सुभानगुंडा की हवेली – हजरत शेख अहमद नागौरी दरगाह

जालौन जिले के कालपी में मुहल्ला हरीगंज में ये सुभानगुंडा की हवेली स्थित है । कालपी किले के पश्चात्‌ काली देवी का मन्दिर पडता है उससे आगे बढ़ने पर बहुत से खण्डहर दिखाई पडते है। वही उनमें से एक प्रसिद्ध भवन सुभानगुंडा की हवेली है। हवेली सुभानगुंडा के नाम से जाने वाले भवन का निर्माण शेख अहमद नागौरी द्वारा किया गया था। आज यह भवन एक मस्जिद के रूप में स्थित है। जो हजरत शेख अहमद नागौरी दरगाह और मस्जिद के नाम से जानी जाती हैं

 

 

सुभानगुंडा की हवेली का इतिहास

 

 

श्री रहीम बख्स सिद्दीकी के अनुसार कालपी की यमुना नदी के किनारे मुहल्ला हरीगंज (आभागंज ) में यह हवेली व लगंर खाना है जो कि अब अवशेष मात्र ही रह गयी है। किसी समय में यह एक किला था जो अब टूटकर टीले की शक्ल में हो गया है। तब यह भवन लगभग 7 बीघे में बना था। पत्थरों के चूने के ढेर तथा कहीं कहीं पर पक्के फर्श इस बात के साक्षी है कि यह भवन अत्यन्त प्राचीन है। वर्तमान में भी दो पक्के कुएं बने हुये है। तथा इन कुओं के अतिरिक्त एक तीन गुम्बदों वाली मसजिद शेष रह गयी है। इस मस्जिद के गुम्बद बहुत ऊँचे व सुन्दर है लेकिन इसकी मीनारें बहुत छोटी है। यह मस्जिद महमूद शाह लोधी के समय की है। जो लगभग 700 वर्ष पुरानी है। इस हवेली का निर्माण उस समय हुआ जब चौरासी गुम्बद बन रहा था। कहा जाता है कि महमूद शाह लोधी के समय में जो कारीगर चौरासी गुम्बद का निर्माण कर रहे थे उन्ही के द्वारा सुभानगुंडा की हवेली का भी निर्माण किया गया। कारीगर दिन में चौरासी गुम्बद का निर्माण करते थे तथा रात्रि में इस हवेली का निर्माण करते थे। रात्रि में कार्य करने कारण कारीगर दिन में ऊँघते थे इस कारण महमूद शाह लोधी ने कालपी शहर में मिट्टी के तेल की बिक्री पर पाबन्दी लगा दी। जिससे न मिट्टी का तेल होगा न लैम्प मशाल आदि जलेगें और फिर न ही हवेली के निर्माण का कार्य हो सकेगा। परन्तु शेख अहमद नागौरी साहब ने अपने वजू के पानी से चिराग जलवा कर हवेली के निर्माण का कार्य जारी रखा जिससे प्रभावित होकर महमूद शाह लोधी शेख अहमद नागौरी का शिष्य हो गया। श्री शेख अहमद नागौरी , शेख हमीमुद्दीन नागौरी के शिष्य थे और शेख हमीमुद्दीन नागौरी हजरत ख्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती के शिष्य थे जो कि अल्लाह के खलीफा थे।

 

 

ख्वाजा मुंशी इनायतुल्ला के अनुसार संवत 1822 में गोविन्दराव पण्डित के पुत्र बाला जी राव कालपी में रहा करते थे। उनके एक आभा साहब नाम का पुत्र था जिसके नाम पर आभागंज मुहल्ला आबाद हुआ। हवेली शेख अहमद नागौरी उसकी बनाई थी।

 

 

सुभानगुंडा की हवेली
सुभानगुंडा की हवेली

 

शहर कालपी के पुराने नक्शे में प्लाट संख्या 49 पर यह हवेली
स्थित है। 80×200 फुट की जगह इस हवेली के नाम थी। वर्तमान में जो भवन सुभानगुंडा हवेली के नाम से जाना जाता है। वह 66×222 फुट के क्षेत्र में बना है। यह एक त्रिगुम्बदीय भवन
जिसका मध्य गुम्बद विशाल है एवं उसके उत्तरी तथा दक्षिणी गुम्बद अपेक्षाकृत छोटे व गोल है । गुम्बदों के ऊपरी सिरों पर कमल दल अंकित है तथा इस कमल दल के ऊपर कलश के अवशेष अब भी दृष्य है। सभी गुम्बद अष्टभुजी आधार पर आधारित है। यह सम्पूर्ण भवन पूर्वाभिमुख है। मध्य गुम्बद के नीचे एक वर्गाकार कक्ष है। तथा उत्तरी एवं दक्षिणी गुम्बदों के नीचे भी एक एक वर्गाकार कक्ष स्थित है। मध्य कक्ष के ऊपर बाहर की ओर चारो कोनों पर एक एक छोटी छोटी मीनारें स्थित है जो कि ठोस है। कक्ष तथा गुम्बद के अष्टभुजी आधार के संगम स्थल पर तोडे विध्यमान हैं जो कि छज्जा होने का प्रमाण है। मध्य कक्ष की पूर्वीभुजा पर एक आयताकार दरवाजा स्थित है जिसके उत्तरी तथा दक्षिणी सिरो पर एक आला स्थित है। इस पूर्ण अंकन को अपने में ह्रदयगंम करता मेहराब अंकित है। जिसके ऊपरी भाग पर दोनों ओर एक एक गोल पुष्पाकार अंकित है जिस पर 16 अरे अंकित है जो कि प्रत्येक प्रहर के अर्द्ध भाग को दर्शाता है। मध्य कक्ष के उत्तरी तथा दक्षिणी कक्ष का पूर्वी भाग भी मध्य कक्ष से मिलता है। बस अन्तर केवल इतना है कि ये दोनों कक्ष मध्य कक्ष की अपेक्षा छोटे है तथा इन कक्षों के दरवाजों की मेहराबदार अंकन के ऊपर एक अन्य मेहराब और अंकित है। इन दोनों मेहराबों के मध्य एक एक आला स्थित है।

 

 

सुभानगुंडा की हवेली की आन्तरिक स्थिति

 

अन्दर से तीनों वर्ग एक दूसरे के साथ जुडे है तथा वर्गों के सभी खम्बे मेहराबयुक्त है। इनके ऊपर अष्टकोणीय शिल्प बना है। यह अष्टकोणीय शिल्प आठ भुजाओं से युक्त है जिसकी प्रत्येक भुजा पर एक एक मेहराबदार आला अंकित है। यह आला 4 फुट लंबा 3 फुट चौड़ा है। मध्य वर्ग की प्रत्येक भुजा अन्दर से 12.5 फुट लम्बी है व उत्तरी तथा दक्षिणी वर्ग की प्रत्येक भुजा 12 फुट लम्बी है। दीवार की मोटाई 2 फुट है। दो वर्गों के मध्य स्थित स्तम्भ की मोटाई 5 फुट है। सुभानगुंडा की हवेली का भवन आज कल मसजिद के रूप में प्रयोग किया जा रहा है। इस भवन के तीनों वर्गाकारकक्ष बर्फी भराई से युक्त हैं जो कि चन्देल कालीन कालपी किले से मिलते जुलते हैं।

 

 

इस हवेली से 80 फुट की दूरी पर एक कुआँ स्थित है। कुआँ गोल है जो कि ऊपर कोनों की बर्फी भराई की ओर चौकोर है। इस चौकोर आकृति की प्रत्येक भुजा पर एक एक मेहराब अंकित हैं। मेहराब का अंकन इस बात को प्रमाणित करता है कि कुआँ भी इस हवेली के साथ ही निर्मित हुआ होगा। इस हवेली के नीचे पृष्ठ भाग पर सात अन्य कक्ष स्थित है। बीच का चौथा कक्ष मेहराबदार दरवाजे से युक्त है एवं इसमें उत्तरी ओर बैठने का स्थान भी बना हुआ है। इन सात कक्षों के नीचे भी एक तलघरी खण्ड होना बताया जाता है। यह सुभानगुंडा की हवेली मुस्लिम वक्‍फ में 59 जालौन के नाम से दर्ज है। यह सम्पूर्ण भवन पत्थर तथा चूने से निर्मित है। इस भवन में लकड़ी का कोई प्राचीन कार्य नहीं है। भवन की मीनारें छोटी व गुम्बद ऊँचें इस बात का प्रमाण है कि भवन मुगलकाल से पूर्व का है। इस भवन के तीनों कक्षों की अन्दर की जुड़ाई व भराई चन्देल कालीन कालपी स्थित किले के गुम्बदीय अवशेष के बिल्कुल समरूप है जो इस भवन को चन्देल कालीन ठहरा सकता है। उपर्युक्त संदर्भों के अन्तर्गत यह स्पष्ट विचार है कि यह भवन चन्देल कालीन दुर्ग का ही कोई हिस्सा उस समय रहा होगा।

 

 

सुभानगुंडा की हवेली का नाम कैसे पड़ा

 

सुमानगुंडा की हवेली नाम से जानी जाती है।जबकि इसका निर्माण शेख अहमद नागौरी द्वारा किया गया। एक प्रचलित जनश्रुति के अनुसार सुभान नामक एक युवक शेख अहमद नागौरी के यहाँ सेवक था। शेख अहमद नागौरी को एक रात्रि स्वप्न हुआ कि श्री की देवी लक्ष्मी उसके यहाँ आना चाहती हैं। साथ ही देवी लक्ष्मी ने यह भी कहा कि वह बहुत कसरत के साथ आवेगी तथा जब जावेगी तो आग लगाकर जावेगी। लक्ष्मी किस को बुरी लगती है सो शेख अहमद नागौरी के पास भी लक्ष्मी आ गई। शेख साहब ने इस हवेली का निर्माण कराया परन्तु इस बात का विशेष ध्यान रखा कि पूरी हवेली में लकड़ी का प्रयोग न हो जिससे आग लगने का खतरा ही न रहे। परन्तु विधि की बात। एक दिन घुड़साल में घोड़ों की नाल और पत्थर के फर्श से चिंगारी निकली और वहाँ पड़ी सूखी घास में आग लग गयी और फिर वह आग इतनी बढ़ी कि पूरी हवेली को अपने आगोश में ले लिया। यह देखकर सुभान सेवक हवेली में मौजूद दौलत को घोड़ों पर लादकर कालपी की गलियों गलियों में दौलत लुटाता फिरा। तभी रात्रि में लक्ष्मी देवी ने सुभान सेवक से कहा कि तूने मुझे लुटवा दिया तू गुंडा है। सुभान सेवक ने दौलत को कालपी की गलियों गलियों में फेंका था उसने हवेली से दौलत निकालकर लुटाई थी अतः यह हवेली सुभानगुंडा की हवेली के नाम से विख्यात हो गई। इसी कथा के आधार पर कालपी के विषय में यह दोहा बड़ा प्रसिद्ध है –

‘देखी तेरी कालपी , बावन पुरा उजार।
गली गली गुंडा फिरे, घर घर बसे छिनार ॥

यहाँ पर गुण्डा शब्द सुभानगुंडा के लिए व छिनार शब्द दौलत के लिए प्रयोग किया गया है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

चौरासी गुंबद कालपी
चौरासी गुंबद यह नाम एक ऐतिहासिक इमारत का है। यह भव्य भवन उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना नदी
श्री दरवाजा कालपी
भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में कालपी एक ऐतिहासिक नगर है, कालपी स्थित बड़े बाजार की पूर्वी सीमा
रंग महल कालपी
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले के कालपी नगर के मिर्जामण्डी स्थित मुहल्ले में यह रंग महल बना हुआ है। जो
गोपालपुरा का किला जालौन
गोपालपुरा जागीर की अतुलनीय पुरातात्विक धरोहर गोपालपुरा का किला अपने तमाम गौरवमयी अतीत को अपने आंचल में संजोये, वर्तमान जालौन जनपद
रामपुरा का किला
जालौन  जिला मुख्यालय से रामपुरा का किला 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 46 गांवों की जागीर का मुख्य
जगम्मनपुर का किला
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना के दक्षिणी किनारे से लगभग 4 किलोमीटर दूर बसे जगम्मनपुर ग्राम में यह
तालबहेट का किला
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी - सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील
कुलपहाड़ का किला
कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक
पथरीगढ़ का किला
पथरीगढ़ का किला चन्देलकालीन दुर्ग है यह दुर्ग फतहगंज से कुछ दूरी पर सतना जनपद में स्थित है इस दुर्ग के
धमौनी का किला
विशाल धमौनी का किला मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह 52 गढ़ों में से 29वां था। इस क्षेत्र
बिजावर का किला
बिजावर भारत के मध्यप्रदेश राज्य के छतरपुर जिले में स्थित एक गांव है। यह गांव एक ऐतिहासिक गांव है। बिजावर का
बटियागढ़ का किला
बटियागढ़ का किला तुर्कों के युग में महत्वपूर्ण स्थान रखता था। यह किला छतरपुर से दमोह और जबलपुर जाने वाले मार्ग
राजनगर का किला
राजनगर मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में खुजराहों के विश्व धरोहर स्थल से केवल 3 किमी उत्तर में एक छोटा सा
पन्ना के दर्शनीय स्थल
पन्ना का किला भी भारतीय मध्यकालीन किलों की श्रेणी में आता है। महाराजा छत्रसाल ने विक्रमी संवत् 1738 में पन्‍ना
सिंगौरगढ़ का किला
मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के दमोह जिले में सिंगौरगढ़ का किला स्थित हैं, यह किला गढ़ा साम्राज्य का
छतरपुर का किला
छतरपुर का किला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में अठारहवीं शताब्दी का किला है। यह किला पहाड़ी की चोटी पर
चंदेरी का किला
भारत के मध्य प्रदेश राज्य के अशोकनगर जिले के चंदेरी में स्थित चंदेरी का किला शिवपुरी से 127 किमी और ललितपुर
ग्वालियर का किला
ग्वालियर का किला उत्तर प्रदेश के ग्वालियर में स्थित है। इस किले का अस्तित्व गुप्त साम्राज्य में भी था। दुर्ग
बड़ौनी का किला
बड़ौनी का किला,यह स्थान छोटी बड़ौनी के नाम जाना जाता है जो दतिया से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर है।
दतिया महल या दतिया का किला
दतिया जनपद मध्य प्रदेश का एक सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक जिला है इसकी सीमाए उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद से मिलती है। यहां
कालपी का किला
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई
उरई का किला और माहिल तालाब
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर
एरच का किला
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या
चिरगाँव का किला
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील
गढ़कुंडार का किला
गढ़कुण्डार का किला मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में गढ़कुंडार नामक एक छोटे से गांव मे स्थित है। गढ़कुंडार का किला बीच
बरूआ सागर का किला
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर
मनियागढ़ का किला
मनियागढ़ का किला मध्यप्रदेश के छतरपुर जनपद मे स्थित है। सामरिक दृष्टि से इस दुर्ग का विशेष महत्व है। सुप्रसिद्ध ग्रन्थ
मंगलगढ़ का किला
मंगलगढ़ का किला चरखारी के एक पहाड़ी पर बना हुआ है। तथा इसके के आसपास अनेक ऐतिहासिक इमारते है। यह हमीरपुर
जैतपुर का किला या बेलाताल का किला
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर
सिरसागढ़ का किला
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में
महोबा का किला
महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी
कल्याणगढ़ का किला मंदिर व बावली
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा
भूरागढ़ का किला
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान
रनगढ़ दुर्ग या जल दुर्ग
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग
खत्री पहाड़ का दुर्ग व मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात
मड़फा दुर्ग
मड़फा दुर्ग भी एक चन्देल कालीन किला है यह दुर्ग चित्रकूट के समीप चित्रकूट से 30 किलोमीटर की दूरी पर
रसिन का किला
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा
अजयगढ़ का किला
अजयगढ़ का किला महोबा के दक्षिण पूर्व में कालिंजर के दक्षिण पश्चिम में और खुजराहों के उत्तर पूर्व में मध्यप्रदेश
कालिंजर का किला
कालिंजर का किला या कालिंजर दुर्ग कहा स्थित है?:--- यह दुर्ग बांदा जिला उत्तर प्रदेश मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर बांदा-सतना
ओरछा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
शक्तिशाली बुंदेला राजपूत राजाओं की राजधानी ओरछा शहर के हर हिस्से में लगभग इतिहास का जादू फैला हुआ है। ओरछा

write a comment