मूसा बाग लखनऊ जहां स्थित है एक चूहे का मकबरा

मूसा बाग लखनऊ

लखनऊ  एक शानदार ऐतिहासिक शहर है जो अद्भुत स्मारकों, उद्यानों और पार्कों का प्रतिनिधित्व करता है। ऐतिहासिक स्मारक ज्यादातर अवध के नवाबों और ब्रिटिश राज के शासनकाल के दौरान बनाए गए थे। शहर के स्मारक समृद्ध नवाबी युग की प्रतीकात्मक आभा को चित्रित करते हैं। बड़ा इमामबाड़ाछोटा इमामबाड़ा और रूमी दरवाजा जैसे कुछ नाम गौरवशाली नवाबी काल की प्रमुख पहचान हैं, जिसने नवाबों के शहर लखनऊ को एक विशिष्ट पहचान दी। इसके अलावा कई खूबसूरत पार्कों और बगीचों की उपस्थिति के कारण लखनऊ की शाम हमेशा लोकप्रिय रही है। “शाम-ए-अवध” का अनूठा शीर्षक, नवाबों के प्यार में अपना इत्मीनान से शाम के समय को बागों (बगीचों या पार्कों) में बिताने के लिए जाना जाता है। यह भी कारण हो सकता है कि शहर के कुछ इलाकों को प्रत्यक्ष “बाग” के नाम पर रखा गया है जैसे डालीबाग, चारबाग, आलमबाग, सिकंदरबाग, खुर्शीद बाग और मूसा बाग।

 

 

लखनऊ के पश्चिमी छोर पर स्थित महान ऐतिहासिक महत्व का एक ऐसा स्थान है मूसा बाग। यह हरे-भरे उपजाऊ खेतों और जंगल के साथ एक बहुत ही सुरम्य स्थान है और इसमें एक प्रभावशाली इंडो-यूरोपीय शैली का स्मारक है जिसने 1857 के महान विद्रोह को देखा है।

 

 

मूसा बाग का इतिहास

 

शहर से 4 किलोमीटर दूर लखनऊ हरदोई राजमार्ग पर स्थित
मूसा बाग नवाब आसफुद्दौला द्वारा बनवाया गया था। इस बाग़ को ‘सफरी बाग़’ भी कहते हैं। मूसा बाग भी अन्य बागों की तरह चहारदीवारों से घिरा हुआ था। इसके दक्षिण की ओर मुख्य प्रवेश द्वार था। बाग़ के बीच बनी बारादरी और तहखाने के भग्नावशेष आज भी मौजूद हैं। तहखाने तक पहुँचने के लिए दो रास्ते हैं। यह तहखाना गर्मी के दिनों में बड़ा आरामदेह था।

 

 

कहते हैं कि एक दिन नवाब आसफुद्दौला अपने प्रिय घोड़े सिकन्दर पर बैठकर सैर करने निकले। इत्तफाक की बात कम्बख्त एक चुहा घोड़े की टाप के नीचे आ दबा। नवाब साहब को चूहे की मौत पर बड़ा अफसोस हुआ। तभी वजीर ने कह दिया–हुजूर अगर इसे दफन करवाकर–मजार बनवा दें तो इसकी रूह को बड़ा सुकून मिलेगा। नवाब साहब को वजीर की बात पसन्द आयी चूहे को दफन करने के बाद मजार बनवाकर एक खूबसूरत बाग़ लगवा’ दिया गया जो कि मूसा बाग के नाम मशहूर हुआ।

 

मूसा बाग लखनऊ
मूसा बाग लखनऊ

नवाब साहब की माँ बहू बेगम से नहीं बनती थी, बहू बेगम नवाब
शुजाउदौला’ की बीबी थी। आसफुद्दौला ने फैजाबाद को छोड़कर जब लखनऊ को राजधानी बनाया तो बहू बेगम उनके साथ नहीं आयी। आसफुद्दौला के दिल ने यह गंवारा न किया कि विधवा माँ को इस तरह बेसहारा छोड़ दिया जाए। नवाब साहब जब माँ को मनाने में कामयाब हो गए तो फैजाबाद से रास्ते भर अशर्फियाँ लुटाते हुए उन्हें लखनऊ लाए। जब बेगम लखनऊ में रहती तो नवाब साहब रोज 400 रुपये की लागत का खाना भेजते थे बेगम सुबह का नाश्ता और शाम का खाना नौकरों में बंटवा देती थी। बेगम साहिबा केवल दोपहर में एक ही बार भोजन करती थीं। बावर्चीखाने का 84 हजार रुपये बकाया हो गया जब बेगम फैजाबाद लौटने लगीं तो खुद ही सारा बकाया चुकता कर गयी। बेगम के दिल में भी आसफुद्दौला के लिए बेपनाह मोहब्बत थी।दो साल तक उनकी फौज का खर्च उन्होंने अपने ऊपर लिए रखा।

 

 

1857 में हुए गदर ने मूसा बाग की खूबसूरती को तहस-नहस कर दिया। चर्बी वाले कारतूसों के मसले ने अंग्रेजी फौज के भारतीय सिपाहियों में एक आग सुलगा दी थी। 3 मई, 1857 को कुछ सिपाहियों ने अंग्रेजी फौज के अफसरों पर हमले कर दिये और एक गुप्त पत्र मडियाँव छावनी की 32 नम्बर पलटन के पास भेजा। पत्र अंग्रेजों के हाथ लगा। तमाम विद्रोही पकड़े गए। अंग्रेज सरकार चौकन्नी हो गयी। 4 मई, 1857 को मूसा बाग चारों ओर से घेर लिया गया। विद्रोहियों पर तोपों से जमकर गोलाबारी की गयी। मूसा बाग की दशा जलियावाले बाग से कम न थी। अनेक विद्रोही सैनिकों ने मौत को गले लगा लिया।

 

 

मूसा बाग कोठी को नवाब सआदत अली खान के शासनकाल के दौरान अवकाश और मनोरंजक गतिविधियों के लिए विकसित किया गया था। कोठी नवाब के करीबी विश्वासपात्र आजमुद्दौला की देखरेख में बनाई गई थी। नवाब और विदेशी गणमान्य व्यक्ति, ज्यादातर यूरोपीय, मूसा बाग में गैंडों, हाथियों, बाघों और जंगली भैंसों जैसे जानवरों के बीच लड़ाई का आनंद लेने के लिए अवकाश के लिए जगह का इस्तेमाल करते थे।

 

 

नवाब गाजीउद्दीन हैदर और उनके बेटे नसीर-उद-दीन हैदर ने रेजीडेंसी के वैकल्पिक स्थल के रूप में अंग्रेजों को मूसा बाग की पेशकश की लेकिन ब्रिटिश प्रशासन ने इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया। बाद में, अंग्रेजों ने अवैध कब्जे की मदद से शासकों को उनकी संपत्ति से निष्कासित कर दिया।

 

 

मूसा बाग कोठी में मिट्टी के बर्तन थे जो सपाट छत पर लगे झरोखों से जुड़े थे। विशेष रूप से गर्म गर्मी के दिनों में उचित वेंटिलेशन और शीतलन की सुविधा के लिए कोठी के अंदर यह अनूठी वास्तुशिल्प व्यवस्था की गई थी। गोमती नदी के पास कोठी के आसपास की नम मिट्टी ने गर्मी के मौसम में अतिरिक्त ठंडक प्रदान की। कोठी में एक सुंदर अर्ध-गोलाकार पोर्च भी था जहां से गोमती नदी का मनोरम दृश्य दिखाई पड़ता था।

 

 

मूसा बाग में 1857 के विद्रोह के संघर्ष के दौरान, ब्रिटिश रेजिमेंट के कैप्टन वेल्स घातक रूप से घायल हो गए और 21 मार्च 1858 को उनकी मृत्यु हो गई। उन्हें मूसा बाग कोठी के परिसर में दफनाया गया है और उनकी मजार (कब्र) के लिए एक बाड़ा बनाया गया है। श्रद्धा या धार्मिक मिथक के रूप में, स्थानीय लोग अपनी व्यक्तिगत इच्छा पूरी होने पर कैप्टन वेल्स की मजार पर शराब, मांस और यहां तक ​​कि सिगरेट भी चढ़ाते हैं।

 

 

मूसा बाग की वर्तमान स्थिति

 

मूसा बाग लखनऊ-हरदोई राजमार्ग पर चौक कोनेश्वर के हब से 4 किमी दूर स्थित है। मूसा बाग कोठी का ढांचा इस समय खंडहर में है। गुंबददार छत के साथ दो बड़े खंड और एक छत रहित संरचना जो जमीन के नीचे धँसी हुई है, को देखा जा सकता है। खंडहरों की आकर्षक स्थापत्य विशेषताएं स्मारक के गौरव के दिनों में एक धुंधली तस्वीर प्रदान करने में सहायक हैं। स्मारक के स्थापत्य अवशेष एक हिस्से में चार मंजिलों और दूसरे हिस्से में दो अलग-अलग मंजिलों को दर्शाते हैं।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—-

 

लखनऊ के क्रांतिकारी
1857 के स्वतंत्रता संग्राम में लखनऊ के क्रांतिकारी ने बहुत बड़ी भूमिका निभाई। इन लखनऊ के क्रांतिकारी पर क्या-क्या न ढाये Read more
लखनऊ में 1857 की क्रांति
लखनऊ में 1857 की क्रांति में जो आग भड़की उसकी पृष्ठभूमि अंग्रेजों ने स्वयं ही तैयार की थी। मेजर बर्ड Read more
बेगम शम्सुन्निसा
बेगम शम्सुन्निसा लखनऊ के नवाब आसफुद्दौला की बेगम थी। सास की नवाबी में मिल्कियत और मालिकाने की खशबू थी तो बहू Read more
बहू बेगम
नवाब बेगम की बहू अर्थात नवाब शुजाउद्दौला की पटरानी का नाम उमत-उल-जहरा था। दिल्‍ली के वज़ीर खानदान की यह लड़की सन्‌ 1745 Read more
नवाब बेगम
अवध के दर्जन भर नवाबों में से दूसरे नवाब अबुल मंसूर खाँ उर्फ़ नवाब सफदरजंग ही ऐसे थे जिन्होंने सिर्फ़ एक Read more
भातखंडे संगीत विद्यालय
भारतीय संगीत हमारे देश की आध्यात्मिक विचारधारा की कलात्मक साधना का नाम है, जो परमान्द तथा मोक्ष की प्राप्ति के Read more
बेगम अख्तर
बेगम अख्तर याद आती हैं तो याद आता है एक जमाना। ये नवम्बर, सन्‌ 1974 की बात है जब भारतीय Read more
लखनऊ की बोली
उमराव जान को किसी कस्बे में एक औरत मिलती है जिसकी दो बातें सुनकर ही उमराव कह देती है, “आप Read more
गोमती नदी लखनऊ
गोमती लखनऊ नगर के बीच से गुजरने वाली नदी ही नहीं लखनवी तहजीब की एक सांस्कृतिक धारा भी है। इस Read more
लखनऊ की चाट कचौरी
लखनऊ  अपने आतिथ्य, समृद्ध संस्कृति और प्रसिद्ध मुगलई भोजन के लिए जाना जाता है। कम ही लोग जानते हैं कि Read more
क्राइस्ट चर्च लखनऊ
नवाबों के शहर लखनऊ को उत्तर प्रदेश में सबसे धर्मनिरपेक्ष भावनाओं, संस्कृति और विरासत वाला शहर कहा जा सकता है। धर्मनिरपेक्ष Read more
लखनऊ के प्रसिद्ध मंदिर
एक लखनऊ वासी के शब्दों में लखनऊ शहर आश्चर्यजनक रूप से वर्षों से यहां बिताए जाने के बावजूद विस्मित करता रहता Read more
लखनऊ यूनिवर्सिटी
बड़ा लम्बा सफर तय किया है कैनिंग कालेज ने लखनऊ यूनिवर्सिटी के रूप में तब्दील होने तक। हाथ में एक Read more
राज्य संग्रहालय लखनऊ
लखनऊ के राज्य संग्रहालय का इतिहास लगभग सवा सौ साल पुराना है। कर्नल एबट जो कि सन्‌ 1862 में लखनऊ के Read more
चारबाग रेलवे स्टेशन
चारबाग स्टेशन की इमारत मुस्कुराती हुई लखनऊ तशरीफ लाने वालों का स्वागत करती है। स्टेशन पर कदम रखते ही कहीं न Read more
लखनऊ की मस्जिदें
लखनऊ  उत्तर प्रदेश राज्य की राजधानी है, और भारत का एक ऐतिहासिक महानगर है। लखनऊ को नवाबों का शहर कहा Read more
पतंगबाजी
पतंगबाजी या कनकौवे बाजी, पतंग उर्फ 'कनकइया' बड़ी पतंग उर्फ 'कमकउवा, बड़े ही अजीबो-गरीब नाम हैं यह भी। वैसे तो Read more
लखनऊ की तवायफें
नवाबी वक्‍त में लखनऊ ने नृत्य और संगीत में काफी उन्नति की। नृत्य और संगीत की बात हो और तवायफ का Read more
कबूतर बाजी
लखनऊ  की नजाकत-नफासत ने अगर संसार में शोहरत पायी है तो यहाँ के लोगों के शौक भी कम मशहूर नहीं Read more
मुर्गा की लड़ाई
कभी लखनऊ की मुर्गा की लड़ाई दूर-दूर तक मशहूर थी। लखनऊ के किसी भी भाग में जब मुर्गा लड़ाई होने वाली Read more
अदब और तहजीब
लखनऊ  सारे संसार के सामने अदब और तहजीब तथा आपसी भाई-चारे की एक मिसाल पेश की है। लखनऊ में बीतचीत Read more
लखनवी चिकन कुर्ता
लखनऊ  का चिकन उद्योग बड़ा मशहूर रहा है। लखनवी कुर्तीयों पर चिकन का काम नवाबीन वक्‍त में खूब फला-फूला। नवाब आसफुद्दौला Read more
लखनऊ का पहनावा
लखनऊ  नवाबों, रईसों तथा शौकीनों का शहर रहा है, सो पहनावे के मामले में आखिर क्‍यों पीछे रहता। पुराने समय Read more
लखनवी पान
लखनवी पान:– पान हमारे मुल्क का पुराना शौक रहा है। जब यहाँ हिन्दू राजाओं का शासन था तब भी इसका बड़ा Read more
दिलकुशा कोठी
दिलकुशा कोठी, जिसे "इंग्लिश हाउस" या "विलायती कोठी" के नाम से भी जाना जाता है, लखनऊ में गोमती नदी के तट Read more
लखनऊ की बिरयानी
लखनऊ  का व्यंजन अपने अनोखे स्वाद के लिए प्रसिद्ध है। यह शहर अपने कोरमा, बिरयानी, नहरी-कुलचा, जर्दा, शीरमल, और वारकी Read more
रहीम के नहारी कुलचे
रहीम के नहारी कुलचे:— लखनऊ शहर का एक समृद्ध इतिहास है, यहां तक ​​​​कि जब भोजन की बात आती है, तो लखनऊ Read more
टुंडे कबाब
उत्तर प्रदेश  की राजधानी लखनऊ का नाम सुनते ही सबसे पहले दो चीजों की तरफ ध्यान जाता है। लखनऊ की बोलचाल Read more
गोमती रिवर फ्रंट
लखनऊ  शहर कभी गोमती नदी के तट पर बसा हुआ था। लेकिन आज यह गोमती नदी लखनऊ शहर के बढ़ते विस्तार Read more
अंबेडकर पार्क लखनऊ
नवाबों का शहर लखनऊ समृद्ध ऐतिहासिक अतीत और शानदार स्मारकों का पर्याय है, उन कई पार्कों और उद्यानों को नहीं भूलना Read more
वाटर पार्क इन लखनऊ
लखनऊ शहर जिसे "बागों और नवाबों का शहर" (बगीचों और नवाबों का शहर) के रूप में जाना जाता है, देश Read more
काकोरी शहीद स्मारक
उत्तर प्रदेश राज्य में लखनऊ से 18 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक छोटा सा नगर काकोरी अपने दशहरी आम, जरदोजी Read more
नैमिषारण्य तीर्थ
लखनऊ शहर में मुगल और नवाबी प्रभुत्व का इतिहास रहा है जो मुख्यतः मुस्लिम था। यह ध्यान रखना दिलचस्प है Read more
कतर्नियाघाट सेंचुरी
प्रकृति के रहस्यों ने हमेशा मानव जाति को चकित किया है जो लगातार दुनिया के छिपे रहस्यों को उजागर करने Read more
नवाबगंज पक्षी विहार
लखनऊ में सर्दियों की शुरुआत के साथ, शहर से बाहर जाने और मौसमी बदलाव का जश्न मनाने की आवश्यकता महसूस होने Read more
बिठूर दर्शनीय स्थल
धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व वाले शहर बिठूर की यात्रा के बिना आपकी लखनऊ की यात्रा पूरी नहीं होगी। बिठूर एक सुरम्य Read more
लखनऊ चिड़ियाघर
एक भ्रमण सांसारिक जीवन और भाग दौड़ वाली जिंदगी से कुछ समय के लिए आवश्यक विश्राम के रूप में कार्य Read more
जनेश्वर मिश्र पार्क
लखनऊ में हमेशा कुछ खूबसूरत सार्वजनिक पार्क रहे हैं। जिन्होंने नागरिकों को उनके बचपन और कॉलेज के दिनों से लेकर उस Read more
लाल बारादरी
इस निहायत खूबसूरत लाल बारादरी का निर्माण सआदत अली खांने करवाया था। इसका असली नाम करत्न-उल सुल्तान अर्थात- नवाबों का Read more
सफेद बारादरी
लखनऊ वासियों के लिए यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है यदि वे कहते हैं कि कैसरबाग में किसी स्थान पर Read more

write a comment

%d bloggers like this: