हजूर साहिब हिस्ट्री इन हिन्दी – नांदेड़ साहिब का इतिहास

हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य

हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल रहा है। यह सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब में से एक है। जिसे तख्त सचखंड साहिब, श्री हजूर साहिब और नादेड़ साहिब के नाम से जाना जाता है। अपने इस लेख में हम नांदेड़ साहिब की यात्रा करेंगे और जानेगें— हजूर साहिब हिस्ट्री इन हिंदी, हजूर साहिब का इतिहास, नांदेड साहिब हिस्ट्री इन हिन्दी, नांदेड़ साहिब का इतिहास, तख्त सचखंड साहिब का इतिहास, नांदेड़ के प्रमुख सिक्ख स्थान आदि के बारे में विस्तार से जानेंगे।

नादेड़ साहिब गुरूद्वारे की स्थापना सन् 1708 में महाराजा रणजीत सिंह द्वारा करवायी गयीं थी। यह स्थान श्री गुरू गोविंद सिंह जी महाराज के अद्वितीय जीवन की अंतिम सुनहरी यादों से जुडा है। यह स्थान सिक्खों के लिए उतना ही महत्व रखता है जितना कि हिन्दुओं के लिए काशी तथा कुरूक्षेत्र। प्रथम नौ गुरू साहिबान के बसाए गये अधिकतर स्थान सुल्तानपुर लोधी, खडूर साहिब, गोइंदवाल, अमृतसर, तरनतारन, कीरतपुर आदि पंजाब राज्य में ही स्थित है।

परंतु श्री गुरु गोविंद सिंह जी महाराज ने विशाल भारत के कोने कोने को अपनी पावन चरण रज से पवित्र किया। पटना साहिब में आपका जन्म हुआ। उत्तर दिशा में स्थित नगर श्री आनंदपुर साहिब में आपने खालसा पंथ स्थापना की। माता पिता और अपने चारों पुत्रों को देश, कौम और धर्म की खातिर न्यौछावर करने के पश्चात दमदमा साहिब मालवा देश में प्रवेश किया। औरंगजेब की मौत के बाद उसके बड़े पुत्र बहादुर शाह जफर को दिल्ली का तख्त सौंप के संगत को तारते हुए भारत की दक्षिण दिशा में पहुंचे। गोदावरी नदी के किनारे बसे नगर नांदेड़ की धरती को पावन किया।

हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य

हजूर साहिब का इतिहास – हजूर साहिब हिस्ट्री इन हिन्दी

सरबंसदानी श्री गुरू गोविंद सिंह जी महाराज ने जहां पटना की धरती को मान दिया वहीं आपने अपनी जवानी का सुंदर समय श्री आनंदपुर साहिब की रमणीक पहाडियों में गुजारा। 9 साल की उम्र में कश्मीरी पंडितो के धर्म की हानि को न सहते हुए आपने अपने प्यारे पिता का बलिदान देना भी स्वीकार कर लिया। इतनी छोटी उम्र में गुरु गद्दी का भार आपके कंधों पर रखा गया। जिसे आपने बडे ही अच्छे ढंग से सम्भाला। भाई जैता सिंह जी जब गुरु पिता का शीश लेकर आनंदपुर साहिब पहुंचे तो आपने अकाल पुरख का यह काम भी सिर माथे पर माना। आपने बड़ी गम्भीरता के साथ सारे हालत का जायजा लिया। अकारण ही किसी से लड़ना मुनासिब न समझते हुए, आप कुछ समय के लिए आनंदपुर साहिब छोड़कर श्री पोंटा साहिब जाकर बस गये। पोंटा साहिब में यमुना नदी के किनारे बहुत भव्य एवम विशाल गुरूद्वारा है।

परंतु बाईधार में राजपूतों ने वहाँ जाकर लड़ाई लड़ी। भंगानी के मुकाम पर भारी युद्ध हुआ जिसमें सभी बाईधारी की हार हुई। यह गुरू गोविंद सिंह जी की पहली जंग थी। इसके बाद नदोण का, हुसैनी का, आनंदपुर साहिब का, चमकोर साहिब और मुक्तसर साहिब की भारी जंग लड़ी। आप करीब 28 साल श्री आनंदपुर साहिब रहे और कुल 14 लड़ाईयाँ लड़ी। सिरसा नदी के किनारे भारी युद्ध में आपके तीरों की बौछार ने दुश्मनो के हौसले पस्त कर दिये थे। इस युद्ध में दोनों साहिबजादे व काफी सिंह जी शहीद हुए थे। फिर भी विजय सदैव खालसा की ही रही। आपने श्री गुरूग्रंथ साहिब जी की दोबारा लिखाई करवाई। आप आसन पर पर बैठ मुंहजबानी गुरूवाणी उच्चारते जाते और भाई मनी सिंह जी लिखते जाते उस समय आप दमदमा साहिब में थे।

अगस्त 1708 को गुरू गोविंद सिंह जी दक्षिण को गये अभी आप बधारे राजस्थान ही पहुंचे थे किभाई दया सिंह और धर्म सिंह ने बादशाह से मुलाकात के लिए विनती सुनाई, आपने औरंगजेब को एक फारसी पत्र जफरनामा के नाम से लिखा था, पहले भी एक पत्र फतिहनामा के नाम से माहीबाडे से औरंगजेब को भेज चुके थे। जफरनामे को पढ़कर औरंगजेब कांप उठा था। और उसने गुरू से विनती की कि शाही खर्चे पर मेरे से मुलाकात करें। गुरू महाराज अभी पास में ही थे कि औरंगजेब के मरने की खबर मिली। आप दिल्ली गये और गुरूद्वारा मोतीबाग आ पहुंचे। औरंगजेब की मृत्यु के बाद शहजादों में तख्त के लिए लड़ाई छिड़ गई थी।

शहजादा बहादुर शाहजफर ने गुरूजी से मदद मांगी और आपने कुछ शर्तें रखी जो लिखित रूप से मानी गई। आगरे के पास बेजू के मुकाम पर खालसा फौज ने भाई दया सिंह के नेतृत्व में भारी जंग की जिसमें आजम मारा गया। बहादुरशाह जफर तख्त ताज का मालिक बन गया। गुरू जी को दरबार में बुलाया गया और बेशुमार भेंट देकर अपने पीरों जैसा आदर किया गुरू जी चार महीने आगरा रहें। दक्षिण मे बहादुरशाह के छोटे भाई कामबक्श ने बगावत कर दी । बहादुर शाह जफर गुरूजी को साथ लेकर दक्षिण की ओर चल पडे। और नांदेड़ पहुंच गए, वहां गोदावरी नदी के किनारे डेरा लगाया। बहादुर शाह जफर गुरूजी से आशीर्वाद लेकर हैदराबाद चला गया।

नांदेड़ पहुंच कर सबसे पहले आपने सतयुगी तप स्थान श्री सचखंड साहिब को प्रकट किया और तख्त स्थापित किया। फिर माधोदास को सुधार कर मलेच्छों पापियों को सुधारने के लिए अपने पांच तीर देकर पंजाब भेजा। गुरूद्वारा शिकारघाट पर सियालकोट वाले मुले खतरी का खरगोश की जून से उद्धार किया। नगीनाघाट, हीराघाट, मालटेकरी, संगत साहिब आदि गुरूद्वारे प्रकट किये, और कार्तिक शुदी दूज को भारी दीवान में श्री गुरूग्रंथ साहिब के आगे 5 पैसे और नारियल रखकर माथा टेका और गुरूगद्दी तिलक बक्स कर कार्तिक शुदी पंचमी 1765 को यहां नांदेड़ में ज्योति जोत मे समा गए।

गुरू गोविंद सिंह जी ने ज्योति ज्योत में समाने से पहले ही सब तख्तों पर योग्य व्यक्तियों को सेवा के लिए लगा दिया था। तख्त श्री अनचल नगर पर आपने गढ़वई सेवक भाई संतोख सिंह जी की सेवा लगाई और हुक्म दिया कि यहाँ पर देग तेग का पहरा रखना। और आपने हुक्म दिया कि लंगर बनवा कर बांटते जाना किसी बात की कमी नहीं आयेगी, धन की चिंता नहीं करनी जितना धन आये सब लंगर में खर्च करते जाना।

समय रहते ही यहाँ पर गुरु का लंगर का कार्य काफी कम हो गया। अब केवल एक ही समय सुबह का लंगर चलता था। तब संत बाबा निधान सिंह जी का मन यह देखकर बहुत उदास हो जाता। संत बाबा निधान सिंह जी तब संचखंड साहिब में जल और झाडू आदि की अनथक सेवा करते थे। लंगर का ढ़ीला काम देखकर संत बाबा निधान सिंह जी ने उदास होकर वापिस पंजाब जाने का निश्चय किया और स्टेशन पर आकर गाड़ी के इंतजार में इमली के पेड़ के नीचे बैठ गये और ध्यान लगा लिया। आधी रात का समय था, कि अचानक भारी प्रकाश हुआ, बाबा जी की आंखें खुल गई और क्या देखते है, कि अर्शो पर रहने वाले फर्शों पर खड़े होकर दर्शन दे रहे है। बाबा जी गुरू के चरणों पर गिर गये, गरीब नवाज ने बाबा को उठाकर छाती से लगा लिया, और हुक्म किया कि हमको छोड़कर कहाँ जा रहे हो? अभी तो आपसे बहुत सेवा लेनी है। जाओ लंगर पर और लंगर चलाओ, गुरूजी ने और बख्शीश करते हुए यह वरदान दिया कि आज से जेब मेरी और हाथ तेरा कोई कमी नहीं आयेगी। गुरू जी से वरदान लेकर बाबा निधान सिंह जी यहां लंगर वाले स्थान पर पहुंचे और जंगल में मंगल लग गया। गुरू का लंगर आठों पहर अटूट चल रहा है। संतो के आराम के लिए कमरे बने हुए है। स्नान योग्य प्रबंध है। उसके बाद बाबा जी ने कई गुरूद्वारों की सेवा करवाईं, जहां पर गुरू महाराज ने उदास संत निधान सिंह जी को दर्शन दिये थे, वहां रत्नागिरी पहाड़ी के पास गुरूद्वारा रतनगढ़ बनवाया।

हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य

गुरूद्वारा नांदेड़ साहिब का स्थापत्य

तख्त सचखंड साहिब का गुरूद्वारा 8 एकड़ में फैला हुआ है। गुरूद्वारे में प्रवेश के लिए 6 तरफ से विशाल द्वार बनाये गये है। सभी द्वार लगभग 40 फुट ऊंचे है और सुंदर वास्तुकला से सुसज्जित है। तख्त साहिब के चारों तरफ श्वेत संगमरमर के 160 वातानुकूलित कक्ष अतिथियों के ठहरने के लिए बनाये गये है। यह भवन दो मंजिला है, भूतल से 15 फुट ऊंचाई पर तख्त साहिब विराजमान है। गुरूद्वारे का मुख्य द्वार सोने का है, अन्य सभी द्वार चांदी के है। सम्पूर्ण सिंहासन साहिब सोने के पत्तरों से सुसज्जित है। छत, दीवारें, द्वार, श्री गुरू ग्रंथ साहिब का सिंहासन सब कुछ स्वर्ण मंडित है। गुम्बद का कलश भी स्वर्ण मंडित है। गर्भ गृह के चारों ओर परिक्रमा मार्ग है। सम्पूर्ण निर्माण श्वेत संगमरमर एवं ग्रेनाइट पत्थरों से किया गया है।

गुरूद्वारा बोर्ड नांदेड के इतिहास से सम्बंधित यहां नौ अन्य गुरूद्वारे और है। बोर्ड उनका भी प्रबंधन देखता है। इन नौ गुरूद्वारे के दर्शन के लिए निशुल्क बस सेवा चलाई जा रही है। गुरूद्वारा बोर्ड की ओर से जनकल्याण के अनेकों कार्य किये जा रहे है। धार्मिक संगीत विद्यालय, प्राईमरी स्कूल, नर्सरी स्कूल, खालसा स्कूल, हजूर साहिब आई.टी.आई, सिलाई केन्द्र, सिख अस्पताल, गरीब छात्रो को आर्थिक मदद, गुरू गोविंद सिंह म्यूजियम, पुस्तकालय, यात्री निवास, दसमेश अस्पताल, धर्म प्रचार कार्य, मासिक पत्रिका, विधवा आश्रम, सामूहिक विवाह मेलो का आयोजन आदि अनेक जन सेवा के कार्य किए जा रहे है। तख्त सचखंड साहिब नांदेड़ में गुरू पर्वों के अलावा, दशहरा, होली वैशाखी, दिपावली , गुरुगद्दी, कार्तिक पूर्णिमा, आदि बड़ी धूमधाम से मनाये जाते है। शस्त्रो की सफाई की जाती है। और बड़े बड़े जूलूस, घोडों की सवारी निकाली जाती है।

भारत के प्रमुख गुरूद्वारों पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—-

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के Read more
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state) Read more
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में Read more
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है। Read more
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर" कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह Read more
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा Read more
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती Read more
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है। Read more
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में Read more
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल Read more
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है Read more
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह Read more
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की Read more
खालसा पंथ
"खालसा पंथ" दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख Read more
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल Read more
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह Read more
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप Read more
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण Read more
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है। Read more
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और Read more
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण Read more
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को Read more
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से Read more
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से Read more
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित Read more
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान Read more
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला Read more
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं Read more
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया Read more
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद Read more
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा Read more
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु Read more
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना Read more
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित Read more
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से Read more
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी Read more
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला Read more
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ Read more
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है Read more
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन Read more
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में Read more

3 responses to “हजूर साहिब हिस्ट्री इन हिन्दी – नांदेड़ साहिब का इतिहास”

%d bloggers like this: