लखनऊ का इतिहास हिंदी में और लखनऊ शहर कैसे आबाद हुआ?

लखनऊ का इतिहास– प्राचीन समय में लखनऊ कोसल महाजनपद के विशाल साम्राज्य का एक अंग था जिसकी राजधानी अयोध्या थी। एक लम्बे अरसे तक यहां सूर्य वंशीय राजाओं का शासन रहा। मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम के पिता महाराज दशरथ 56वें सूर्यवंशी शासक थे। इस वंश के अन्तिम एवं 113वें शासक महाराज सुमित्र हुए।

 

 

छठी शताब्दी में हिन्दुस्तान 16 महाजनपदों में बँटा था। इन जनपदों में कोसल जनपद काफी सशक्त और समृद्धशाली माना जाता था। सरयू नदी इस जनपद को दो भागों में विभक्त करती थी। उत्तरी कोसल और दक्षिणी कोसल। ज्यों-ज्यों मगध राज्य का विस्तार होता गया त्यों-त्यों कोसल राज्य का पतन होता गया। भरवंशीय शासकों ने भी अवध के भू-भाग पर शासन किया। इसके प्रमाण भी खुदाई के दौरान मिले हैं।

 

 

सातवीं शताब्दी में महाराजा हर्षवर्धन के विशाल साम्राज्य में भी अवध का एक बड़ा भाग शामिल था। नवीं और दसवीं शताब्दी में गुजर तथा प्रतिहार वंशीय शासकों ने यहां शासन किया। ग्यारहवीं शताब्दी से मुगलों का अवध में प्रवेश होना शुरू हो गया। 1031 ई० और 1033 ई० में महमूद गजनवी तथा तुर्की सुलतान के भतीजे सेय्यद सालार मसऊद ‘गाज़ी’ ने अवध पर आक्रमण किया।

 

 

लखनऊ का इतिहास हिंदी में

 

 

मिरात-मसऊदी के अनुसार सैय्यद सालार मसऊद ने अवध की राजधानी बाराबंकी के करीब ग्राम सतरिख को बनाया। सन्‌ 1847-48 में लखनऊ रेज़िडेंट के सहायक मेजर बर्ड ने अपनी किताब में वाल्मीकि कृत रामायण का एक उदाहरण प्रस्तुत करते हुए अवध की महत्ता पर प्रकाश डाला है। बर्ड के अनुसार सन्‌ 1855 ई० में नवाब बादशाहों के अधीन अवध का 24,000 वर्ग मील क्षेत्र था अवध की उस समय कुल जनसंख्या तकरीबन 50,00,000 थी। अब एक नजर लखनऊ का इतिहास पर भी डाल ली जाये। लक्ष्मणपुर से लखनावती और कब लखनऊ नाम हासिल हुआ इस शहर को, इस बारे में कोई सही जानकारी हासिल नहीं होती हैं। ऐसा कहा जाता है कि रामचन्द्र जी जब लंका पर विजय श्री हासिल कर पुनः अयोध्या लौट कर आये तो लखनऊ उन्होंने जागीर स्वरूप लक्ष्मण जी को प्रदान कर दिया। लक्ष्मण के निवास से गोमती नदी के तट व आासपास के क्षेत्रों में एक बस्ती आबाद हो गयी जिसका नाम “लक्ष्मणपुर’ पड़ा। इस बस्ती का केन्द्र लक्ष्मण टीला था। ऐसा कहा जाता है कि इस टीले पर एक बहुत ही गहरा कुआँ था जिसका सम्बन्ध पृथ्वी को अपने फन पर उठाये शेषनाग से था। इस कारण यह कुआं बड़ा ही पवित्र माना जाता था।

 

 

प्राचीन समय में लखनऊ एक पवित्र तीर्थ स्थल के रूप में विख्यात था। गोमती नदी आदि गंगा के नाम से जानी जाती थी और लखनऊ छोटी काशी। ऐसा भी कहा जाता है कि महाराजा युधिष्ठिर के पोते राजा जनमेजय ने लक्ष्मण टीले के आस-पास का काफी बड़ा इलाका तपस्वियों, ऋषियों और मुनियों को सौंपा था। इन्होंने यहां जगह-जगह अनेक आश्रम बनाए। ऐसे अनेक प्रमाण भी प्राप्त हुए हैं जिनसे पता चलता है कि 1000 ई० पूर्व यहां दूर-दूर से तीर्थ यात्री आते थे। गोमती नदी के किनारे ही पश्चिमी क्षेत्र में ऋषि कोण्डिन्य का आश्रम था। यह स्थल आज कुंड़िया घाट के नाम से जाना जाता है।

लखनऊ का इतिहास
लखनऊ का इतिहास

 

 

जब लखनऊ के धार्मिक महत्व की चर्चा चल रही है तो सूर्यकुण्ड का जिक्र करना बेजा नहीं होगा। यह तो सर्वविदित है कि सुूर्य वंशीय राजाओं ने एक लम्बे अरसे तक उत्तर भारत में शासन किया। अपने शासन काज के दौरान अयोध्या, बहराइच,लखनऊ, सीतापुर आदि जिलों में तमाम सूर्यकुण्ड बनवाये। किसी जमाने में लखनऊ का सूर्यकुण्ड भी पावन तीर्थ स्थल रहा।आइने‌ अकबरी में इस सूरज कुण्ड के धार्मिक महत्व के सम्बन्ध में चर्चा की गयी है। इस कुण्ड के चारों ओर एक विशाल मेला लगता था। लोग दूर-दूर से इस मेले में आते और पवित्र कुण्ड में स्नान किये बिना न जाते। इसके जल में खड़े होकर लोग मनौतियाँ मानते–पूरी होने पर हर हालत में मेले के दिन पहुँच कर अपनी मानी हुईं मनौतियों के अनुसार गरीबों को दान आदि व ब्राह्मणों को भोजन कराते। हिन्दू धर्मान्तर्गत तमाम संस्कार यथा–मुण्डन व नामकरण आदि इसी कुण्ड के पास करवाना उत्तम माना जाता था। इस कुण्ड की बड़ी मान्यता थी । नेत्रदोष, काँवर, कोढ़, खुजली, पेट की बीमारियों से लोग जब पीड़ित होते तो कुण्ड में स्नान कर उसका पानी पीते और निजात पाते।

 

 

सूर्य ग्रहण के दिन स्नान करने वालों की इतनी भीड़ होती थी कि साँस लेना दूभर हो जाता। आज भी कार्तिक स्नान पर एक विशाल मेला कुण्ड के इर्दे-गिर्दे लगता है, जो तकरीबन एक महीने तक चलता है। बस समय के थपेड़ों के साथ स्नान करने वालों का स्थान बदल गया है। लोग अब सूर्यकुण्ड में स्नान करने की बजाय गोमती तट पर बने घाटों पर चले जाते हैं।

 

नवाब आसफुद्दौला ने जब इस कुण्ड की जीर्ण-शीर्ण दशा देखी तो इसकी मरम्मत करवायी थी। धीरे-धीरे इसका धार्मिक महत्व खत्म होता गया, लोग इसे भूलते गये। लखनऊ का इतिहास गवाह है न जाने कितनी बार लखनऊ के सीने को दुश्मनों ने तोपों, घोड़ों की टापों, हाथियों के पैरों तले रौंदा, तमाम आलीशान कोठियाँ, और महल गिरे फिर बने मगर किसी ने कुछ न छुआ तो वह यही सूरज कुण्ड ही था। जिसने इंसानों की हैवानियत, बदनियत, और कमबख्ती देखकर खुद को समय के आगोश में छुपा लिया था। आज इसी कुण्ड से मिला जो निहायत खुबसूरत पार्क बना है उसका नाम सूरज कुण्ड ही दिया गया है।

 

 

सन्‌ 1540 ई० में बादशाह हुमायूं शेरशाह सूरी के हाथों जोनपुर में बुरी तरह पराजित हो गया। वह सुल्तानपुर, लखनऊ,पीलीभीत होते हुए भागा। भागते वक्‍त हुमायूं लखनऊ में केवल चार घण्टे ही रुक सका क्योंकि बराबर दुश्मनों द्वारा उसका पीछा हो रहा था। लखनऊ वासी इंसानी फर्ज से कभी पीछे नहीं हटे इसका तो इतिहास भी गवाह है। मुसीबतों का मारा दुश्मन ही क्यों न हो लखनऊ ने उसे भी अपने आँचल में प्यार और इज्जत से बैठाया है। हुमायूं ने जब आप बीती सुनाई तो लखनऊ के एक बुजुर्ग पंडित सदाशिव पाण्डेय ने भर, पार्सियों, कायस्थों और ब्राह्मणों को जुटा लिया। जो जितना दे सका खुशी से दे गया। इस प्रकार हुमायूं की मदद के लिए 10 हजार रुपये और 50 घोड़े एकत्र हो गये।

 

 

हुमायूं लखनऊ वासियों की मेहमानबाजी और इन्सानी फर्ज को याद करता पीलीभीत निकल गया। 1590 ई० में अकबर ने जब हुकूमत संभाली तो हिन्दुस्तान को बारह प्रान्तों में बाँटा जिसमें एक प्रान्त अवध भी था। अवध की राजधानी बनने का गौरव लखनऊ को हासिल हुआ। इन्हीं दिनों बिजनौर का एक शेख अब्दुरहीम लखनऊ आया। यहां वह पं० सदाशिव के साहबजादे पं० हरिहर पाण्डेय से मिला। हरिहर ने जब उसकी गरीबी देखी तो बड़ा दुखी हुआ। बादशाह अकबर के नाम एक खत लिखकर शेख अब्दुरहीम को दे दिया। खत में हुमायूं को गुरबत में दी गयी मदद तक का शुरू से आखिर तक जिक्र था। इस बारे में अकबर को भी जानकारी न थी। खत के आखिर में लिखा था—“यदि हो सके तो जहांपनाह इस गरीब की कुछ मदद कर दें।” खत पढ़कर अकबर भाव विभोर हो गया। लखनऊ वासियों के प्रति श्रद्धा से सिर झुका दिया। शेख अब्दुरहीम को एक बड़ी जागीर अदा कर दी ओर कहा— “बखुदा, मुगलों की तारीख में जब भी मुर्वरिख हुमायूं के जवाल का जिक्र करेगा तो लखनऊ के मेजबान का जिक्र सुनहरी हर्फों में लिखते वक्‍त लक्ष्मण टीले के उस ब्राह्मण खानदान को भी फरामोश नहीं करेगा, जिसने शहंशाह हुमायूं को गुरबत में पनाह दी।”

 

वही पाई-पाई के लिये मोहताज शेख साहब लखनऊ आये और जागीर हासिल की। लक्ष्मण टीले के करीब ही उन्होंने पंच महला और शेखन दरवाजाबनवाया। लखनऊ में ही उनका इन्तकाल हुआ। उनका मकबरा नादान महलके नाम से मशहूर है। अकबर को लखनऊ से खास लगाव हो गया था। उसके जमाने में लखनऊ ने खूब तरक्की की खास कर व्यापार के मामले में। यूरोपीय पर्यटक लैकेट जो कि शाहजहाँ की हुकूमत के वक्‍त आया था उसने लखनऊ को एक शानदार मण्डी कहा। शाहजहाँ के वक्‍त ही सूबेदार अली शाह कुली खाँ के साहबजादे–मिर्जा फाजिल और मिर्जा मंसूर ने फाजिल नगर और मंसूर नगर दो मोहल्ले बसाये। रिसालदार अशरफ अली खाँ ने अशर्फाबाद आबाद किया तो उनके भाई जान मुशरफ खाँ ने मुशर्फाबाद मोहल्ला बसाया। इस प्रकार धीरे-धीरे लखनऊ में तमाम मोहल्ले आबाद होते चले गये। नबाब आसफुद्दौला ने फैजाबाद को छोड़कर जब अवध की राजधानी लखनऊ कायम की तो शहर-ए-लखनऊ दुल्हन की तरह सज उठा। इमारतों, खूबसूरत बागों का जाल तो फैला ही नये-नये तमाम मोहल्ले बसने शुरू हो गये। नवाब आसफुद्दौला के निजी दारोगा ने फतेहगंज, अमीनगंज, दौलतगंज, रकाबगंज, खानसामें का अहाता, बेगमगंज मोहल्ले बसाये तो महाराजा टिकेतराय ने टिकंतराय का बाजार, टिकेतगंज, नवाब आसफुद्दौला की माता बहु बेगम ने अलीगंज, भवानीगंज, तरमनी गंज, हसनगंज की बावली, तहसीन गंज, खुदागंज, कश्मीरी मुहल्ला, हसीनुद्दीव खाँ की छावनी, सूरत सिंह का अहाता, बालकगंज आदि तमाम मोहल्ले आबाद किये। इनके अतिरिक्त तोप दरवाजा, ख्यालीगंज, मह॒बूबगंज, अंबरगंज, नदी के इस पार हसनगंज आदि मोहल्ले आबाद हुए।

 

सआदत अली खाँ का जमाना आया तो मोहल्लों के साथ-साथ, बड़े-बड़े बाजार भी कायम हुए जिनमें जंगली गंज, रस्तोगी मोहल्ला, मौलवीगंज, मकबूल गंज, रकाबगंज प्रमुख थे रकाबगंज उन दिनों लोहे और अनाज की सबसे बड़ी मण्डी थी। गाजीउद्दीन हैदर को जब शाही खिताब हासिल हुआ तो इस खुशी में उन्होंने एक नया बाजार कायम किया बादशाहगंज। वजीर आगामीर कैसे चुप बैठते उन्होंने मुहल्ला आगामीर की ड्योढ़ी बसाया तो हकीम मेंहदी ने मेंहदीगंज मोहल्ला आबाद किया।

 

 

नसीरुद्दीन के वक्‍त में चाँदगंज और गणेशगंज मोहल्ले बसे। अमजद अली शाह के जमाने में लखनऊ का सबसे रंगीन और हसीन मोहल्ला हजरतगंज बसा जो शहर में आबाद तमाम मोहल्लों से अधिक साफ सुधरा था। अमजद अली शाह के वजीर अमीनुद्दोला ने मौहल्ला–अमीनाबाद आबाद किया। यह दोनों ही मोहल्ले दिन दूनी रात चौगुनी उन्नति करते गये ‘हजरतगंज लखनऊ का दिल बना तो अमीनाबाद धड़कन।

 

 

लेफ्टीनेंट मेजर मकवाड ईनिस (आर० ई० पी० सी०) ने अपनी किताब लखनऊ एण्ड अवध इन द म्यूटिनी’ में लखनऊ के तत्कालीन स्वरूप विशेषकर पुलों और मार्गों का जिक्र किया है—लखनऊ शहर तकरीबन साढ़े पाँच मील लम्बा और ढाई मील चौड़ा है। यह मुख्यतः गोमती के किनारे आबाद है। यह तीन ओर से एक बड़ी व गहरी नहर से घिरा हुआ है। शहर के पश्चिमी भाग में घनी आबादी है। शहर का पूर्वी ओर दक्षिणी भाग भी घना बसा है। शहर का उत्तरी-पूर्वी भाग बंगलों, कोठियों महलों से आच्छादित है। जहाँ शहर के पूर्वी और पश्चिमी भाग विभकत होते हैं, वहाँ गोमती नदी पर एक पुराना पुल मौजूद है जिसे पत्थर का पुल’ कहते हैं। पुल से एक मील दूर नदी के बहाव वाली दिशा में एक नया लोहे का पुल बना है। इन दोनों पुलों से होकर मड़ियाँव छावनी की ओर आवागमन होता है। मडियाँव उत्तर में दो मील की दूरी पर है। दक्षिण दिशा में कानपुर जाने का रास्ता लोहे के पुल से प्रारम्भ होकर बेलीगारद के किनारे से होता हुआ चार बाग क्षेत्र में निर्मित नहर के ऊपर से होकर जाता है। ‘मच्छी भवन” ओर वेलीगारद दरिया के दक्षिणी तट पर क्रमश: पत्थर के पुल और लोहे के पुल के करीब ही बने हुए हैं।

 

 

दारोगा अब्बास अली बेग ने अपनी किताब द लखनऊ एलबम में लखनऊ के तत्कालीन स्वरूप पर रोशनी डाली है— अवध में बादशाहत से पहले लखनऊ में अधिकांशतः मजबूत ईट या पत्थर
के इटालियन और मुस्लिम वास्तुकला में निर्मित दो या तीन मंजिले ऊँचे मकान बने होते थे। जिनके बीच में संकरी किन्तु साफ सुधरी गलियाँ होती थीं। जनसंख्या बहुत थी जिसके कारण गलियों में घुड़सवारी या किसी सवारी को ले जाना नामुमकिन होता था। ऐसा कहते हैं फैजाबाद और लखनऊ यह दोनों शहर पहले एक गुप्त सुरंग द्वारा जुड़े थे, जिनके बारे में केवल अवध के नवाब ही जानते थे। जब सुरंगों का जिक्र आ ही गया है तो यह कहना बेजा नहीं होगा कि लखनऊ यदि बागों का शहर है तो यह सुरंगों पर बसा शहर भी है।

 

छतर मंजिल से मोती महल तक आज भी एक सुरंग मौजूद है जिसके प्रवेश द्वार बन्द कर दिये गये है। कोठी रोशनुउद्दौला और नवाब अली का अकबर हाउस एक सुरंग के माध्यम से जुड़े थे। विलायती बाग से एक सुरंग दिलकुशा महल तक जाती थी, अवध की बेगमातें अक्सर इस गुप्त रास्ते से आया-जाया करती थीं। इसी तरह से एक सुरंग रेजीडेंसी तक आती थी। ऐतिहासिक सूर्य-
कुण्ड तक भी एक लम्बी सुरंग आने के प्रमाण मिले हैं।

 

 

लखनऊ का इतिहास देखे तो नवाबीन वक्‍त में जितनी भी इमारतें बनीं उनमें से अधिकांश इमारतों में तहखाने बने थे। यह तहखाने गर्मियों के लिये आरामदेह तो थे ही साथ ही साथ संकट के वक्त में सुरक्षा की दृष्टि से भी बड़े महत्वपूर्ण थे। इनमें से अधिकांश तहखाने एक-दूसरे से सुरंगों द्वारा जुड़े थे। वक्‍त की करवटें लखनऊ का भी रूप रंग बदलती गयीं। उत्तर प्रदेश की राजधानी होने का गौरवमयी ताज शीश पर रखे शहर-ए-लखनऊ अब विकास’ की दौड़ में शामिल हो चुका है। आज लखनऊ महानगर की भौगोलिक संरचना
2528 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में सीमांकित है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें—–

 

 

राधा कुंड उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर को कौन नहीं जानता में समझता हुं की इसका परिचय कराने की शायद
प्रिय पाठको पिछली पोस्टो मे हमने भारत के अनेक धार्मिक स्थलो मंदिरो के बारे में विस्तार से जाना और उनकी
गोमती नदी के किनारे बसा तथा भारत के सबसे बडे राज्य उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ दुनिया भर में अपनी
इलाहाबाद उत्तर प्रदेश का प्राचीन शहर है। यह प्राचीन शहर गंगा यमुना सरस्वती नदियो के संगम के लिए जाना जाता
प्रिय पाठको अपनी उत्तर प्रदेश यात्रा के दौरान हमने अपनी पिछली पोस्ट में उत्तर प्रदेश राज्य के प्रमुख व धार्मिक
प्रिय पाठको अपनी इस पोस्ट में हम भारत के राज्य उत्तर प्रदेश के एक ऐसे शहर की यात्रा करेगें जिसको
मेरठ उत्तर प्रदेश एक प्रमुख महानगर है। यह भारत की राजधानी दिल्ली से लगभग 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित
उत्तर प्रदेश न केवल सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है बल्कि देश का चौथा सबसे बड़ा राज्य भी है। भारत
बरेली उत्तर भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का एक जिला और शहर है। रूहेलखंड क्षेत्र में स्थित यह शहर उत्तर
कानपुर उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक आबादी वाला शहर है और यह भारत के सबसे बड़े औद्योगिक शहरों में से
भारत का एक ऐतिहासिक शहर, झांसी भारत के बुंदेलखंड क्षेत्र के महत्वपूर्ण शहरों में से एक माना जाता है। यह
अयोध्या भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख शहर है। कुछ सालो से यह शहर भारत के सबसे चर्चित शहरो
मथुरा को मंदिरो की नगरी के नाम से भी जाना जाता है। मथुरा भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक
चित्रकूट धाम वह स्थान है। जहां वनवास के समय श्रीराजी ने निवास किया था। इसलिए चित्रकूट महिमा अपरंपार है। यह
पश्चिमी उत्तर प्रदेश का मुरादाबाद महानगर जिसे पीतलनगरी के नाम से भी जाना जाता है। अपने प्रेम वंडरलैंड एंड वाटर
कुशीनगर उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्राचीन शहर है। कुशीनगर को पौराणिक भगवान राजा राम के पुत्र कुशा ने बसाया
उत्तर प्रदेश के लोकप्रिय ऐतिहासिक और धार्मिक स्थानों में से एक पीलीभीत है। नेपाल की सीमाओं पर स्थित है। यह
सीतापुर - सीता की भूमि और रहस्य, इतिहास, संस्कृति, धर्म, पौराणिक कथाओं,और सूफियों से पूर्ण, एक शहर है। हालांकि वास्तव
अलीगढ़ शहर उत्तर प्रदेश में एक ऐतिहासिक शहर है। जो अपने प्रसिद्ध ताले उद्योग के लिए जाना जाता है। यह
उन्नाव मूल रूप से एक समय व्यापक वन क्षेत्र का एक हिस्सा था। अब लगभग दो लाख आबादी वाला एक
बिजनौर उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्रमुख शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। यह खूबसूरत और ऐतिहासिक शहर गंगा नदी
उत्तर प्रदेश भारत में बडी आबादी वाला और तीसरा सबसे बड़ा आकारवार राज्य है। सभी प्रकार के पर्यटक स्थलों, चाहे
अमरोहा जिला (जिसे ज्योतिबा फुले नगर कहा जाता है) राज्य सरकार द्वारा 15 अप्रैल 1997 को अमरोहा में अपने मुख्यालय
प्रकृति के भरपूर धन के बीच वनस्पतियों और जीवों के दिलचस्प अस्तित्व की खोज का एक शानदार विकल्प इटावा शहर
एटा उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्रमुख जिला और शहर है, एटा में कई ऐतिहासिक स्थल हैं, जिनमें मंदिर और
विश्व धरोहर स्थलों में से एक, फतेहपुर सीकरी भारत में सबसे अधिक देखे जाने वाले स्थानों में से एक है।
नोएडा से 65 किमी की दूरी पर, दिल्ली से 85 किमी, गुरूग्राम से 110 किमी, मेरठ से 68 किमी और
उत्तर प्रदेश का शैक्षिक और सॉफ्टवेयर हब, नोएडा अपनी समृद्ध संस्कृति और इतिहास के लिए जाना जाता है। यह राष्ट्रीय
भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश में स्थित, गाजियाबाद एक औद्योगिक शहर है जो सड़कों और रेलवे द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा
बागपत, एनसीआर क्षेत्र का एक शहर है और भारत के पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बागपत जिले में एक नगरपालिका बोर्ड
शामली एक शहर है, और भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश में जिला नव निर्मित जिला मुख्यालय है। सितंबर 2011 में शामली
सहारनपुर उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्रमुख जिला और शहर है, जो वर्तमान में अपनी लकडी पर शानदार नक्काशी की
ऐतिहासिक और शैक्षिक मूल्य से समृद्ध शहर रामपुर, दुनिया भर के आगंतुकों के लिए एक आशाजनक गंतव्य साबित होता है।
मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले के पश्चिमी भाग की ओर स्थित एक शहर है। पीतल के बर्तनों के उद्योग
संभल जिला भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक जिला है। यह 28 सितंबर 2011 को राज्य के तीन नए
बदायूंं भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख शहर और जिला है। यह पश्चिमी उत्तर प्रदेश के केंद्र में
लखीमपुर खीरी, लखनऊ मंडल में उत्तर प्रदेश का एक जिला है। यह भारत में नेपाल के साथ सीमा पर स्थित
बहराइच जिला भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के प्रमुख जिलों में से एक है, और बहराइच शहर जिले का मुख्यालय
भारत के राज्य उत्तर प्रदेश में स्थित, शाहजहांंपुर राम प्रसाद बिस्मिल, शहीद अशफाकउल्ला खान जैसे बहादुर स्वतंत्रता सेनानियों की जन्मस्थली
रायबरेली जिला उत्तर प्रदेश प्रांत के लखनऊ मंडल में स्थित है। यह उत्तरी अक्षांश में 25 ° 49 'से 26
दिल्ली से दक्षिण की ओर मथुरा रोड पर 134 किमी पर छटीकरा नाम का गांव है। छटीकरा मोड़ से बाई
नंदगाँव बरसाना के उत्तर में लगभग 8.5 किमी पर स्थित है। नंदगाँव मथुरा के उत्तर पश्चिम में लगभग 50 किलोमीटर
मथुरा से लगभग 50 किमी की दूरी पर, वृन्दावन से लगभग 43 किमी की दूरी पर, नंदगाँव से लगभग 9
सोनभद्र भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का दूसरा सबसे बड़ा जिला है। सोंनभद्र भारत का एकमात्र ऐसा जिला है, जो
मिर्जापुर जिला उत्तर भारत में उत्तर प्रदेश राज्य के महत्वपूर्ण जिलों में से एक है। यह जिला उत्तर में संत
आजमगढ़ भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश का एक शहर है। यह आज़मगढ़ मंडल का मुख्यालय है, जिसमें बलिया, मऊ और आज़मगढ़
बलरामपुर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में बलरामपुर जिले में एक शहर और एक नगरपालिका बोर्ड है। यह राप्ती नदी
ललितपुर भारत के राज्य उत्तर प्रदेश में एक जिला मुख्यालय है। और यह उत्तर प्रदेश की झांसी डिवीजन के अंतर्गत
बलिया शहर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक खूबसूरत शहर और जिला है। और यह बलिया जिले का
उत्तर प्रदेश के काशी (वाराणसी) से उत्तर की ओर सारनाथ का प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थान है। काशी से सारनाथ की दूरी
बौद्ध धर्म के आठ महातीर्थो में श्रावस्ती भी एक प्रसिद्ध तीर्थ है। जो बौद्ध साहित्य में सावत्थी के नाम से
कौशांबी की गणना प्राचीन भारत के वैभवशाली नगरों मे की जाती थी। महात्मा बुद्ध जी के समय वत्सराज उदयन की
बौद्ध अष्ट महास्थानों में संकिसा महायान शाखा के बौद्धों का प्रधान तीर्थ स्थल है। कहा जाता है कि इसी स्थल
त्रिलोक तीर्थ धाम बड़ागांव या बड़ा गांव जैन मंदिर अतिशय क्षेत्र के रूप में प्रसिद्ध है। यह स्थान दिल्ली सहारनपुर सड़क
शौरीपुर नेमिनाथ जैन मंदिर जैन धर्म का एक पवित्र सिद्ध पीठ तीर्थ है। और जैन धर्म के 22वें तीर्थंकर भगवान
आगरा एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक शहर है। मुख्य रूप से यह दुनिया के सातवें अजूबे ताजमहल के लिए जाना जाता है। आगरा धर्म
कम्पिला या कम्पिल उत्तर प्रदेश के फरूखाबाद जिले की कायमगंज तहसील में एक छोटा सा गांव है। यह उत्तर रेलवे की
अहिच्छत्र उत्तर प्रदेश के बरेली जिले की आंवला तहसील में स्थित है। आंवला स्टेशन से अहिच्छत्र क्षेत्र सडक मार्ग द्वारा 18
देवगढ़ उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले में बेतवा नदी के किनारे स्थित है। यह ललितपुर से दक्षिण पश्चिम में 31 किलोमीटर
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा
महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई
कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी - सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील
लक्ष्मण टीले वाली मस्जिद लखनऊ की प्रसिद्ध मस्जिदों में से एक है। बड़े इमामबाड़े के सामने मौजूद ऊंचा टीला लक्ष्मण
लखनऊ का कैसरबाग अपनी तमाम खूबियों और बेमिसाल खूबसूरती के लिए बड़ा मशहूर रहा है। अब न तो वह खूबियां रहीं
लक्ष्मण टीले के करीब ही एक ऊँचे टीले पर शेख अब्दुर्रहीम ने एक किला बनवाया। शेखों का यह किला आस-पास
गोल दरवाजे और अकबरी दरवाजे के लगभग मध्य में फिरंगी महल की मशहूर इमारतें थीं। इनका इतिहास तकरीबन चार सौ
सतखंडा पैलेस हुसैनाबाद घंटाघर लखनऊ के दाहिने तरफ बनी इस बद किस्मत इमारत का निर्माण नवाब मोहम्मद अली शाह ने 1842
सतखंडा पैलेस और हुसैनाबाद घंटाघर के बीच एक बारादरी मौजूद है। जब नवाब मुहम्मद अली शाह का इंतकाल हुआ तब इसका
अवध के नवाबों द्वारा निर्मित सभी भव्य स्मारकों में, लखनऊ में छतर मंजिल सुंदर नवाबी-युग की वास्तुकला का एक प्रमुख
मुबारिक मंजिल और शाह मंजिल के नाम से मशहूर इमारतों के बीच 'मोती महल' का निर्माण नवाब सआदत अली खां ने
खुर्शीद मंजिल:- किसी शहर के ऐतिहासिक स्मारक उसके पिछले शासकों और उनके पसंदीदा स्थापत्य पैटर्न के बारे में बहुत कुछ
बीबीयापुर कोठी ऐतिहासिक लखनऊ की कोठियां में प्रसिद्ध स्थान रखती है। नवाब आसफुद्दौला जब फैजाबाद छोड़कर लखनऊ तशरीफ लाये तो इस
नवाबों के शहर के मध्य में ख़ामोशी से खडी ब्रिटिश रेजीडेंसी लखनऊ में एक लोकप्रिय ऐतिहासिक स्थल है। यहां शांत
ऐतिहासिक इमारतें और स्मारक किसी शहर के समृद्ध अतीत की कल्पना विकसित करते हैं। लखनऊ में बड़ा इमामबाड़ा उन शानदार स्मारकों
शाही नवाबों की भूमि लखनऊ अपने मनोरम अवधी व्यंजनों, तहज़ीब (परिष्कृत संस्कृति), जरदोज़ी (कढ़ाई), तारीख (प्राचीन प्राचीन अतीत), और चेहल-पहल
लखनऊ पिछले वर्षों में मान्यता से परे बदल गया है लेकिन जो नहीं बदला है वह शहर की समृद्ध स्थापत्य
लखनऊ शहर के निरालानगर में राम कृष्ण मठ, श्री रामकृष्ण और स्वामी विवेकानंद को समर्पित एक प्रसिद्ध मंदिर है। लखनऊ में
चंद्रिका देवी मंदिर-- लखनऊ को नवाबों के शहर के रूप में जाना जाता है और यह शहर अपनी धर्मनिरपेक्ष संस्कृति के
1857 में भारतीय स्वतंत्रता के पहले युद्ध के बाद लखनऊ का दौरा करने वाले द न्यूयॉर्क टाइम्स के एक रिपोर्टर श्री
इस बात की प्रबल संभावना है कि जिसने एक बार भी लखनऊ की यात्रा नहीं की है, उसने शहर के
उत्तर प्रदेश राज्य की राजधानी लखनऊ बहुत ही मनोरम और प्रदेश में दूसरा सबसे अधिक मांग वाला पर्यटन स्थल, गोमती नदी
लखनऊ वासियों के लिए यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है यदि वे कहते हैं कि कैसरबाग में किसी स्थान पर
इस निहायत खूबसूरत लाल बारादरी का निर्माण सआदत अली खांने करवाया था। इसका असली नाम करत्न-उल सुल्तान अर्थात- नवाबों का
लखनऊ में हमेशा कुछ खूबसूरत सार्वजनिक पार्क रहे हैं। जिन्होंने नागरिकों को उनके बचपन और कॉलेज के दिनों से लेकर उस