शिमला(सफेद चादर ओढती वादियाँ) शिमला के दर्शनीय स्थल

बर्फ से ढके पहाड़ सुहावनी झीलें, मनभावन हरियाली, सुखद जलवायु ये सब आपको एक साथ एक ही जगह मिल सकता है । हिमाचल प्रदेश में बसा यह सुंदर हिल्स स्टेशन पहाड़ों की रानी के नाम से प्रसिद्ध है “शिमला” । इसकी सुंदरता देश ही नहीं विदेशी पर्यटकों को भी अपनी और आकर्षित करती है । यहाँ बर्फ की सफेद चादर ओढ़े पर्वत और हरियाली पर्यटकों को बहुत भाती है । भारत में नवविवाहित जोडों का हनीमून मनाने के लिए सबसे ज्यादा पसंदीदा पर्यटन स्थल है । यहाँ की जलवायु में ऐसा नशा व जादू है कि जो एक बार यहाँ आता है इस जगह का दिवाना हो जाता है और  बार – बार यहाँ आना चाहता है । यहाँ की खुबसूरती अंग्रेजों के शासन काल में भी प्रसिद्ध थी । इसकी खुबसूरती उन्हें भी आकर्षित करती थी । इसलिए उस समय उन्होंने इसे ग्रीष्मकाल की राजधानी घोषित कर दिया था । अंग्रेज गर्मियों में वहाँ जाकर रहा करते थे इसका प्रमाण आज भी वहाँ देखने को मिलता है। हम बात कर रहे है शिमलां की

वहाँ बड़े बड़े भवनों का निर्माण अंग्रेजों के द्वारा किया गया था जो आज भी पर्यटन का मुख्य हिस्सा है । शिमला शहर को 1972 में पुनः नवनिर्मित किया गया और इसे जिला घोषित किया गया ।
शिमलां साल भर कभी भी जा सकते है यह हर सीजन में सुंदर लगता है । परंतु अगर आप बर्फबारी का आनंद लेना चाहते है तो दिसम्बर और जनवरी के समय यहाँ खुब बर्फबारी होती है । शिमला में आकर्षक व प्रसिद्ध स्थानों की लम्बी सूची है आइए हम आपको कुछ प्रमुख स्थानों के बारे में बताते है
शिमला हनीमून डेस्टिनेशन सुंदर दृश्य
शिमला हनीमून डेस्टिनेशन सुंदर दृश्य

 

समर हिल्स:-

शिमलां में घुमने के लिए यह सबसे बेस्ट प्लेस है । इसे पॉटर हिल भी कहते है । यह एक छोटा सा टाउन है जो शिमलां के मशहूर रिज से पांच किलोमीटर दूर स्थित है । यह समुद्र तल से 1283 मीटर की उचांई पर स्थित है । यहाँ चारो तरफ हरियाली ही हरियाली है । यहाँ ऊपर से बहुत ही मनोहारी दृश्य देखने को मिलता है । शिमलां में सात मुख्य पर्वत है जोकि अत्यधिक प्रसिद्ध है । समर हिल उनमें से एक है यहाँ से सनसेट और सन राइज दोनों ही दृश्य बहुत अच्छे लगते है।

 

जाखू हिल:-

यह शिखर शिमला से दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित है । शिमला का यह सबसे ऊचा शिखर है  जो समुद्र तल से 8000 मीटर की ऊचाई पर स्थित है । शिमला का यह मुख्य आकर्षण है । प्राकति के चाहने वालों के लिए यह किसी जन्नत से कम नहीं । यहाँ जाखू मंदिर भी है जहाँ हनुमानजी की 108 फुट ऊची विशाल प्रतिमा है जो देखने योग्य है । इधर ऊपर चढना आसान नहीं है यह एक साहसिक यात्रा है ।

 

दी स्कैंडल प्वाइंट रिज

यह स्कैंडल प्वाइंट के नाम से भी प्रसिद्ध है जो शिमला शहर के  बीचोंबीच स्थित है । यहाँ से शिमला के चारों ओर की हरियाली , बर्फीली पहाड़ी , घाटी सभी दिखाई देता है  । बर्फ से ढकी पर्वत श्रृंखला का अद्भुत नजारा यहाँ से देखने को मिलता है यहाँ प्रसिद्ध पुस्तकालय भी है

 

इंडियन इंस्टीट्यूट अॉफ एडवांस स्टडीज:-

इस ऐतिहासिक धरोहर को ब्रिटिश सरकार द्वारा 1880-88 के समय बनाया गया था इसे अंग्रेज़ी सरकार के उच्च अफसरों के गर्मी के मौसम में रूकने के लिए बनाया गया था। आजादी के बाद डा० राधाकृष्णनन के द्वारा इसे 1965में इंस्टीट्यूट में तब्दील कर दिया गया । इस ऐतिहासिक भवन की कलाकृति देखते  ही बनती है । यहाँ की दिवारें फायर फ्रुफ है।

दी शिमला स्टेट म्यूजियम

इसे हिमाचल स्टेट म्यूजियम लाइब्रेरी भी कहते है । यह पर्वत की चोटी पर स्थित है । इसे 1974 में बनाया गया था । ब्रिटिश वास्तुकला व विशाल मैदान यहाँ का मुख्य आकषर्ण है । यह म्यूजियम भारत की संस्कृति व विरासत को गोरवशाली ढंग से प्रस्तुत करता है । इसमें विभिन्न पेंटिंग हस्तकला का समान कलाकृति मूर्तियाँ मौजूद है । कुछ तो इसमें 100 साल से भी पुरानी है

 

अन्नान्दाले:-

यह रिज से चार किलोमीटर दूर स्थित हैं । ब्रिटिश काल में यह विभिन्न खेलों के आयोजन का मुख्य स्थान हुआ करता था । पोलो रेसिंग क्रिकेट मुख्य रूप से खेला जाता था आज के समय में इस रेसकोर्स को मिनी गोल्फ कोर्स में बदल दिया गया है । जो गोल्फ के चाहने वालों की पहली पसन्द हुआ करती है । शिमला में ये बड़े वी आई पी नेता तथा अभिनेता की पहली पसंद है । इसे हैलीपैड के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है

 

नाल देहरा एंड शैली पीक:-

नाल देहरा समुद्र तल से 2044 मीटर की ऊचाई पर स्थित है । यहाँ लार्ड कर्जन ने गोल्फ कोर्स का निर्माण किया था । घने हरे भरे पेड़ मनमोहक हरियाली यहाँ के वातावरण में जादू सा बखेर देती है । बर्फ से ढके हिमालय पर्वत को यहाँ से देखा जा सकता है । यहाँ के शांत वातावरण में आप हवा की भी आवाज़ सुन सकते है और उसे महसूस कर सकते है । यहाँ घुड़सवारी  का भी आनंद लिया जा सकता है जिसके द्वारा आप पूरे हिल्स को देख सकते है

 

चाडविक फॉल:-

यह शिमला से सात किलोमीटर की दूरी पर स्थित है । यहाँ पानी 1586 मीटर की ऊचाई से गिरता है । यह समर हिल के पास ही स्थित है । पैदल चलकर जायेंगे तो 45मिनट में ही रास्ता पार कर लेगें । झरने के चारो ओर घने वृक्ष है जो झरने की सुंदरता में चार चांद लगाते है । इस झरने के पानी द्वारा ही शिमला में पानी की सप्लाई होती है । मानसून के समय पानी बढ जाता है जिससे यह ओर अधिक आकर्षक लगता है।

कुफरी:-

यह शिमला से 19 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है । यह समुद्र तल से 2622मीटर की ऊचाई पर है । इसे दी विंटर स्पोर्ट्स कैपिटल भी कहते है । पहले यह नेपाल देश की सीमा के अंतर्गत  आता था । यहाँ सर्दियों में विंटर स्पोर्ट्स स्काइंग और आइस स्केटिंग का लुफ्त उठाया जा सकता है ।

 

चैल:-

यहाँ दुनिया की सबसे अधिक ऊचाई पर स्थित क्रिकेट पिच है । जिसके चारो ओर एक तरह के समान पेड़ लगे है । जो वातावरण को अनुठा बना देतें है । यहाँ से पूरे शहर की सुंदरता को निहारा जा सकता है।
क्राइस्ट चर्च:-

उत्तर भारत का सबसे  प्राचीन चर्च है । इसे ब्रिटिश सरकार द्वारा 1857 में बनवाया गया था । इसे नव गोथिक शैली में डिज़ाइन किया गया था । क्राइस्ट चर्च भारत में ब्रिटिश सरकार के लम्बी अवधि तक शासन करने का प्रतीक है ।

 

नैनीताल सुंदर झीलो का शहर

 

 

तारा देवी मंदिर:-

यह मंदिर समुद्र तल से 1851 मीटर ऊचाई पर स्थित है । यह शिमला से 11 किलोमीटर दूर है । यह एक प्रसिद्ध मंदिर हैं।

कैसे पहुँचे

यह शहर देश के सभी बड़े शहरों से जुड़ा हुआ है । जबरहट्टी में शिमला एअरपोर्ट बना हुआ है । इसके अलावा चंडीगढ़ व दिल्ली इसके करीबी हवाई अड्डे है । अगर आप ट्रेन से सफ़र करने की सोच रहे है तो शिमला के पास कालका में बड़ा स्टेशन है जो सभी बड़े स्टेशनों को जोडता है । कालका से शिमला छोटी लाइन पर ट्रेन चलती है यह खिलौना ट्रेन कहलाती है । जो सभी जगह फैमस भी है । अगर आप सड़क मार्ग से जाना चाहते है तो दिल्ली से शिमला 350 किलोमीटर दूर है व चंडीगढ़ से 118 किलोमीटर है । प्राइवेट और सरकारी बसे तथा टैक्सी इस रूट में आसानी से मिल जाती है।

write a comment