विंध्याचल नवरात्र मेला मिर्जापुर उत्तर प्रदेश

विंध्याचल नवरात्र मेला यह जगत प्रसिद्ध मेला मां विंध्यवासिनी धाम मिर्जापुर जिले में लगता है। यूं तो नवरात्र के अवसर पर देश और प्रदेश भर में कई जगह मेले लगते हैं। परंतु विंध्याचल नवरात्र मेला अपना महत्वपूर्ण स्थान रखता है। विंध्याचल नवरात्र मेला पूरे नवरात्र भर बड़ी धूमधाम से चलता है।

 

 

विंध्याचल नवरात्र मेला मिर्जापुर

 

 

भारतीय धर्म-साधना मे दुर्गा पूजन का बडा महत्व है। इसके लिए वर्ष में दो नवरात्रों का समय सबसे शुद्ध पवित्र माना जाता है। पहला चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तक बासतिक नवरात्र तथा दूसरा आश्विन शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तक शारदीय नवरात्र। इन दोनो नवरात्रो में क्रमश नौ दिनो तक नव दुर्गाओ- शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चन्द्रघटा, कुष्मांडा, स्कन्दमाता बागेश्वरी, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी, सिद्धिदात्री की पूजा का विधान है। इस अवसर पर कुमारी-पूजन का भी बहुत महत्व है। दो वर्ष की बालिका कुमारी, तीन वर्ष की त्रिमूर्तिनी, चार वर्ष की कल्याणी, पांच वर्ष की रोहिणी, छह वर्ष की काली, सात वर्ष की चण्डिका, आठ वर्ष की शाभवी, नौ वर्ष की दुर्गा तथा दस वर्ष की सुभद्रा स्वरूप होती है। इससे ऊपर की अवस्था की बालिका का पूजन शास्त्र-वर्जित है। इन वय वर्ग की कन्याओ के पूजन से क्रमशः ऐश्वर्य, भोग, मोक्ष, धर्म, अर्थ, काम, राज्य, विद्या, सिद्धि, राज्य-सम्पदा और पृथ्वी की प्राप्ति होती है। इसी कारण भारतीय संस्कृति मे बालिकाओं को बालक से भी ऊंचा स्थान प्राप्त है। यह अपसस्कृति का प्रभाव है कि अब बालिकाओं के जन्मदिन पर लोग खुशिया नहीं मनाते।

 

 

विंध्याचल नवरात्र मेला
विंध्याचल नवरात्र मेला

 

विंध्याचल की मान्यता शक्तिपीठ और देवी धाम के रूप में ऐतिहासिक हो गई हैं। मां महिषासुर मर्दिनी है। पौराणिक आधार है कि महिषासुर ने एक बार सभी देवताओं को पराजित करके इन्द्रलोक पहुच कर इन्द्र को भी भयाक्रांत कर दिया। इन्द्र भगवान भाग कर ब्रह्मा, विष्णु, महेश के पास गये।तब त्रिदेवो ने आदिशक्ति भगवती का ध्यान किया। तब देवताओं के अगो से तेज-पुज निकला जिसे सहन करना कठिन हो गया। इसके बाद देवताओ ने पुन प्रार्थना की जिससे एक सुन्दर, दिव्य बिनेत्र अष्टभुजी शक्ति का प्राकट्य हुआ जिसकी सभी देवताओं ने मिलकर पूजा की और विष्णु ने अपना सुदर्शन चक्र, शिव ने त्रिशूल, इन्द्र ने ब्रज, वरुण ने शक्ति, यमराज ने तलवार, अग्निबाण, लक्ष्मीजी ने क्षमार तथा हिमालय ने सिंह देकर मां को सुसज्जित कर दिया। मां ने इन आयुधो से पहले महिषासुर के दैत्यदल को, बाद में महिषासुर को भी कालपाश मे लपेट कर पृथ्वी पर पटक दिया और उसकी गर्दन पर पाव रखकर चमकती तलवार से उसके सिर को काट डाला और इस प्रकार देवताओं का कष्ट-निवारण करने के कारण पूज्या हो गयी।

 

 

नवरात्र तथा दुर्गापूजा के अवसर पर तभी से देवी की पूजा का विधान है जो अद्यावधि चल रहा है। देवी-पूजा की परपरा बंगाल से चली थी जो हिमालय, कश्मीर, मैहर, विंध्याचल तथा अन्य स्थानों तक लोकप्रिय, लोकमान्य हो गयी। विन्ध्यक्षेत्र मे विंध्याचल पहाड़ के ऊपर मां विंध्यवासिनी, महालक्ष्मी, महाकाली, महासरस्वती के रूप में त्रिकोण यात्रा द्वारा पूजी जाती है। यहां की पहाडी पर और भी देवी-देवताओ की मूर्तियां प्रतिष्ठित हैं। जिनमे काल भैरव, लोहंदी महादेव, अष्टभुजी, शिवपुर के शिव, नारघाट के शिव-पार्वती, गयाघाट की देवी सहित शताधिक तीर्थ तथा मदिर वर्तमान है।

 

 

देवीधाम मे दोनो नवरात्रो पर बडा मेला लगता है जिसमे देश विदेश तक के श्रद्धालु, भक्त, पडित, तांत्रिक मां विन्ध्यवासिनी की पूजा के लिए आते और नौ दिनो तक अनुष्ठानपूर्वक दुर्गाशप्तशती का पाठ करते है। यहा नारियल, चुमरी, इलायचीदाना, मिष्ठान, जौ, चावल, धान का लावा चढ़ाया जाता है। कजली गायक कजरी के अवसर पर मां की पूजा करते है। मां का एक नाम कज्जला देवी भी है। कहते है एक मुसलमान ने मां को कजरी छंद लिखकर प्रसन्न किया था, तभी से प्रत्येक कजरी गायक अपना पहला गीत कजरी छन्द में लिखकर मां को समर्पित करता और काजल का टीका लगाता है। विंध्याचल नवरात्र मेला इसी कारण हिन्दू-मुसलिम एकता का भी प्रतीक बन गया है। विंध्याचल नवरात्र मेला पूरे नौ दिनो तक बड़ी धूमधाम से चलता है। विंध्याचल नवरात्र मेले में विभिन्न प्रकार कि दुकानें लगती है, मनोरंजन के साधन और सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं। प्रशासन की ओर से विंध्याचल नवरात्र मेले में सुरक्षा व्यवस्था के सभी इंतजाम होते हैं।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

 

मीरान शाह बाबा दरगाह विजयगढ़
उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जनपद का विजयगढ एक परगना है। यहां एक ऊची पहाडी के ऊपर विजयगढ का किला बना है। Read more
काशी के मेले
काशी ()(वाराणसी) पूर्वांचल की सबसे बडी सांस्कृतिक नगरी है। कहते है यह शिवजी के त्रिशूल पर बसी है तथा अक्षय Read more
चुनार शरीफ दरगाह
मिर्जापुर  कंतित शरीफ का उर्स और दरगाह शरीफ का उर्स हिन्दुस्तान भर मे प्रसिद्ध है। दरगाह शरीफ चुनार के किले Read more
कंतित शरीफ
साम्प्रदायिक सद्भाव, हिन्दू-मुस्लिम एकता का प्रतीक उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में विंध्याचल के समीप ओझला से पश्चिम कंतित मे ख्वाजा Read more
शिवपुर धाम मिर्जापुर
उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में विंध्याचल धाम से एक किमी पश्चिम मे शिवपुर नामक स्थान है। जिसके बारे मे कहा Read more
पक्का घाट मिर्जापुर
गंगा-तट पर जितने नगर बसे है, उन सबमे मिर्जापुर का पक्का घाट और घण्टाघर बेजोड है।ये दोनो वास्तुशिल्प के अद्भुत नमूने Read more
लोहंदी महावीर मंदिर
श्रावण मास के प्रत्येक शनिवार को लोहंदी महावीर का मेला लगता है। वैसे प्रत्येक मगलवार को भी सैकडो दर्शनार्थी भक्तगण Read more
कजरी तीज
कजरी तीज पूर्वांचल का सबसे प्रसिद्ध त्यौहार है, कजरी पर्व के अवसर मिर्जापुर और आसपास के जिलों में बड़ी धूमधाम से Read more
ओझला पुल
ओझला पुण्यजला का बिगड़ा हुआ रूप है। यह एक नाला है जो उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर नगर से पश्चिम विंध्याचल Read more
सुरियावां का मेला
सुरियावां उत्तर प्रदेश राज्य के भदोही जिले में एक नगर है। यहां भोरी महजूदा में हल षष्ठी व्रत के अवसर पर Read more
देवलास मंदिर
उत्तर प्रदेश के मऊ जनपद में लगने वाला देवलास का मेला बहुत मशहूर है। ऐसी मान्यता है कि देवलास नामक स्थान Read more
सेमराध नाथ का मेला
उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में जगीगंज-शेरशाह सूरी मार्ग से गंगा-घाट पर सेमराध नाथ का मंदिर स्थित है। यह मंदिर भगवान Read more
मगहर का मेला
संत कबीरदास के बारे मे जनश्रुति है कि वे अपनी भक्ति पर अटूट विश्वास के फलस्वरूप काशी छोड़ कर मगहर Read more
भदेश्वर नाथ मंदिर
बस्ती , गोरखपुर, देवरिया तीनो एक स्वभाव के शहर है। यहां की सांस्कृतिक परपराए महत्वपूर्ण और अक्षुण्ण रही हैं। सरयू Read more
कल्पा जल्पा देवी मंदिर सिकंदरपुर
सिकंदरपुर उत्तर प्रदेश राज्य के बलिया जिले में एक नगर पंचायत व तहसील है। इस नगर को सिकंदर लोदी ने बसाया Read more
बलिया  जिले का रसड़ा एक प्रमुख स्थान है। यहा नाथ संप्रदाय का प्रभाव है, जिसके कारण यहां नाथ बाबा का Read more
असेगा का मेला
असेगा एक स्थान का नाम है जो बलिया जिले के सुखपुरा थानान्तर्गत पड़ता है। असेगा में शिवरात्रि के अवसर पर सात Read more
ददरी का मेला
सरयू का तट पर स्थित बलिया जनपद अपनी अखंडता, निर्भीकता, बौद्धिकता, सांस्कृतिक एकता तथा साहित्य साधना के लिए प्रसिद्ध है। इसका Read more
बरहज का मेला
बरहज देवरिया का एक प्रमुख स्थान है जो पवित्र सरयू जी के तट पर स्थित है। यहां कार्तिक पूर्णिमा के दिन Read more
बांसी का मेला
बांसी एक नदी का नाम है जिस के तट पर क्वार माह की पूर्णिमा को मेला लगता है। इस मेले Read more
कुलकुला धाम मेला
कुलकुला देवी मंदिर कुशीनगर जनपद मे कसया नामक तहसील के एक कुडवा दीलीपनगर गांव है। यहा से चार किलोमीटर पूरब की Read more
दुग्धेश्वर नाथ मंदिर
उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में रूद्रपुर नामक एक नगर पंचायत है। रूद्रपुर बाबा दुग्धेश्वर नाथ मंदिर के लिए जाना जाता Read more
सोहनाग परशुराम धाम
देवरिया  महावीर स्वामी और गौतमबुद्ध की जन्म अथवा कर्मभूमि है। यह आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र भी है, अत कला और संस्कृति Read more
लेहड़ा देवी मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य में एक प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर जिसे लेहड़ा देवी मंदिर के नाम से जाना जाता है और इसकी Read more
बांसगांव का मेला
बांसगांव भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के गोरखपुर जिले का एक कस्बा और नगर पंचायत है। यह नगर यहां बसे श्रीनेत Read more
तरकुलहा का मेला
गोरखपुर  जिला मुख्यालय से 15 किमी0 दूर देवरिया मार्ग पर एक स्थान है तरकुलहा। यहां प्रसिद्ध तरकुलहा माता का तरकुलहा Read more
गोरखनाथ का मेला
उत्तर प्रदेश का गोरखपुर बाबा गुरु गोरखनाथ के नाम से जाना जाता है। नाथ सम्प्रदाय के संस्थापक तथा प्रथम साधु गुरु Read more
शेख शाह सम्मन मजार
गाजीपुर  जिले मे सैदपुर एक प्रमुख स्थान है। यहा शेख शाह सम्मन की मजार है। मार्च और अप्रैल में यहां Read more
जमदग्नि आश्रम मेला
गाजीपुर  जिले में जमानिया एक तहसील है जिसका नामकरण जमदग्नि ऋषि के नाम पर यहा उनका आश्रम होने के कारण Read more
कामाख्या देवी मेला
गाजीपुर  जिला वाराणसी के प्रभाव-क्षेत्र में आता है। बलिया, आजमगढ़ उसके समीपवर्ती जनपद है।अतः गाजीपुर की सांस्कृतिक परंपरा भी बड़ी Read more
बाबा गोविंद साहब का मेला
आजमगढ़  नगर से लगभग 50 किमी. पश्चिम फैजाबाद मार्ग पर बाबा गोविंद साहब धाम है। जहां बाबा गोविंद साहब का Read more
भैरव जी मेला महराजगंज
आजमगढ़  जिला मुख्यालय से 22 किमी0 उत्तर-पश्चिम की ओर महराजगंज के पास एक स्थान है। जहां भैरव जी का प्रसिद्ध Read more
दुर्वासा धाम मेला
आजमगढ़  बहुत पुराना नगर नही है, किंतु तमसा के तट पर स्थित होने के कारण सांस्कूतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण रहा Read more

write a comment