महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय – महेंद्र सिंह धोनी बायोग्राफी, रिकॉर्ड, पुरस्कार

धोनी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एकदिवसीय मैच में 183 रन बनाकर किसी भी विकेट कीपर द्वारा सर्वाधिक रनों का रिकॉर्ड बनाने वाले भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी वर्तमान समय के सबसे सफलतम कप्तानों में एक है। धोनी पहली बार 2004 में अपने एकदिवसीय मैच में बंग्लादेश के खिलाफ पहला टेस्ट मैच खेला। महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारत ने 2007 में आईसीसी वर्ल्ड ट्वेंटी – ट्वेंटी, सीबी सीरीज 2007-8, गावस्कर ट्राफी 2008 और 2011 में वर्ल्डकप जीता। वर्तमान में धोनी का टेस्ट रिकॉर्ड अन्य भारतीय खिलाड़ियों में सबसे अच्छा है। 2011 के आयोजित आईपीएल में चेन्नई सुपरकिंग्स टीम के विजेता भी धोनी है, जो कि इस टीम के कप्तान है। टेस्ट मैच में आस्ट्रेलिया को हराने के बाद भारतीय टीम पिछले 20 सालों में पहली बार धोनी की कप्तानी में पहले नम्बर पर आई है।

महेंद्र सिंह धोनी की जीवनी इन हिन्दी

महेंद्र सिंह धोनी का जन्म 7 जुलाई 1981 को झारखंड की राजधानी रांची में हुआ था। उस समय रांची बिहार राज्य का प्रमुख शहर था। वे राजपूत परिवार से संबंधित है। महेंद्र सिंह धोनी के पिता का नाम पान सिंह तथा माता का नाम देवकी देवी है। धोनी के पिता जी जल मीकॉन कम्पनी में जूनियर मैनेजर के पद पर रांची में कार्यरत थे, इसी कारण इनका पूरा परिवार उत्तराखंड से रांची में जा बसा था। इससे पहले उनका परिवार उत्तराखंड के अल्मोड़ा के निकट लवाली गांव में रहता था। इनकी एक बहन जयंती और एक भाई नरेंद्र सिंह धोनी है। 4 जुलाई 2010 को धोनी की शादी उत्तराखंड की साक्षी धोनी के साथ हुई। साक्षी उस वक्त कोलकाता के ताज में ट्रेनी के तौर पर कार्यकर रहीं थी। साक्षी के पिता का चाए का व्यापार है जो देहरादून में रहते हैं। दोनों की शादी देहरादून में ही हुई। इस शादी में धोनी के कई दोस्त और बॉलीवुड के जाने माने कलाकार जॉन इब्राहिम भी पहुंचे थे। जॉन धोनी के काफी अच्छे दोस्त है। दोनों को ही बाइक चलाने का शौक है और वे अक्सर अपने इस शौक के चलते चर्चा में बने रहते हैं। धोनी ने रांची में कुछ बाइक के शोरूम खोल रखे हैं जो उनके पिता संभालते हैं। धोनी के भाई नरेंद्र सिंह धोनी एक राजनीति में सक्रिय हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में उनके समाजवादी पार्टी के मेंबर हैं।

महेंद्र सिंह धोनी
महेंद्र सिंह धोनी


धोनी एडम गिलक्रिस्ट के बहुत बड़े प्रशंसक हैं, बचपन से इनके आडियल खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर रहे है। वर्तमान में बॉलीवुड के एक्टर अमिताभ बच्चन, गायिका लता मंगेशकर, श्रेया घोषाल इनके पसंदीदा व्यक्तित्व में आते है। धोनी ने अपनी पढ़ाई डी.ए.वी विद्या मंदिर शयामली रांची से पूरी की है। इस विद्यालय में धोनी फुटबॉल और बैडमिंटन खिलाड़ी के रूप में चयनित हुए। इसके बाद ये जिला और क्लब स्तर पर भी इन्हीं खेलों में चयनित हुए। धोनी अपनी फुटबॉल टीम के गोलकीपर थे। इनको क्रिकेट खेलने के लिए इनके फुटबॉल कोच ने लोकल क्रिकेट क्लब भेजा था। 1995-1998 तक धोनी रेगुलर क्रिकेट नहीं खेलते थे। वे अपनी विकेट कीपिंग की योग्यता से अधिक प्रभावित थे और यह कमांडो क्रिकेट क्लब में लगातार विकेट कीपर के पद पर ही खेलते रहे। धोनी ने अपने अच्छे प्रदर्शन से ही 1997-98 में 16वीं चैम्पियनशिप के अंतर्गत वीनू मांकड़ ट्राफी जीती।




महेंद्र सिंह धोनी 2001-03 तक खडगपुर स्टेशन से साउथ इस्टर्न रेलवे के अंतर्गत जिला पश्चिम बंगाल में टीटीई के पद पर भी काम कर चुके है। ये भारतीय रेलवे में सबसे अच्छे और ईमानदार इम्पलाई के रूप में याद किए जाते है। धोनी ने एक सफल खिलाडी बनने के बाद ही 4 जुलाई 2010 को देहरादून उत्तराखंड की रहने वाली साक्षी रावत से विवाह किया। शादी के समय साक्षी होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई कर रही थी और कोलकाता के ताज होटल में ट्रेनिंग के रूप में कार्य भी कर रही थी। धोनी की सबसे प्रिय दोस्त बॉलीवुड अभिनेत्री बिपाशा बसु है।


धोनी ने चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ 1.5 मिलियन डॉक्टर पर कांट्रेक्ट किया था। इनके इस कांट्रेक्ट ने इनको आईपीएल के प्रथम सेशन का सबसे महंगा खिलाडी बना दिया। धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपरकिंग्स ने आईपीएल के दो मैच टाइटिल जीते और 2010 चैम्पियन लीग टी 20 में सफलता हासिल की। 2011 आईसीसी वर्ल्डकप फाइनल 2 अप्रैल 2011 में श्रीलंका और भारत के धोनी की कप्तानी में हुआ, जिसमें धोनी ने 91 रनों की पारी के साथ अपनी भारतीय क्रिकेट टीम को 28 साल बाद विजेता बनाया। इस वर्ल्डकप में श्रीलंका को पराजित करते हुए उन्होंने वर्ल्डकप भारतीय टीम के नाम किया। इस जीत के बाद सचिन तेंदुलकर ने इस पूरे खेल की सफलता का श्रेय धोनी को दिया था। सौरव गांगुली ने भी धोनी को भारतीय टीम का सबसे महान खिलाड़ी बताया। इस वर्ल्डकप में धोनी ने गौतम गंभीर के साथ अच्छी पार्टनरशिप की थी। उन्होंने 275 रन के टारगेट को पूरा करते हुए श्रीलंका को पराजित कर विश्वकप अपनी टीम के नाम किया।

महेंद्र सिंह धोनी
महेंद्र सिंह धोनी


धोनी ने 2008-12 के बीच 39 टेस्ट मैचों में कप्तानी की जिसमें से 19 मैच जीते। इसके बाद धोनी ने एक दिवसीय मैचों में 2007-12 तक की कप्तानी में 119 मैच खेले जिसमें 67 मैच जीते। टी 20 मैचों में 2007-12 के बीच धोनी ने कुल 29 मैच खेले जिसमें से 13 मैचों की जीत अपनी टीम के नाम किया। धोनी को इनके इसी प्रदर्शन के लिए वर्तमान का सबसे महान कप्तान माना जाता है। धोनी को कैप्टन कूल और माही आदि सरनेम से भी अपने प्रशंसकों के बीच प्रसिद्ध है।




महेंद्र सिंह धोनी दुनिया के एकमात्र ऐसे कप्तान हैं, जिन्होंने आईसीसी की तीनों ट्रॉफी जीतकर इतिहास रचा हैं. एक कप्तान के रूप में महेंद्र सिंह धोनी ने साल 2007 में ट्वेंटी-20 विश्व कप, साल 2011 में एकदिवसीय विश्व कप और साल 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी.



साल 2007 में टीम इंडिया ने वर्ल्ड टी-20 के फाइनल में कट्टर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 5 रन हराया था, जबकि साल 2011 में टीम इंडिया ने श्रीलंका को हराकर एकदिवसीय विश्व कप जीता था. फाइनल में भारत ने श्रीलंका को 6 विकेट से मात दी थी. साल 2013 की चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भारत में मेजबान इंग्लैंड को धुल चटाई थी।एमएस धोनी से पहले आज तक किसी भी कप्तान ने आईसीसी की तीन ट्रॉफी नहीं जीती हैं. यह वाकई में एक बड़ा कीर्तिमान हैं, जो हमारे महेंद्र सिंह धोनी के नाम पर दर्ज हैं.

महेंद्र सिंह धोनी
महेंद्र सिंह धोनी


धोनी के खेल जीवन की उपलब्धियां



• 5 अप्रैल 2005 को महेंद्र सिंह धोनी को पाकिस्तान के विरुद्ध 148 रन बनाने पर मैन ऑफ द मैच पुरस्कार दिया गया।
• 19 अप्रैल 2006 को आईसीसी रैंकिंग में वन डे मैचों में धोनी को नंबर वन रैंकिंग मिली।
• वे वनडे मैचों में एक मैच में 10 छक्के लगाने वाले प्रथम भारतीय खिलाड़ी हैं।
• वनडे मैच में 15 चौके.तथा 10 छक्के लगाकर उन्होंने 120 रन बनाने का कीर्तिमान बनाया।
• वनडे मैचों की आईसीसी रैंकिंग में प्रथम स्थान पर पहुंचने वाले धोनी पहले भारतीय क्रिकेटर है।
• उन्हें 2006 में एम.टी.वी तथा पेप्सी का यूथ आइकॉन चुना गया।
• एन.डी.टी.वी ने उन्हें 2006 के लिए यूथ आइकॉन नामांकित किया।
• धोनी को उनके बेहतरीन प्रदर्शन के लिए आईसीसी के वनडे प्लेयर ऑफ द ईयर का पुरस्कार 2008-9 में मिला, ये भारत के पहले खिलाडी है जो इस सम्मान को पा सके।
• सन् 2007 में धोनी को भारत का सर्वश्रेष्ठ खेल पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार और इसी साल सर्वश्रेष्ठ नागरिक सम्मान पदमश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
• 2009 में धोनी को वर्ल्ड के 10 सबसे अमीर खिलाड़ियों की सूची में रखा गया।
• 2011 में धोनी टाइम 100 की सूची में आ गए। और टाइम मैगजीन ने धोनी को 100 सबसे अधिक प्रभावशाली व्यक्तियों की सूची में डाल दिया।
• धोनी को वर्ल्ड की 16 वी खास चिन्हित एथलीटों की सूची में भी रखा गया।
• धोनी को 2008 से लगातार 2011 तक आईसीसी वर्ल्ड वनडे 11 पुरस्कार दिया गया।
• धोनी को 2008-9 मे आईसीसी वनडे प्लेयर ऑफ द ईयर का पुरस्कार दिया गया।
• 2011 मे इनको डी मनफोर्ट यूनिवर्सिटी की ओर से डाक्टरेट की उपाधि दी गई।
• धोनी जनवरी 2014 तक उन तीन विकेट कीपरो मे से एक है जिन्होंने दोहरा शतक लगाया इस क्रम में एंडीफ्लोवर और वाविंदा वाहबू और शामिल है।
• एमएस धोनी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे सफल कप्तानों में से एक हैं। धोनी ने टीम इंडिया के लिए तीन आईसीसी ट्रॉफी जीतकर करके क्रिकेट में भारत का गौरव बढ़ाया है। धोनी दुनिया के एकमात्र कप्तान हैं, जिन्होंने अपनी कप्तानी में आईसीसी की तीन अलग-अलग ट्रॉफी जीती है। धोनी की कप्तानी में भारत ने 2007 में टी20 वर्ल्ड कप जीता, फिर इसके बाद 2011 में उनकी कप्तानी में भारत ने दूसरी बार वर्ल्ड कप का खिताब जीता। इतना ही नहीं धोनी की कप्तानी में भारत ने 2013 में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी का ख़िताब भी जीता।
• एमएस धोनी मैच फिनिश करने के लिए जाना जाता है, इसलिए उन्हें दुनिया का टॉप मैच फिनिशर कहा जाता है। धोनी ने वनडे क्रिकेट में 9 बार मैच को छक्के से फिनिश किया है। इसके अलावा धोनी ने छक्के के साथ विश्व कप जीतने का रिकॉर्ड भी अपने नाम किया है, जब उन्होंने 2011 में श्रीलंकाई गेंदबाज नुवान कुलशेखरा की गेंद पर छक्का जड़कर भारत को दूसरी बार वर्ल्ड कप जिताया था।
• एमएस धोनी ने अपनी कप्तानी में 2016 में ऑस्ट्रेलिया की धरती पर इतिहास रचा था। भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी20 इंटरनेशनल में एक अनोखा रिकॉर्ड बनाया। इस टी20 सीरीज में भारत ने ऑस्ट्रेलिया का व्हाइटवॉश किया था। इसके साथ ही धोनी पिछले 14 दशकों में ऑस्ट्रेलिया को उसी के धरती पर व्हाइटवॉश करने वाला एकमात्र कप्तान बन गया।
• एमएस धोनी को दुनिया का बेस्ट फिनिशर माना जाता है। धोनी ने कई बार आखिर तक रहकर भारत को कुछ रोमांचक मैच जितवाए हैं। धोनी को धीमी गति से पारी को शुरुआत करने के लिए जाना जाता है, लेकिन धोनी परिस्थितियों के अनुसार गियर बदलने में माहिर हैं। एकदिवसीय क्रिकेट में उन्होंने सबसे ज्यादा नॉट आउट होने का रिकॉर्ड बनाया है। 348 एकदिवसीय मैचों की 296 पारियों में धोनी 84 मौकों पर नाबाद रहे हैं, जो कि वनडे क्रिकेट में किसी भी बल्लेबाज द्वारा सबसे अधिक नॉट आउट होने का रिकॉर्ड है। 
• भारत की तरफ से सबसे ज्यादा टेस्ट (60), वनडे (200) और टी20 अंतरराष्ट्रीय (72) में कप्तानी का रिकॉर्ड, साथ ही भारत की तरफ से सबसे ज्यादा टेस्ट (27), वनडे (110) और टी20 अंतरराष्ट्रीय (41) जीतने वाले कप्तान।
• वनडे में 10000 रन का रिकॉर्ड, भारत से सिर्फ पांच और विश्व के सिर्फ 13 बल्लेबाजों के नाम यह रिकॉर्ड है।
• एक विकेटकीपर के तौर पर वनडे मैचों मे सबसे ज्यादा स्टंपिंग 123 का रिकॉर्ड भी महेंद्र सिंह धोनी के नाम है।
• सबसे ज्यादा 332 अंतरराष्ट्रीय मैचों में कप्तानी का रिकॉर्ड भी धोनी के नाम है।
• किसी भी क्रिकेट टीम के विकेटकीपर द्वारा 183 का सबसे बडा स्कोर बनाने का विश्व रिकॉर्ड भी धोनी के नाम है।
• महेंद्र सिंह धोनी 350 वनडे खेलकर सचिन तेंदुलकर के बाद दूसरे नंबर के भारतीय खिलाड़ी हैं।
• 2011 में वर्ल्डकप में छक्का लगातार वर्ल्डकप विजयी पताका फहराने वाले प्रथम बल्लेबाज हैं।


write a comment