रानीखेत के दर्शनीय स्थल – रानीखेत टूरिस्ट पैलेस – रानीखेत के टॉप 10 पर्यटन स्थल

भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित रानीखेत एक खूबसुरत हिल्स स्टेशन है। “पहाडो की रानी” कहे जाने वाले रानीखेत को लगता है। प्रकृति ने फुरसत के क्षणो में बनाया है। इस बात का जीता जागता प्रमाण है यहा का शांत लातावरण चीड व देवदार के घने जंगल, दूर दूर तक फैली मनमोहक घांटिया, ठंडी हवा के झोके, फूलो से ढके रास्ते, सिढी नुमा मनमोकह खेत और पक्षियो की कर्णप्रिय चहचहाहट।

समुद्रतल से लगभग 1830 मीटर की ऊंचाई पर बसे इस खूबसूरत शहर का भ्रमण करने के लिए विश्व भर से पर्यटक यहा आते है। यह नगर कभी अंग्रेजो की बेहद पसंदीदा जगह हुआ करता था। इस बात का प्रमाण है। अंग्रेजो द्वारा बनाए गए भव्य भवन जो आज भी इस नगर की शोभा को बढाते है। प्रदूषण मुक्त यह पर्वतीय क्षेत्र प्रकृति प्रेमियो की खास पसंदीदा जगह है। यहा चीड के घने वृक्षो के बीच पैदल सैर करना अपने आप में अलग ही आनंद प्रदान करता है। रानी खेत का मौसम और रानीखेत का तापमान भी बेहद मनभावन व सुहाना होता है। यदि आप रानीखेत की यात्रा पर जाने की प्लानिंग कर रहे या फिर इंटरनेट पर रानीखेत भारत के आकर्षक स्थलो, रानीखेत के दर्शनीय स्थल, रानीखेत के पर्यटन स्थल, रानीखेत टूरिस्ट पैलेस, आदि के बारे में सर्च कर रहे है या फिर आप रानीखेत की सैर पर जा रहे है। तो हमारा यह लेख आपके बेहद सुविधा जनक हो सकता है। अपने इस लेख मे हम पहाडो की रानी कहे जाने वाले इस खूबसुरत हिल्स स्टेशन के दर्शनीय स्थलो और रानीखेत के आसपास के घूमने लायक जगहो के बारे में विस्तार से बताने जा रहे है।

 

रानीखेत के सुंदर दृश्य
रानीखेत के सुंदर दृश्य

 

रानीखेत के दर्शनीय स्थल

 

रानीखेत के टॉप 10 पर्यटन स्थल

 

चौबटिया

 

रानी खेत से चौबटिया की दूरी लगभग 10 किलोमीटर है। चौबटिया अपने सुंदर बाग बगीचो के लिए जाना जाता है। यहा सरकारी उद्यान व फल अनुसंधान केंद्र भी दर्शनीय है। चौबटिया का मुख्य आकर्षण यहा का खूबसुरत जलप्रपात है। जिसके ऊंचाई से गिरते संगमरमर जैसे पानी का दृश्य सैलानियो को अपने आकर्षण में बांध लेता है।

 

गोल्फ मैदान

 

चीड के वृक्षो से घिरा यह सुंदर गोल्फ मैदान रानी खेत से 5 किलोमीटर की दूरी पर रानी खेत अल्मोडा मार्ग पर स्थित है। सुंदर हरी व मखमली घास ओढे यह गोल्फ मैदान देशी पर्यटको के साथ साथ विदेशी पर्यटको को भी आकर्षित करता है। यहा गोल्फ के खिडालियो के लिए एक विश्राम गृह भी है। जो सभी प्रकार की सुख सुविधाओ से परिपूर्ण है।

 

चिलियानौला

 

रानीखेत से चिलियानौला की दूरी लगभग 6 किलोमीटर है। यहा हेडाखान बाबा का भव्य मंदिर खासतौर से देखने लायक है। इस आधुनिक मंदिर में स्थापित देवी देवताओ की कलात्मक मूर्तिया देखकर पर्यटक अचंभित हो जाते है। ट्रैकिग व पिकनिक के लिए भी यह एक उपयुक्त स्थान है।

 

शीतला खेत

रानी खेत से शीतला खेत की दूरी लगभग 35 किलोमीटर है। शीतला खेत एक बहुत ही खुबसूरत पर्यटन स्थल है। वर्तमान में स्थल की खूबसूरती को प्रशासन द्वारा और विकसित किया जा रहा है। यहा ठहरने के लिए बढिया होटल व सरकारी विश्राम गृह है। ट्रैकिंग के शौकिनो के लिए भी यह एक आदर्श स्थान है। इसके अलावा यहा के प्रकृति के खुबसूरत नजारे सैलानियो को आकर्षित करने के लिए काफी है।

 

धोलीखेत

यहा से हिमालय पर्वत श्रृखलाओ का बर्फ से ढका दृश्य बहुत ही सुंदर दिखाई देता है। पिकनिक मनाने के लिए भी यह एक उपयुक्त स्थल है।

 

रानीखेत के सुंदर दृश्य
रानीखेत के सुंदर दृश्य

 

द्वाराहाट

रानी खेत से द्वाराहाट की दूरी लगभग 32 किलोमीटर है। हरी भरी वादियो के बीच बसे द्रवाहाट का अपना पुरातात्विक महत्तव है। यहा स्थापत्य कला के 65 मंदिर है। जो कि विशेष रूप से दर्शनीय है। यहा से हिमालय दर्शन का अपना अलग ही मजा है।

 

उत्तराखंड पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढे:—

कौसानी के दर्शनीय स्थल

अल्मोडा जिले के पर्यटन स्थल

नैनीताल के दर्शनीय स्थल

बागेश्वर जिले के पर्यटन स्थल

 

दूनागिरी

द्वाराहाट से दूनागिरी की दूरी लगभग 14 किलोमीटर है। दूनागिरी एक खुबसूरत पर्यटन स्थल है। यहा से हिमालय के दर्शन बहुत ही स्पष्ट व खुबसूरत दिखाई पडते है। यह स्थान पर्यटन के लिहाज से बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। इस पर्वत चोटी पर अनेक मंदिर भी है। जिनके दर्शन किए बिना पर्यटक नही रह पाते।

 

मजखाली

मजखाली रानीखैत अल्मोडा मार्ग पर स्थित है। यहा से भी हिमालय पर्वत कि विशाल चोटियो के खुबसूरत नजारे दिखाई पडते है। यहा का नैसर्गिक सौंदर्य पर्यटको के दिलो दिमाग पर अपनी अमिट छाप छोड देता है। फोटोग्राफी के शौकिनो के लिए भी यह एक आदर्श स्थान है।

 

खडी बजार

 

खडी बाजार रानीखेत का मुख्य बाजार है। अंग्रेजो के जमाने में खडी बाजार “मेयो स्ट्रीट” के नाम से जाना जाता था। इस बाजार से आप मोलभाव करके स्थानीय काष्ठकला का मनचाहा सामान खरीद सकते है।

 

भालू डैम

भालू डैम चौबटिया से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह स्थान फिशिंग और बोटिंग के लिए एक आदर्श स्थल है।

 

कैसे पहुंचे

काठगोदाम से रानीखेत की दूरी लगभग 75 किलोमीटर है। काठगोदाम तक आप ट्रैन द्वारा आसानी से पहुंच सकते है। काठगोदाम से आगे की दूरी बस या टैक्सी द्वारा तय की जा सकती है।

 

रानीखेत के दर्शनीय स्थल, रानीखेत के पर्यटन स्थल, रानीखेत टूरिस्ट पैलेस, रानी खेत की यात्रा आदि शीर्षको पर आधारित हमारा यह लेख आपको कैसा लगा आप हमे कमेंट करके बता सकते है। यह हेल्पफुल जानकारी आप अपने दोस्तो के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है।

 

 

 

 

उत्तराखंड पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें

 

 

आफिस के काम का बोझ   शहर की भीड़ भाड़ और चिलचिलाती गर्मी से मन उब गया तो हमनें लम्बी
गणतंत्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है । अगर पर्यटन की
पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
बर्फ से ढके पहाड़ सुहावनी झीलें, मनभावन हरियाली, सुखद जलवायु ये सब आपको एक साथ एक ही जगह मिल सकता
हिमालय के नजदीक बसा छोटा सा देश नेंपाल। पूरी दुनिया में प्राकति के रूप में अग्रणी स्थान रखता है ।
नैनीताल मल्लीताल, नैनी झील
देश की राजधानी दिल्ली से लगभग 300किलोमीटर की दूरी पर उतराखंड राज्य के कुमांऊ की पहाडीयोँ के मध्य बसा यह
मसूरी के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
उतरांचल के पहाड़ी पर्यटन स्थलों में सबसे पहला नाम मसूरी का आता है। मसूरी का सौंदर्य सैलानियों को इस कदर
कुल्लू मनाली पर्यटन :- अगर आप इस बार मई जून की छुट्टियों में किसी सुंदर हिल्स स्टेशन के भ्रमण की
हर की पौडी हरिद्वार
उत्तराखंड राज्य में स्थित हरिद्वार जिला भारत की एक पवित्र तथा धार्मिक नगरी के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है।
भारत का गोवा राज्य अपने खुबसुरत समुद्र के किनारों और मशहूर स्थापत्य के लिए जाना जाता है ।गोवा क्षेत्रफल के
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
हरिद्वार जिले के बहादराबाद में स्थित भारत का सबसे बड़ा योग शिक्षा संस्थान है । इसकी स्थापना स्वामी रामदेव द्वारा
खजुराहो ( कामुक कलाकृति का अनूठा संगम भारत के मध्यप्रदेश के झांसी से 175 किलोमीटर दूर छतरपुर जिले में स्थित
भारत की राजधानी दिल्ली के पुरानी दिल्ली इलाके में स्थित ऐतिहासिक मुगलकालीन किला है " लाल किला"। लाल पत्थर से
जामा मस्जिद दिल्ली के सुंदर दृश्य
जामा मस्जिद दिल्ली मुस्लिम समुदाय का एक पवित्र स्थल है । सन् 1656 में निर्मित यह मुग़ल कालीन प्रसिद्ध मस्जिद
उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जनपद के पलिया नगर से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित दुधवा नेशनल पार्क है।
पीरान कलियर शरीफ उतराखंड के रूडकी से 4किमी तथा हरिद्वार से 20 किमी की दूरी पर स्थित   पीरान  कलियर
सिद्धबली मंदिर उतराखंड के कोटद्वार कस्बे से लगभग 3किलोमीटर की दूरी पर कोटद्वार पौड़ी राष्ट्रीय राजमार्ग पर भव्य सिद्धबली मंदिर
राधा कुंड उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर को कौन नहीं जानता में समझता हुं की इसका परिचय कराने की शायद
भारत के गुजरात राज्य में स्थित सोमनाथ मंदिर भारत का एक महत्वपूर्ण  मंदिर है । यह मंदिर गुजरात के सोमनाथ
जिम कार्बेट नेशनल पार्क उतराखंड राज्य के रामनगर से 12 किलोमीटर की दूरी  पर स्थित जिम कार्बेट नेशनल पार्क  भारत का
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
जम्मू कश्मीर भारत के उत्तरी भाग का एक राज्य है । यह भारत की ओर से उत्तर पूर्व में चीन
जम्मू कश्मीर राज्य के कटरा गाँव से 12 किलोमीटर की दूरी पर माता वैष्णो देवी का प्रसिद्ध व भव्य मंदिर
मानेसर झील या सरोवर मई जून में पडती भीषण गर्मी चिलचिलाती धूप से अगर किसी चीज से सकून व राहत
भारत की राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन तथा हजरत निजामुद्दीन दरगाह के करीब मथुरा रोड़ के निकट हुमायूँ का मकबरा स्थित है। यह
कुतुबमीनार के सुंदर दृश्य
पिछली पोस्ट में हमने हुमायूँ के मकबरे की सैर की थी। आज हम एशिया की सबसे ऊंची मीनार की सैर करेंगे। जो
भारत की राजधानी के नेहरू प्लेस के पास स्थित एक बहाई उपासना स्थल है। यह उपासना स्थल हिन्दू मुस्लिम सिख
पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कमल मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर की थी। इस पोस्ट
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध स्थल स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *