माधौगढ़ का रामेश्वर मन्दिर जालौन उत्तर प्रदेश

रामेश्वर मन्दिर माधौगढ़ कस्बे के रामस्वरूप लाला के बाग में स्थित है। माधौगढ़ उत्तर प्रदेश के जालौन जिले का एक प्रसिद्ध नगर है। पहले यह स्थान नजर बाग के नाम से जाना जाता था जो कि माधौगढ़ के राजा माधौसिंह की सम्पत्ति था। रामेश्वर मंदिर माधौगढ़ में बहुत प्राचीन काल से है। लोगों में मंदिर के प्रति गहरी श्रृद्धा है। बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां आते है।

 

 

रामेश्वर मंदिर माधौगढ़ का इतिहास

 

 

माधौगढ़ के रामेश्वर मंदिर का निर्माण राजा माधौसिंह द्वारा लगभग 700-800 वर्ष पूर्व अर्थात्‌ 12वीं 13वीं शताब्दी में कराया गया था। इसी मन्दिर के उत्तर पश्चिम में एक तालाब भी बनवाया गया था जो कि 80×80 फुट की वर्गाकार आकृति में बना हुआ था। माधौगढ़ के इस मन्दिर के साथ लगभग एक एकड़ भूमि संलग्न है जिसके द्वारा इस मन्दिर का रखरखाव व पूजन वंदन नियमित रूप से सम्पन्न होता है। यह मन्दिर जनमानस की आस्थाओं का प्रतीक है एवं इसी कारण जन मानस को समर्पित भी है।

 

 

इस मन्दिर के पास खुदाई में ईसा से 1800 वर्ष पूर्व की तमाम मूर्तियाँ जिनमें बुद्ध एवं देवी देवताओं की विशिष्ट जैली में अप्राप्त
मूर्तियाँ निकली बताई जाती हैं। औरंगजेब के शासन काल में उसके आदेश अनुसार इन मूर्तियों को तुड़वा दिया गया।

 

 

रामेश्वर मंदिर माधौगढ़
रामेश्वर मंदिर माधौगढ़

 

इस स्थान की खुदाई के दौरान तालाब के चारों ओर पक्की दीवार मिली है जो आज भी दृष्टव्य है। इसी तालाब के चारों ओर काफी गहराई की पक्की सुरंगें मिली हैं जो कि कहाँ को जाती हैं यह ज्ञात नहीं हो सका है। इसकी पूर्ण खुदाई कराये जाने से प्राचीन सभ्यता के अवशेष एवं नगर स्थापत्य के चिन्ह प्राप्त हो सकते हैं। माधौगढ़ के रामेश्वर मन्दिर में स्थापित शिवलिंग प्रसिद्ध तीर्थ रामेश्वरम्‌ (तमिलनाडु) से मित्रता जुलता है जो कि भारत में अन्यत्र कही नहीं मिलता। इस स्थल पर 1970 तक रामेश्वरम धाम के नाम से एक बड़ा भारी मेला लगता रहा है।

 

 

रामेश्वर मंदिर माधौगढ़ का स्थापत्य

 

माधौगढ़ रामेश्वर मन्दिर का स्थापत्य वेसर शैली का रहा होगा। आज जिस स्थान पर यह शिवलिंग प्रतिष्ठित है वह पृथ्वी से लगभग 10 फुट ऊँचा स्थान है तथा उस पर कोई छाया इत्यादि नहीं है। यहां स्थापित रामेश्वर शिवलिंग लाल पत्थर द्वारा निर्मित है जो कि आधार से 17इंच ऊँचा एवं 15 इंच चौड़ा है। यह शिवलिंग एक मुखी है जिसमें लिंग 8 इंच चौड़ा है तथा उसके बाद मुखाकृति बनी हुई है। शिव मुख के ऊपर शेषनाग की आकृति अंकित है। मुख के कर्ण लंबे लटकनदार कुंडलो से युक्त है तथा मुख के ऊपरजटा मुकुट सुशोभित है। शिवलिंग पर ऊर्ध्वकार धारियाँ दिखलायीं पड़ती है।

 

 

ऐतिहासिक तथ्य

 

यह बात असत्य कि इस प्रकार का शिवलिंग केवल माधौगढ़ तीर्थ धाम रामेश्वर में है इसी प्रकार का एक मुखी शिवलिंग कन्नौज उत्तर प्रदेश के राम लक्ष्मण मंदिर में भी स्थापित है जिसका काल 9वीं शताब्दी है। इस स्थान से प्राचीन टैराकोटा की एक ईट प्राप्त हुई है जिस पर मौर्य ब्राह्मी लिपि का “प” अक्षर बना हुआ है परन्तु इससे यह बात प्रमाणित नहीं होती है कि यह ईट मौर्यकाल का प्रतिनिधित्व करती है। इस ईंट का आकार 9×9 इंच है तथा मोटाई 3 इंच है। इस आकार की ईंटों का प्रचलन नवीं शताब्दी में हुआ करता था। मौर्य कालीन ईंटों का आकार एवं मोटाई इससे बिल्कुल भिन्न था।

 

 

माधौगढ़ रामेश्वर मन्दिर के शिवलिंग एवं वहाँ से प्राप्त उपर्युक्त ईट इस बात के स्पष्ट प्रमाण हैं कि इनका काल नवीं शताब्दी है। अस्तु यह कहना उचित ही होगा कि इस मंदिर का निर्माण नवीं शताब्दी में हुआ होगा। इस मन्दिर के आस पास की खुदाई से जो अन्य मूर्तियाँ निकली हैं उनका अवलोकन करने से भी यह स्पष्ट होता है कि इनका कार्यकाल नवीं शताब्दी के लगभग होगा। यहाँ से प्राप्त द्विभुजी गणेश की प्रतिमा जो कि इस समय बुन्देलखण्ड संग्रहालय उरई में है, नवीं दसवीं शताब्दी का संकेत देती है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

 

चौरासी गुंबद कालपी
चौरासी गुंबद यह नाम एक ऐतिहासिक इमारत का है। यह भव्य भवन उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना नदी
श्री दरवाजा कालपी
भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में कालपी एक ऐतिहासिक नगर है, कालपी स्थित बड़े बाजार की पूर्वी सीमा
रंग महल कालपी
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले के कालपी नगर के मिर्जामण्डी स्थित मुहल्ले में यह रंग महल बना हुआ है। जो
गोपालपुरा का किला जालौन
गोपालपुरा जागीर की अतुलनीय पुरातात्विक धरोहर गोपालपुरा का किला अपने तमाम गौरवमयी अतीत को अपने आंचल में संजोये, वर्तमान जालौन जनपद
रामपुरा का किला
जालौन  जिला मुख्यालय से रामपुरा का किला 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 46 गांवों की जागीर का मुख्य
जगम्मनपुर का किला
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना के दक्षिणी किनारे से लगभग 4 किलोमीटर दूर बसे जगम्मनपुर ग्राम में यह
तालबहेट का किला
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी - सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील
कुलपहाड़ का किला
कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक
पथरीगढ़ का किला
पथरीगढ़ का किला चन्देलकालीन दुर्ग है यह दुर्ग फतहगंज से कुछ दूरी पर सतना जनपद में स्थित है इस दुर्ग के
धमौनी का किला
विशाल धमौनी का किला मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह 52 गढ़ों में से 29वां था। इस क्षेत्र
बिजावर का किला
बिजावर भारत के मध्यप्रदेश राज्य के छतरपुर जिले में स्थित एक गांव है। यह गांव एक ऐतिहासिक गांव है। बिजावर का
बटियागढ़ का किला
बटियागढ़ का किला तुर्कों के युग में महत्वपूर्ण स्थान रखता था। यह किला छतरपुर से दमोह और जबलपुर जाने वाले मार्ग
राजनगर का किला
राजनगर मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में खुजराहों के विश्व धरोहर स्थल से केवल 3 किमी उत्तर में एक छोटा सा
पन्ना के दर्शनीय स्थल
पन्ना का किला भी भारतीय मध्यकालीन किलों की श्रेणी में आता है। महाराजा छत्रसाल ने विक्रमी संवत् 1738 में पन्‍ना
सिंगौरगढ़ का किला
मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के दमोह जिले में सिंगौरगढ़ का किला स्थित हैं, यह किला गढ़ा साम्राज्य का
छतरपुर का किला
छतरपुर का किला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में अठारहवीं शताब्दी का किला है। यह किला पहाड़ी की चोटी पर
चंदेरी का किला
भारत के मध्य प्रदेश राज्य के अशोकनगर जिले के चंदेरी में स्थित चंदेरी का किला शिवपुरी से 127 किमी और ललितपुर
ग्वालियर का किला
ग्वालियर का किला उत्तर प्रदेश के ग्वालियर में स्थित है। इस किले का अस्तित्व गुप्त साम्राज्य में भी था। दुर्ग
बड़ौनी का किला
बड़ौनी का किला,यह स्थान छोटी बड़ौनी के नाम जाना जाता है जो दतिया से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर है।
दतिया महल या दतिया का किला
दतिया जनपद मध्य प्रदेश का एक सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक जिला है इसकी सीमाए उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद से मिलती है। यहां
कालपी का किला
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई
उरई का किला और माहिल तालाब
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर
एरच का किला
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या
चिरगाँव का किला
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील
गढ़कुंडार का किला
गढ़कुण्डार का किला मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में गढ़कुंडार नामक एक छोटे से गांव मे स्थित है। गढ़कुंडार का किला बीच
बरूआ सागर का किला
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर
मनियागढ़ का किला
मनियागढ़ का किला मध्यप्रदेश के छतरपुर जनपद मे स्थित है। सामरिक दृष्टि से इस दुर्ग का विशेष महत्व है। सुप्रसिद्ध ग्रन्थ
मंगलगढ़ का किला
मंगलगढ़ का किला चरखारी के एक पहाड़ी पर बना हुआ है। तथा इसके के आसपास अनेक ऐतिहासिक इमारते है। यह हमीरपुर
जैतपुर का किला या बेलाताल का किला
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर
सिरसागढ़ का किला
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में
महोबा का किला
महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी
कल्याणगढ़ का किला मंदिर व बावली
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा
भूरागढ़ का किला
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान
रनगढ़ दुर्ग या जल दुर्ग
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग
खत्री पहाड़ का दुर्ग व मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात
मड़फा दुर्ग
मड़फा दुर्ग भी एक चन्देल कालीन किला है यह दुर्ग चित्रकूट के समीप चित्रकूट से 30 किलोमीटर की दूरी पर
रसिन का किला
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा
अजयगढ़ का किला
अजयगढ़ का किला महोबा के दक्षिण पूर्व में कालिंजर के दक्षिण पश्चिम में और खुजराहों के उत्तर पूर्व में मध्यप्रदेश
कालिंजर का किला
कालिंजर का किला या कालिंजर दुर्ग कहा स्थित है?:--- यह दुर्ग बांदा जिला उत्तर प्रदेश मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर बांदा-सतना
ओरछा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
शक्तिशाली बुंदेला राजपूत राजाओं की राजधानी ओरछा शहर के हर हिस्से में लगभग इतिहास का जादू फैला हुआ है। ओरछा

write a comment