महाराणा रतन सिंह द्वितीय का इतिहास

महाराणा रतन सिंह द्वितीय

महाराणा संग्रामसिंह (सांगा) के बाद उनके पुत्र महाराणा रतन सिंह द्वितीय राज्य-सिंहासन पर बैठे। आपमें अपने पराक्रमी पिता की तरह वीरोचित गुण भरे पड़े थे। रणक्षेत्र ही को आप अपनी प्रिय वस्तु समझते थे। आपने चित्तौड़गढ़ के दरवाजे खुले रखकर लड़ने का प्रण किया था। इन्होंने आमेर के राजा पृथ्वीराज की पुत्री के साथ गुप्त विवाह किया था। स्वयं पृथ्वीराज को यह बात मालूम न थी। उन्होंने हाड़ा वंशीय सरदार सूरजमल के साथ अपनी पुत्री का विवाह कर दिया जब महाराणा को इस विवाह की खबर लगी तो उन्हें बडा दुःख हुआ।

 

महाराणा रतन सिंह द्वितीय का इतिहास

 

राजा सूरजमल की बहिन महाराणा को ब्याही थी, अतएव प्रत्यक्ष रूप से महाराणा उन्हें कुछ न कह सके। पर उनके दिल में इसका बदला लेने की आग बड़े जोर से धधक रही थी। थोड़े ही दिनों के बाद अहेरिया का दिन आया। महाराणा शिकार खेलने के लिये निकले। प्रसंगवश सूरजमल भी महाराणा के साथ शिकार खेलने के लिये चल पढ़े। अवसर देख कर महाराणा ने सूरजमल को ललकारा। दोनों वीरों ने तलवार से फ़ैसला करने का निश्चय किया। इसमें दोनों काम आये। महाराणा रतन सिंह के केवल एक ही पुत्र था, जो महाराणा की आज्ञा से फाँसी पर लटका दिया गया था। यह कथा कुछ ऐतिहासिक महत्त्व रखती है।

 

 

महाराणा रतन सिंह द्वितीय
महाराणा रतन सिंह द्वितीय

 

अतएवं हम उसे यहाँ देते हैं–पाठक जानते हैं कि वीरवर महाराणा संग्रामसिंह ने गुजरात और मालवा के शासकों को बुरी तरह हराया था। वे दोनों इस पराजय से दुःखी होकर मेवाड़ पर सदा दृष्टि लगाये रहते थे। जब इन्होंने देखा कि महाराणा रतन सिंह द्वितीय के समय में सरदारों ओर सामन्तों में फूट पड़ रही है तो इन्होंने मेवाड़ पर आक्रमण कर दिया। इस आक्रमण की बात सुनकर महाराणा बढ़े दुखी हुए। परन्तु मंत्रियों ने उन्हें समझाया कि कुछ भी हो मेवाड़ की रक्षा अवश्य करनी होगी। इस पर महाराणा ने रण-भभेरी बजवा कर हुक्म दिया कि पवित्र भूमि मेवाड़ की रक्षा के लिये सब सामन्त और सरदार कराला देवी के मंदिर में ठीक 12 बजे उपस्थित हों। सामन्‍त और सरदार ठीक समय पर पहुँच गये, परन्तु युवराज उपस्थित न हो सके। उनका एक सिलनी से स्नेह था।

 

 

वे उस समय उससे मिलने के लिये गये हुए थे। उपस्थिति का घण्टा बजते ही सरदारों में काना फूसी होने लगी कि युवराज अभी तक नहीं आया। जब महाराणा ने देखा कि एक सरदार ने खड़े होकर ताना मारा कि सब आ गये, पर युवराज अभी तक नहीं आये। उस समय मेवाड़ में यह नियम था कि युद्ध की भेरी बजने पर कोई सरदार या सामन्‍त ठीक समय पर उपस्थित न होता तो वह फाँसी पर लटका दिया जाता था।

 

 

इसी नियम पर पाबन्द रह कर महाराणा रतन सिंह ने अपने खास पुत्र के लिये फाँसी तैयार करवाने का हुक्म दिया। मंत्रियों ने महाराणा को अपनी यह कठोर आज्ञा वापस लेने के लिये बहुत समझाया और कहा कि युवराज अब उपस्थित हो गये हैं।पर महाराणा रतन सिंह द्वितीय ने कहा कि वह ठीक समय पर क्यों न उपस्थित हुआ। दूसरे दिन युवराज फाँसी पर लटका दिये गये।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

सवाई रामसिंह द्वितीय
सवाई जयसिंह जी तृतीय के बाद उनके पुत्र सवाई रामसिंह जी जयपुर की गद्दी पर बिराजे। इस समय सवाई रामसिंह जी Read more
महाराजा सवाई जगत सिंह जी
सवाई प्रताप सिंह जी की मृत्यु के बाद उनके पुत्र जगत सिंह जी जयपुर राज्य की गद्दी पर गद्दी नशीन हुए। Read more
महाराज सवाई प्रताप सिंह जी
सवाई प्रताप सिंह जी जयपुर राज्य के महाराजा थे। महाराजा सवाई प्रताप सिंह का जन्म 2 दिसंबर सन् 1764 ईस्वी को राजस्थान Read more
सवाई पृथ्वी सिंह द्वितीय
सवाई पृथ्वी सिंह द्वितीय जयपुर के राजा थे, महाराजा पृथ्वी सिंह जी का जीवन काल 1762 से 1778 बहुत ही अल्प Read more
सवाई माधोसिंह प्रथम
सवाई माधोसिंह जी जयपुर के महाराज थे, इनको सवाई माधोसिंह प्रथम के नाम से जाना जाता है, क्योंकि आगे चलकर इसी Read more
महाराज सवाई जयसिंह जी
भारत  में ऐसे कई परम-कीर्तिशाली नृपति हो गये है जिन्होंने मनुष्य-जाति के ज्ञान के विकास में-विविध प्रकार के विज्ञान के Read more
महाराजा जयसिंह जी
महासिंह जी के बाद महाराजा जयसिंह जी आमेर के सिंहासन पर बिराजे। इन्होंने आमेर के लुप्त गौरव को फिर प्रकाशमान Read more
राजा मानसिंह जी
राजा मानसिंह आमेर के कच्छवाहा राजपूत राजा थे। उन्हें 'मानसिंह प्रथम' के नाम से भी जाना जाता है। राजा भगवन्तदास इनके Read more
महाराणा फतह सिंह जी
महाराणा सज्जन सिंह जी के बाद महाराणा फतह सिंह जी सन 1885 में उदयपुर राज्य के राजसिहासन पर बिराजे। आपका जन्म Read more
महाराणा प्रताप सिंह
सन्‌ 1572 में महाराणा प्रताप सिंह जी मेवाड़ के महाराणा हुए। इस समय महाराणा के पास न तो पुरानी राजधानी Read more
महाराणा विक्रमादित्य
महाराणा विक्रमादित्य महाराणा सांगा के पुत्र थे, और महाराणा रतन सिंह द्वितीय के भाई थे, महाराणा रतन सिंह द्वितीय की Read more
महाराणा सांगा
महाराणा सांगा का इतिहास जानने से पहले तत्कालीन परिस्थिति जान ले जरूरी है:– अजमेर के चौहानों, कन्नौज के गहरवालों और Read more
महाराणा कुम्भा
राणा मोकल के बाद उनके पुत्र महाराणा कुम्भा ने मेवाड़ के गौरवशाली राज्य-सिंहासन को सुशोभित किया। मेवाड़ के जिन महापराक्रमी Read more
रावल जैत्रसिंह
रावल जैत्रसिंह मेवाड़ के राजा मंथनसिंह के पौत्र और पद्मसिंह के पुत्र थे। प्राचीन शिलालेखों में जैत्रसिंह के स्थान पर Read more
सरदार चूड़ावत
मेवाड़ के महाराणा राजसिंह के वीर सेनापति सरदार चूड़ावत की वीरता से कौन परिचित नहीं। उनका त्याग, बलिदान और वीरता Read more
वीर दुर्गादास राठौड़
वीर दुर्गादास राठौड़ कोई बादशाह या महाराजा पद पर आसीन नहीं थे। वे तो मारवाड़ के एक साधारण जागीरदार थे। Read more
अमरसिंह राठौर
तलवार के धनी अमरसिंह राठौर को आज कौन नहीं जानता ? इन्होंने अपनी वीरता की धाक मुगल बादशाह पर पूरी Read more
महाराणा अमरसिंह
जिस प्रकार मातृभूमि के सपूत स्वतन्त्रता के महान पुजारी आजादी के दीवाने महाराणा प्रताप ने जीवन पर्यन्त अकबर बादशाह से Read more
पृथ्वीराज चौहान
पृथ्वीराज चौहान, चौहान वंश के सूर्य जिन्होंने अपनी वीरता व पौरुष के बल पर अजमेर से दिल्ली तक विजय-पताका को फहराया। Read more
महाराणा प्रताप
“जिस राज़पूत ने मुगल के हाथ में अपनी बहन को दिया है, उस मुगल के साथ उसने भोजन भी किया Read more
महाराणा कुम्भा
“आइये, हम सब स्वदेश और स्वधर्म की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व बाजी पर लगा दें। हमें राजपूत रमरिणयों के Read more
जयमल फत्ता काल्पनिक चित्र
जयमल फत्ता:- आज भी प्रत्येक पर्यटक की आंखें चित्तौड़ दर्शन की प्यासी रहती हैं। चित्तौड़ एक अनुपम पर्यटन व तीर्थ स्थान Read more
गोरा बादल काल्पनिक चित्र
गोरा बादल :– राजस्थान  की भूमि वीरों की जननी है। इस प्रान्त के राजा ही नहीं अपितु साधारण सरदारों ने Read more
राणा हम्मीर सिंह
रणथम्भौर किले का सफल संरक्षक, राजपुत जाति का रत्नजडित मुकुट तथा दृढ़ प्रतिज्ञ राणा हम्मीर सिंह को राजस्थान में कौन Read more
राणा सांगा
“मैं राजा नहीं, अपितु अपनी मातृभूमि का सेवक हूं । प्रत्येक देशवासी का पुण्य कर्तव्य है कि वह मातृभूमि को Read more

write a comment

%d bloggers like this: