वीर जुझारसिंह की वीरता और साहस की कहानी

वीर जुझारसिंह

राठौड़ सेनापति वीर जुझारसिंह प्रख्यात वीर दुर्गादास राठौड़ के योग्य पुत्र थे। पिता के स्थान की पूर्ति उचित ढंग से तथा वीरोचित कार्यो से की। आप भी अपने पिता की भांति दृढ़प्रतिज्ञ, स्वामी भक्‍त और परम देशभक्त थे। वीर पिता के सभी गुण इनमें विद्यमान थे।

 

 

इधर दिल्ली मुगल बादशाह ने मारवाड़ को पद दलित करने के लिए एक भीषण व विशाल सेना भेजी। मुगल मारवाड़ का उल्लास नहीं
देखना चाहते थे। उन्होंने मारवाड़ को लूटना शुरू किया। अन्न की
की राशियाँ देखते देखते लूट ली गई। गांव जला डाले गये। मार्ग
में चलने फिरने वाले स्त्री, पुरुष और बालक को अकारण काट
दिया गया। एक बार फिर मारवाड़ पर आतंक और भय छा गया।
मारवाड़ में आई हुई बहार को यवनों ने जलकर जला दिया।

 

 

वीर जुझारसिंह की वीरता और साहस की कहानी

 

 

वीर जुझारसिंह कुशल सैन्य संचालक थे। मुगलों से मुकाबला करने के लिए सेना का संगठन किया गया। जोधपुर के दक्षिण ओर के विस्तृत सैन्य मैदान में कई राठौड़ वीर घोड़े पर सवार, मूंछें मरोड़े, रण बांकुरे सिर पर टेढ़ा साफा बांधे हुये तथा हाथों में नंगी तलवार लिये, पंक्ति बद्ध क्रोध से लाल-लाल आखें किये खड़े हुए थे। ये स्वतन्त्रता के सच्चे सिपाही अपने अपमान का बदला लेने के लिए तथा वृद्ध, अबला, और बालक की रक्षार्थ उत्साह पूर्वक यवनों को दो-दो हाथ दिखाने को तैयार थे। प्रत्येक के नेत्रों से क्रेधाग्नि भड़क रही थी। मातृभूमि के लिये मर मिटने के इरादे थे। ये सब अपने सेना नायक के आदेश की प्रतीक्षा में थे। इन रण बांकुरे नौजवानों का सेना-नायक एक नवयुवक वीर जुझारसिंह राठौड़ था। उसकी आयु तेईस-चौबीस वर्ष के करीब थी। वह घोड़े पर सवार बिजली की भाति सैन्य निरीक्षण कर रहा था। उसका सुन्दर गौर वर्ण, गठीला शरीर और उस पर स्वर्ण॒ कवच व्यक्तित्व को अधिक आकर्षक कर रहा था।

 

 

इधर सामने ही मुगल सेना थी जिनको मारवाड़ के वीरों से, उनकी भूमि से, उनकी खुशियों से ईर्ष्या थी, जलन थी। उनकी सेना में तोपे भी थी जो, पुतंगीज गोलंदाजों के हाथ में थी। कई हाथी पहाड़ों के भांति अडिग खड़े थे। घुड़ सवार और पैदल सेना भी आज पावन राजपूती सेना से मरकर पाक होना चाहती थी।

 

 

नव युवक राठौड सेनापति वीर जुझारसिंह सेना का निरीक्षण करने के बाद ऊंचे स्थान पर खड़ा हो गया और कहने लगा, वीर राठौरों! बहादुरों ! हमारी खुशियों को न चाहने वाले मुगलों ने हम पर अकारण ही हमला किया है। वे अपनी शक्ति में अंधे हो रहे हैं।
उन्होंने हमारी जनता पर मनमाना अत्याचार किया है, लूटा है तथा
आग लगाई है । उनका यह अमानवीय व्यवहार दण्ड का अधिकारी है। हमें उनका उचित प्रत्युत्तर देना है ताकि वे अपनी सीमा में ही रह सकें, उसका उल्लंघन न करने पायें। साथियों ! तलवार हमारे हाथ में है ऐसा न हो कि एक भी बलि का बकरा बचकर चला जाये। वीरों, वे बहुत हैं और हम बहुत कम हैं परन्तु हम सिंह हैं। वो हैं सियार समूह। में प्रतिज्ञा करता हू कि आज शत्रु सेना के प्रधान सेनापति उनके झंडे सहित कुचलूंगा। कौन मेरे साथ आगे बढ़ता है। वह वीर अपनी तलवार खींचकर आगे आये।

 

वीर जुझारसिंह
वीर जुझारसिंह

 

सहस्त्रों तलवारें आकाश में बिजली की भांति चमक उठीं, भिनभिना उठी। युवक सेनापति ने युद्ध का बिगुल बजाया। क्षण भर में दोनों सेनायें भीड गईं । तोपें आगे उगलने लगीं। तलवारें खन खनाने लगीं। घाव खा-खाकर कई योद्धा चीत्कार के साथ धरती पर गिरने लगे।

 

 

वीर जुझारसिंह ने शत्रु सेना के व्यूह का भेदन किया और भीषण मारकाट मचाता हुआ अपने वीर साथियों के साथ आगे बढ़ने
लगा। मुगल सैनिक वीर जुझार सिंह को देखते ही घबराने लगे। वीर युवक अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिये मुगलों के बहुमूल्य झंडे के पास और उनके प्रधान सेनापति मुजफ्फरबेग के सामने आ पहुंचा। उसने दुश्मन को ललकारा तथा एक ही वार में महावत को मार गिराया तथा दूसरी उछाल में झंडा उसके हाथ में था। वह कीमती रेशम का था, उस पर-मोतियों की झालर लटक रही थी।वह विजय के उल्लास में खिलखिलाकर हंस पड़ा।

 

 

मजफ्फरबेग क्रोध से थर-थर कांप रहा था। उसने अपनी सेना को ललकार कर कहा देखो बहादुरों दुश्मन हाथ से नहीं चला जावे।
पकड़ो, इसके टुकड़ टुकड़े कर दो”। वीर युवक दुश्मनों से घिर
गया था। चारों ओर शत्रु ही शत्रु थे। वह अपने कुछ ही साथियों
के साथ यम की भांति यद्ध कर रहा था। प्रत्येक राठौर दो-दो तलवरों से एक साथ युद्ध कर रहा था। एक बार अवसर पाकर वीर युवक ने मुजफ्फरबेग पर भाले का भीषण व अचूक वार किया। बेग न संभल सका और क्षणा भर में ही हाथी पर से झूमता हुआ गिर पड़ा। दोनों शत्रु गुथ गये। युवक के शरीर पर अनेक घाव थे, काफी खून बह रहा था।

 

 

सेनापति के गिरते ही मुगल-सेना के पैर उखड़ गये। इस सुअवसर पर राजपूत वीरों ने यवनों को गाजर मूली की तरह काटना प्रारम्भ किया। तलवारों की भनभनाहट से, घोड़ों की हिनहिनाहट से तोपों के गर्जन से व मरने वालों को चीत्कार से सारा वातावरण गूंज उठा। वीर जुझारसिंह भूमि पर लेटे-लेटे हो अपने वीर योद्धाओं को जोरों से प्रोत्साहित कर रहे थे तथा चिल्ला कर कह रहे थे,“मारवाड़ की जय ! रण बांका राठौरों की जय”। राजपूतों में पूरा जोश था, यवनों को यमलोकपुरी पहुचाँने की उमंग थी।

 

 

राव भगवानदास व अन्य वीर सामन्त वहां आ पहुंचे । राव साहब ने वीर युवक के रक्त से लथपथ शरीर को दोनों हाथों से सहलाया और कहा – वीर, तुम्हारी मां धन्य है, मारवाड़ को तुम्हारे पर गर्व है, उसकी लाज तुमने रखी। परन्तु इस अल्प आयु में तुम वीरगति प्राप्त हुए। अभी तो विवाह की मेंहदी भी हाथ से नहीं छुड़ी है।

 

 

वीर जुझारसिंह ने गंभीरता के साथ कहा–“राव साहब’ मुजफ्फर
बेग की ओर इशारा करते हुए। इस गीदड को बांध लो। इसे और
इस भंडे को भी महाराज के चरणों में अर्पित कर देना और निवेदन करना कि यह सब मरे हुए आदमी ने जीता है।” मुखमंडल पर भीनी मुस्कुराहट फैल गई–“जय मारवाड़” के साथ वीर मां की गोद में सो गया। भीषण युद्ध जारी था। राजपूतों का पलड़ा भारी था।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

 

चौरासी गुंबद कालपी
चौरासी गुंबद यह नाम एक ऐतिहासिक इमारत का है। यह भव्य भवन उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना नदी
श्री दरवाजा कालपी
भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में कालपी एक ऐतिहासिक नगर है, कालपी स्थित बड़े बाजार की पूर्वी सीमा
रंग महल कालपी
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले के कालपी नगर के मिर्जामण्डी स्थित मुहल्ले में यह रंग महल बना हुआ है। जो
गोपालपुरा का किला जालौन
गोपालपुरा जागीर की अतुलनीय पुरातात्विक धरोहर गोपालपुरा का किला अपने तमाम गौरवमयी अतीत को अपने आंचल में संजोये, वर्तमान जालौन जनपद
रामपुरा का किला
जालौन  जिला मुख्यालय से रामपुरा का किला 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 46 गांवों की जागीर का मुख्य
जगम्मनपुर का किला
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना के दक्षिणी किनारे से लगभग 4 किलोमीटर दूर बसे जगम्मनपुर ग्राम में यह
तालबहेट का किला
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी – सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील
कुलपहाड़ का किला
कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक
पथरीगढ़ का किला
पथरीगढ़ का किला चन्देलकालीन दुर्ग है यह दुर्ग फतहगंज से कुछ दूरी पर सतना जनपद में स्थित है इस दुर्ग के
धमौनी का किला
विशाल धमौनी का किला मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह 52 गढ़ों में से 29वां था। इस क्षेत्र
बिजावर का किला
बिजावर भारत के मध्यप्रदेश राज्य के छतरपुर जिले में स्थित एक गांव है। यह गांव एक ऐतिहासिक गांव है। बिजावर का
बटियागढ़ का किला
बटियागढ़ का किला तुर्कों के युग में महत्वपूर्ण स्थान रखता था। यह किला छतरपुर से दमोह और जबलपुर जाने वाले मार्ग
राजनगर का किला
राजनगर मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में खुजराहों के विश्व धरोहर स्थल से केवल 3 किमी उत्तर में एक छोटा सा
पन्ना के दर्शनीय स्थल
पन्ना का किला भी भारतीय मध्यकालीन किलों की श्रेणी में आता है। महाराजा छत्रसाल ने विक्रमी संवत् 1738 में पन्‍ना
सिंगौरगढ़ का किला
मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के दमोह जिले में सिंगौरगढ़ का किला स्थित हैं, यह किला गढ़ा साम्राज्य का
छतरपुर का किला
छतरपुर का किला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में अठारहवीं शताब्दी का किला है। यह किला पहाड़ी की चोटी पर
चंदेरी का किला
भारत के मध्य प्रदेश राज्य के अशोकनगर जिले के चंदेरी में स्थित चंदेरी का किला शिवपुरी से 127 किमी और ललितपुर
ग्वालियर का किला
ग्वालियर का किला उत्तर प्रदेश के ग्वालियर में स्थित है। इस किले का अस्तित्व गुप्त साम्राज्य में भी था। दुर्ग
बड़ौनी का किला
बड़ौनी का किला,यह स्थान छोटी बड़ौनी के नाम जाना जाता है जो दतिया से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर है।
दतिया महल या दतिया का किला
दतिया जनपद मध्य प्रदेश का एक सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक जिला है इसकी सीमाए उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद से मिलती है। यहां
कालपी का किला
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई
उरई का किला और माहिल तालाब
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर
एरच का किला
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या
चिरगाँव का किला
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील
गढ़कुंडार का किला
गढ़कुण्डार का किला मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में गढ़कुंडार नामक एक छोटे से गांव मे स्थित है। गढ़कुंडार का किला बीच
बरूआ सागर का किला
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर
मनियागढ़ का किला
मनियागढ़ का किला मध्यप्रदेश के छतरपुर जनपद मे स्थित है। सामरिक दृष्टि से इस दुर्ग का विशेष महत्व है। सुप्रसिद्ध ग्रन्थ
मंगलगढ़ का किला
मंगलगढ़ का किला चरखारी के एक पहाड़ी पर बना हुआ है। तथा इसके के आसपास अनेक ऐतिहासिक इमारते है। यह हमीरपुर
जैतपुर का किला या बेलाताल का किला
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर
सिरसागढ़ का किला
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में
महोबा का किला
महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी
कल्याणगढ़ का किला मंदिर व बावली
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा
भूरागढ़ का किला
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान
रनगढ़ दुर्ग या जल दुर्ग
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग
खत्री पहाड़ का दुर्ग व मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात
मड़फा दुर्ग
मड़फा दुर्ग भी एक चन्देल कालीन किला है यह दुर्ग चित्रकूट के समीप चित्रकूट से 30 किलोमीटर की दूरी पर
रसिन का किला
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा
अजयगढ़ का किला
अजयगढ़ का किला महोबा के दक्षिण पूर्व में कालिंजर के दक्षिण पश्चिम में और खुजराहों के उत्तर पूर्व में मध्यप्रदेश
कालिंजर का किला
कालिंजर का किला या कालिंजर दुर्ग कहा स्थित है?:— यह दुर्ग बांदा जिला उत्तर प्रदेश मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर बांदा-सतना
ओरछा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
शक्तिशाली बुंदेला राजपूत राजाओं की राजधानी ओरछा शहर के हर हिस्से में लगभग इतिहास का जादू फैला हुआ है। ओरछा

write a comment

%d bloggers like this: