शम्सुन्निसा बेगम लखनऊ के नवाब आसफुद्दौला की बेगम

बेगम शम्सुन्निसा लखनऊ के नवाब आसफुद्दौला की बेगम थी।
सास की नवाबी में मिल्कियत और मालिकाने की खशबू थी तो बहू की नवाबी में मासूमियत और अनजानेपन का रंग भी कुछ कम न था। नवाब आसफुद्दौला की पहली शादी दिल्ली के दीवान खानदान के इमामुद्दीन ख़ाँ उर्फ़ इस्तियाज़ उद्दौला की बेटी शम्सुन्निसा से हुई थी।

 

 

शम्सुन्निसा बेगम लखनऊ के नवाब आसफुद्दौला की बेगम

 

 

सन्‌ 1769 में फ़ैजाबाद में हुई इस शादी में सिर्फ़ 24 लाख रुपये खर्च हुए थे और वो भी उस ज़माने में जब रुपये का तीस सेर गेहूँ मिलता था। इस ब्याह में शिरकत करने के लिए दिल्‍ली के
बादशाह शाह आलम और शोलापुरी बेगम भी आई थीं।

 

बेगम शम्सुन्निसा
बेगम शम्सुन्निसा

 

शम्सुन्निसा लखनऊ के दौलतखाना शीशमहल में सात परदों में रहने वाली बेगम थीं। नवाब से उनकी अधिक बनी नहीं, इसलिए वो महल के दायरे में इस कदर बंध कर रह गईं कि उन्हें बाहरी दुनिया की कोई खबर ही न थी। वह इतनी भोली और नादन थी कि उनके जैसा नादान महल बेगम पूरे अवध में मिलना मुश्किल होगा। उनको ये तक न मालूम था कि गेहूँ दरख्त पर उगता है या खानों से बरामद होता है। मियाँ दाराब अली खाँ ख़्वाजासरा, जो लखनऊ के एक मुहल्ले सराय माली खाँ में रहता था, बेगम के महल का ड्योढ़ीदार था।

 

 

सन्‌ 1784 में नवाब आसफुद्दौला के वक्‍त में जब मशहूर अकाल पड़ा था तो कितने ही किसान और मज़दूर भूखों मरने लगे थे। ऐसे में गरीब जनता शीश महल के दौलतख़ाने के बाहर इकट्ठी होकर अपने सखीदाता नवाब के नाम की दुहाई देने लगी। रियाया के अनुरोध पर बेगम शम्सुन्निसा को भी राजवधू होने के नाते महल सराए सुल्तानी के बारजे पर चिलमन तक आना पड़ा। उन्हें मालूम हो चुका था कि जनता को इस वक़्त खाने-पीने की सख्त मुसीबत उठानी पड़ रही है। आपने महल के नीचे खड़ी भीड़ का सलाम क़बूल फ़रमाया और फिर बड़े प्यार से पूछा, “क्या तुम लोग खाने को कुछ भी नहीं पाते हो ?” आलम ने जवाब दिया, “मालकिन, कुछ भी नहीं ।” ऊपर से फिर सवाल पूछा गया, “अरे क्या, कुछ भी नहीं यानी क्‍या हलवा-पूरी भी नहीं खा सकते ?

 

 

इतना सुनते ही भीड़ दुहाई दे-देकर रोने लगी और नवाब आसफुद्दौला ने बेगम को वहां से फ़ौरन रफ़ा-दफ़ा करवा दिया। उसके बाद बड़े इमामबाड़े का नक्शा बनाया जाने लगा और इस तरह 22000 लोगों की रोज़ी-रोटी का एक अजीब इन्तजाम हुआ। विधवा होने के बाद अवध के प्रथम बादशाह गजीउद्दीन हैदर के अह॒द में बेगम शम्सुन्निसा प्रताप गंज की अपनी ही जागीर में रहती थीं। इलाहाबाद में उनका इन्तकाल हुआ और फिर उनकी लाश को लखनऊ लाकर दफनाया गया।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

 

मलिका किश्वर
मलिका किश्वर साहिबा अवध के चौथे बादशाह सुरैयाजाहु नवाब अमजद अली शाह की खास महल नवाब ताजआरा बेगम कालपी के नवाब Read more
बेगम कुदसिया महल
लखनऊ के इलाक़ाए छतर मंजिल में रहने वाली बेगमों में कुदसिया महल जेसी गरीब परवर और दिलदार बेगम दूसरी नहीं हुई। Read more
बहू बेगम
नवाब बेगम की बहू अर्थात नवाब शुजाउद्दौला की पटरानी का नाम उमत-उल-जहरा था। दिल्‍ली के वज़ीर खानदान की यह लड़की सन्‌ 1745 Read more
नवाब बेगम
अवध के दर्जन भर नवाबों में से दूसरे नवाब अबुल मंसूर खाँ उर्फ़ नवाब सफदरजंग ही ऐसे थे जिन्होंने सिर्फ़ एक Read more
सआदत खां बुर्हानुलमुल्क
सैय्यद मुहम्मद अमी उर्फ सआदत खां बुर्हानुलमुल्क अवध के प्रथम नवाब थे। सन्‌ 1720 ई० में दिल्ली के मुगल बादशाह मुहम्मद Read more
नवाब सफदरजंग
नवाब सफदरजंग अवध के द्वितीय नवाब थे। लखनऊ के नवाब के रूप में उन्होंने सन् 1739 से सन् 1756 तक शासन Read more
नवाब शुजाउद्दौला
नवाब शुजाउद्दौला लखनऊ के तृतीय नवाब थे। उन्होंने सन् 1756 से सन् 1776 तक अवध पर नवाब के रूप में शासन Read more
नवाब आसफुद्दौला
नवाब आसफुद्दौला-- यह जानना दिलचस्प है कि अवध (वर्तमान लखनऊ) के नवाब इस तरह से बेजोड़ थे कि इन नवाबों Read more
नवाब वजीर अली खां
नवाब वजीर अली खां अवध के 5वें नवाब थे। उन्होंने सन् 1797 से सन् 1798 तक लखनऊ के नवाब के रूप Read more
नवाब सआदत अली खां
नवाब सआदत अली खां अवध 6वें नवाब थे। नवाब सआदत अली खां द्वितीय का जन्म सन् 1752 में हुआ था। Read more
नवाब गाजीउद्दीन हैदर
नवाब गाजीउद्दीन हैदर अवध के 7वें नवाब थे, इन्होंने लखनऊ के नवाब की गद्दी पर 1814 से 1827 तक शासन किया Read more
नवाब नसीरुद्दीन हैदर
नवाब नसीरुद्दीन हैदर अवध के 8वें नवाब थे, इन्होंने सन् 1827 से 1837 तक लखनऊ के नवाब के रूप में शासन Read more
नवाब मुहम्मद अली शाह
मुन्नाजान या नवाब मुहम्मद अली शाह अवध के 9वें नवाब थे। इन्होंने 1837 से 1842 तक लखनऊ के नवाब के Read more
नवाब अमजद अली शाह
अवध की नवाब वंशावली में कुल 11 नवाब हुए। नवाब अमजद अली शाह लखनऊ के 10वें नवाब थे, नवाब मुहम्मद अली Read more
नवाब वाजिद अली शाह
नवाब वाजिद अली शाह लखनऊ के आखिरी नवाब थे। और नवाब अमजद अली शाह के उत्तराधिकारी थे। नवाब अमजद अली शाह Read more