रानी जवाहर बाई की बहादुरी जिसने बहादुरशाह की सेना से लोहा लिया

सन् 1533 की बात है। गुजरात के बादशाह बहादुरशाह जफर ने एक बहुत बड़ी सेना के साथ चित्तौड़ पर आक्रमण कर दिया। उस समय कायर और विलासप्रिय राणा विक्रमादित्य चित्तौड़ की गददी पर था। रानी जवाहर बाई इसी कायर की राजरानी थी। विक्रमादित्य की कायरता के चलते सबको चिंता हुई की चित्तौड़ का उद्धार कैसे होगा। सिसौदिया कुल के गौरव की रक्षा कैसे होगी, किस रिति से राजपूत वीर स्वदेश की रक्षा कर सकेंगे।?।

 

 

ऐसी चिंताओं से सब चिंतित थे कि देवलिया प्रतापगढ़ के रावल बाधगी अपनी राजधानी से आकर राणा के साथ मरने मारने को तैयार हुए। उनके नेतृत्व अधीनता में सब राजपूत वीरता के साथ युद्घ के लिए तैयार हो गए। मुसलमान सेना राजपूतो की अपेक्षा अधिक थी, परंतु फिर भी राजपूत विचलित न हुए।

 

 

 

चित्तौड़ की रानी जवाहर बाई की वीरता की कहानी

 

सबने शपथ खाई कि या तो पूर्ण पराक्रम से लड़कर विजय प्राप्त करेंगे या युद्ध में प्राण देकर वीरगति प्राप्त करेंगे। युद्ध के आरंभ होते ही बहादुरशाह ने पहले अपनी तोपों से ही काम लिया, परंतु राजपूत, तोपों की गर्जना सुनकर द्विगुणित उत्साह से उत्साहित होकर जिधर से गोला आता था, उधर बड़ी फुर्ती से अपने तीक्ष्ण बाण चलाने लगे।

 

 

 

रानी जवाहर बाई की वीरता की कहानी
रानी जवाहर बाई की वीरता की कहानी

 

 

उस समय तोपों से न तो बहुत दूर की मार होती थी और न वे जल्दी जल्दी चलती थी। इसलिए तोपों के साथ साथ बंदूकें भी मुसलमान सेना को चलानी पड़ीं। बंदूकों तथा तोपों के धुएं से रणस्थल में अंधकार छा गया। दोनों पक्षो के बहुत सैनिक मारे गए, परंतु बहादुरशाह किसी रिति से चित्तौड़ पर अधिकार न कर सका।

 

 

अंत में बहादुरशाह ने किले की एक ओर की दीवार को बारूद की सुरंग से उडाने का विचार किया। जो भाग बारूदी सुरंग से उडाया गया था। वहां हाड़ा वीर अर्जुनराव अपने पांच सौ योद्धाओं के साथ युद्ध कर रहें थे। इसलिए वे अपने समस्त सैनिकों सहित मारे गए। शत्रुओं ने इस समय भग्न दुर्ग के भीतर घुसने के लिए धावा बोल दिया, परंतु चित्तौड़ अभी वीर शून्य न था।

 

 

वीरवर चूड़ावत, रावदुर्गादास उसके मुख्य सुभट संताजी और दूदाजी तथा कितने ही अन्य सामंत और सैनिक शत्रुओं के सामने अचल और अटल रूप से डटे रहे। देह में प्राण रहते शत्रु उन्हें हरा न सके, अपने पराक्रम से वे मुसलमानों के धावे को रोकते रहें, परंतु थोडे से राजपूत कब तक प्रचंड यवन सेना का प्रतिरोध करने में समर्थ हो सकते थे।

 

 

वीरता के साथ युद्ध करते रहने पर जब वे मरते मरते कम रह गए, तो बहादुरशाह की सेना किले में घुसने लगी। अचानक फिर उनकी गति रूक गई, सबने चकित हो कर देखा कि योद्धा के वेश में एक रमणी प्रचंड रण तुरंग पर चढ़ी हुई, हाथ में भाला लिए खड़ी हुई है। यह वीर महिला रानी जवाहर बाई थी।

 

 

रानी जवाहर बाई ने जब हाड़ाओ के मर जाने का समाचार सुना, तो उन्होंने सोचा कि अब यदि कहीं राजपूत निराश और साहसहीन हो गए, तो चित्तौड़ का बचना कठिन है। इसलिए रानी जवाहर बाई ने कवच धारण कर, शस्त्र ले स्वयं वहां पहुंची जहां घमासान युद्ध हो रहा था। योद्धाओं को जूझने के लिए उत्साहित करती हुई, वह आप भी लडने लगी।

 

 

रानी जवाहर बाई की वीरता को देखकर राजपूतो में भी साहस का संचार हुआ। उन्होंने भी ऐसा पराक्रम दिखाया कि यवनों को पिछे हटना पड़ा। रानी जवाहर बाई सब राजपूतों के आगे रंध्रपथ रोके खड़ी थी, जो यवन आगे बढ़ता था, वहवही उनके भाले से मारा जाता था। भाले के दारूण प्रहार से बहुत से यवन सैनिक मारे गए।

 

 

कई यवन वीर एक साथ आगे आने लगे, परंतु फिर भी वीर क्षत्राणी निरूत्साहित न हुई। बल्कि असीम साहस के साथ यवनों से युद्ध करती रही। दूर खड़ा बहादुरशाह आश्चर्य चकित यह सब देख रहा था। क्षत्राणियों की वीरता के बारें में उसने सुना तो था, किंतु आज उन्हें रणचंडी बनकर मारकाट मचाते हुए साक्षात देख भी लिया। उसने देखा वीर महिषी रानी जवाहर बाई जहां यवन दल की प्रबलता देखती, वहीं तीव्र वेग से अपने घोडे को लाकर युद्ध करने लगती थी।

 

 

राजपूतों और मुसलमानों में घोर युद्ध हो रहा था। धड व शीश कट कटकर गिर रहे थे, शव के ऊपर शव गिर रहे थे। उसी समय आकर रानी जवाहर बाई के शरीर में तोप का एक गोला आकर लगा और फट गया। रानी संसार में अपनी वीरता का अपूर्व दृष्टांत और आत्मोत्सर्ग का ज्वलंत उदाहरण छोड़ स्वर्गलोक को सिधार गई। मेवाड़ की ऐसी ही वीरांगनाओं, सतियों और पतिव्रता रानियों के कारण मेवाड़ को और भी यश प्राप्त हुआ।

 

 

 

 

भारत के इतिहास की वीर नारियों की गाथाओं पर आधारित हमारें यह लेख भी जरूर पढ़ें:—-

 

 

 

 

अनन्य देशभक्ता, वीर रानी दुर्गावती ने अपने देश की स्वतंत्रता की रक्षा के लिए अंतिम सांस तक युद्ध किया। रण के मैदान
लक्ष्मीबाई का जन्म वाराणसी जिले के भदैनी नामक नगर में 19 नवम्बर 1828 को हुआ था। उनका बचपन का नाम मणिकर्णिका
नबेगम हजरत महल का अंग्रेजो के खिलाफ युद्ध का काल्पिनिक चित्र
बेगम हजरत महल लखनऊ के नवाब वाजिद अली शाह की शरीक-ए-हयात (पत्नी) थी। उनके शौहर वाजिद अली शाह विलासिता और
रानी भवानी की जीवनी
रानी भवानी अहिंसा मानवता और शांति की प्रतिमूर्ति थी। वे स्वर्ग के वैभवका परित्याग करने के लिए हमेशा तैयार रहती
कित्तूर की रानी चेन्नमा की वीर गाथा
रानी चेन्नमा का जन्म सन् 1778 में काकतीय राजवंश में हुआ था। चेन्नमा के पिता का नाम घुलप्पा देसाई और
भीमाबाई होल्कर का काल्पनिक चित्र
भीमाबाई महान देशभक्ता और वीरह्रदया थी। सन् 1857 के लगभग उन्होने अंग्रेजो से युद्ध करके अद्भुत वीरता और साहस का
मैडम कामा का काल्पनिक चित्र
मैडम कामा कौन कौन थी? अपने देश से प्रेम होने के कारण ही मैडम कामा अपने देश से दूर थी।
रानी पद्मावती जौहर का काल्पनिक चित्र
महाराणा लक्ष्मण सिंह अपने पिता की गद्दी पर सन् 1275 मैं बैठे। महाराणा के नाबालिग होने के कारण, राज्य का
श्रीमती इंदिरा गांधी का फाइल चित्र
इंदिरा गांधी का जन्म 19 नवंबर सन् 1917 को उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद मे हुआ था। जहां इंदिरा गांधी के
सरोजिनी नायडू का फाईल चित्र
सरोजिनी नायडू महान देशभक्त थी। गांधी जी के बताए मार्ग पर चलकर स्वतंत्रता के लिए संघर्ष करने वालो में उनका
कस्तूरबा गांधी के चित्र
भारत को गुलामी की जंजीरों से आजाद कराने वाले, भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी को प्ररेणा देने वाली और
कमला नेहरू
कमला नेहरू गांव गांव घूमकर स्वदेशी का प्रचार करती थी। वे गांवों में घर घर जाती थी। स्त्रियों से मिलती
वीरबाला कालीबाई की प्रतिमाएं
आज के अफने इस लेख मे हम एक ऐसी गुरू भक्ता के बारे मे जाने। जिसने अपने प्राणो की आहुति
रानी कर्णावती हिस्ट्री इन हिन्दी
रानी कर्णावती कौन थी? अक्सर यह प्रश्न रानी कर्णावती की जीवनी, और रानी कर्णावती का इतिहास के बारे मे रूची
हाड़ी रानी के बलिदान को दर्शाती मूर्ति कला
सलुम्बर उदयपुर की राज्य की एक छोटी सी रियासत थी। जिसके राजा राव रतन सिंह चूड़ावत थे। हाड़ी रानी सलुम्बर के
राजबाला के प्रेम, साहस, त्याग की रोमांचक कहानी
राजबाला वैशालपुर के ठाकुर प्रतापसिंह की पुत्री थी, वह केवल सुंदरता ही में अद्वितीय न थी, बल्कि धैर्य और चातुर्यादि
कर्पूरी देवी की कहानी
राजस्थान में एक शहर अजमेर है। अजमेर के इतिहास को देखा जाएं तो, अजमेर शुरू से ही पारिवारिक रंजिशों का
सती स्त्री रानी प्रभावती
रानी प्रभावती वीर सती स्त्री गन्नौर के राजा की रानी थी, और अपने रूप, लावण्य व गुणों के कारण अत्यंत
मदर टेरेसा के चित्र
मदर टेरेसा कौन थी? यह नाम सुनते ही सबसे पहले आपके जहन में यही सवाल आता होगा। मदर टेरेसा यह
अच्छन कुमारी और पृथ्वीराज चौहान के मिलन का काल्पनिक चित्र
अच्छन कुमारी चंद्रावती के राजा जयतसी परमार की पुत्री थी। ऐसा कोई गुण नहीं था, जो अच्छन में न हो।
रामप्यारी दासी
भारत के आजाद होने से पहले की बात है। राजस्थान कई छोटे बडे राज्यों में विभाजित था। उन्हीं में एक
सती उर्मिला
सती उर्मिला अजमेर के राजा धर्मगज देव की धर्मपत्नी थी। वह बड़ी चतुर और सुशील स्त्री थी। वह राज्य कार्य
श्रीमती विजयलक्ष्मी पंडित
"आज तक हमारा काम परदेशी नीवं के भवन को गिराना रहा है, परंतु अब हमें अपना भवन बनाना है, जिसकी
अमृता शेरगिल
चित्रकला चित्रकार के गूढ़ भावों की अभिव्यंजना है। अंतर्जगत की सजीव झांकी है। वह असत्य वस्तु नहीं कल्पना की वायु
राजकुमारी अमृत कौर
श्री राजकुमारी अमृत कौर वर्तमान युग की उन श्रेष्ठ नारी विभूतियों में से एक है। जिन्होंने राजनीतिक क्षेत्र में भाग
कमला देवी चट्टोपाध्याय
श्रीमती कमला देवी चट्टोपाध्याय आज के युग में एक क्रियाशील आशावादी और विद्रोहिणी नारी थी। इनके आदर्शों की व्यापकता जीवनपथ
रजिया सुल्तान
रजिया सुल्तान भारतीय इतिहास की वह वीरांगना है, जिन्होंने भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तरी भाग में दिल्ली सल्तनत पर शासन किया था।
चाँद बीबी
सुल्ताना चाँद बीबी कौन थी? उसका नाम था चाँद था। वह हरम का चाँद थी। दक्षिण भारत का चाँद थी।
नूरजहाँ बेगम
नूरजहाँ भारतीय इतिहास और मुगल सम्राज्य की सबसे ताकतवर महिला थी। यह मुगल सम्राट जहांगीर की पत्नी थी। अपने इस
राजमाता अहल्याबाई होल्कर
होल्कर साम्राज्य की महारानी अहिल्याबाई होल्कर भारतीय इतिहास की कुशल महिला शासकों में से एक रही हैं। अपने इस लेख

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *