रेडियो तरंगों की खोज किसने की – तारों से आने वाली रेडियो किरणें

हम प्रतिदिन रेडियो सुनते है लेकिन हमने शायद ही कभी सोचा हो कि रेडियो सैकडों-हजारो मील दूर की आवाज तत्काल हम तक कैसे पहचा देता है। यह चमत्कार पूर्ण कार्य रेडियो तरंगें करती हैं, जिनकी खोज सर्वप्रथम अमेरिका के कार्ल गुंजे जांस्की ने की। उन्होंने अपने रिसीवर के माध्यम से तारो से आने वाली इन रेडियो तरंगों के कोलाहल की आवाज स्पष्ट सुनी थी।

 

 

उसके बाद इस कार्य को हालैड के एक वैज्ञानिक, ज्योतिविंद एच. सी वानडि हल्स्ट ने आगे बढ़ाया। वे उस समय हाइड्रोजन परमाणु पर अनुसंधान कार्य कर रहे थे। अन्य नाभिकीय भौतिकविदों ने यह पता लगा लिया था कि परमाणु के अंदर इलेक्ट्रॉनों द्वारा अपनी कक्षाओं से दूसरी कक्षाओं में छलांगे लगाई जाती हैं।

 

 

रेडियो तरंगों की खोज किसने की थी

 

इलेकट्रॉनो द्वारा बाहर से अंदर आते समय किस तरह का प्रकाश उत्सर्जित होता है यह उन फलांगी गई कक्षाओं के मध्य की दूरी पर निर्भर होता है। अगर छलांग लंबी हो, तो उत्सर्जन पराबैंगनी (Altravaolate) होता है और छोटी छलांग हो तब उत्सर्जन अवरक्त (infrared) किरणों के रूप में होता है।

 

 

वान डि हल्स्ट ने ज्ञात किया कि यदि परमाणु की कक्षाएं इतनी पास-पास हों कि एक सी नजर आएं तो छलांग लगाने बाला हाइड्रोजन का इलेक्ट्रॉन न ही प्रकाश किरण का और न ही ऊष्मा किरण का उत्सर्जन करेगा, बल्कि उनसे भी अधिक तरंग लंबाई वाली किरणों अर्थात्‌ रेडियो तरंगो का उत्सर्जन करेगा। अपनी इन गणनाओं पर वान डि हल्स्ट को पूरा विश्वास था, परंतु इन्हे सिद्ध करने के लिए उनके पास कोई उचित उपकरण न था। परंतु इसके बावजूद उन्होंने समस्त ज्योतिर्विदों, भौतिक शास्त्रियों से अनुरोध किया कि यदि इक्कीस सेंटीमीटर बैंड पर रिसीवर ट्यून किया जाए तो हाइड्रोजन परमाणु की आवाज सुनाई दे सकती है क्योंकि हाइड्रोजन रिसीवर के इक्कीस सेंटीमीटर बैंड में संचारण
करता है।

 

 

रेडियो तरंगों की खोज
रेडियो तरंगों की खोज

 

लेकिन सभी वैज्ञानिकों ने उनकी बात पर ध्यान नही दिया, ठीक उसी तरह जब इससे पंद्रह वर्ष पहले कार्ल जे. जांस्की ने घोषणा की थी कि उन्होंने सुदूर तारों से उत्सर्जित किरणों की आवाज को सुना था। परंतु वान डि हल्स्ट अपने सिद्धांत पर अड़े रहे। उन्होंने बताया कि अपनी गणनाओं से उन्होंने यह सिद्ध कर दिया है कि बाहरी आकाश में जब हाइड्रोजन परमाणु एक दूसरे से टकराते हैं तो जिस प्रकार का विकिरण उत्सर्जित करते हैं उसे इक्कीस सेंटीमीटर बैंड पर सुना जा सकता है। यह बैंड हाइड्रोजन परमाणुओं के लिए विशेष बैंड था। उन्होंने घोषित किया कि रेडियो तारे अपने रासायनिक संयोजन से विशेष प्रकार की तरंग लंबाई की किरणें उत्सर्जित करते हैं। अतः बाहरी आकाश से आती हुईं रेडियो तरंगों से उन्हें भेजने वाले उक्त तारे का
रासायनिक संयोजन निश्चित किया जा सकता है–और यदि यह संकेत इक्कीस सेटीमीटर बैंड पर आता है, तो उस प्रेपित्र में हाइड्रोजन का विद्यमान होना निश्चित है।

 

 

कई वर्ष बीत गए परंतु वान डि हल्स्ट के सिद्धांत को मान्यता प्राप्त नहीं हुई। अंत में 25 मार्च, सन्‌ 1951 को अचानक एक नाटकीय परिवर्तन हुआ और एक स्वर में समस्त वैज्ञानिकों ने उनके सिद्धांत की पुष्टि की। इस प्रकार बान डि हल्स्ट ने तारों से आने वाली रेडियो तरंगों की खोज की।

 

 

इन्हीं रेडियो तरंगों को पृथ्वी पर उत्पन्न करने में जर्मनी के वैज्ञानिक हाइनरिख हट्ज ने सफलता पायी। सन्‌ 1883 में उन्होंने एक रेडियो ट्रांसमीटर तथा एक- रेडियो रिसीवर का आविष्कार कर रेडियो तरंगों के माध्यम से ध्वनि प्रेक्षित करने
में सफलता पायी। कृत्रिम रूप से रेडियो तरंगें उत्पन्न कर उन्होने रेडियो टेलीविजन, राडार आदि उपकरणों के आविष्कार का मार्ग खोल दिया।

 

 

कृत्रिम रेडियो तरंगों और तारों से आने वाली रेडियो तरंगों में कोई अंतर नहीं है। इनकी गति प्रकाश किरणों के बराबर आंकी गई है, अर्थात्‌ 30,00,00,000 मीटर प्रति सेकंड। इन्हें विद्युत चुम्बकीय तरंगें भी कहा जाता है।

 

 

हरट्ज ने इन तरंगों की प्रकृति के बारे में भी अनेक परीक्षण किए। उन्होने अपने ट्रांसमीटर और रिसीवर में एक रिफ्लेक्टर लगाकर पता किया कि विद्युत और चुम्बकीय की इन तरंगों को भी प्रकाश तरंगों की तरह कहीं भी केन्द्रित किया जा सकता है।

 

 

एक और रिफ्लेक्टर लगा कर उन पर तरंगों को फेंककर उन्होंने पता लगाया कि इन्हें लेंसों द्वारा भी एक जगह फोकस किया जा सकता है। इस प्रकार हम देखते हैं कि रेडियो तरंगों की खोज ने विज्ञान जगत को बहुत कुछ दिया और बाहरी आकाश तथा पृथ्वी पर की जाने वाली नयी-नयी खोजों और आविष्कारों का मार्ग खोल दिया।

 

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े

 

 

ट्रांसफार्मर
ए° सी० बिजली किफायत की दृष्टि से 2000 या अधिक वोल्ट की तैयार की जाती है। घर के साधारण कामों के Read more
डायनेमो सिद्धांत
डायनेमो क्या है, डायनेमो कैसे बने, तथा डायनेमो का आविष्कार किसने किया अपने इस लेख के अंदर हम इन प्रश्नों Read more
बैटरी
लैक्लांशी सेल या सखी बैटरी को प्राथमिक सेल ( प्राइमेरी सेल) कहते हैं। इनमें रासायनिक योग के कारण बिजली की Read more
रेफ्रिजरेटर
रेफ्रिजरेटर के आविष्कार से पहले प्राचीन काल में बर्फ से खाद्य-पदार्थों को सड़ने या खराब होने से बचाने का तरीका चीन Read more
बिजली लाइन
कृत्रिम तरीकों से बिजली पैदा करने ओर उसे अपने कार्यो मे प्रयोग करते हुए मानव को अभी 140 वर्ष के Read more
प्रेशर कुकर
प्रेशर कुकर का आविष्कार सन 1672 में फ्रांस के डेनिस पपिन नामक युवक ने किया था। जब डेनिस पपिन इंग्लेंड आए Read more
इत्र
कृत्रिम सुगंध यानी इत्र का आविष्कार संभवतः सबसे पहले भारत में हुआ। प्राचीन भारत में इत्र द्रव्यो का निर्यात मिस्र, बेबीलोन, Read more
कांच की वस्तुएं
कांच का प्रयोग मनुष्य प्राचीन काल से ही करता आ रहा है। अतः यह कहना असंभव है, कि कांच का Read more
घड़ी
जहां तक समय बतान वाले उपरकण के आविष्कार का प्रश्न है, उसका आविष्कार किसी वैज्ञानिक ने नहीं किया। यूरोप की Read more
कैलेंडर
कैलेंडर का आविष्कार सबसे पहले प्राचीन बेबीलोन के निवासियों ने किया था। यह चंद्र कैलेंडर कहलाता था। कैलेंडर का विकास समय Read more
सीटी स्कैन
सीटी स्कैन का आविष्कार ब्रिटिश भौतिकशास्त्री डॉ गॉडफ्रे हान्सफील्ड और अमरीकी भौतिकविज्ञानी डॉ एलन कोमार्क ने सन 1972 मे किया। Read more
थर्मामीटर
थर्मामीटर का आविष्कार इटली के प्रसिद्ध वैज्ञानिक गेलिलियो ने लगभग सन्‌ 1593 में किया था। गेलिलियो ने सबसे पहले वायु का Read more
पेनिसिलिन
पेनिसिलिन की खोज ब्रिटेन के सर एलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने सन् 1928 में की थी, लेकिन इसका आम उपयोग इसकी खोज Read more
स्टेथोस्कोप
वर्तमान समय में खान पान और प्राकृतिक के बदलते स्वरूप के कारण हर मनुष्य कभी न कभी बिमारी का शिकार Read more
क्लोरोफॉर्म
चिकित्सा विज्ञान में क्लोरोफॉर्म का आविष्कार बडा ही महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। क्लोरोफॉर्म को ऑपरेशन के समय रोगी को बेहोश करने Read more
मिसाइल
मिसाइल एक ऐसा प्रक्षेपास्त्र है जिसे बिना किसी चालक के धरती के नियंत्रण-कक्ष से मनचाहे स्थान पर हमला करने के Read more
माइन
सुरंग विस्फोटक या लैंड माइन (Mine) का आविष्कार 1919 से 1939 के मध्य हुआ। इसका आविष्कार भी गुप्त रूप से Read more
मशीन गन
एक सफल मशीन गन का आविष्कार अमेरिका के हिरेम मैक्सिम ने सन 1882 में किया था जो लंदन में काम कर Read more
बम का आविष्कार
बम अनेक प्रकार के होते है, जो भिन्न-भिन्न क्षेत्रों, परिस्थितियों और शक्ति के अनुसार अनेक वर्गो में बांटे जा सकते Read more
रॉकेट
रॉकेट अग्नि बाण के रूप में हजारों वर्षो से प्रचलित रहा है। भारत में प्राचीन काल से ही अग्नि बाण का Read more

write a comment