लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब हिस्ट्री इन हिन्दी – लखनऊ का गुरुद्वारा इतिहास

उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेग बहादुर साहिब एक ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। यहियागंज बाजार लखनऊ का जनरल मर्चेंट, पटाखा, रेडीमेड, होजरी, ऊन एवं बर्तनों का थोक बाजार है। इस बाजार में पूर्वांचल के दस पंद्रह जिलो के व्यापारी माल खरीदने आते है। यह बाजार लगभग दो किलोमीटर लम्बा तथा बारह फुट चौडी गली में बसा है। यहां लगभग दो हजार से अधिक दुकाने है।

 

 

लखनऊ गुरुद्वारा पांच मंजिला भवन में है जिसमें भूतल में गुरुद्वारा, प्रथम तल पर ज्ञानी व रागी के लिए कमरे, द्वितीय तल पर लंगर हाल जहां श्रृद्धालुओं के लिए लंगर बनाया व छकाया जाता है। तृतीय चौथे व पंचम तल पर सेवादारों के लिए लगभग 40 से अधिक कमरे है। भंडारे के लिए बर्तन आदि की व्यवस्था स्वयं गुरुदारे की है। शहर मे होने वाले अन्य धार्मिक उत्सवों पर गुरुदारे द्वारा प्रसाद, चाय नाश्ता तथा जल की निःशुल्क व्यवस्था की जाती हैं।

 

 

 

सन् 2013 में अलीगंज के एक सिंधी परिवार के बेटे का अपहरण हुआ था। वह परिवार बहुत परेशान था। उनके एक पड़ोसी श्री नानक चंद्र गुरुनानी जी की प्रेरणा से वह इस गुरुदारे में आये और यहां पर अखंड पाठ करवाया। 48 घंटे के उपरांत समाप्ति की अरदास जैसे ही समाप्त हुई तो उनका बेटा वापस मिल गया। कहते है कि इस गुरुदारे साहिब की एक विशेषता यह भी है कि यहां पर जो श्रृद्धालु लगातार 40 दिन मत्था टेकता है, उसकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होती है।

 

लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब

 

लखनऊ गुरुद्वारा भवन लगभग 35 फुट चौड़ा है। जिसे दर्शन ड्योढ़ी भी कहा जाता है। मुख्य हाल जहां संगत बैठती है, 7500 वर्ग फुट का है। जहां की साजसज्जा अद्वितीय है। यहां 24 चकौर खंभे है जो चारों ओर से रंगीन कांच से मढ़े हुए है। यह कांच का बहुत ही चित्ताकर्षक कार्य है, हजारों कांच के टुकड़ों पर जब रोशनी पडती है तो वो अद्भुत नजारा होता है। यहां पर गुरु महाराज की पालकी साहिब 3 किलो सोने के पित्तरों से मढ़ी हुई है। रागियों के लिए दाईं ओर स्टेज है, साथ में सभी संगतों के बैठने का स्थान है। दर्शनी ड्योढ़ी में दायी ओर निःशुल्क जूता है जहां पर सभी श्रृद्धालु अपने जूता चप्पल रखते है। आगे बढ़कर दायीं ओर श्री गुरु तेग बहादुर जी की एक सुंदर फोटो लगी है। उनको प्रणाम कर श्रृद्धालु हॉल मे प्रवेश करते है। दायी ओर ही गुरुदारे के संबंध में एक सूचना पट लगा हुआ है जिसमें गुरुदारे का इतिहास लिखा हुआ है। लखनऊ गुरुदारे का सम्मपूर्ण क्षेत्रफल 1200 स्कवायर फुट है, जिसमें एक हजार स्कवायर फुट मे गुरुद्वारा भवन है। तथा दो सौ वर्ग फुट में कार्यालय तथा रसोईघर स्थित है। लखनऊ के गुरुद्वारों में यह एक ऐतिहासिक गुरुद्वारा है।

 

 

लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब हिस्ट्री इन हिन्दी – लखनऊ के गुरुदारे का ऐतिहासिक महत्व

 

सन् 1670 में गुरु तेग बहादुर जी महाराज यहां आये थे। और आज जहा लखनऊ गुरुद्वारा साहिब स्थापित है उसी जगह तीन दिन रुके थे।  जब वे पटना से लौट रहे थे तभी इस जगह वे रूके थे। गुरु तेग बहादुर जी की यादगार में यह गुरुद्वारा स्थापित किया गया था। यहां पर उन्होंने संगत भी की, तभी से लखनऊ के इस गुरुदारे का महत्व है।

 

 

सन् 1672 में यहां पर पटना साहिब से आनंदपुर जाते हुए सिक्ख धर्म के दसवें गुरु, गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज की माता गुजरी, मामा कृपाल जी के साथ इस पवित्र स्थान पर दो महीने रूके थे। गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज के हस्तलिखित हुक्मनामे व हस्तलिखित श्री गुरु ग्रंथ साहिब की प्रति आज भी इस पवित्र स्थान पर विद्यमान है।

 

 

गुरुद्वारा लखनऊ गुरु तेग बहादुर साहिब के दर्शन हेतू देश विदेश से हजारों श्रृद्धालु प्रतिदिन आते है। वर्ष में 365 दिन श्रृद्धालुओं के लिए प्रतिदिन लंगर, चाय नाश्ते व ठहरने की निःशुल्क व्यवस्था गुरुद्वारा कमेटी की ओर से की जाती है। गुरुदारे की सम्पूर्ण व्यवस्था गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा की जाती है।

 

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा, हमें कमेंट करके जरूर बताएँ। हमारा यह लेख आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है।

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—–

 

 

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state)
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है।
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर" कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है।
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की
खालसा पंथ
"खालसा पंथ" दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है।
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *