सिद्धिविनायक व्रत कथा – सिद्धिविनायक का व्रत कैसे करते है तथा व्रत का महत्व

गणेशजी के सम्पूर्ण व्रतों में सिद्धिविनायक व्रत प्रधान है। सिद्धिविनायक व्रत भाद्र-शुक्ला चतुर्थी को किया जाता है। पूजन के आरम्भ में संकल्प करने के बाद गणेशजी की स्थापना, प्रतिष्ठा और ध्यान करना चाहिये। ध्यान के पश्चात आवाहन, आसन, पाद्य, अर्घ, मधुपर्क, आचमन, पंचामृत, स्नान, शुद्धोदक स्नान, वस्र, यज्ञोपवीत सिंदूर भूषण और चन्दन आदि से पूजनकर पुनः अन्न-पूजन करे। तत्पश्चात गूगुल, धूप, दीप, नैवेद्य आचमन, फूल, ताम्बूल, भूषण और दूवां आदि अर्पण करके नमस्कार करे और 21 पुवा बनाकर गणेश-प्रतिमा के पास रखे। उनमे से 10 पुआ ब्राह्मण को दे। एक गणेश प्रतिमा के पास रहने दे ओर 10 आप भोजन करे।

 

 

 

सिद्धिविनायक व्रत कैसे करते है

 

वैसे तो प्रत्येक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को गणेश व्रत होता है। परन्तु माघ, श्रावण, मार्गशीष और भाद्रपद इन महीनों में सिद्धिविनायक व्रत करने का विशेष माहात्म्य है। उक्त चार महीनों में कभी भी जब हृदय मे गणेशजी की भक्ति उत्पन्न हो, तब शुक्ला चतुर्थी को प्रातःकाल सफेद तिलों के उबटन से स्नान करके सध्यान्ह में गणेश-पूजन करना चाहिये। पहले एकदन्त, शपूर्कर्ण, गजसुख, चतुर्भुज, पाशांकुश धारण करने वाले गणेशजी का ध्यान करे। तदनन्तर पंचामृत, गन्ध, आवाहन और पाद्यादि करके दो लाल वत्रों का दान करना चाहिये। पुनः ताम्बूल पर्यन्‍त पूजन समाप्त करके 21 दूर्वाओं को 2-2 दूर्वाओं से गणेश के एक-एक नाम का उच्चारण करे। घी के पके हुए 29 मादक गणेशजी के पास रखे। पूजन की समाप्ति पर 10 मादक ब्राह्मण को दे, 10 अपने लिये रखे और एक प्रतिमा के पास रहने दे। गणेश-प्रतिमा को दक्षिणा समेत ब्राह्मण को दान करे। नेमित्तिक पूजन करने के दाद नित्य पूजन भी करे और तत्पश्चात्‌ ब्राह्मण को भोजन कराकर आप भाजन करे।

 

 

इसी भादों मास की शुक्ला चतुर्थी मे चन्द्र-दर्शन का निषेध है। लोक प्रसिद्ध है कि चौथ का चाँद देखने से भूठा कलंक लगता है। यदि देवात्‌ चौथ का चाँद देख ले, तो नोचे लिखी कथा कहने से इसका दोष दूर होता है :—-

 

 

सिद्धिविनायक व्रत कथा – सिद्धिविनायक व्रत की कहानी

 

 

एक समय सनत्कुमारों से नन्दिकेश्वर ने कहा–“किसी समय चौथ के चन्द्रमा के दर्शन करने से भगवान श्रीकृष्ण जी पर लाछन लग गया था। वह इसी सिद्धिविनायक व्रत को करने से नष्ठ हुआ था।” नन्दिकेश्वर के ऐसे वचन सुनकर सनत्कुमारों ने अत्यन्त आख्य मे होकर पूछा। “पूर्णब्रह्मा पुरुषोत्तम श्रीकृष्ण को कब और कैसे कलंक लगा? कृपया इस इतिहास का वर्णन कर हमारा सन्देह दूर कोजिये।

 

 

सिद्धिविनायक व्रत कथा
सिद्धिविनायक व्रत कथा

 

यह सुनकर नंदिकेश्वर बोले–“राजा जरासन्ध के डर से श्रीकृष्ण भगवान्‌ समुद्र के बीच में पुरी बसाकर रहने लगे। इसी पुरी का नाम द्वारिकापुरी है। द्वारिकापुरी के निवासी सत्राजित यादव ने श्री सूर्य भगवान्‌ की आराधना की। जिससे प्रसन्न होकर सूर्य भगवान्‌ ने उसके नित्य आठ भार स्वर्ण देने वाली स्यामन्तक नाम की एक मणि अपने गले से उतारकर दे दी। उस मणि को पाकर जब सत्राजित यादव समाज मे गया तो श्री भगवान श्रीकृष्ण ने उस मणि को प्राप्त करने की इच्छा की। परन्तु सत्राजित ने मणि को श्रीकृष्ण को न देकर उसे अपने भाई प्रसेनजित को पहना दिया।

 

 

एक दिन प्रसेनजित घोड़े पर सवार होकर वन मे शिकार खेलने चला गया। वहाँ एक सिंह ने उसे मारकर वह मणि उससे छीन ली, परन्तु जाम्बवान नामक रीछराज ने उस सिंह को मार कर वह मणि छीन ली और मणि को लेकर वह अपने विवर मे घुस गया।

 

 

जब कई दिन तक प्रसेनजित शिकार से वापस नही आया, तब सत्राजित को बड़ा दुःख हुआ। उसने सम्पूर्ण द्वारकापुरी मे यह बात प्रसिद्ध कर दी कि श्रीकृष्ण ने मेरे भाई के मारकर मणि ले ली है। इस लोकापवाद का मिटाने के लिए श्रीकृष्णजी बहुत से आदमियो सहित वन मे जाकर प्रसेनजित का खोजने लगे। उनको वन मे इस घटना के स्पष्ट चिह्न मिले कि प्रसेनजित को एक सिंह ने मारा है और सिह को एक रीछ ने मार डाला है। रीछ के पद चिन्हों का अनुसरण करते हुए श्रीकृष्णजी एक गुफा के द्वार पर जा पहुँचे। वे उसी गुफा को रीछ के रहने का घर समझ कर उसमें घुस पड़े। गुफा के भीतर जाकर उन्हेंने देखा कि जाम्बवान्‌ का एक पुत्र और कन्या उस मणि से खेल रहे हैं।

 

 

श्रीकृष्ण को देखते ही जाम्बवान ताल ठोककर उठ खड़ा हुआ श्रीकृष्ण ने भी उसको युद्ध के लिये ललकारा। दोनों में घोर युद्ध होने लगा। इधर गुफा के बाहर कृष्ण के साथियों ने सात दिन तक उनकी राह देखी। जब वह न लौटे, तब वे लोग उनको मारा गया समझकर अत्यन्त दुःख और पश्चाताप करते हुए द्वारकापुरी को वापस चले आये।

 

 

इक्कीस दिन तक युद्ध करने के पश्चात्‌ जब जाम्बवान्‌ श्रीकृष्ण जी को परास्त न कर सका तो उसके मन मे यह धारणा उत्पन्न हुईं कि हो न हो यही वह अवतार है जिसके लिये मुझको श्रीराम चन्द्रजी का वरदान हुआ था। ऐसा निश्चय करके जाम्बवान ने अपनी कन्या जाम्बवती श्रीकृष्ण जी को व्याह दी ओर वह मणि भी दहेज में दे दी। श्रीकृष्ण भगवान ने द्वारका मे आकर स्यामन्तक मणि सत्राजित को दे दी, जिससे लज्जित होकर सत्राजित ने अपनी पुत्री सत्यमामा श्रीकृष्ण जी को व्याह दी और जब वह मणि भी श्रीकृष्णजी को देने लगा तो उन्होने उसको लेने से इन्कार कर दिया और कहा—“आप सन्‍तान रहित हैं, इस कारण आपकी जो सम्पत्ति है, वह सब मेरी है। परन्तु इस समय आप मणि को अपने हो पास रखिये।कालान्तर से किसी आवश्यक कार्यवश श्रीकृष्णजी तो इन्द्रप्रस्थ को चले गये। इधर अक्रूर तथा ऋतुवमा की सलाह से शतधन्वा नामक यादव ने सत्राजित को मारकर स्यामन्‍तक मणि ले ली।

 

 

 

सत्राजित के मारे जाने का समाचार पाकर श्रीकृष्ण जी तुरन्त ही इन्द्रप्रस्थ से द्वारका चले आये, ओर शतधन्वा को मारकर उससे मणि छीन लेने को तैयार हुए। उनके इस काम में बलराम जी भी भाग देने पर सन्नद्ध हुये। यह समाचार पाकर शतधन्वा अक्रूर को मणि देकर द्वारका से भागा। परन्तु थोड़ी ही दूर पर कृष्ण ने उसको जा पकड़ा ओर मार डाला। फिर भी मणि उनके हाथ न लगी। इतने मे बलराम जी वहाँ पहुँच गये। श्रीकृष्णजी ने कहा “भैया! मणि तो इसके पास नहीं मिली। यह सुनकर बलरामजी अत्यन्त क्रोधपूर्वक बोले– कृष्ण, तू सदैव का कपटी तथा लोभी है। अब मै तेरे पास न रहूँगा।

 

 

यह कहकर वह विदर्भ देश को चले गये। द्वारका मे लौटकर आने पर लोगों ने श्रीकृष्ण का बड़ा अपमान किया। सब साधारण में यह अफवाह फैल गई कि श्रीकृष्ण ने लालच वश अपने भाई को भी त्याग दिया।

 

 

श्रीकृष्ण एक दिन इसी चिन्ता से व्यस्त थे कि आखिर यह झूठा कलंक मुझको क्‍यों लगा। उसी समय देवात्‌ नारदजी वहाँ आ गये और वह श्रीकृष्णजी से बोले– आप ने भाद्रपद शुक्ला चतुर्थी के चन्द्रमा के दर्शन किये थे। इसी कारण यह लांछन आपको लगा है।

 

 

श्रीकृष्ण जी ने पूछा— चौथ के चन्द्रमा को ऐसा क्या हो गया ? जिसके कारण उसके दर्शन-मात्र से मनुष्य को कलंक लगता है। नारदजी बोले–एक समय ब्रह्मा जी ने चौथ को सिद्धिविनायक व्रत किया था, जिससे गणेशजी प्रकट हो गये। ब्राह्म जी ने गणेशजी से यह वरदान माँगा कि मुझको सृष्टि की रचना करने मे माह न हो। जब गणेशजी “एवमस्तु” कहकर जाने लगे, तब उनके विकट रूप को देखकर चन्द्रमा उनका उपहास करने लगा। इससे अप्रसन्न होकर गणेशजी ने चन्द्रमा को शाप दिया कि आज से तुम्हारे मुख को कोई कभी नहीं देखेगा। यह कहकर गणेशजी तो अपने धाम को चले गये और शाप के कारण चन्द्रमा मानसरोवर की छुमुदिनियो मे जाकर छिप गया। चन्द्रमा के बिना लोगों को कष्ट मे देखकर तथा ब्रह्माजी की आज्ञा पाकर सब देवताओं ने चन्द्रमा के निमित्त सिद्धिविनायक व्रत किया। देवताओ के सिद्धिविनायक व्रत से प्रसन्न होकर गणेशजी ने वरदान दिया कि अब चन्द्रमा शाप मुक्त हो जायेगा। परन्तु फिर भी वर्ष मे एक दिन भाद्रपद शुक्ला चतुर्थी को जो कोई भी मनुष्य चन्द्रमा का दर्शन करेगा, उसको चोरी आदि का झूठा कलंक अवश्य लगेगा। हाँ, परन्तु जो मनुष्य प्रत्येक द्वितीया के चन्द्रमा के दर्शन करता रहेगा, उसको लाछन नही लगेगा। कदाचित्‌ नियमित दर्शन न करने वाला पुरुष चौथ के चन्द्रमा को देख भी ले, तो उसको मेरा चतुर्थी का सिद्धिविनायक व्रत करना चाहिए। उससे उसके दोष की निवृत्ति हो जायगी।

 

यह सुनकर सब देवता अपने-अपने स्थान को चले गये और चन्द्रमा भी मानसरोवर से चन्द्रलोक आ गया। अतः इसी चन्द्रमा के दर्शन के कारण आप पर यह व्यर्थ आरोप हुआ है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े—-

 

 

ओणम फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
ओणम दक्षिण भारत के सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों मे से एक है। यह केरल के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक Read more
विशु पर्व के सुंदर दृश्य
भारत विभिन्न संस्कृति और विविधताओं का देश है। यहा के कण कण मे संस्कृति वास करती है। यहा आप हर Read more
थेय्यम पर्व नृत्य के सुंदर दृश्य
थेय्यम केरल में एक भव्य नृत्य त्योहार है और राज्य के कई क्षेत्रों में प्रमुखता के साथ मनाया जाता है। Read more
केरल नौका दौड़ महोत्सव के सुंदर दृश्य
भारत के प्रसिद्ध त्यौहारों में से एक, केरल नौका दौड़ महोत्सव केरल राज्य की समृद्ध परंपरा और विविध संस्कृति को Read more
अट्टूकल पोंगल फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
अट्टूकल पोंगल केरल का एक बेहद लोकप्रिय त्यौहार है। अट्टुकल पोंगल मुख्य रूप से महिलाओं का उत्सव है। जो तिरुवनंतपुरम Read more
तिरूवातिरा नृत्य फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
तिरूवातिरा केरल का एक प्रसिद्ध त्यौहार है। मलयाली कैलेंडर (कोला वर्षाम) के पांचवें महीने धनु में क्षुद्रग्रह पर तिरुवातिरा मनाया Read more
मंडला पूजा के सुंदर दृश्य
मंडला पूजा उत्सव केरल के त्योहारों मे एक प्रसिद्ध धार्मिक अनुष्ठान फेस्टिवल है। मंडला पूजा समारोह मलयालम महीने के वृश्चिक Read more
अष्टमी रोहिणी फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
अष्टमी रोहिणी केरल राज्य में ही नही बल्कि पूरे भारत मे एक प्रमुख त्यौहार है। यह त्यौहार भगवान कृष्ण के Read more
लोहड़ी
भारत में अन्य त्योहारों की तरह, लोहड़ी भी किसानों की कृषि गतिविधियों से संबंधित है। यह पंजाब में कटाई के Read more
दुर्गा पूजा पर्व के सुंदर दृश्य
दुर्गा पूजा भारत का एक प्रमुख त्योहार है। जो भारत के राज्य पश्चिम बंगाल का मुख्य त्योहार होने के साथ Read more
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने Read more
मुहर्रम की झलकियां
मुहर्रम मुस्लिम समुदाय का एक प्रमुख त्यौहार है। जो बड़ी धूमधाम से हर देश हर शहर के मुसलमान बड़ी श्रृद्धा भाव Read more
गणगौर व्रत
गणगौर का व्रत चैत्र शुक्ला तृतीया को रखा जाता है। यह हिंदू स्त्री मात्र का त्यौहार है। भिन्‍न-भिन्‍न प्रदेशों की Read more
बिहू त्यौहार के सुंदर दृश्य
बिहू भारत के असम राज्य का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह तीन त्योहारों का मेल है जो अलग-अलग दिनों Read more
हजरत निजामुद्दीन दरगाह
भारत शुरू ही से सूफी, संतों, ऋषियों और दरवेशों का देश रहा है। इन साधु संतों ने धर्म के कट्टरपन Read more
नौरोज़ त्यौहार
नौरोज़ फारसी में नए दिन अर्थात्‌ नए साल की शुरुआत को कहते हैं। ईरान, मध्य-एशिया, कश्मीर, गुजरात और महाराष्ट्र के Read more
फूलवालों की सैर
अगर भारत की मिली जुली गंगा-जमुना सभ्यता, हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे के आपसी मेलजोल को किसी त्योहार के रूप में देखना हो Read more
ईद मिलादुन्नबी त्यौहार
ईद मिलादुन्नबी मुस्लिम समुदाय का प्रसिद्ध और मुख्य त्यौहार है। भारत के साथ साथ यह पूरे विश्व के मुस्लिम समुदाय Read more
ईद उल फितर
ईद-उल-फितर या मीठी ईद मुसलमानों का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह रमजान के महीने के समाप्त होने की खुशी Read more
बकरीद या ईदुलजुहा
बकरीद या ईद-उल-अजहा ( ईदुलजुहा) ईदुलफितर के दो महीने दस दिन बाद आती है। यह ईद चूंकि महीने की दस Read more
बैसाखी
बैसाखी सिक्ख धर्म का बहुत ही प्रमुख त्योहार माना जाता है। इस दिन गुरु गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की Read more
अरुंधती व्रत
चैत्र शुक्ला प्रतिपदा को अरुंधती व्रत रखा जाता है। इस व्रत को रखने से पराये मर्द या परायी स्त्री से Read more
रामनवमी
रामनवमी भगवान राम का जन्म दिन है। यह तिथि चैत्र मास की शुक्ला नवमी को पड़ती है। चैत्र पद से चांद्र Read more
हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा श्री रामभक्त हनुमान का जन्म दिवस हैं। इस दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है। कुछ लोग यह जन्म दिवस Read more
आसमाई व्रत कथा
वैशाख, आषाढ़ और माघ, इन्हीं तीनों महीनों की किसी तिथि में रविवार के दिन आसमाई की पूजा होती है। जो Read more
वट सावित्री व्रत
ज्येष्ठ बदी तेरस को प्रातःकाल स्वच्छ दातून से दन्तधोवन कर उसी दिन दोपहर के बाद नदी या तालाब के विमल Read more
गंगा दशहरा व गंगा अवतरण कहानी
ज्येष्ठ शुक्ला दशमी को गंगा दशहरा कहते हैं। गंगा दशहरा के व्रत का विधान स्कन्द-पुराण और गंगावतरण की कथा वाल्मीकि रामायण Read more
रक्षाबंधन और श्रावणी पूर्णिमा
रक्षाबंधन:-- श्रावण की पूर्णिमा के दिन दो त्योहार इकट्ठे हुआ करते है।श्रावणी और रक्षाबंधन। अनेक धर्म-ग्रंथों का मत है कि Read more
नाग पंचमी
श्रावण शुक्ला पंचमी को नाग-पूजा होती है। इसीलिये इस तिथि को नाग पंचमी कहते हैं। भारत में यह बडे हर्षोल्लास Read more
कजरी की नवमी या कजरी पूर्णिमा
कजरी की नवमी का त्योहार हिन्दूमात्र में एक प्रसिद्ध त्योहार है। श्रावण सुदी पूर्णिमा को कजरी पूर्णिमा कहते है। इसी Read more
हरछठ का त्यौहार
भारत भर में हरछठ जिसे हलषष्ठी भी कहते है, कही कही इसे ललई छठ भी कहते है। हरछठ का व्रत Read more
गाज बीज माता की पूजा
भाद्र शुक्ला द्वितीया को अधिकांश गृहस्थो के घर बापू की पूजा होती है। यह बापू की पूजा असल में कुल-देवता Read more
कपर्दि विनायक व्रत
श्रावण मास की शुक्ला चतुर्थी से लगाकर भादों की शुक्ला चतुर्थी तक जो मनुष्य एक बार भोजन कर के एक Read more
हरतालिका तीज व्रत
भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तीज हस्ति नक्षत्र-युक्त होती है। उस दिन व्रत करने से सम्पूर्ण फलों की प्राप्ति Read more
संतान सप्तमी व्रत कथा
भाद्रपद शुक्ल सप्तमी को संतान सप्तमी व्रत किया जाता है। इसे मुक्ता-भरण व्रत भी कहते है। यह व्रत सध्यान्ह तक Read more
जीवित्पुत्रिका व्रत कथा
अश्विन शुक्ला अष्टमी को जीवित्पुत्रिका व्रत होता है। इस व्रत को जीतिया व्रत के नाम से भी जाना जाता है। Read more
अहोई आठे
कार्तिक कृष्णा-अष्टमी या अहोई अष्टमी को जिन स्त्रियों के पुत्र होता है वह अहोई आठे व्रत करती है। सारे दिन Read more
बछ बारस का पूजन
कार्तिक कृष्णा द्वादशी को गोधूलि-बेला मे, जब गाये चर- कर जंगल से वापस आती हैं, उस समय उन गायों और बछडों Read more

Add a Comment