महोबा का किला – महोबा दुर्ग का इतिहास – आल्हा उदल का महल

महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी उपलब्ध होते है। इन अभिलेखो में चन्देलवशांवली नन्‍नुक देव से लेकर परमार्दिदेव तक की उपलब्धि होती है। अभी तक यह सुनिश्चित नहीं हो पाया कि इस दुर्ग का वास्तविक निर्माणकर्ता कौन था। यह दुर्ग मानिकपुर झाँसी मार्ग पर महोबा मुख्यालय से कुछ दूर विजय सागर से समीप एक पहाडी पर स्थित है।

 

महोबा का किला हिस्ट्री इन हिन्दी – महोबा दुर्ग का इतिहास

 

 

महोबा के किले में प्रवेश करने के लिये अनेक द्वार है। महोबा प्रारम्भ से ही सुप्रसिद्ध धार्मिक और ऐतिहासिक स्थल है। ऐसा विश्वास किया जाता है कि त्रेतायुग में इसका नाम “केपपुर”“ था और द्वापर युग में इसका नाम “’पाटनपुर” था। वर्तमान समय में इसका नाम महोबा है। कहा जाता है कि यहाँ पर चन्देलवंश के आदि परूष चन्द्रवर्मा के लिये एक महोत्सव का आयोजन किया गया था। इसलिए महोबा का प्राचीन नाम महोत्सव नगर था जो बाद में बिगड़कर महोबा बना चन्द्रवर्मा का असितित्व आठवी शताब्दी के प्रारम्भ में था और इन्ही को चन्देलवंश का संस्थापक माना जाता है चन्द्रवरदायी ने अपने सुप्रसिद्ध ग्रन्थ पृथ्वीराज रासो के महोबाखंड में इसका नाम महोत्सव नगर ही माना है।

 

 

यह चन्देलों की प्रशासनिक राजधानी थी कुछ समय के लिये चन्देलों की राजधानी खजुराहों में रही इस वंश के वे नरेश राहिल ने राहिल सागर नाम का एक तालाब निर्मित कराया। यह महोबा से तीन किलोमीटर दूर दक्षिण पश्चिम में है कीर्तिवर्मन और मदन वर्मन इस वंश के सुप्रसिद्ध शासक थे। इन्होने महोबा में दो प्रसद्धि झीलों का निर्माण कराया था। ये झीले कीरत सागर और मदन सागर के नाम से विख्यात है।

 

 

इस वंश का अन्तिम नरेश परमार्दिदेव इनका शासन 1202 तक रहा लगभग 1182 ई0० में दिल्‍ली नरेश पृथ्वीराज चौहान ने महोबा पर आक्रमण किया था। इस युद्ध में आल्हा और ऊदल ने विशेष बहादुरी का परिचय दिया था। इस युद्ध में ऊदल पराजित हुआ और मार डाला गया और आल्हा घायल हो गया युद्ध में परमार्दिदेव पराजित हुआ और महोबा पर पृथ्वीराज का अधिकार हो गया।

 

 

महोबा दुर्ग के ऊपर और नीचे अनेक महत्वपूर्ण स्थल उपलब्ध होते है जिसने इस स्थल की प्रसिद्ध सर्वत्र है। मुगलशासन काल में भी महोबा दुर्ग का महत्व बना रहा यहाँ जो भी स्थल उपलब्ध होते है वे सभी पुरातत्विक ऐतिहासिक और थार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है इस शहर में अनेक सरोवर है जो यहाँ के निवासियों की जल आपूर्ति किया करते थें।

 

 

महोबा का किला
महोबा का किला

 

 

 

दिसरापुर सागर

 

यह तालाब नगर के उत्तरपूर्व में है तथा एक पहाड़ी से लगा हुआ है कहते है कि सरोवर के नजदीक आल्हा-ऊदल के रहने के महल थे।

 

 

राहिल सागर

महोबा नगर के दक्षिणी पश्चिमी किनारे पर राहिल सागर नामक तालाब है इस तालाब का निर्माण चन्देल नरेश राहिल ने 890 से लेकर 940 ई० के मध्य कराया महोबा का यह प्राचीनतम सरोवर है। कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर यहाँ एक मेला लगता है तथा इसी के पास पवित्र सूरज कण्ड भी है तथा इसी के समीप राहिल सागर से लगा हुआ एक मन्दिर भी है। जहाँ भगवान शिव की प्रतिमा है। तथा इसी के सन्निकट एक सूर्य प्रतिमा है यह प्रतिमा लगशग 4 फूट की है और अराधना मुद्रा में हैं।

 

 

विजय सागर झील

विजय सागर झील का निर्माण विजय वर्मन ने सन्  1035 से लेकर सन्‌ 1060 के लगभग कराया था। यह सरोवर कानपुर सागर मार्ग पर स्थित है। यहाँ पर विभिन्‍न प्रकार के वृक्ष देखने के मिलते है तथा इसी के पास पुरानी गढ़ी की दीवाले भी उपलब्ध होती है इस गढ़ी का निर्माण मोहन सिंह बुन्देला ने 18वीं शताब्दी में कराया था।

 

 

कीरत सागर

यह एक मध्यम श्रेणी का सरोवर है। तथा महोबा के पश्चिमी किनारे पर स्थित है। इस सरोवर के तट पर सुप्रसिद्ध कजली मेला लगता है। कहते है कि इसी सरोवर के तट पर पृथ्वीराज और पमार्दिदेव का युद्ध हुआ था यही पर थोडी दूर पर एक पहाडी पर दो मजारे बनी हुई है ये मजारे ताला सदयद और जलान खान की है। तथा इसी के सन्निकट आल्हा-ऊदल के नाम से स्तम्भ है। और बारादरी नामक स्थल है। इस स्थल को आल्हा-ऊदल की बैठक के नाम से पुकारा जाता है। यही से दुर्ग और मदन सागर जाने का मार्ग भी है।

 

 

मदन सागर

इस सरोवर का निर्माण मदन वर्मा ने सन्‌ 1429 से लेकर सन् 1462 के मध्य में कराया था यह सरोवर नगर के दक्षिणी किनारे पर है। इस सरोवर के नजदीक प्राचीन अवशेष उपलब्ध होते है। इसके उत्तर पश्चिम में भगवान शिव का एक विशाल मन्दिर है। जिसे ककरा मठ के नाम से जाना जाता है। दूसरी ओर तालाब के मध्य में सन्‌ 1890 में सेठ मिठ्ठू  पुरवार ने एक विश्राम स्थल का निर्माण कराया था इसी स्थान पर पत्थर से बनी पाँच हाथियों की प्रतिमायें है।

 

 

 

किले के दर्शनीय स्थल

इसी के उत्तर दिशा में चन्देल दुर्ग के अवशेष मिलते है। इसे दुर्ग का किला निष्मार्गी कहते है किले के ऊपर राजा परमाल के महलो के अवशेष मिलते है। तथा यही पर मनिया देवी का मन्दिर भी है। तथा इसी के समीप एक पत्थर का स्तम्भ है। जिसे दीवर के नाम से जाना जाता है। तथा इसी के समीप आल्हा की गिल्‍ली नामक पत्थर की शिला रखी है। तथा यहीं पर पीर मुबारक शाह की मजार भी है। पीर मुबारकशाह का आगमन सन्‌ 1252 में अरब से हुआ था और वे महोबा मे आकर रहने लगे थे। आल्हा के गिल्‍ली के समीप ही एक चट्टान पर एक घुडसवार की मूर्ति है। इस घुडसवार की मूर्ति को हिन्दू और मुस्लिम औरते श्रद्धा के साथ पूजती है। और विवाह के अवसर पर इस मूर्ति पर सुगंधित तेल लगाती है।

 

 

महोबा किले के प्रवेशद्वार

किले मे प्रवेश करने के लिए दो द्वार मिलते है। ये द्वार किले के पश्चिमी और पूर्वी दिशा में है। इन्हे भैनसा द्वार और दरीवा दरवाज़ा के नाम से प्रसिद्ध है। इस दुर्ग में राजा परमाल के महल को कुछ समय बाद मकबरे में बदल दिया गया है। भेनसा दरवाजा के समीप यहाँ पर एक मकबरा है। जो हिन्दू वास्तुशिल्प का परिचायक है। इसके द्वार पर मलिक तातुद्धीन अहमद का नाम अंकित हैं। इसमें सन्‌ 1322 में गयासुद्धीन तुगलक के शासन में इस मकबरे का निर्माण कराया था। तथा इसी के दक्षिणी किनारे पर एक तालाब के किनारे बडी चन्द्रिका का मन्दिर भगवान शिव का गुफा मन्दिर यह मन्दिर काठेश्वर नाम से प्रसिद्ध है। यही पर थोडी दूरी पर एक चट्टान पर जैनियों के 24 तीर्थकर अंकित है। ये मूर्तियाँ सन्‌ 1449 की है तथा इस क्षेत्र का उल्लेख अतिशय क्षेत्र के रूप में किया गया है। दुर्ग के दक्षिणी पश्चिमी किनारे पर छोटी चन्द्रिका देवी का मन्दिर है। तथा यही पर दसवीं शताब्दी की शिव प्रतिमा उपलब्ध होती है। जिसे चटटान काट कर बनाया गया है। इसका निर्माण पुराण के कथानक के अनुसार किया गया है। इसके पश्चिम में गजासुर शंकर की प्रतिमा है। तथा मदनसागर के नीचे एक ओर गोरखपुर पहाडी है इसी के समीप पठवा के बाल महाबीर का मन्दिर है। इस मन्दिर की हनुमान प्रतिमा अद्वितीय है। तथा इसी के समीप एकान्त स्थल पर काल भैरव की प्रतिमा है।

 

 

 

गोरख पहाड़ी

यह भी महोबा का किला का सुप्रसिद्ध स्थल है। इसका नामकरण सुप्रसिद्ध तान्त्रिक गोरकनाथ के नाम पर पडा। इस स्थल पर अनेक पानी के झरने और प्राकृतिक गुफाये है। यही की पहाडी पर उजाली और अंधेरी नाम की दो गुफाये हैं। तथा पहाडी की चोटी मर्दन तुंग के नाम से प्रसिद्ध है। इस पहाडी पर मुश्किल से चढ़ा जा सकता है। इसकी एक गुफा में गोरखनाथ के शिष्य सिद्ध दीपक नाथ रहा करते थे। यह स्थल तपोभूमि के नाम से भी जाना जाता है। यहाँ पर प्रतिवर्ष पर्वत की चोटी पर सिद्ध मेंला भी लगता है।

 

 

कल्याण सागर

इस कल्याण सरोवर का निर्माण वीर वर्मन ने सन् 1242 से लेकर 1286 के मध्य कभी कराया था। वीर वर्मन देव की पत्नी का नाम कल्याण देवी था। उसी के नाम पर यह सरोवर बना। यह सरोवर विजय सागर के पूर्व में है। तथा इसी के बगल में अनेक सती स्मारक बने हुये है। तथा एक और काजी कतुबशाह की मजार बनी है। तथा यही पर बलखण्डेश्वर का एक मन्दिर भी है। तथा इसी के समीप चौमुण्डा देवी की एक प्रतिमा है। जिसका निर्माण चटटान काटकर किया गया है तथा इसी के समीप रामकुण्ड नाम का प्राकृतिक जलाशय है महोबा दुर्ग प्राचीन भारतीय संस्कृतिक और इतिहास का महत्वपूर्ण कन्द्र रहा है।

 

फोर्ट्स ऑफ इण्डिया की लेखिका ने भी महोबा दुर्ग का सविस्तार वर्णन किया है। उसके मतानुसार महोबा का किला के सभी धार्मिक स्थल और महल खण्डहरों में पर्णित हो गये है। मुख्य रूप से मुस्लिम आक्रमणकारियों ने यहाँ के हिन्दू धार्मिक स्थलों को नष्ट किया और यहाँ के लोगों को गुलाम बनाया। महोबा में जो धार्मिक स्थल और मन्दिर उपलब्ध होते है उन्हे यहाँ के स्थानीय लोगो ने धान के प्रलोभन से नष्ट कर दिया है। इस दुर्ग के द्वार अत्यन्त सुन्दर हैं। अतः जो मकबरे यहाँ बने हुए है उनमें जाली का काम अति सुन्दर है। कुल मिलाकर कहा जाये महोबा का किला पर्यटन की दृष्टि से उत्तर प्रदेश पर्यटन का का एक महत्वपूर्ण अंग है। जो बड़ी संख्या में पर्यटकों, भक्तों और इतिहास में रूचि रखने वाले लोगों को खूब आकर्षित करता है। तथा बुंदेलखंड पर्यटन में महोबा का किला मील का पत्थर साबित होता है।

 

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—–

 

 

 

भारत की राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन तथा हजरत निजामुद्दीन दरगाह के करीब मथुरा रोड़ के निकट हुमायूँ का मकबरा स्थित है। यह Read more
कुतुबमीनार के सुंदर दृश्य
पिछली पोस्ट में हमने हुमायूँ के मकबरे की सैर की थी। आज हम एशिया की सबसे ऊंची मीनार की सैर करेंगे। जो Read more
भारत की राजधानी के नेहरू प्लेस के पास स्थित एक बहाई उपासना स्थल है। यह उपासना स्थल हिन्दू मुस्लिम सिख Read more
पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कमल मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर की थी। इस पोस्ट Read more
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध स्थल स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर Read more
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और Read more
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हवा महल की सैर की थी और उसके बारे Read more
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी Read more
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार Read more
प्रिय पाठको अपनी पिछली अनेक पोस्टो में हमने महाराष्ट्र राज्य के अनेक पर्यटन स्थलो की जानकारी अपने पाठको को दी। Read more
ताजमहल का इतिहास
प्रिय पाठको अपनी इस पोस्ट में हम भारत के राज्य उत्तर प्रदेश के एक ऐसे शहर की यात्रा करेगें जिसको Read more
शेखचिल्ली यह नाम सुनते ही आपके दिमाग में एक हास्य कलाकार की तस्वीर और उसके गुदगुदाते चुटकुलो की कल्पना करके Read more
प्रिय पाठको अपने इस लेख में आज हम आपको एक ऐसी रोचक जानकारी देने जा जिसके बारे में बहुत कम Read more
India gate history in hindi
इंडिया गेट भारत की राजधानी शहर, नई दिल्ली के केंद्र में स्थित है।( india gate history in Hindi )  राष्ट्रपति Read more
कोणार्क सूर्य मंदिर के सुंदर दृश्य
कोणार्क' दो शब्द 'कोना' और 'अर्का' का संयोजन है। 'कोना' का अर्थ है 'कॉर्नर' और 'अर्का' का मतलब 'सूर्य' है, Read more
राजगढ़ का किला के सुंदर दृश्य
पुणे से 54 किमी की दूरी पर राजगढ़ का किला महाराष्ट्र के पुणे जिले में स्थित एक प्राचीन पहाड़ी किला Read more
ओरछा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
शक्तिशाली बुंदेला राजपूत राजाओं की राजधानी ओरछा शहर के हर हिस्से में लगभग इतिहास का जादू फैला हुआ है। ओरछा Read more
कुम्भलगढ़ का इतिहास
राजा राणा कुम्भा के शासन के तहत, मेवाड का राज्य रणथंभौर से ग्वालियर तक फैला था। इस विशाल साम्राज्य में Read more
बीजापुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
बीजापुर कर्नाटक राज्य का एक प्रमुख शहर है। बीजापुर अपने मध्ययुगीन स्मारकों के लिए जाना जाता है, जो इस्लामी वास्तुकला Read more
गुलबर्गा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
गुलबर्गा कर्नाटक का एक प्रमुख शहर है. यह गुलबर्गा जिले का प्रशासनिक मुख्यालय और उत्तर कर्नाटक क्षेत्र का एक प्रमुख Read more
हम्पी की ऐतिहासिक धरोहरों के सुंदर दृश्य
हुबली से 160 किमी, बैंगलोर से 340 किमी और हैदराबाद से 377 किमी दूर, हम्पी उत्तरी कर्नाटक के तुंगभद्र नदी Read more
बादामी के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
बागलकोट से 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित बादामी, जिसे वाटापी भी कहा जाता है, कर्नाटक के बागलकोट जिले में Read more
एहोल के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
बागलकोट से 33 किमी, बादामी से 34 किमी और पट्टाडकल से 13.5 किलोमीटर दूर, एहोल, मलप्रभा नदी के तट पर Read more
पट्टदकल स्मारक परिसरों के सुंदर दृश्य
बागलकोट से 45 किलोमीटर, बादामी से 21 किमी और एहोल से 13.5 किलोमीटर दूर, पट्टदकल, मालप्रभा नदी के तट पर Read more
बीदर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
हैदराबाद से 140 किमी दूर, बीदर कर्नाटक के उत्तर-पूर्वी हिस्से में स्थित एक शहर और जिला मुख्यालय है। बिदर हेदराबाद Read more
बेलूर दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
चिकमंगलूर से 25 किमी की दूरी पर, और हसन से 40 किमी की दूरी पर, बेलूर कर्नाटक राज्य के हसन Read more
फतेहपुर सीकरी के सुंदर दृश्य
विश्व धरोहर स्थलों में से एक, फतेहपुर सीकरी भारत में सबसे अधिक देखे जाने वाले स्थानों में से एक है। Read more
नालंदा विश्वविद्यालय के सुंदर फोटो
बिहार राज्य की राजधानी पटना से 88 किमी तथा बिहार के प्रमुख तीर्थ स्थान राजगीर से 13 किमी की दूरी Read more
देवगढ़ के सुंदर दृश्य
देवगढ़ उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले में बेतवा नदी के किनारे स्थित है। यह ललितपुर से दक्षिण पश्चिम में 31 किलोमीटर Read more
कालिंजर का किला
कालिंजर का किला या कालिंजर दुर्ग कहा स्थित है?:--- यह दुर्ग बांदा जिला उत्तर प्रदेश मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर बांदा-सतना Read more
भठिंडा का किला या किला मुबारक
पंजाब में भठिंडा आज एक संपन्न आधुनिक शहर है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस शहर का एक खूबसूरत इतिहास Read more
शाहपुर कंडी किला
शाहपुर कंडी किला शानदार ढंग से पठानकोट की परंपरा, विरासत और इतिहास को प्रदर्शित करता है। विशाल किले को बेहतरीन कारीगरी Read more
अजयगढ़ का किला
अजयगढ़ का किला महोबा के दक्षिण पूर्व में कालिंजर के दक्षिण पश्चिम में और खुजराहों के उत्तर पूर्व में मध्यप्रदेश Read more
रसिन का किला
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा Read more
मड़फा दुर्ग
मड़फा दुर्ग भी एक चन्देल कालीन किला है यह दुर्ग चित्रकूट के समीप चित्रकूट से 30 किलोमीटर की दूरी पर Read more
खत्री पहाड़ का दुर्ग व मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात Read more
रनगढ़ दुर्ग या जल दुर्ग
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग Read more
भूरागढ़ का किला
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान Read more
कल्याणगढ़ का किला मंदिर व बावली
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा Read more
सिरसागढ़ का किला
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में Read more
जैतपुर का किला या बेलाताल का किला
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर Read more
मंगलगढ़ का किला
मंगलगढ़ का किला चरखारी के एक पहाड़ी पर बना हुआ है। तथा इसके के आसपास अनेक ऐतिहासिक इमारते है। यह हमीरपुर Read more
मनियागढ़ का किला
मनियागढ़ का किला मध्यप्रदेश के छतरपुर जनपद मे स्थित है। सामरिक दृष्टि से इस दुर्ग का विशेष महत्व है। सुप्रसिद्ध ग्रन्थ Read more
बरूआ सागर का किला
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर Read more
गढ़कुंडार का किला
गढ़कुण्डार का किला मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में गढ़कुंडार नामक एक छोटे से गांव मे स्थित है। गढ़कुंडार का किला बीच Read more
चिरगाँव का किला
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील Read more
एरच का किला
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या Read more
उरई का किला और माहिल तालाब
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर Read more
कालपी का किला
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई Read more
दतिया महल या दतिया का किला
दतिया जनपद मध्य प्रदेश का एक सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक जिला है इसकी सीमाए उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद से मिलती है। यहां Read more
बड़ौनी का किला
बड़ौनी का किला,यह स्थान छोटी बड़ौनी के नाम जाना जाता है जो दतिया से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर है। Read more
ग्वालियर का किला
ग्वालियर का किला उत्तर प्रदेश के ग्वालियर में स्थित है। इस किले का अस्तित्व गुप्त साम्राज्य में भी था। दुर्ग Read more
चंदेरी का किला
भारत के मध्य प्रदेश राज्य के अशोकनगर जिले के चंदेरी में स्थित चंदेरी का किला शिवपुरी से 127 किमी और ललितपुर Read more
छतरपुर का किला
छतरपुर का किला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में अठारहवीं शताब्दी का किला है। यह किला पहाड़ी की चोटी पर Read more
सिंगौरगढ़ का किला
मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के दमोह जिले में सिंगौरगढ़ का किला स्थित हैं, यह किला गढ़ा साम्राज्य का Read more
पन्ना के दर्शनीय स्थल
पन्ना का किला भी भारतीय मध्यकालीन किलों की श्रेणी में आता है। महाराजा छत्रसाल ने विक्रमी संवत् 1738 में पन्‍ना Read more
राजनगर का किला
राजनगर मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में खुजराहों के विश्व धरोहर स्थल से केवल 3 किमी उत्तर में एक छोटा सा Read more
बटियागढ़ का किला
बटियागढ़ का किला तुर्कों के युग में महत्वपूर्ण स्थान रखता था। यह किला छतरपुर से दमोह और जबलपुर जाने वाले मार्ग Read more
बिजावर का किला
बिजावर भारत के मध्यप्रदेश राज्य के छतरपुर जिले में स्थित एक गांव है। यह गांव एक ऐतिहासिक गांव है। बिजावर का Read more
धमौनी का किला
विशाल धमौनी का किला मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह 52 गढ़ों में से 29वां था। इस क्षेत्र Read more
पथरीगढ़ का किला
पथरीगढ़ का किला चन्देलकालीन दुर्ग है यह दुर्ग फतहगंज से कुछ दूरी पर सतना जनपद में स्थित है इस दुर्ग के Read more
कुलपहाड़ का किला
कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक Read more
तालबहेट का किला
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी - सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील Read more