लोहंदी महावीर का मेला मिर्जापुर उत्तर प्रदेश

श्रावण मास के प्रत्येक शनिवार को लोहंदी महावीर का मेला लगता है। वैसे प्रत्येक मगलवार को भी सैकडो दर्शनार्थी भक्तगण लोहंदी महावीर जी के दर्शन के लिए जाते है। प्रत्येक रविवार को वदी के दिन भी तफरी के लिए सेठ-साहुकार तथा भावुकजन लोहंदी महावीर मंदिर जाकर लिट्टी-बाटी का आयोजन करते है। यह स्थान मिर्जापुर जिला मुख्यालय नगर से दक्षिण मे लगभग पांच किमी पड़ता है। तथा बहुत रमणीक है।

 

 

लोहंदी महावीर का मेला

 

प्राकृतिक शोभा निराली है। नदी भी बहती है। कहते हैं, अपने भक्त को एक रात महावीर जी ने प्रकट होकर दर्शन दिया था और भयकर वेग से बहती नदी मे जब वे भी बहने लगे तो उनकी भक्ति भावना को देखते हुए अपने भक्त को राम-भक्‍त महावीर ने उबारा था। लोहंदी महावीर मंदिर भगवान हनुमान जी को समर्पित है। यहां सावण मास में पांच शनिवार दर्शन होते हैं और भव्य मेला लगता है। लोहंदी महावीर मंदिर को मिर्जापुर के बालाजी भी कहा जाता है।

 

 

लोहंदी महावीर मंदिर
लोहंदी महावीर मंदिर

 

मिर्जापुर जिले में अन्य मेले

 

 

प्रत्येक मंगलवार तथा शनिवार को अष्टभुजा तथा मां विन्ध्यवासिनी के धाम में मेला लगता है। इसी प्रकार प्रत्येक रविवार को विढम तथा टाडाफाल खजुरी नामक स्थानों पर भारी सख्या में लोगों की उपस्थिति के कारण मेला का दृश्य उपस्थित हो जाता है। अष्टभुजा त्रिकोण-यात्रा का प्रमुख स्थल है जहा अष्टभुजी देवी विराजमान है। पहाड पर स्थित होने के कारण इसका वातावरण अत्यत मनोरम हो गया है। यही सीता कु॒ण्ड भी है जिसका सतत प्रवाहित जल आरोग्य वर्द्धक बताया गया है।

 

 

टाडाफाल मिर्जापुर नगर से लगभग दस किमी दक्षिण मे स्थित है जहा झरने का दृश्य मनोरम है। यहां पहले जगली जानवर रात मे पानी पीने आया करते थे। नगर के साहित्यकार पहले यहां तफरी
के लिए जाया करते थे तथा गोष्ठियों का आयोजन करते थे। आचार्य रामचन्द्र शुक्ल, प्रेमधन, उग्र, निराला, मतवाला की अलमस्ती के दर्शन यहां होते थे। भाग छनती थी। बाटी-चोखा विधिवत बनता था। अंग्रेज़ अफसर भी यहां जाया करते थे।

 

 

इसी प्रकार विढमफाल में भी रविवार को मेला लगा करता था। यहां भी तफरी के लिए नगरवासी आते थे और मेले का दृश्य उपस्थित हो जाया करता था। खजुरी-अपर तथा लोवर विढमफाल से पश्चिम की ओर स्थित वह स्थान है जहा नदी को रोककर बाध बनाया गया है। चारों ओर जंगल-पहाड का सुन्दर दृश्य देखते बनता है। यहां पहले हिरणो का झुण्ड देखने को मिलता था। लोग शिकार के लिए भी जाया करते थे। तरह-तरह के पशु-पक्षियों को देखने के लिए भी भीड़ उपस्थित हो जाती थी। किंतु अब बढती व्यस्तता तथा प्रदूषण, वन-कटान के कारण प्राकृतिक सौंदर्य विनष्ट होता जा रहा है। वास्तव मे इन स्थानों को पर्यटन स्थल के रूप मे विकसित किया जाना चाहिए।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

 

मीरान शाह बाबा दरगाह विजयगढ़
उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जनपद का विजयगढ एक परगना है। यहां एक ऊची पहाडी के ऊपर विजयगढ का किला बना है। Read more
काशी के मेले
काशी ()(वाराणसी) पूर्वांचल की सबसे बडी सांस्कृतिक नगरी है। कहते है यह शिवजी के त्रिशूल पर बसी है तथा अक्षय Read more
चुनार शरीफ दरगाह
मिर्जापुर  कंतित शरीफ का उर्स और दरगाह शरीफ का उर्स हिन्दुस्तान भर मे प्रसिद्ध है। दरगाह शरीफ चुनार के किले Read more
कंतित शरीफ
साम्प्रदायिक सद्भाव, हिन्दू-मुस्लिम एकता का प्रतीक उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में विंध्याचल के समीप ओझला से पश्चिम कंतित मे ख्वाजा Read more
शिवपुर धाम मिर्जापुर
उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में विंध्याचल धाम से एक किमी पश्चिम मे शिवपुर नामक स्थान है। जिसके बारे मे कहा Read more
विंध्याचल नवरात्र मेला
विंध्याचल नवरात्र मेला यह जगत प्रसिद्ध मेला मां विंध्यवासिनी धाम मिर्जापुर जिले में लगता है। यूं तो नवरात्र के अवसर पर Read more
पक्का घाट मिर्जापुर
गंगा-तट पर जितने नगर बसे है, उन सबमे मिर्जापुर का पक्का घाट और घण्टाघर बेजोड है।ये दोनो वास्तुशिल्प के अद्भुत नमूने Read more
कजरी तीज
कजरी तीज पूर्वांचल का सबसे प्रसिद्ध त्यौहार है, कजरी पर्व के अवसर मिर्जापुर और आसपास के जिलों में बड़ी धूमधाम से Read more
ओझला पुल
ओझला पुण्यजला का बिगड़ा हुआ रूप है। यह एक नाला है जो उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर नगर से पश्चिम विंध्याचल Read more
सुरियावां का मेला
सुरियावां उत्तर प्रदेश राज्य के भदोही जिले में एक नगर है। यहां भोरी महजूदा में हल षष्ठी व्रत के अवसर पर Read more
देवलास मंदिर
उत्तर प्रदेश के मऊ जनपद में लगने वाला देवलास का मेला बहुत मशहूर है। ऐसी मान्यता है कि देवलास नामक स्थान Read more
सेमराध नाथ का मेला
उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में जगीगंज-शेरशाह सूरी मार्ग से गंगा-घाट पर सेमराध नाथ का मंदिर स्थित है। यह मंदिर भगवान Read more
मगहर का मेला
संत कबीरदास के बारे मे जनश्रुति है कि वे अपनी भक्ति पर अटूट विश्वास के फलस्वरूप काशी छोड़ कर मगहर Read more
भदेश्वर नाथ मंदिर
बस्ती , गोरखपुर, देवरिया तीनो एक स्वभाव के शहर है। यहां की सांस्कृतिक परपराए महत्वपूर्ण और अक्षुण्ण रही हैं। सरयू Read more
कल्पा जल्पा देवी मंदिर सिकंदरपुर
सिकंदरपुर उत्तर प्रदेश राज्य के बलिया जिले में एक नगर पंचायत व तहसील है। इस नगर को सिकंदर लोदी ने बसाया Read more
बलिया  जिले का रसड़ा एक प्रमुख स्थान है। यहा नाथ संप्रदाय का प्रभाव है, जिसके कारण यहां नाथ बाबा का Read more
असेगा का मेला
असेगा एक स्थान का नाम है जो बलिया जिले के सुखपुरा थानान्तर्गत पड़ता है। असेगा में शिवरात्रि के अवसर पर सात Read more
ददरी का मेला
सरयू का तट पर स्थित बलिया जनपद अपनी अखंडता, निर्भीकता, बौद्धिकता, सांस्कृतिक एकता तथा साहित्य साधना के लिए प्रसिद्ध है। इसका Read more
बरहज का मेला
बरहज देवरिया का एक प्रमुख स्थान है जो पवित्र सरयू जी के तट पर स्थित है। यहां कार्तिक पूर्णिमा के दिन Read more
बांसी का मेला
बांसी एक नदी का नाम है जिस के तट पर क्वार माह की पूर्णिमा को मेला लगता है। इस मेले Read more
कुलकुला धाम मेला
कुलकुला देवी मंदिर कुशीनगर जनपद मे कसया नामक तहसील के एक कुडवा दीलीपनगर गांव है। यहा से चार किलोमीटर पूरब की Read more
दुग्धेश्वर नाथ मंदिर
उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में रूद्रपुर नामक एक नगर पंचायत है। रूद्रपुर बाबा दुग्धेश्वर नाथ मंदिर के लिए जाना जाता Read more
सोहनाग परशुराम धाम
देवरिया  महावीर स्वामी और गौतमबुद्ध की जन्म अथवा कर्मभूमि है। यह आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र भी है, अत कला और संस्कृति Read more
लेहड़ा देवी मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य में एक प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर जिसे लेहड़ा देवी मंदिर के नाम से जाना जाता है और इसकी Read more
बांसगांव का मेला
बांसगांव भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के गोरखपुर जिले का एक कस्बा और नगर पंचायत है। यह नगर यहां बसे श्रीनेत Read more
तरकुलहा का मेला
गोरखपुर  जिला मुख्यालय से 15 किमी0 दूर देवरिया मार्ग पर एक स्थान है तरकुलहा। यहां प्रसिद्ध तरकुलहा माता का तरकुलहा Read more
गोरखनाथ का मेला
उत्तर प्रदेश का गोरखपुर बाबा गुरु गोरखनाथ के नाम से जाना जाता है। नाथ सम्प्रदाय के संस्थापक तथा प्रथम साधु गुरु Read more
शेख शाह सम्मन मजार
गाजीपुर  जिले मे सैदपुर एक प्रमुख स्थान है। यहा शेख शाह सम्मन की मजार है। मार्च और अप्रैल में यहां Read more
जमदग्नि आश्रम मेला
गाजीपुर  जिले में जमानिया एक तहसील है जिसका नामकरण जमदग्नि ऋषि के नाम पर यहा उनका आश्रम होने के कारण Read more
कामाख्या देवी मेला
गाजीपुर  जिला वाराणसी के प्रभाव-क्षेत्र में आता है। बलिया, आजमगढ़ उसके समीपवर्ती जनपद है।अतः गाजीपुर की सांस्कृतिक परंपरा भी बड़ी Read more
बाबा गोविंद साहब का मेला
आजमगढ़  नगर से लगभग 50 किमी. पश्चिम फैजाबाद मार्ग पर बाबा गोविंद साहब धाम है। जहां बाबा गोविंद साहब का Read more
भैरव जी मेला महराजगंज
आजमगढ़  जिला मुख्यालय से 22 किमी0 उत्तर-पश्चिम की ओर महराजगंज के पास एक स्थान है। जहां भैरव जी का प्रसिद्ध Read more
दुर्वासा धाम मेला
आजमगढ़  बहुत पुराना नगर नही है, किंतु तमसा के तट पर स्थित होने के कारण सांस्कूतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण रहा Read more

write a comment