सवाई मानसिंह संग्रहालय जयपुर राजस्थान

जयपुर के मध्यकालीन सभा भवन, दीवाने- आम, मे अब जयपुर नरेश सवाई मानसिंह संग्रहालय की आर्ट गैलरी या कला दीर्घा है। राजस्थान बन जाने और उसमे जयपुर रियासत के विलय के दस बरस बाद, 1959 मे महाराजा सवाई मानसिह ने पोथीखाना और सिलेहखाना से कुछ चीजे चुनकर यह संग्रहालय स्थापित किया
था। यह चीजे पहिले भी महाराजा के मोअज्जिज मेहमानों को दिखाने के लिए कुछ कमरो मे प्रदर्शित थी लेकिन इनका फिर से चुनाव कर और अपने पूर्वजो के संग्रह से अन्य कलात्मक वस्तुए, चित्र, प्राचीन वेशभूषा के नमूने, हस्तलिखित ग्रन्थों आदि को छांटकर सवाई मानसिंह म्यूजियम बनाया गया ताकि लोग जयपुर के इस सांस्कृतिक वैभव को देखे, प्रेरणा ले और लाभ उठावे। महाराजा मानसिंह चाहते थे कि जयपुर के राजाओ के प्राचीन पाण्डलिपियो के विशाल संग्रह पोथीखाना के समूचे ग्रन्थो की सूची तैयार की जाय और उसे प्रकाशित भी करा दिया जाये जिससे विद्वानो और इच्छुक शोधकर्ताओ को सहायता मिले और जिसकी जैसी दिलचस्पी हो, वैसा अध्ययन-मनन करे। महाराजा की जिदगी के अंतिम वर्ष मे ही यह जगी काम पडित गोपाल नारायण बहरा ने अपने हाथ मे लिया, लेकिन पहिला सूची-पत्र महाराजा के देहान्त के बाद ही 1971में प्रकाशित हो सका।

 

 

सवाई मानसिंह संग्रहालय जयपुर

 

 

सवाई मानसिंह संग्रहालय मे पोथीखाना की कुल 93 पांडुलिपियां प्रदर्शित की गयी है और इनके अलावा बीस पांडुलिपिया ऐसी है जिन्हे कलात्मक वस्तुओं मे गिना गया है, क्योकि हस्तलेख और चित्रो, दोनो ही दृष्टियों से, ये महत्त्वपर्ण और मूल्यवान है। सवाई मानसिंह संग्रहालय के अपने बजट से भी 79 पांडुलिपियां खरीदकर इस संग्रह मे जोडी गई है। यह सब सिर्फ एक बानगी है उस खजाने की जो पोथीखाने मे भरा है और जिसके सामने सोना-चांदी, रुपया-पैसा, सब कुछ तृच्छ है।

 

सवाई मानसिंह संग्रहालय
सवाई मानसिंह संग्रहालय

 

 

सवाई मानसिंह संग्रहालय की इस कला दीर्घा यानि आर्ट गैलरी मे आमेर-जयपुर शैली के लघु चित्रों के कछ उत्कृष्ट नमूने प्रदर्शित किए गये है जो रागमाला, भागवतम, देवी महात्म्य आदि ग्रन्थों की सचित्र बनाने के लिये तैयार किये गये थे। आरंम्भिक और बाद की मुगल शैली के चित्रों के अलावा दक्खिनी कलम और मालवा , बीकानेर, बदी , कोटा जोधपुर और किशनगढ शैली के चित्र भी खूब है। किशनगढ का अठारहवी सदी का राधा और कृष्ण का बडा चित्र तो इस शैली का एक बेजोड नमूना है।

 

 

सवाई जयसिंह ने खगोल विद्या के अध्ययन-अन्वेषण के लिये दुनिया भर से अरबी , फारसी, लेटिन और संस्कृत के जो ग्रन्थ एकत्रित किये थे, वे भी इस दीर्घा मे देखे जा सकते है। आइने अकबरी की एक पुरानी प्रति के साथ इसका वह हिन्दी अनुवाद भी है जो महाराजा प्रतापसिंह की आज्ञा से 1775 ई मे जयपुर के ही गुमानीराम कायस्थ ने किया था। शालिग्राम के 146 स्वरूपो का दिग्दर्शन कराने वाली एक अलभ्य पांडुलिपि यहां है। उबेद के फारसी ग्रन्थ ‘मशन्वा-गोरवेह’ मे सत्रहवी सदी के मुगल चित्र हैं और यह भी एक दर्शनीय पांडुलिपि है।

 

 

कला दीर्घा मे मुगल और उत्तर- मुगलकाल के बेहतरीन कालीन भी है। सत्रहवी सदी के पूर्वार्द्ध मे मिर्जा राजा जयसिंह हीरात, लाहौर, आगरा और दूसरी जगहों से जो कालीन-गलीचे लाये थे, यहां इस तरह, प्रदर्शित किये गये है कि उनके फूलो के डिजाइन और रंगो की आव देखते ही बनती है। चित्रों, हस्तलिखित ग्रन्थों और कालीनों के साथ यहां राजा की सवारी की कुछ कलात्मक वस्तुएं भी रखी गई है। इनमे सोने-चांदी का हाथी का होदा, तख्ते-रवा, अम्बाबाडी, पालकी ओर रानियो के बैठने की छोटी गाडी है, मखमल की पोशिश वाली, जिस पर बडी खूबसरत कामदाकारी हैं।

 

 

असलेहखाने के अस्त्र-शस्त्र सवाई मानसिंह संग्रहालय का दूसरा विभाग है जो दीवाने-आम मे नही, आगे चलकर मुबारक महल के चौक में एक दूसरे हिस्से मे प्रदर्शित किये है। यहां तरह-तरह के आकार की तलवारे है जयपुर और राजस्थान के दूसरे हिस्सो की ही नही, फारस ओर मध्य पूर्व में बनी हुई भी। किसी की मूठ
मीनाकारी की है तो किसी मे जवाहरात जडे़ है और कइयों की तो म्याने ही ऐसी कला और कारीगरी से बनी है कि बडी कीमती है। हाथी दांत, सोने और चांदी की मठियो वाले खमवा, चाक, छगे और कटारे है, सींग और शंखो से बने हुए बारूद रखने के बर्तन (कुप्पिया) है, जिन पर हाथी दांत और सीप की सजावट है। तरह-तरह की बन्द के, राइफले और पिस्तौले है, देशी ओर यूरोपियन भी, धनुष और बाणों का भी सवाई मानसिंह संग्रहालय में खासा संग्रह है। ओर है ढाल, गुर्ज, बाघनख, जिरेह बख्तर और न जाने क्या-क्या और कैसे- कैसे हथियार लडाई के साज-सामान की कई सदियां असलेह खाने मे आंखो के सामने आ जाती है। लाठियो और बैतों-छडियों को भी यहां देखने लगे तो देखते ही रहे। अकबर के सेनापति राजा मानसिंह का खाडा देखकर यह मान लेना पडता है कि जिस योद्धा के हाथ में यह भारी-भरकम हथियार शोभा पाता होगा, उसी ने उस महान मुगल सम्राट को इतने बडे साम्राज्य का स्वामी बनाया होगा।

 

 

जयपुर का सवाई मानसिंह संग्रहालय का तीसरा विभाग एक प्रकार से वस्त्र प्रदर्शनी है। यह मुबारक महल में ऊपर है और इसमे कश्मीर की नायाब बनाई और कसीदाकारी के शाल,बनारस और औरंगाबाद के किन्खाव असली रेशम के दुपट्टे और ढाका की वह लाजवाब मलमल भी है, जिसकी अब कहानियां ही शेष रही है। सागानेर मे कपडों की छपाई का उद्योग अब भी बडे जोर-शोर से चलता है, लेकिन सागानेरी कपडो के जो पुराने नमूने यहां है, वैसी बूटिया और रंग अब कहा बैठते है।

 

 

पुराने राजाओं की पोशाके और रानियो के जरी और गोटा-किनारी के काम से लडालम, जर्क-बर्क बेस भी यहां दिखाये गये है। बीच-बीच में कागज की कटाई के नमूने है, चौखटों मे जडे हए। यह देखकर हैरत होती है कि सवाई जयसिंह के बेटे ईश्वरी सिंह के हाथ मे कैसा कमाल था जो कागज को काट-छाट कर सीता-राम और हनुमान, राधाकृष्ण और वह भी कदम्ब की छाव तले गैया के साथ इस तरह बना देता था जैसे किसी ‘परफोरेटिग” मशीन से बनाये गये चित्र हो।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

 

पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
Hawamahal Jaipur
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हवा महल की सैर की थी और उसके बारे
Hanger manger Jaipur
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी
प्रिय पाठको जैसा कि आप सब जानते है। कि हम भारत के राज्य राजस्थान कीं सैंर पर है । और
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार
जैसलमेर के दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
जैसलमेर भारत के राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत और ऐतिहासिक नगर है। जैसलमेर के दर्शनीय स्थल पर्यटको में काफी प्रसिद्ध
अजमेर का इतिहास
अजमेर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्राचीन शहर है। अजमेर का इतिहास और उसके हर तारिखी दौर में इस
अलवर के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
अलवर राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत शहर है। जितना खुबसूरत यह शहर है उतने ही दिलचस्प अलवर के पर्यटन स्थल
उदयपुर दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
उदयपुर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख शहर है। उदयपुर की गिनती भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलो में भी
नाथद्वारा दर्शन धाम के सुंदर दृश्य
वैष्णव धर्म के वल्लभ सम्प्रदाय के प्रमुख तीर्थ स्थानों, मैं नाथद्वारा धाम का स्थान सर्वोपरि माना जाता है। नाथद्वारा दर्शन
कोटा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
चंबल नदी के तट पर स्थित, कोटा राजस्थान, भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। रेगिस्तान, महलों और उद्यानों के
कुम्भलगढ़ का इतिहास
राजा राणा कुम्भा के शासन के तहत, मेवाड का राज्य रणथंभौर से ग्वालियर तक फैला था। इस विशाल साम्राज्य में
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
झुंझुनूं भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख जिला है। राजस्थान को महलों और भवनो की धरती भी कहा जाता
पुष्कर तीर्थ के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के अजमेर जिले मे स्थित पुष्कर एक प्रसिद्ध नगर है। यह नगर यहाँ स्थित प्रसिद्ध पुष्कर
करणी माता मंदिर देशनोक के सुंदर दृश्य
बीकानेर जंक्शन रेलवे स्टेशन से 30 किमी की दूरी पर, करणी माता मंदिर राजस्थान के बीकानेर जिले के देशनोक शहर
बीकानेर के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोधपुर से 245 किमी, अजमेर से 262 किमी, जैसलमेर से 32 9 किमी, जयपुर से 333 किमी, दिल्ली से 435
जयपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भारत की राजधानी दिल्ली से 268 किमी की दूरी पर स्थित जयपुर, जिसे गुलाबी शहर (पिंक सिटी) भी कहा जाता
सीकर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सीकर सबसे बड़ा थिकाना राजपूत राज्य है, जिसे शेखावत राजपूतों द्वारा शासित किया गया था, जो शेखावती में से थे।
भरतपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भरतपुर राजस्थान की यात्रा वहां के ऐतिहासिक, धार्मिक, पर्यटन और मनोरंजन से भरपूर है। पुराने समय से ही भरतपुर का
बाड़मेर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
28,387 वर्ग किमी के क्षेत्र के साथ बाड़मेर राजस्थान के बड़ा और प्रसिद्ध जिलों में से एक है। राज्य के
दौसा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
दौसा राजस्थान राज्य का एक छोटा प्राचीन शहर और जिला है, दौसा का नाम संस्कृत शब्द धौ-सा लिया गया है,
धौलपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
धौलपुर भारतीय राज्य राजस्थान के पूर्वी क्षेत्र में स्थित है और यह लाल रंग के सैंडस्टोन (धौलपुरी पत्थर) के लिए
भीलवाड़ा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भीलवाड़ा भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख ऐतिहासिक शहर और जिला है। राजस्थान राज्य का क्षेत्र पुराने समय से
पाली के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
पाली राजस्थान राज्य का एक जिला और महत्वपूर्ण शहर है। यह गुमनाम रूप से औद्योगिक शहर के रूप में भी
जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोलोर जोधपुर से 140 किलोमीटर और अहमदाबाद से 340 किलोमीटर स्वर्णगिरी पर्वत की तलहटी पर स्थित, राजस्थान राज्य का एक
टोंक राजस्थान के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
टोंक राजस्थान की राजधानी जयपुर से 96 किमी की दूरी पर स्थित एक शांत शहर है। और राजस्थान राज्य का
राजसमंद पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
राजसमंद राजस्थान राज्य का एक शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। राजसमंद शहर और जिले का नाम राजसमंद झील, 17
सिरोही के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सिरोही जिला राजस्थान के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है। यह उत्तर-पूर्व में जिला पाली, पूर्व में जिला उदयपुर, पश्चिम में
करौली जिले के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
करौली राजस्थान राज्य का छोटा शहर और जिला है, जिसने हाल ही में पर्यटकों का ध्यान आकर्षित किया है, अच्छी
सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सवाई माधोपुर राजस्थान का एक छोटा शहर व जिला है, जो विभिन्न स्थलाकृति, महलों, किलों और मंदिरों के लिए जाना
नागौर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के जोधपुर और बीकानेर के दो प्रसिद्ध शहरों के बीच स्थित, नागौर एक आकर्षक स्थान है, जो अपने
बूंदी आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य
बूंदी कोटा से लगभग 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शानदार शहर और राजस्थान का एक प्रमुख जिला है।
बारां जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
कोटा के खूबसूरत क्षेत्र से अलग बारां राजस्थान के हाडोती प्रांत में और स्थित है। बारां सुरम्य जंगली पहाड़ियों और
झालावाड़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
झालावाड़ राजस्थान राज्य का एक प्रसिद्ध शहर और जिला है, जिसे कभी बृजनगर कहा जाता था, झालावाड़ को जीवंत वनस्पतियों
हनुमानगढ़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
हनुमानगढ़, दिल्ली से लगभग 400 किमी दूर स्थित है। हनुमानगढ़ एक ऐसा शहर है जो अपने मंदिरों और ऐतिहासिक महत्व
चूरू जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
चूरू थार रेगिस्तान के पास स्थित है, चूरू राजस्थान में एक अर्ध शुष्क जलवायु वाला जिला है। जिले को। द
गोगामेड़ी धाम के सुंदर दृश्य
गोगामेड़ी राजस्थान के लोक देवता गोगाजी चौहान की मान्यता राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल, मध्यप्रदेश, गुजरात और दिल्ली जैसे राज्यों
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
शील की डूंगरी के सुंदर दृश्य
शीतला माता यह नाम किसी से छिपा नहीं है। आपने भी शीतला माता के मंदिर भिन्न भिन्न शहरों, कस्बों, गावों
सीताबाड़ी के सुंदर दृश्य
सीताबाड़ी, किसी ने सही कहा है कि भारत की धरती के कण कण में देव बसते है ऐसा ही एक
गलियाकोट दरगाह के सुंदर दृश्य
गलियाकोट दरगाह राजस्थान के डूंगरपुर जिले में सागबाडा तहसील का एक छोटा सा कस्बा है। जो माही नदी के किनारे
श्री महावीरजी धाम राजस्थान के सुंदर दृश्य
यूं तो देश के विभिन्न हिस्सों में जैन धर्मावलंबियों के अनगिनत तीर्थ स्थल है। लेकिन आधुनिक युग के अनुकूल जो
कोलायत धाम के सुंदर दृश्य
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम उस पवित्र धरती की चर्चा करेगें जिसका महाऋषि कपिलमुनि जी ने न केवल
मुकाम मंदिर राजस्थान के सुंदर दृश्य
मुकाम मंदिर या मुक्ति धाम मुकाम विश्नोई सम्प्रदाय का एक प्रमुख और पवित्र तीर्थ स्थान माना जाता है। इसका कारण
कैला देवी मंदिर फोटो
माँ कैला देवी धाम करौली राजस्थान हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यहा कैला देवी मंदिर के प्रति श्रृद्धालुओं की
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के दक्षिण भाग में उदयपुर से लगभग 64 किलोमीटर दूर उपत्यकाओं से घिरा हुआ तथा कोयल नामक छोटी सी
एकलिंगजी टेम्पल के सुंदर दृश्य
राजस्थान के शिव मंदिरों में एकलिंगजी टेम्पल एक महत्वपूर्ण एवं दर्शनीय मंदिर है। एकलिंगजी टेम्पल उदयपुर से लगभग 21 किलोमीटर
हर्षनाथ मंदिर के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के सीकर से दक्षिण पूर्व की ओर लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर हर्ष नामक एक
रामदेवरा धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान की पश्चिमी धरा का पावन धाम रूणिचा धाम अथवा रामदेवरा मंदिर राजस्थान का एक प्रसिद्ध लोक तीर्थ है। यह
नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य
नाकोड़ा जी तीर्थ जोधपुर से बाड़मेर जाने वाले रेल मार्ग के बलोतरा जंक्शन से कोई 10 किलोमीटर पश्चिम में लगभग
केशवरायपाटन मंदिर के सुंदर दृश्य
केशवरायपाटन अनादि निधन सनातन जैन धर्म के 20 वें तीर्थंकर भगवान मुनीसुव्रत नाथ जी के प्रसिद्ध जैन मंदिर तीर्थ क्षेत्र
गौतमेश्वर महादेव धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के दक्षिणी भूखंड में आरावली पर्वतमालाओं के बीच प्रतापगढ़ जिले की अरनोद तहसील से 2.5 किलोमीटर की दूरी
रानी सती मंदिर झुंझुनूं के सुंदर दृश्य
सती तीर्थो में राजस्थान का झुंझुनूं कस्बा सर्वाधिक विख्यात है। यहां स्थित रानी सती मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां सती
ओसियां के दर्शनीय स्थल
राजस्थान के पश्चिमी सीमावर्ती जिले जोधपुर में एक प्राचीन नगर है ओसियां। जोधपुर से ओसियां की दूरी लगभग 60 किलोमीटर है।
डिग्गी कल्याण जी मंदिर के सुंदर दृश्य
डिग्गी धाम राजस्थान की राजधानी जयपुर से लगभग 75 किलोमीटर की दूरी पर टोंक जिले के मालपुरा नामक स्थान के करीब
रणकपुर जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
सभी लोक तीर्थों की अपनी धर्मगाथा होती है। लेकिन साहिस्यिक कर्मगाथा के रूप में रणकपुर सबसे अलग और अद्वितीय है।
लोद्रवा जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
भारतीय मरूस्थल भूमि में स्थित राजस्थान का प्रमुख जिले जैसलमेर की प्राचीन राजधानी लोद्रवा अपनी कला, संस्कृति और जैन मंदिर
गलताजी टेम्पल जयपुर के सुंदर दृश्य
नगर के कोलाहल से दूर पहाडियों के आंचल में स्थित प्रकृति के आकर्षक परिवेश से सुसज्जित राजस्थान के जयपुर नगर के
सकराय माता मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के सीकर जिले में सीकर के पास सकराय माता जी का स्थान राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक
बूंदी राजस्थान
केतूबाई बूंदी के राव नारायण दास हाड़ा की रानी थी। राव नारायणदास बड़े वीर, पराक्रमी और बलवान पुरूष थे। उनके
मुबारक महल सिटी प्लेस जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के महलों में मुबारक महल अपने ढंग का एक ही है। चुने पत्थर से बना है,
चंद्रमहल जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के ऐतिहासिक भवनों का मोर-मुकुट चंद्रमहल है और इसकी सातवी मंजिल ''मुकुट मंदिर ही कहलाती है।
जय निवास उद्यान
राजस्थान  की राजधानी और गुलाबी नगरी जयपुर के ऐतिहासिक इमारतों और भवनों के बाद जब नगर के विशाल उद्यान जय
तालकटोरा जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर नगर प्रासाद और जय निवास उद्यान के उत्तरी छोर पर तालकटोरा है, एक बनावटी झील, जिसके दक्षिण
बादल महल जयपुर
जयपुर  नगर बसने से पहले जो शिकार की ओदी थी, वह विस्तृत और परिष्कृत होकर बादल महल बनी। यह जयपुर
माधो विलास महल जयपुर
जयपुर  में आयुर्वेद कॉलेज पहले महाराजा संस्कृत कॉलेज का ही अंग था। रियासती जमाने में ही सवाई मानसिंह मेडीकल कॉलेज
ईश्वरी सिंह की छतरी
बादल महल के उत्तर-पश्चिम मे एक रास्ता ईश्वरी सिंह की छतरी पर जाता है। जयपुर के राजाओ में ईश्वरी सिंह के

write a comment