजना। वे दौड़ सकते है, वे उड़ सकते है। रामायण में हनुमान का विशेष स्थान है। उन्होंने अपने पूरे दलबल के साथ रावण के विरुद्ध युद्ध में श्री राम का साथ दिया। ये देववंश के हैं, और उनमें मानवेतर शक्ति है। हनुमान की महती शक्ति का इसी से अनुमान किया जाना चाहिए कि वे एकबारगी ही भारत से लंका तक कूद गये थे, वे हिमालय उठा लेते थे, वे मेधों को बाँध लेते थे और उन्होंने महा प्रबला सुरसा का दमन किया था। वे कपीश है। वे अतुलित बलधाम है। महावीर हैं, विक्रम है, बजरंगी हैं, कुमति के विनाशक और सुमति के संगी हैं। वे कुण्डलयुक्त हैं, उनके कुचितकेश हैं। वे पर्वत की तरह हैं। उनका रंग पिघलते सुवर्ण की तरह। उनके हाथ में गदा है, काँधे पर जनेऊ। वे शंकर के सुत समझ जाते है, वे केशरी नन्‍दन है। वें बढे वीर है, बडे पण्डित है। उनकी बडी लम्बी पूंछ है, इतनी लम्बी और इतनी भारी कि महाबलशाली भीम भी उसे नही उठा सकते थे। वे बादल की तरह चलते है, वे सागर की तरह गरजते है।

 

 

एक बार रावण ने उनकी पूँछ का हल्का सा अपमान किया फलस्वरूप उन्होंने सारी लंका को जला दिया था। इसी से उन्हें लंकादही कहते है। हनुमान राम-भक्त हैं, राम दूत है और राम के सेनानायक हैं। रामादेश मे वे लक्ष्मण के लिए हिमालय गये। उन्होने कालनेमि का नास किया। उन्होंने लक्ष्मण को जीवन दान दिया।

 

 

हनुमान जयंती
हनुमान जयंती

 

लंका विजय के बाद हनुमान राम और सीता के साथ अयोध्या आये। वहाँ उनका अनुपम स्वागत सत्कार हुआ। भगवान्‌ राम ने उन्हें भरत जैसा बन्धु घोषित किया और उन्हें शाश्वत जीवन और चिर्रतन यौवन का वरदान दिया। हनुमान की विविध कथाएँ हमारे साहित्य में भरी पड़ी है। वे आनिलि हैं, मारुति है, आजनेय हैं। वे योगी है, ब्रह्मचारी है एवं रजतद्युति हैं। ज्ञान-विज्ञान में वे अनुपम हैं, कला कौशल में बेजोड़ है, और वे बहे शास्त्रज्ञ और बड़े महान बैयाकरण है। कहा जाता है कि हनुमान नाटक के रचियता हनुमान स्वयं हैं। रामभक्‍त हनुमान राम के ही अवतार माने गये है।

 

 

हनुमान जयंती श्री रामनवमी की तरह ही विधिपूर्वक आदर और गरिमा के साथ सम्पादित होती हैं। व्रत रखा जाता है, उपवास किया जाता है, और पंचामृत स्नानादि होता है। तेल सिन्दूर से श्रृंगार होता है एवं प्रसाद चढ़ता है, प्रसाद में भुने या भीगे चने, गुड और बेसन के लड्डू, मोतीचूर के लड्‌डू अथवा रोट का महत्व है। हनुमान जी को यह श्रृंगार और यह प्रसाद अत्यधिक पसन्द है। तैल-सिन्दूर तो उनके स्वरूप के अनुकूल है। यह विशेष प्रसाद उनका सारे वानर जाति का अत्यन्त प्यारा हैं। वैसे भी चना शीतल, रूखा, रक्‍तपित और कफनाशक और वायुवद्धक तथा भीगा चना कोमल रुचिवाद्धक पित और शुक्र को मिटाने वाला है इसी प्रकार गुड़ के अपार गुण हैं। वह शक्तिदायक है, वायुनाशक है और रक्तशोधक है। चना और गुड का संयोग बड़ा लाभ प्रद होता है। हनुमान इसे पाकर बडे प्रसन्न होते है।

 

 

हनुमान जयंती का व्रत

हनुमान जयंती के दिन उपवास, जागरण पंचामृत स्नान और प्रतिमा अर्चना और हवन का बढ़ा महत्त्व और भारी पुष्य हैं। दूध, दही, घी, मधु और शर्करा का यह पंचामृत उपवास के दिन प्राशन करने के लिए रखकर ऋषियों ने बढ़ा उपकार किया है। प्रतिमा अर्चना और हवन एक प्रकार का यज्ञ है। यह यज्ञ ईष्ट कामना को पूर्ण करने वाला हैं। इससे नित नवीनता आती है और सदा कल्याण होता है। मनोरथ पूर्ण होते हैं और आध्यात्मिक विकास होता है। इसी प्रकार हवन भी मनोरथ पूर्ण करने वाला तथा दान सकल पुण्य दाता है। इस अवसर पर उपवास करने वाला जन्म-जन्मान्तर के पापों को भस्मकर परम पद को प्राप्त करता है। सकल प्राणी उसकी पूजा अर्चना करते है और वह राम भक्त हनुमान की तरह ही नही स्वयं भगवान राम की तरह हो जाता हैं।

 

 

हनुमान जयंती का व्रत अन्य सकल व्रतो के करने का फल देने वाला है। सब व्रतों की सिद्धि इसी एक व्रत से हो जाती है। कहा गया है कि सब व्रतों की सिद्धि के लिए हनुमान जयंती का व्रत करना चाहिए। इस व्रत से सब गुप्त किंवा प्रकट पाप विनष्ट हो जाते है। इसके एक उपवास से मनुष्य कृतकृत्य हो जाता है। कार्तिक पूर्णिमा में स्कंद यात्रा से जो फल मिलता हैं। वह इससे होता है। जो फल कुरुक्षेत्र, भृगुक्षेत्र, द्वारका और प्रयाग की यात्रा से होता है वही फल हनुमान जयंती के व्रत से होता है। करोड़ों सूर्य ग्रहण में करोड़ो बार स्वर्णदान का फल इससे सुलभ है। काशी, प्रयाग, मथुरा, रामेश्वर तथा द्वादश ज्योर्तिलिंगों की यात्रा का फल इससे सहज में ही मिल जाता है। सागर भले हो सूख जाये, हिमालय भछे ही ढह जाये किन्तु हनुमान जयंती व्रत का फल अक्षय रहता हैं।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:——

 

ओणम फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
ओणम दक्षिण भारत के सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों मे से एक है। यह केरल के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक Read more
विशु पर्व के सुंदर दृश्य
भारत विभिन्न संस्कृति और विविधताओं का देश है। यहा के कण कण मे संस्कृति वास करती है। यहा आप हर Read more
थेय्यम पर्व नृत्य के सुंदर दृश्य
थेय्यम केरल में एक भव्य नृत्य त्योहार है और राज्य के कई क्षेत्रों में प्रमुखता के साथ मनाया जाता है। Read more
केरल नौका दौड़ महोत्सव के सुंदर दृश्य
भारत के प्रसिद्ध त्यौहारों में से एक, केरल नौका दौड़ महोत्सव केरल राज्य की समृद्ध परंपरा और विविध संस्कृति को Read more
अट्टूकल पोंगल फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
अट्टूकल पोंगल केरल का एक बेहद लोकप्रिय त्यौहार है। अट्टुकल पोंगल मुख्य रूप से महिलाओं का उत्सव है। जो तिरुवनंतपुरम Read more
तिरूवातिरा नृत्य फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
तिरूवातिरा केरल का एक प्रसिद्ध त्यौहार है। मलयाली कैलेंडर (कोला वर्षाम) के पांचवें महीने धनु में क्षुद्रग्रह पर तिरुवातिरा मनाया Read more
मंडला पूजा के सुंदर दृश्य
मंडला पूजा उत्सव केरल के त्योहारों मे एक प्रसिद्ध धार्मिक अनुष्ठान फेस्टिवल है। मंडला पूजा समारोह मलयालम महीने के वृश्चिक Read more
अष्टमी रोहिणी फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
अष्टमी रोहिणी केरल राज्य में ही नही बल्कि पूरे भारत मे एक प्रमुख त्यौहार है। यह त्यौहार भगवान कृष्ण के Read more
लोहड़ी
भारत में अन्य त्योहारों की तरह, लोहड़ी भी किसानों की कृषि गतिविधियों से संबंधित है। यह पंजाब में कटाई के Read more
दुर्गा पूजा पर्व के सुंदर दृश्य
दुर्गा पूजा भारत का एक प्रमुख त्योहार है। जो भारत के राज्य पश्चिम बंगाल का मुख्य त्योहार होने के साथ Read more
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने Read more
मुहर्रम की झलकियां
मुहर्रम मुस्लिम समुदाय का एक प्रमुख त्यौहार है। जो बड़ी धूमधाम से हर देश हर शहर के मुसलमान बड़ी श्रृद्धा भाव Read more
गणगौर व्रत
गणगौर का व्रत चैत्र शुक्ला तृतीया को रखा जाता है। यह हिंदू स्त्री मात्र का त्यौहार है। भिन्‍न-भिन्‍न प्रदेशों की Read more
बिहू त्यौहार के सुंदर दृश्य
बिहू भारत के असम राज्य का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह तीन त्योहारों का मेल है जो अलग-अलग दिनों Read more
हजरत निजामुद्दीन दरगाह
भारत शुरू ही से सूफी, संतों, ऋषियों और दरवेशों का देश रहा है। इन साधु संतों ने धर्म के कट्टरपन Read more
नौरोज़ त्यौहार
नौरोज़ फारसी में नए दिन अर्थात्‌ नए साल की शुरुआत को कहते हैं। ईरान, मध्य-एशिया, कश्मीर, गुजरात और महाराष्ट्र के Read more
फूलवालों की सैर
अगर भारत की मिली जुली गंगा-जमुना सभ्यता, हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे के आपसी मेलजोल को किसी त्योहार के रूप में देखना हो Read more
ईद मिलादुन्नबी त्यौहार
ईद मिलादुन्नबी मुस्लिम समुदाय का प्रसिद्ध और मुख्य त्यौहार है। भारत के साथ साथ यह पूरे विश्व के मुस्लिम समुदाय Read more
ईद उल फितर
ईद-उल-फितर या मीठी ईद मुसलमानों का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह रमजान के महीने के समाप्त होने की खुशी Read more
बकरीद या ईदुलजुहा
बकरीद या ईद-उल-अजहा ( ईदुलजुहा) ईदुलफितर के दो महीने दस दिन बाद आती है। यह ईद चूंकि महीने की दस Read more
बैसाखी
बैसाखी सिक्ख धर्म का बहुत ही प्रमुख त्योहार माना जाता है। इस दिन गुरु गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की Read more
अरुंधती व्रत
चैत्र शुक्ला प्रतिपदा को अरुंधती व्रत रखा जाता है। इस व्रत को रखने से पराये मर्द या परायी स्त्री से Read more
रामनवमी
रामनवमी भगवान राम का जन्म दिन है। यह तिथि चैत्र मास की शुक्ला नवमी को पड़ती है। चैत्र पद से चांद्र Read more
आसमाई व्रत कथा
वैशाख, आषाढ़ और माघ, इन्हीं तीनों महीनों की किसी तिथि में रविवार के दिन आसमाई की पूजा होती है। जो Read more
वट सावित्री व्रत
ज्येष्ठ बदी तेरस को प्रातःकाल स्वच्छ दातून से दन्तधोवन कर उसी दिन दोपहर के बाद नदी या तालाब के विमल Read more
गंगा दशहरा व गंगा अवतरण कहानी
ज्येष्ठ शुक्ला दशमी को गंगा दशहरा कहते हैं। गंगा दशहरा के व्रत का विधान स्कन्द-पुराण और गंगावतरण की कथा वाल्मीकि रामायण Read more
रक्षाबंधन और श्रावणी पूर्णिमा
रक्षाबंधन:-- श्रावण की पूर्णिमा के दिन दो त्योहार इकट्ठे हुआ करते है।श्रावणी और रक्षाबंधन। अनेक धर्म-ग्रंथों का मत है कि Read more
नाग पंचमी
श्रावण शुक्ला पंचमी को नाग-पूजा होती है। इसीलिये इस तिथि को नाग पंचमी कहते हैं। भारत में यह बडे हर्षोल्लास Read more
कजरी की नवमी या कजरी पूर्णिमा
कजरी की नवमी का त्योहार हिन्दूमात्र में एक प्रसिद्ध त्योहार है। श्रावण सुदी पूर्णिमा को कजरी पूर्णिमा कहते है। इसी Read more
हरछठ का त्यौहार
भारत भर में हरछठ जिसे हलषष्ठी भी कहते है, कही कही इसे ललई छठ भी कहते है। हरछठ का व्रत Read more
गाज बीज माता की पूजा
भाद्र शुक्ला द्वितीया को अधिकांश गृहस्थो के घर बापू की पूजा होती है। यह बापू की पूजा असल में कुल-देवता Read more
सिद्धिविनायक व्रत कथा
गणेशजी के सम्पूर्ण व्रतों में सिद्धिविनायक व्रत प्रधान है। सिद्धिविनायक व्रत भाद्र-शुक्ला चतुर्थी को किया जाता है। पूजन के आरम्भ Read more
कपर्दि विनायक व्रत
श्रावण मास की शुक्ला चतुर्थी से लगाकर भादों की शुक्ला चतुर्थी तक जो मनुष्य एक बार भोजन कर के एक Read more
हरतालिका तीज व्रत
भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तीज हस्ति नक्षत्र-युक्त होती है। उस दिन व्रत करने से सम्पूर्ण फलों की प्राप्ति Read more
संतान सप्तमी व्रत कथा
भाद्रपद शुक्ल सप्तमी को संतान सप्तमी व्रत किया जाता है। इसे मुक्ता-भरण व्रत भी कहते है। यह व्रत सध्यान्ह तक Read more
जीवित्पुत्रिका व्रत कथा
अश्विन शुक्ला अष्टमी को जीवित्पुत्रिका व्रत होता है। इस व्रत को जीतिया व्रत के नाम से भी जाना जाता है। Read more
अहोई आठे
कार्तिक कृष्णा-अष्टमी या अहोई अष्टमी को जिन स्त्रियों के पुत्र होता है वह अहोई आठे व्रत करती है। सारे दिन Read more
बछ बारस का पूजन
कार्तिक कृष्णा द्वादशी को गोधूलि-बेला मे, जब गाये चर- कर जंगल से वापस आती हैं, उस समय उन गायों और बछडों Read more

Add a Comment