मोती बाग गुरुद्वारा हिस्ट्री इन हिन्दी – गुरुद्वारा मोती बाग साहिब का इतिहास

मोती बाग गुरुद्वारा साहिब

मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से भी एक है। यह गुरुद्वारा आऊटर रिंग रोग पर धौला कुआं के पास स्थित हैं। गुरुदारे की खुबसूरत ऐतिहासिक सफेद इमारत दूर से ही दिखाई पड़ती है। बड़ी संख्या में पर्यटक और श्रृद्धालु यहां दर्शन के लिए आते है। मोती बाग गुरुद्वारा कि अपनी एक हिस्ट्री है। मोती बाग गुरुद्वारे के इतिहास पर नजर डालें तो पता चला है कि—-

 

मोती बाग गुरुद्वारा हिस्ट्री इन हिन्दी

 

जब सिख धर्म के दसवें गुरु, गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज ने जब 21 अक्टूबर 1706 में दक्षिण भारत यात्रा के लिए पंजाब से प्रस्थान किया। मार्च 1707 में राजपूताना के राज्य में पहुंचे, उसी स्थान पर उनको औरंगजेब की मृत्यु का समाचार मिला। उन्हें एक समाचार शहजादा बहादुर शाह जफर से गुरु जी को यह मिला कि उनको नैतिक सहयोग प्रदान करे।शहजादा बहादुर शाह जफर औरंगजेब का तीसरा पुत्र था जो औरंगजेब का राज्य हासिल करने का प्रयत्न कर रहा था।

 

 

10 जून 1707 को गुरु गोबिंद सिंह जी ने अपने रेजिमेंट के कमांडर कुलदीप सिंह के नेतृत्व में सेना को बहादुर शाह की मदद के लिए भेजा। जब बहादुर शाह और शाह आलम की लड़ाई निणार्यक दौर में थी, उसी समय गुरु गोबिंद सिंह जी उस लड़ाई में शामिल हो गये। बहादुर शाह ने इस लड़ाई में विजय प्राप्त की तथा युद्ध में सहयोग करने वाले कुलदीप सिंह को सम्मानित किया और उनको 60 लाख रूपये के हीरे भेंट किए। बहादुर शाह से गुरु गोबिंद सिंह की मित्रता और प्रगाढ़ हो गई।

 

 

गुरु गोबिंद सिंह जी पुनः दिल्ली आये और बरसात के चार महिने वहीं गुजारे दिल्ली में बहादुर शाह के साथ कई बैठक गुरु गोबिंद सिंह जी की। आज जहां मोती बाग गुरुद्वारा स्थापित है गुरु गोबिंद सिंह जी यही रूके थे। गुरु गोबिंद सिंह जी ने सिख धर्म को मजबूत करने के लिए अपना काफी समय यहां बिताया।

 

 

मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
गुरुद्वारा मोती बाग साहिब

 

गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज की तीरंदाजी की कुशलता

 

श्री गुरु गोबिंद सिंह जी ने अपनी सेना के साथ इस स्थान पर डेरा डाला था। पहले इसे मोची बाग के नाम से जाना जाता था और बाद में इसका नाम बदलकर मोती बाग कर दिया गया। जब गुरु गोबिंद सिंह, एक कुशल धनुर्धर, दिल्ली पहुंचे, तो गुरु साहिब ने एक संदेश के साथ लाल किले की ओर तीर चलाकर अपने आगमन की घोषणा की। राजकुमार मुअज्जम (बाद में बहादुर शाह) लाल किले पर अपने सिंहासन पर बैठे थे। गुरु गोबिंद सिंह का तीर उस सिंहासन के पैर में लगा, जिस पर वे बैठे थे। बहादुर शाह ने तीर के प्रहार की दूरी और सटीकता को चमत्कार माना। अचानक एक दूसरा तीर सिंहासन के दूसरे पैर से टकराता हुआ आया। उसके साथ एक पत्र भी था, जिसमें लिखा था, “यह कोई चमत्कार नहीं है, बल्कि तीरंदाजी का कौशल है!” कहा जाता है कि बादशाह इससे इतना प्रभावित हुआ कि उसने तुरंत गुरु साहिब की सर्वोच्चता को स्वीकार कर लिया।

देवहरी जहां से गुरु गोबिंद सिंह ने तीर चलाए थे, उसे संरक्षित किया गया है और गुरु गोविंद सिंह के शानदार तीरंदाजी के सम्मान में गुरु ग्रंथ साहिब को वहां स्थापित किया गया है। अब भी देवहरी (द्वार) के ऊपर से दिल्ली के क्षितिज और लाल किले को लगभग 6.5 मील की दूरी से देखा जा सकता है।

 

 

सिख समर्थन

गुरु गोबिंद सिंह को पहले से ही राजकुमार के बारे में अच्छी प्रवत्ति का जानते थे, जिसने आनंदपुर साहिब में हमले में भाग लेने से इनकार करके अपने पिता की नाराजगी अर्जित की थी। पंजाब में गुरु की गतिविधियों को दबाने के लिए राजकुमार को मुगल सम्राट द्वारा प्रतिनियुक्त किया गया था। राजकुमार मुअज्जम को दक्कन में शिवालिक पहाड़ियों के प्रमुखों से गुरु के खिलाफ चौंकाने वाली रिपोर्ट मिली थी। लेकिन राजकुमार ने पहाड़ी प्रमुखों द्वारा भेजी गई झूठी रिपोर्टों की निष्पक्ष जांच करने के बाद सम्राट को लिखा था कि गुरु गोबिंद सिंह एक दरवेश (पवित्र व्यक्ति) है और असली संकट पहाड़ी राजा थे। अपने पिता की आज्ञा के विरोध में राजकुमार को कुछ समय जेल में बिताना पड़ा। औरंगजेब शत्रुतापूर्ण बना रहा औरंगजेब ने अपने बेटे की लिखी बातों पर विश्वास नहीं किया और सच्चाई का पता लगाने के लिए अपने चार सर्वश्रेष्ठ सेनापतियों को भेजा था। इन सेनापतियों ने यह भी बताया कि गुरु ने किसी के खिलाफ कुछ नहीं किया और अपने शहर राज्य में एक संत जीवन व्यतीत किया। वास्तव में उन्होंने कुछ उपद्रव करने वालों को भी दंडित किया जो गुरु के लिए समस्याएँ पैदा कर रहे थे। हालाँकि, 1704 में, आनंदपुर साहिब को राजपूत पहाड़ी प्रमुखों की संयुक्त सेना और मुगल सेना ने पूरी ताकत से घेर लिया गया था, जब औरंगजेब ने पहाड़ी शासकों और मुगल राज्यपालों के विचार पर गुरु को उनके गढ़ से हटाने का फैसला किया। एक भीषण युद्ध हुआ, तमाम कोशिशों के बाद भी हिन्दू और मुगल की संयुक्त सेना गुरु गोबिंद सिंह जी के किले में प्रवेश न कर पायी। किले को फतह  करता देख दुश्मन सेना ने एक समझौता किया।

 

 

हिन्दू राजाओं और मुगलों ने समझौता तोड़ा

 

गुरु गोबिंद सिंह और हिन्दू राजाओं तथा मुगल सेना के बीच समझौता हुआ था कि गुरु गोबिंद सिंह अपना किला छोड़ने को तैयार है। इसके बदले उन्हें और उनके सिखों को सुरक्षित किले से बाहर जाने का मार्ग दिया जाये। तथा दुश्मन सेना ने अपने अपने मजहब की शपथ लेकर गुरु और उनके सिखों को सुरक्षित निकलने का मार्ग देना तय हुआ।

 

किंतु दुश्मन सेना ने ‘पवित्र शपथ’ को नजरअंदाज करते हुए, चालबाजी से घेराबंदी कर गुरु गोबिंद सिंह पर हमला कर दिया, भीषण युद्ध हुआ जिसमें गुरु ने अपने चार बेटों, उनकी मां और अपने कई सिखों को खो दिया, लेकिन हमलावर दुश्मन सेना को भी बहुत भारी नुकसान हुआ।
हालाँकि, गुरु गोबिंद सिंह की मुगल सम्राट के सबसे बड़े बेटे के प्रति कोई दुर्भावना नहीं थी और वह उत्तराधिकार की लड़ाई में उनकी मदद करने के लिए सहमत हो गए। दिल्ली के सिखों ने एक नया गुरुद्वारा भवन बनाया है। वह पुराना भवन जहां से दसवें गुरु ने लाल किले पर दो बाण चलाए थे, वह आज भी बरकरार है। हर साल, श्री गुरु ग्रंथ साहिब की गुरु के रूप में पहली स्थापना की वर्षगांठ पर गुरुद्वारा मोती बाग साहिब में हजारों हिंदुओं और सिखों द्वारा बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। वे गुरु ग्रंथ साहिब और गुरु गोबिंद सिंह को श्रद्धा के साथ याद करते है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—–

 

 

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के Read more
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state) Read more
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में Read more
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है। Read more
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर” कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह Read more
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल Read more
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा Read more
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती Read more
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है। Read more
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में Read more
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल Read more
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है Read more
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह Read more
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की Read more
खालसा पंथ
“खालसा पंथ” दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख Read more
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल Read more
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह Read more
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप Read more
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण Read more
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है। Read more
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और Read more
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण Read more
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को Read more
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से Read more
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से Read more
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित Read more
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान Read more
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला Read more
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं Read more
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया Read more
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद Read more
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा Read more
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु Read more
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना Read more
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित Read more
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर Read more
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी Read more
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला Read more
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ Read more
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है Read more
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन Read more
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में Read more

 

write a comment

%d bloggers like this: