संतान सप्तमी व्रत कथा पूजा विधि इन हिन्दी – संतान सप्तमी व्रत मे क्या खाया जाता है

भाद्रपद शुक्ल सप्तमी को संतान सप्तमी व्रत किया जाता है। इसे मुक्ता-भरण व्रत भी कहते है। यह व्रत सध्यान्ह तक होता है। मध्यान्ह को चौक पूरकर शिव-पार्वती की स्थापना करे और— हे देव! जन्म जन्मान्तर के पाप से मोक्ष पाने तथा खण्डित सन्तान, पुत्र, पौत्रादि की वृद्धि के हेतु में संतान सप्तमी व्रत कर के आप का पूजन करता हूँ। यह संकल्प करे। पूजन के लिये चन्दन, अक्षत, धूप, दीप, नेवैद्य, पुंगीफल, नारियजल आदि सम्पूर्ण सामग्री प्रस्तुत रखे। नेवैद्य-भोग के लिये खीर-पूड़ी और खासकर गुड़ डाले हुए पुवे बनाकर तैयार रखे। रक्षा-बन्धन के लिये कलावा भी हो। कोई-कोई कलावे के स्थान में सोने-चाँदी की चूड़ियाँ रखते हैं या दूब का डोरा कल्पित कर लेती हैं।

 

 

स्त्रियों को चाहिये कि वे यह संकप करें— हे देव! मे जो यह पूजा आपकी भेंट करती हूँ, उसे स्वीकार कीजिये। इसी प्रकार शिवजी के सामने रक्षा का डोरा या चूँड़ी रखकर और ऊपर कहे हुए क्रम से आवाहन से लेकर फूल फल समर्पण तक पूजा अर्पण कर के तब नीरांजन पुष्पांजलि और प्रदक्षिणा करे और नमस्कार तथा यह प्रार्थना करे— हे देव! मेरी दी हुईं पूजा को स्वीकार करते हुए मेरी बनी-बिगड़ी भूल-चूक माफ कीजिये। तदनान्तर डोरे को शिवजों को समर्पण करके निवेदन करे— हे प्रभु! इस पुत्र-पौत्र- सन्‍तान वर्द्धनकारी डारे को ग्रहण कीजिए। उस उस डोरे को प्रार्थना-पूर्वक शिवजी से वरदान के रूप में लेकर आप धारण करे। फिर कथा सुने।

 

 

 

संतान सप्तमी व्रत कैसे करते है – संतान सप्तमी व्रत क्यों किया जाता है

 

 

भगवान श्रीकृष्ण भगवान राजा युधिष्ठिर से संतान सप्तमी व्रत कथा का वर्णन करते हुए कहते है कि मेरे जन्म लेने से पहले एक बार मथुरा में लोमश ऋषि आये थे। मेरे पिता-माता वासुदेव-देवकी ने उनकी विधिवत पूजा की। तब ऋषिवर ने उनको अनेक कथा सुनाई। फिर वह बोले— हे देवकी! कंस ने तुम्हारे कई पुत्रों को जन्म देते ही मरवा डाला है, इस कारण तुम पुत्र शोक से दुःखी हो। इस दुःख से मुक्ति पाने के लिये तुम मुक्ता भरण व्रत (संतान सप्तमी व्रत) करो। जैसे राजा नहुष की रानी चन्द्रमुखी ने यह व्रत किया और उसके पुत्र नहीं मरे, वैसे ही यह व्रत पुत्र शोक से तुम्हें मुक्त करेगा। इस के प्रभाव से तुम पुत्र-सुख को प्राप्त होगी, इसमें संशय नहीं। तब देवकी ने पूछा— हे ब्राह्मण! जो राजा नहुष की रानी चन्द्रमुखी थी, वह कौन थी और उसने कौन सा व्रत किया। उस व्रत को कृपाकर विधिपूर्वक कहिये। तब लोमशजी ने यह कथा कही:—–

 

 

संतान सप्तमी व्रत की कथा

 

अयोध्या पुरी सें नहुष नाम का एक प्रतापी राजा हो गया है। उसकी अति सुन्दरी रानी का नाम रूपवती था। उसी नगर में विष्णुगुप्त नासक एक ब्राह्मण रहता था। उसकी सर्वगुण- सम्पन्न स्त्री का नाम भद्रमुखी था। उक्त दोनों स्थियां में परस्पर बड़ी प्रीति थी। एक समय वे दोनों सरयूजी में स्नान करने गई। वहाँ उन्होने देखा कि ओर भी बहुत सी स्त्रियों ने स्नान किया और फिर वे मण्डल बाँधकर बैठ गईं। पुनः उन्होंने पार्वती-समेत शिव जी को लिखकर गन्ध, अक्षत, पुष्प, आदि से उनकी पूजा की। जब वे पूजन करके घर को चलने लगीं, तब इन दोनों ( रानी और ब्राह्मणी ) ने उन के पास जाकर पूछा— हे सखियो! यह तुम क्या कर रही हो। उन्होने उत्तर दिया—“हम गैारा-समेत शिव जी का पूजन कर रही थीं ओर उनका डोरा बाँधकर हमने अपनी आत्मा उन्हीं को अर्पण कर दी है। तात्पर्य यह कि हम लोगों ने यह संकल्प किया है कि जब तक जीयेंगी संतान सप्तमी व्रत करती रहेंगी। यह सुख-सन्‍तान बढ़ाने वाला सुक्ताभरण व्रत सप्तमी को होता है। हे सखियो! इस सुख-सैभाग्य-दाता व्रत को हम लोग करती हैं।

 

 

स्त्रियों को बातें सुनकर रानी और उसकी सखी दोनों ने आजन्म संतान सप्तमी का व्रत करने का संकल्प करके शिवजी के नाम का डोरा बांध लिया। परन्तु घर पहुँचकर उन्होंने अपने किये हुए संकल्प को भुला दिया। परिणाम यह हुआ कि जब वे मरीं तो रानी वानरी हुईं ओर ब्राह्मणी मुर्गी हुई। कुछ समय बाद पशु-शरीर त्यागकर वे पुनः मनुष्य-योनि मे जन्मीं। रानी चन्द्रमुखी तो मथुरा के राजा प्रथ्वीनाथ की प्यारी रानी हुई और ब्राह्मणी एक ब्राह्मण के घर मे जन्मी। इस जन्म मे रानी का नाम ईश्वरी हुआ ओर ब्राह्मणी भूषणा नाम से प्रसिद्ध हुई। भूषणा राज पुरोहित अग्रिमुख को व्याही गई। इस जन्म मे भी रानी ओर पुरोहितानी दोनों में परस्पर प्रीति और साख्य-भांव था। व्रत को भूल जाने के कारण यहाँ भी रानी अपुत्रा रही। मध्य समय में उसके एक बहरा और गूँगा पुत्र जन्मा, परन्तु वह भी नौ वर्ष का होकर मर गया। परन्तु व्रत को याद रखने और नियम पूर्वक व्रत करने के कारण भूषणा के गर्भ से सुन्दर ओर निरोग आठ पुत्र उत्पन्न हुए।

 

 

संतान सप्तमी व्रत कथा
संतान सप्तमी व्रत कथा

 

 

रानी को पुत्र शोक से दुःखी जानकर पुरोहितानी उससे मिलने गई। उसे देखते ही रानी को ईर्ष्या उत्पन्न हुई। तब उसने पुरोहितानी को विदा करके उसके पुत्रों को भोजन के लिये बुलाया और उनको भोजन मे विष खिलाया। परन्तु संतान सप्तमी व्रत के प्रभाव से वे विष से मरे नहीं। इससे रानी को बहुत क्रोध आया। तब उसने नौकरों को आज्ञा दी कि वे पुरोहितानी के पुत्रों को पूजा के बहाने यमुना किनारे ले जाकर गहरे जल में डूबा दे। रानी के दूतों ने वैसा ही किया। परन्तु व्रत के प्रभाव से यमुना जी उथली हो गई और ब्राह्मण-बालक बाल-बाल बच गये। तब तो रानी ने जल्लादों को आज्ञा दी कि वे ब्राह्मण बालकों को वध स्थान मे ले जाकर मार डालें। परन्तु जल्लाद के आघात करने पर भी ब्राह्मण बालकों को मार नही सके।

 

 

यह समाचार सुनकर रानी को बड़ा आश्चर्य हुआ। तब उसने पुरोहितानी को बुलाकर पूछा— ऐसा तू ने कौन-सा पुण्य किया है कि तेरे बालक मारने से भी नहीं मरते? इस प्रश्न के उत्तर में पुरोहितानी बोली— आपको तो पूर्व-जन्म की बात याद नही है, परन्तु मुझे जो मालूम है सो कहती हूँ, पहले जन्म मे तुम अयोध्या के राजा की रानी थी और में तुम्हारी सखी थी। हम दोनो ने सरयू किनारे शिव-पार्वती के पूजन का डोरा बाँधकर आजन्म सप्तमी का व्रत करने का संकल्प किया था। परन्तु फिर व्रत करना भूल गई। मुझे अन्तिम समय में व्रत का ध्यान आ गया, इस कारण में मरकर बहु सन्तान वाली कुम्कुटी हुई और तुम वानरी हुई। पक्षी योनि मे व्रत कर नहीं सकती थी, परन्तु व्रत का स्मरण मात्र रखने से मे इस जन्म में नीरोग ओर बहु सन्‍तान वाली हूँ। में अब भी व्रत करती हूँ । उसीके प्रभाव से मेरी सन्तांन स्वस्थ ओर दीर्घायु हैं। पुरोहितानी के कहने से रानी को भी अपने पूर्व-जन्म का हाल स्मरण आ गया और वह उसी समय से नियमपूर्वक संतान सप्तमी व्रत करने लगी। तब उसके कई पुत्र पौत्रादि हुए और अन्त मे उन दोनों ने शिव-लोक का वास पाया।

 

 

 

संतान सप्तमी व्रत विधि – संतान सप्तमी व्रत करने का तरीका

 

 

ऋषि लोमशजी बोले— हे देवकी! जिस प्रकार रानी भद्रमुखी ने फल पाया, उसी प्रकार तुम भी इस व्रत को करने से सन्‍तान सुख पाओगी, यह निश्चित है। तब देवकी ने पूछा— हे मुनिवर! इस सन्‍तान-दाता और मोक्ष-दाता संतान सप्तमी व्रत की विधि कृपा करके बतलाये। तब मुनिवर लोमशजी बोले— ( भादों ) शुक्ल सप्तमी को नदी या ताल में स्नान करके, मण्डल में शिव-पार्वती की प्रतिमा लिखकर उसका विधिवत्‌ पूजन करो और शिवजी के नाम का डोरा बॉधकर यह संकल्प करों कि यह जीवन हमने भी शिवजी को समर्पण किया। फिर सदैव व्रत का स्मरण रखने के लिये शिवजी के डोरे को सोने या चाँदी का बनवाकर सदैव हाथ में पहिने रहो ओर हर सप्तमी को या महीने में एक बार शुक्ल पक्ष की सप्तमी को अथवा साल में एक बार भादों मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को व्रत रखकर उसका पूजन करो।सौभाग्यवती स्त्रियों को वस्त्र और सौभाग्य-सूचक पदार्थ दान दिया करो। व्रत के दिन खुद भी पुवा भोजन करो और पुत्रों तथा सौसाग्यवती स्त्रियों को भोजन कराओ। प्रति वर्ष संतान सप्तमी व्रत को विधिपूर्वक करो, तो निश्चय है कि हे देवकी! तुमको उत्तम संतान प्राप्त होगी।

 

 

श्रीकृष्ण जी बोले कि हे युधिष्ठिर! इस प्रकार सन्तान सप्तमी का व्रत करने से तब मैने देवकी के गर्भ से अवतार लिया। बस इसी से समझ लो कि जो कोई स्त्री पुरुष निःसन्‍तान और दुखी हो, वह नियमपूर्वक संतान सप्तमी का व्रत करे, तो निश्चय है कि श्री शिवजी की कृपा से वह सन्तान सुख पायेगा और आजन्म नीरोग और सुखी रहकर अन्त में शिव-लोक को जायेगा।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:————

 

 

ओणम फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
ओणम दक्षिण भारत के सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों मे से एक है। यह केरल के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक Read more
विशु पर्व के सुंदर दृश्य
भारत विभिन्न संस्कृति और विविधताओं का देश है। यहा के कण कण मे संस्कृति वास करती है। यहा आप हर Read more
थेय्यम पर्व नृत्य के सुंदर दृश्य
थेय्यम केरल में एक भव्य नृत्य त्योहार है और राज्य के कई क्षेत्रों में प्रमुखता के साथ मनाया जाता है। Read more
केरल नौका दौड़ महोत्सव के सुंदर दृश्य
भारत के प्रसिद्ध त्यौहारों में से एक, केरल नौका दौड़ महोत्सव केरल राज्य की समृद्ध परंपरा और विविध संस्कृति को Read more
अट्टूकल पोंगल फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
अट्टूकल पोंगल केरल का एक बेहद लोकप्रिय त्यौहार है। अट्टुकल पोंगल मुख्य रूप से महिलाओं का उत्सव है। जो तिरुवनंतपुरम Read more
तिरूवातिरा नृत्य फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
तिरूवातिरा केरल का एक प्रसिद्ध त्यौहार है। मलयाली कैलेंडर (कोला वर्षाम) के पांचवें महीने धनु में क्षुद्रग्रह पर तिरुवातिरा मनाया Read more
मंडला पूजा के सुंदर दृश्य
मंडला पूजा उत्सव केरल के त्योहारों मे एक प्रसिद्ध धार्मिक अनुष्ठान फेस्टिवल है। मंडला पूजा समारोह मलयालम महीने के वृश्चिक Read more
अष्टमी रोहिणी फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
अष्टमी रोहिणी केरल राज्य में ही नही बल्कि पूरे भारत मे एक प्रमुख त्यौहार है। यह त्यौहार भगवान कृष्ण के Read more
लोहड़ी
भारत में अन्य त्योहारों की तरह, लोहड़ी भी किसानों की कृषि गतिविधियों से संबंधित है। यह पंजाब में कटाई के Read more
दुर्गा पूजा पर्व के सुंदर दृश्य
दुर्गा पूजा भारत का एक प्रमुख त्योहार है। जो भारत के राज्य पश्चिम बंगाल का मुख्य त्योहार होने के साथ Read more
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने Read more
मुहर्रम की झलकियां
मुहर्रम मुस्लिम समुदाय का एक प्रमुख त्यौहार है। जो बड़ी धूमधाम से हर देश हर शहर के मुसलमान बड़ी श्रृद्धा भाव Read more
गणगौर व्रत
गणगौर का व्रत चैत्र शुक्ला तृतीया को रखा जाता है। यह हिंदू स्त्री मात्र का त्यौहार है। भिन्‍न-भिन्‍न प्रदेशों की Read more
बिहू त्यौहार के सुंदर दृश्य
बिहू भारत के असम राज्य का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह तीन त्योहारों का मेल है जो अलग-अलग दिनों Read more
हजरत निजामुद्दीन दरगाह
भारत शुरू ही से सूफी, संतों, ऋषियों और दरवेशों का देश रहा है। इन साधु संतों ने धर्म के कट्टरपन Read more
नौरोज़ त्यौहार
नौरोज़ फारसी में नए दिन अर्थात्‌ नए साल की शुरुआत को कहते हैं। ईरान, मध्य-एशिया, कश्मीर, गुजरात और महाराष्ट्र के Read more
फूलवालों की सैर
अगर भारत की मिली जुली गंगा-जमुना सभ्यता, हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे के आपसी मेलजोल को किसी त्योहार के रूप में देखना हो Read more
ईद मिलादुन्नबी त्यौहार
ईद मिलादुन्नबी मुस्लिम समुदाय का प्रसिद्ध और मुख्य त्यौहार है। भारत के साथ साथ यह पूरे विश्व के मुस्लिम समुदाय Read more
ईद उल फितर
ईद-उल-फितर या मीठी ईद मुसलमानों का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह रमजान के महीने के समाप्त होने की खुशी Read more
बकरीद या ईदुलजुहा
बकरीद या ईद-उल-अजहा ( ईदुलजुहा) ईदुलफितर के दो महीने दस दिन बाद आती है। यह ईद चूंकि महीने की दस Read more
बैसाखी
बैसाखी सिक्ख धर्म का बहुत ही प्रमुख त्योहार माना जाता है। इस दिन गुरु गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की Read more
अरुंधती व्रत
चैत्र शुक्ला प्रतिपदा को अरुंधती व्रत रखा जाता है। इस व्रत को रखने से पराये मर्द या परायी स्त्री से Read more
रामनवमी
रामनवमी भगवान राम का जन्म दिन है। यह तिथि चैत्र मास की शुक्ला नवमी को पड़ती है। चैत्र पद से चांद्र Read more
हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा श्री रामभक्त हनुमान का जन्म दिवस हैं। इस दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है। कुछ लोग यह जन्म दिवस Read more
आसमाई व्रत कथा
वैशाख, आषाढ़ और माघ, इन्हीं तीनों महीनों की किसी तिथि में रविवार के दिन आसमाई की पूजा होती है। जो Read more
वट सावित्री व्रत
ज्येष्ठ बदी तेरस को प्रातःकाल स्वच्छ दातून से दन्तधोवन कर उसी दिन दोपहर के बाद नदी या तालाब के विमल Read more
गंगा दशहरा व गंगा अवतरण कहानी
ज्येष्ठ शुक्ला दशमी को गंगा दशहरा कहते हैं। गंगा दशहरा के व्रत का विधान स्कन्द-पुराण और गंगावतरण की कथा वाल्मीकि रामायण Read more
रक्षाबंधन और श्रावणी पूर्णिमा
रक्षाबंधन:-- श्रावण की पूर्णिमा के दिन दो त्योहार इकट्ठे हुआ करते है।श्रावणी और रक्षाबंधन। अनेक धर्म-ग्रंथों का मत है कि Read more
नाग पंचमी
श्रावण शुक्ला पंचमी को नाग-पूजा होती है। इसीलिये इस तिथि को नाग पंचमी कहते हैं। भारत में यह बडे हर्षोल्लास Read more
कजरी की नवमी या कजरी पूर्णिमा
कजरी की नवमी का त्योहार हिन्दूमात्र में एक प्रसिद्ध त्योहार है। श्रावण सुदी पूर्णिमा को कजरी पूर्णिमा कहते है। इसी Read more
हरछठ का त्यौहार
भारत भर में हरछठ जिसे हलषष्ठी भी कहते है, कही कही इसे ललई छठ भी कहते है। हरछठ का व्रत Read more
गाज बीज माता की पूजा
भाद्र शुक्ला द्वितीया को अधिकांश गृहस्थो के घर बापू की पूजा होती है। यह बापू की पूजा असल में कुल-देवता Read more
सिद्धिविनायक व्रत कथा
गणेशजी के सम्पूर्ण व्रतों में सिद्धिविनायक व्रत प्रधान है। सिद्धिविनायक व्रत भाद्र-शुक्ला चतुर्थी को किया जाता है। पूजन के आरम्भ Read more
कपर्दि विनायक व्रत
श्रावण मास की शुक्ला चतुर्थी से लगाकर भादों की शुक्ला चतुर्थी तक जो मनुष्य एक बार भोजन कर के एक Read more
हरतालिका तीज व्रत
भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तीज हस्ति नक्षत्र-युक्त होती है। उस दिन व्रत करने से सम्पूर्ण फलों की प्राप्ति Read more
जीवित्पुत्रिका व्रत कथा
अश्विन शुक्ला अष्टमी को जीवित्पुत्रिका व्रत होता है। इस व्रत को जीतिया व्रत के नाम से भी जाना जाता है। Read more
अहोई आठे
कार्तिक कृष्णा-अष्टमी या अहोई अष्टमी को जिन स्त्रियों के पुत्र होता है वह अहोई आठे व्रत करती है। सारे दिन Read more
बछ बारस का पूजन
कार्तिक कृष्णा द्वादशी को गोधूलि-बेला मे, जब गाये चर- कर जंगल से वापस आती हैं, उस समय उन गायों और बछडों Read more

Add a Comment