शाह नज़फ इमामबाड़ा लखनऊ हिस्ट्री इन हिन्दी

शाही नवाबों की भूमि लखनऊ अपने मनोरम अवधी व्यंजनों, तहज़ीब (परिष्कृत संस्कृति), जरदोज़ी (कढ़ाई), तारीख (प्राचीन प्राचीन अतीत), और चेहल-पहल (स्ट्रीट वेंडर्स और दुकानों से सजी चमकदार सड़कें) के लिए दुनिया भर में लोकप्रिय है। इन सबके अलावा, लखनऊ शहर में कई भव्य ऐतिहासिक स्मारक हैं जो अवधी वास्तुकला की समृद्धि और नवाबों के गौरवशाली अतीत के बारे में बताते हैं। एसा ही एक स्मारक शहर के बीच खड़ा है जो समकालीन लखनवी आबादी की चकाचौंध से छिपा हुआ है, वह स्मारक जो लखनऊ के बीचों-बीच खड़े होकर भी कई लोगों की नज़रों से बच गया है, वह स्मारक जो शहर के शिया मुसलमानों के लिए धार्मिक महत्व रखता है। शाह नज़फ इमामबाड़ा, शाह नज़फ रोड का शुरुआती बिंदु, सहारा गंज मॉल के बहुत करीब है। यह एक वास्तुशिल्प कृति है और शिया मुसलमानों के लिए एक महत्वपूर्ण धार्मिक स्थान है।

 

 

शाह नज़फ इमामबाड़ा का इतिहास

 

शाह नज़फ इमामबाड़ा प्रसिद्ध नवाब गाजीउद्दीन हैदर द्वारा निर्मित एक प्रभावशाली इमामबाड़ा है, जो वास्तव में नवाबों और ब्रिटिश साम्राज्य के बीच मौद्रिक ऋण के मुख्य लाभार्थियों में से एक था। नवाब गाजी-उद-दीन हैदर ने शाह नज़फ इमामबाड़े के निर्माण का आदेश पलटन घाट के नाम से एक प्रमुख स्थान पर दिया था। यह घाट लखनऊ में गोमती नदी के तट पर स्थित है। महल के इमामबाड़े को नवाब गाजी-उद-दीन हैदर ने हजरत अली के प्रति अपने प्यार और श्रद्धा को दिखाने के लिए बनवाया था।

हजरत अली पैगंबर मुहम्मद की प्यारी बेटी फातिमा के पति थे। अद्भुत शाह नज़फ इमामबाड़ा इराक में नज़फ-ए-अशरफ के मकबरे जैसा दिखता है और इस तथ्य के कारण इसका नाम हो सकता है। इसके अलावा, हजरत अली को शाह-ए-नज़फ या “नज़फ के राजा” के रूप में भी जाना जाता है।

हजरत मुहम्मद के दामाद शाह नज़फ या हजरत अली एक प्रमुख विद्वान और साहसी योद्धा थे। इस्लाम के प्रचार और रक्षा में उनके वीरतापूर्ण प्रयासों ने उन्हें विशेष रूप से हैदर-ए-खुदा का ख़िताब (पदनाम) दिलाया। हैदर-ए-खुदा का शाब्दिक अर्थ है “अल्लाह का शेर।” शाह नज़फ इस्लाम के चौथे खलीफा बने। नवाब गाज़ी-उद-दीन हैदर ने इमामबाड़ा का निर्माण और हज़रत अली को समर्पित किया।

 

 

गाज़ीउद्दीत हैदर ने सन 1814 ई० में अपने वालिद नवाब सआदत अली खां के गूजर जाने के बाद हुकूमत संभाली। उन्हें भी इमारतें
बनवाने का बड़ा शौक रहा, अपनी हुकूमत के दौरान उन्होंने लखनऊ में तमाम खूबसूरत इमारतें बनवाईं जिनमें छतर मंजिल, मुबारक मंजिल, शाह नज़फ इमामबाड़ा आदि प्रमुख हैं।

 

शाह नज़फ इमामबाड़ा
शाह नज़फ इमामबाड़ा

 

20 अक्टूबर सन्‌ 1827 ई० को गाजीउद्दीन का इन्तकाल हो गया। नवाब साहब की यह आखिरी इच्छा थी कि मरने के बाद उन्हें शाह नज़फ में ही दफनाया जाए आखिरकार उनकी यह आखिरी ख्वाहिश भी पूरी हुई। इस इमामबाड़े को बनवाने से पहले नज़फ पर्वत (इराक) पर बनी मो० साहब के दामाद हजरत अली की मज़ार की पवित्र मिट्टी लखनऊ लायी गयी और हु-बहू वहां बनी मजार की तरह ही इस शाह नज़फ इमामबाड़े की इमारत का निर्माण हुआ जिससे इसका नाम शाह नज़फ पड़ा।

 

 

शाह नज़फ को बनवाने का उद्देश्य यह था कि जो लोग करबला-ए-मौला की ज़ियारत के लिए करबला नहीं जा सकते हैं वे यहीं हजरत अली की ज़ियारत कर सके। गाजीउद्दीन बड़े ही रहम दिल इन्सान थे। उन्होंने तमाम गरीब लड़कियों की शादियां करवायी। एक दिन नवाब साहब सेर पर निकले उनकी निगाह एक बेवा औरत और उसकी लड़की पर पड़ी। गरीबी की मार से चोट खाई इन दोनों औरतों पर उन्हें बड़ा तरस आया रुक कर उनका हाल चाल पूछा।

 

उनकी कहानी सुनकर नवाब साहब भारी मन से महल लौट आए और अपने वज़ीर आगामीर से कहा कि उस बेवा को बेटी की शादी के वास्ते 500 अशर्फियाँ भिजवा दो। वजीर ने उस तक अशर्फियां भिजवाने के बजाय शाम के वक्‍त सारी अशर्फियां दहलीज पर इधर-उधर फैलवा दी ताकि बादशाह समझे की शादी के लिए इतनी रकम कम होने के कारण उस बेवा ने उन्हें वापिस कर दी है। नवाब ने जब दहलीज पर अशफियां छितरी देखीं तो कुछ देर सोच कर सुखपाल के हाथों दुगनी अशर्फियां पहुंचवा दीं। बेचारे वज़ीर साहब अपना सा मुंह लिए रह गये।

 

 

शाह नज़फ इमामबाड़े में बना एकमात्र विशाल गुम्बद बड़ा ही खूबसूरत है। गुम्बद के ऊपर बनी मीनार कभी पूरी सोने की हुआ करती थी, मगर फिरंगियों की नापाक नजरें जब इस पर गयी तो इसे तुड़वा दिया। जब यह दौबारा बनी तो इस पर केवल सोने का पानी ही चढ़ाया जा सका।

 

इमामबाड़े का बरामदा खूबसूरत झाड़ फानूसों से सजा है। गाज़ीउद्दीन ने जब इसको बनवाया तो तमाम झाड़फानूस आसफी इमामबाड़े से यहां उठा लाये। हाल में प्रवेश करते ही सामने की ओर चाँदी के ताजिए रखे हैं जिनमें दो छोटे और एक बड़ा है। इनके ऊपर मखमल की चादर तनी है। हाल में अनेक शाही आईने रखे हैं। इमामबाड़े में पहली मोहर्रम से लेकर ग्यारह मोहर्रम तक तमाम तकरीबात होते हैं जिन पर होने वाले खर्च का 1/4 भाग सरकार देती है और बाकी का खर्च ट्रस्ट उठाता है। इस दौरान गरीबों को शीरमाल पुलाव आदि बाँटा जाता है। सात व आठ तारीख को सजावट होती है। जिसका एफतिताह जिला अधिकारी महोदय करते हैं, आठ तारीख को यहीं पर “आग का मातम” मनाया जाता है।

 

इसी के साथ पहली से 11 तारीख तक मजलिसों का एहतिमाम होता है जिसमें जिले एवं बाहर से भी अनेक ‘नौहाख्वाँ मरसिया गोई’ आते हैं। मोहर्रम के दिनों में होने वाली भव्य एवं आकर्षक सजावट का एक कारण और बताया जाता है। कि ब्रिटिश सरकार शाही खाने का तमाम पैसा इधर-उधर खर्च कर रही थी इसे रोकने के लिए नवाबों ने एक ट्रस्ट बनाया जो कि हुसैनाबाद ट्रस्ट के नाम से मशहूर हुआ। यह एशिया का सबसे बड़ा ट्रस्ट है। इस ट्रस्ट के पैसे का इस्तेमाल मोहर्रम के दिन ताजियादारी अलम और मजलिसों के आयोजनों में खर्च होने लगा तब से मोहर्रम के अवसर पर रोशनी की जाती है

 

शाह नज़फ इमामबाड़े की वास्तुकला

 

शाह नज़फ इमामबाड़ा नवाबों के शहर में सबसे बेहतरीन और सबसे शानदार स्मारकों में से एक है। स्मारक का भव्य गुंबद बहुत ही अनोखा और प्रभावशाली है। गुंबद में नीचे की ओर स्थित ड्रम जैसा दुबला गर्दन होता है। यह इमामबाड़े के आगे और पीछे दो खूबसूरत प्रवेश द्वार भी है। पिछला गेट गोमती नदी के सामने था, जो अब शहर में बाढ़ को रोकने के लिए बनाए गए बांध में बहती है।

 

इमामबाड़ा परिसर के अंदर नवाब गाजी-उद-दीन हैदर की पत्नी मुमताज महल के लिए एक आवासीय स्थान और एक मस्जिद का निर्माण किया गया था। हालांकि, नदी के किनारे एक सड़क के निर्माण के लिए रास्ता बनाने के लिए वर्ष 1913 में घर को ध्वस्त कर दिया गया था।

 

शाह नज़फ इमामबाड़े को लखनऊ में कर्बला भी कहा जाता है। इमामबाड़े के मुख्य हॉल के अंदर नवाब गाजी-उद-दीन हैदर की कब्र है, क्योंकि वह वहां दफन होना चाहता था। इमामबाड़ा परिसर में उनकी तीन पत्नियों, मुमताज महल, मुबारक महल और सरफराज महल की कब्रें भी मौजूद हैं।

 

इमामबाड़ा का प्रवेश द्वार आगंतुकों को एक सुरम्य उद्यान के माध्यम से मुख्य हॉल में ले जाता है, जिसे विभिन्न प्रकार के फूलों और पौधों से शानदार ढंग से सजाया गया है। इमामबाड़े के बीच में गाजी-उद-दीन हैदर का अद्भुत चांदी का मकबरा है। चांदी का मकबरा मुमताज महल, मुबारक महल और सरफराज महल की सोने की कब्रों के बहुत करीब स्थित है।

 

हजरत अली के जन्मदिन पर राजसी शाह नज़फ इमामबाड़ा खूबसूरती से रोशन और रंगीन रोशनी से सजाया जाता है। मुस्लिम कैलेंडर के अनुसार, हज़रत अली का जन्मदिन इस्लामी महीने रजब के 13 वें दिन पड़ता है।

 

इमामबाड़ा आगंतुकों के लिए सप्ताह के सभी दिनों में सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक खुला रहता है। स्मारक का संरक्षण हुसैनाबाद ट्रस्ट बोर्ड और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा किया जाता है। इसके विपरीत, आप एक तरफ शाह नज़फ इमामबाड़े में शहर की मध्ययुगीन विरासत और सड़क के पार सहारा गंज मॉल का एक आधुनिक दृश्य देख पाएंगे।

 

 

लखनऊ के नवाब:—

 

सआदत खां बुर्हानुलमुल्क
सैय्यद मुहम्मद अमी उर्फ सआदत खां बुर्हानुलमुल्क अवध के प्रथम नवाब थे। सन्‌ 1720 ई० में दिल्ली के मुगल बादशाह मुहम्मद Read more
नवाब सफदरजंग
नवाब सफदरजंग अवध के द्वितीय नवाब थे। लखनऊ के नवाब के रूप में उन्होंने सन् 1739 से सन् 1756 तक शासन Read more
नवाब शुजाउद्दौला
नवाब शुजाउद्दौला लखनऊ के तृतीय नवाब थे। उन्होंने सन् 1756 से सन् 1776 तक अवध पर नवाब के रूप में शासन Read more
नवाब आसफुद्दौला
नवाब आसफुद्दौला-- यह जानना दिलचस्प है कि अवध (वर्तमान लखनऊ) के नवाब इस तरह से बेजोड़ थे कि इन नवाबों Read more
नवाब वजीर अली खां
नवाब वजीर अली खां अवध के 5वें नवाब थे। उन्होंने सन् 1797 से सन् 1798 तक लखनऊ के नवाब के रूप Read more
नवाब सआदत अली खां
नवाब सआदत अली खां अवध 6वें नवाब थे। नवाब सआदत अली खां द्वितीय का जन्म सन् 1752 में हुआ था। Read more
नवाब गाजीउद्दीन हैदर
नवाब गाजीउद्दीन हैदर अवध के 7वें नवाब थे, इन्होंने लखनऊ के नवाब की गद्दी पर 1814 से 1827 तक शासन किया Read more
नवाब नसीरुद्दीन हैदर
नवाब नसीरुद्दीन हैदर अवध के 8वें नवाब थे, इन्होंने सन् 1827 से 1837 तक लखनऊ के नवाब के रूप में शासन Read more
नवाब मुहम्मद अली शाह
मुन्नाजान या नवाब मुहम्मद अली शाह अवध के 9वें नवाब थे। इन्होंने 1837 से 1842 तक लखनऊ के नवाब के Read more
नवाब अमजद अली शाह
अवध की नवाब वंशावली में कुल 11 नवाब हुए। नवाब अमजद अली शाह लखनऊ के 10वें नवाब थे, नवाब मुहम्मद अली Read more
नवाब वाजिद अली शाह
नवाब वाजिद अली शाह लखनऊ के आखिरी नवाब थे। और नवाब अमजद अली शाह के उत्तराधिकारी थे। नवाब अमजद अली शाह Read more

 

लखनऊ के पर्यटन स्थल

दिलकुशा कोठी
दिलकुशा कोठी, जिसे "इंग्लिश हाउस" या "विलायती कोठी" के नाम से भी जाना जाता है, लखनऊ में गोमती नदी के तट Read more
लखनऊ की बिरयानी
लखनऊ  का व्यंजन अपने अनोखे स्वाद के लिए प्रसिद्ध है। यह शहर अपने कोरमा, बिरयानी, नहरी-कुलचा, जर्दा, शीरमल, और वारकी Read more
रहीम के नहारी कुलचे
रहीम के नहारी कुलचे:--- लखनऊ शहर का एक समृद्ध इतिहास है, यहां तक ​​​​कि जब भोजन की बात आती है, तो लखनऊ Read more
टुंडे कबाब
उत्तर प्रदेश  की राजधानी लखनऊ का नाम सुनते ही सबसे पहले दो चीजों की तरफ ध्यान जाता है। लखनऊ की बोलचाल Read more
गोमती रिवर फ्रंट
लखनऊ  शहर कभी गोमती नदी के तट पर बसा हुआ था। लेकिन आज यह गोमती नदी लखनऊ शहर के बढ़ते विस्तार Read more
अंबेडकर पार्क लखनऊ
नवाबों का शहर लखनऊ समृद्ध ऐतिहासिक अतीत और शानदार स्मारकों का पर्याय है, उन कई पार्कों और उद्यानों को नहीं भूलना Read more
वाटर पार्क इन लखनऊ
लखनऊ शहर जिसे "बागों और नवाबों का शहर" (बगीचों और नवाबों का शहर) के रूप में जाना जाता है, देश Read more
काकोरी शहीद स्मारक
उत्तर प्रदेश राज्य में लखनऊ से 18 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक छोटा सा नगर काकोरी अपने दशहरी आम, जरदोजी Read more
नैमिषारण्य तीर्थ
लखनऊ शहर में मुगल और नवाबी प्रभुत्व का इतिहास रहा है जो मुख्यतः मुस्लिम था। यह ध्यान रखना दिलचस्प है Read more
कतर्नियाघाट सेंचुरी
प्रकृति के रहस्यों ने हमेशा मानव जाति को चकित किया है जो लगातार दुनिया के छिपे रहस्यों को उजागर करने Read more
नवाबगंज पक्षी विहार
लखनऊ में सर्दियों की शुरुआत के साथ, शहर से बाहर जाने और मौसमी बदलाव का जश्न मनाने की आवश्यकता महसूस होने Read more
बिठूर दर्शनीय स्थल
धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व वाले शहर बिठूर की यात्रा के बिना आपकी लखनऊ की यात्रा पूरी नहीं होगी। बिठूर एक सुरम्य Read more
लखनऊ चिड़ियाघर
एक भ्रमण सांसारिक जीवन और भाग दौड़ वाली जिंदगी से कुछ समय के लिए आवश्यक विश्राम के रूप में कार्य Read more
जनेश्वर मिश्र पार्क
लखनऊ में हमेशा कुछ खूबसूरत सार्वजनिक पार्क रहे हैं। जिन्होंने नागरिकों को उनके बचपन और कॉलेज के दिनों से लेकर उस Read more
लाल बारादरी
इस निहायत खूबसूरत लाल बारादरी का निर्माण सआदत अली खांने करवाया था। इसका असली नाम करत्न-उल सुल्तान अर्थात- नवाबों का Read more
सफेद बारादरी
लखनऊ वासियों के लिए यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है यदि वे कहते हैं कि कैसरबाग में किसी स्थान पर Read more
मकबरा सआदत अली खां
उत्तर प्रदेश राज्य की राजधानी लखनऊ बहुत ही मनोरम और प्रदेश में दूसरा सबसे अधिक मांग वाला पर्यटन स्थल, गोमती नदी Read more
भूल भुलैया
इस बात की प्रबल संभावना है कि जिसने एक बार भी लखनऊ की यात्रा नहीं की है, उसने शहर के Read more
रूमी दरवाजा
1857 में भारतीय स्वतंत्रता के पहले युद्ध के बाद लखनऊ का दौरा करने वाले द न्यूयॉर्क टाइम्स के एक रिपोर्टर श्री Read more
चंद्रिका देवी मंदिर
चंद्रिका देवी मंदिर-- लखनऊ को नवाबों के शहर के रूप में जाना जाता है और यह शहर अपनी धर्मनिरपेक्ष संस्कृति के Read more
रामकृष्ण मठ लखनऊ
लखनऊ शहर के निरालानगर में राम कृष्ण मठ, श्री रामकृष्ण और स्वामी विवेकानंद को समर्पित एक प्रसिद्ध मंदिर है। लखनऊ में Read more
छोटा इमामबाड़ा
लखनऊ पिछले वर्षों में मान्यता से परे बदल गया है लेकिन जो नहीं बदला है वह शहर की समृद्ध स्थापत्य Read more
बड़ा इमामबाड़ा
ऐतिहासिक इमारतें और स्मारक किसी शहर के समृद्ध अतीत की कल्पना विकसित करते हैं। लखनऊ में बड़ा इमामबाड़ा उन शानदार स्मारकों Read more
रेजीडेंसी
नवाबों के शहर के मध्य में ख़ामोशी से खडी ब्रिटिश रेजीडेंसी लखनऊ में एक लोकप्रिय ऐतिहासिक स्थल है। यहां शांत Read more
बीबीयापुर कोठी
बीबीयापुर कोठी ऐतिहासिक लखनऊ की कोठियां में प्रसिद्ध स्थान रखती है। नवाब आसफुद्दौला जब फैजाबाद छोड़कर लखनऊ तशरीफ लाये तो इस Read more
खुर्शीद मंजिल लखनऊ
खुर्शीद मंजिल:- किसी शहर के ऐतिहासिक स्मारक उसके पिछले शासकों और उनके पसंदीदा स्थापत्य पैटर्न के बारे में बहुत कुछ Read more
मोती महल लखनऊ
मुबारिक मंजिल और शाह मंजिल के नाम से मशहूर इमारतों के बीच 'मोती महल' का निर्माण नवाब सआदत अली खां ने Read more
छतर मंजिल लखनऊ
अवध के नवाबों द्वारा निर्मित सभी भव्य स्मारकों में, लखनऊ में छतर मंजिल सुंदर नवाबी-युग की वास्तुकला का एक प्रमुख Read more
पिक्चर गैलरी लखनऊ
सतखंडा पैलेस और हुसैनाबाद घंटाघर के बीच एक बारादरी मौजूद है। जब नवाब मुहम्मद अली शाह का इंतकाल हुआ तब इसका Read more
सतखंडा पैलेस
सतखंडा पैलेस हुसैनाबाद घंटाघर लखनऊ के दाहिने तरफ बनी इस बद किस्मत इमारत का निर्माण नवाब मोहम्मद अली शाह ने 1842 Read more
फिरंगी महल
गोल दरवाजे और अकबरी दरवाजे के लगभग मध्य में फिरंगी महल की मशहूर इमारतें थीं। इनका इतिहास तकरीबन चार सौ Read more
मच्छी भवन लखनऊ
लक्ष्मण टीले के करीब ही एक ऊँचे टीले पर शेख अब्दुर्रहीम ने एक किला बनवाया। शेखों का यह किला आस-पास Read more
परीखाना
लखनऊ का कैसरबाग अपनी तमाम खूबियों और बेमिसाल खूबसूरती के लिए बड़ा मशहूर रहा है। अब न तो वह खूबियां रहीं Read more
टीले वाली मस्जिद
लक्ष्मण टीले वाली मस्जिद लखनऊ की प्रसिद्ध मस्जिदों में से एक है। बड़े इमामबाड़े के सामने मौजूद ऊंचा टीला लक्ष्मण Read more