Alvitrips – Tourism, History and Biography

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi

महाराजा जयसिंह का इतिहास (प्रथम) आमेर

महाराजा जयसिंह जी

महासिंह जी के बाद महाराजा जयसिंह जी आमेर के सिंहासन पर बिराजे। इन्होंने आमेर के लुप्त गौरव को फिर प्रकाशमान किया। जिस प्रकार महाराजा मानसिंह जी ने अकबर के शासन-काल में राज्य का विस्तार, सामर्थ्य और सम्मान बढ़ाया था, ठीक उसी प्रकार राजा जयसिंहजी ने दुर्दान्त औरंगजेब के शासन में अपने अपूर्व बाहुबल और अद्वितीय राजनीतिज्ञता का परिचय दिया। हाँ, यहाँ यह बात अवश्य कहनी पड़ती है कि राजा जयसिंह जी की सारी शक्तियां सम्राट औरंगजेब की सेवाओं में तथा उनके राज्य विस्तार में लगी थीं। इन्होंने सम्राट औरंगजेब के लिये बड़े बड़े युद्ध किये और उनमें विजय-लक्ष्मी प्राप्त की। इन महाराजा जयसिंह जी के असीम पराक्रम और अपूर्व-शौर्य की महिमा का वर्णन करते हुए सुप्रख्यात्‌ इतिहास बेचा यदुनाथ सरकार अपने (औरंगजेब) नामक ग्रंथ के चौथे भाग के 60वें पृष्ठ में लिखते हैं “बारह वर्ष की उम्र में जब जयसिंह पहले पहल मुगल फौज़ में दाखिल हुए, तभी से उन्होंने अपनी ज्वल्यमान-प्रभा का परिचय देना शुरू किया। मुगल-सम्राट के झंडे के नीचे रहते हुए उन्होंने मध्य- एशिया के बलख प्रान्त से लगाकर दक्षिण भारत के बीजापुर प्रान्त तक तथा कंधार से मुंगेर तक अनेक युद्धों में भाग लिया था। सम्राट शाहजहाँ के सुदीर्घ शासन-काल में कोई वर्ष ऐसा नहीं गया, जिसमें उन्होने कहीं न कहीं अपने शौर्य का परिचय न दिया हो तथा अपने अपूर्व गुणों के कारण तरक्की न पाई हो। वे इसी बुद्धिमता और प्रतिभा के कारण मुगल सेना में एक टुकड़ी के सेनापति हो गये थे; ओर उन्होंने हिन्दुस्तान के बाहर भी अपने लोहे का परिचय दिया था। रणक्षेत्र में उन्‍हें जैसी मार्के की सफलताएँ मिलीं उनसे भी कहीं अधिक राजनेतिक क्षेत्र में उन्होंने पारदर्शिता का परिचय दिया था। जब कभी सम्राट के सामने किसी कठिन समय में कोई नाजुक प्रश्न उपस्थित होता तो वे महाराजा जयसिंह जी की तरफ सदृष्ण दृष्टि से ताकते थे। महाराजा जयसिंह जी वास्तव में असीम व्यवहार कुशल ओर नम्र थे। वे तुर्की , फारसी, उर्दू, संस्कृत और राजपूताना की भाषा पर पूरा आधिपत्य रखते थे वे अफगान, तुर्क, राजपूत और हिन्दुस्तानी सिपाहियों की संयुक्त सेवा के आदर्श सेनानायक थे।

 

 

महाराजा जयसिंह की सैनिक और राजनीतिक सफलताएं

 

 

पाठक जानते हैं कि दुर्दांत औरंगजेब के विरुद्ध महाराष्ट्र देश में एक प्रबल शक्ति का उदय हो रहा था। स्वामी रामदास जैसे हिन्दू धर्म-रक्षक महापुरुषों की प्रेरणा से इस शक्ति में अपूर्व बल और देवी स्फूर्ति का संचार होता जा रहा था। इस शक्ति ने सम्राट औरंगजेब के शासन को बुरी तरह कम्पायमान कर दिया था यह शक्ति शिवाजी नामक एक महाराष्ट्र युवक के शरीर में अवतीर्ण हुई थी। इसके प्रकाश ने भारत के राजनैतिक गगन-मण्डल को आलोकित कर दिया था। मुगल सम्राट औरंगजेब इस तेजस्वी प्रकाश के सामने चकाचोंध और भयभीत हो गया था। यह कहने की आवश्यकता नहीं कि इस वीर शिवाजी के साथ युद्ध करके मुगल सेना बारम्बार परास्त हुई थी। सम्राट औरंगजेब ने इस बढ़ती हुई शक्ति को क्षीण करने के लिये महाराजा जयसिंह जी को नियुक्त किया।

 

हम पहले कह चुके हैं कि महाराजा जयसिंह जी जैसे अपूर्व रणनीतिज्ञ कुशल थे वैसे ही असाधारण राजनीतिज्ञ भी थे। जब उनके ऊपर छत्रपति शिवाजी जैसे प्रबल पराक्रमी तथा शक्ति शाली पुरुष का मुकाबला करने का भार आ पड़ा तब उन्होंने अपनी सारा बौद्धिक शक्तियों को शिवाजी को कुचलने के लिये लगाना शुरू किया। वे ऐसे उपाय सोचने लगे कि जिससे शिवाजी की केन्द्रगत शक्ति को ऐसा मार्के का धक्का पहुँचाया जावे कि वह छिन्न भिन्न हो जाये। उन्होंने सब के पहले सम्राट द्वारा बीजापुर से सुल्तान की खिराज को घटाया, जिससे वह शिवाजी से नाता तोड़कर सम्राट से आ मिले। इसके अतिरिक्त उन्होंने छत्रपति शिवाजी के तमाम शत्रुओं का गुट करके उनकी संयुक्त शक्ति में मिलाकर छत्रपति शिवाजी के खिलाफ लगाने का निश्चय किया। उन्होंने फ्रान्सिस माइल और डी० के० माइल नामक दो युरोपियनों को तत्कालीन युरोपियन कोठियों के मालिकों के पास भेजकर उनसे यह अनुरोध किया कि वे शिवाजी के खिलाफ सम्राट की सहायता करें। इतने ही से महाराजा जयसिंह जी को सन्तोष नहीं हुआ। उन्होंने दक्षिण के कई राजाओं के पास ब्राह्मण राजदूत भेजकर उन्हें शिवाजी के खिलाफ भड़काना शुरू किया। जो दाक्षिणात्य राजागण भोंसला के आकस्मिक उदय से खिन्न हो उठे थे उन सब के पास इन प्रतापी मुगल सेनापति के गुप्त दूत पहुँचे और इन्हें सफलताएँ भी हुईं। बाजी, चन्द्रराव और उनका भाई गोविन्दराव मोरे-जिनसे कि शिवाजी ने जावली का परगना ले लिया था, महाराजा जयसिंह जी की सेवा में उपस्थित हुए। इनके अतिरिक्त मनकोजी धनगर भी मुगल फौज में सम्मिलित हो गये। अफ़जल खाँ का लड॒का फ़जुल खाँ अपने बाप के खून का बदला निकालने के लिये महाराजा शिवाजी के खिलाफ जयसिंह जी से आ मिला। जयसिंह जी ने इसकी पीठ ठोक कर सेना में इसे एक अग्रणय पद प्रदान किया। महाराजा जयसिंहजी ने अपने युरोपियन तोपखाने के अफसर निकोलाओ मनसीके द्वारा कल्याण के उत्तरवर्त्ती कोली देश के छोटे छोटे राजाओं का भी सहयोग प्राप्त कर लिया।

 

 

इन सब के अतिरिक्त शिवाजी के अफसरों को ऊँचे ऊंचे पदों का तथा विपुल द्रव्य का प्रलोभन देकर अपनी ओर मिलाने के भी खूब प्रयत्न किये गये और इसमें उन्हें कुछ सफलता भी हुई। महाराजा जयसिंह जी ने इस समय सारी सत्ता को अपने हाथ में केन्द्रीभूत कर लिया। शुरू शुरू में सम्राट ने उन्हें रणक्षेत्र में सेना संचालन का कार्य दिया था और शासन सम्बन्धी सारा कार्य-जैसे, अफसरों और फौज की तरक्की, सजा और बदली आदि- औरंगजेब के वायसराय के आधीन था।

 

 

युद्ध का आरम्भ (1665)

 

जुनार से दक्षिण की तरफ जब हम प्राचीन मुग़ल राज्य की सीमा के आगे बढ़ते हैं, तो पहले पहल इन्द्रायनी की घाटी रास्ते में आती है। इसके किनारों पर की पर्वतमाला पर पश्चिम की तरफ लोहागढ़ और तिकोना नामक किले ओर मध्य में चाकन दुर्ग स्थित है।इसके बाद भीसा नदी की घाटी आती है जिसमें कि पूना नगर बसा हुआ है। इससे और भी दक्षिण की तरफ कार्हा की घाटी है। इसके पश्चिम के पहाड़ पर सिंहगढ़ ओर दक्षिण की पहाड़ियों पर पुरन्दर का किला स्थित है। इसी घाटी के मैदान में ससबद ओर सूपा नामक गाँव हैं। इन पहाड़ों के दक्षिण में नीरा नदी की घाटी है। इस घाटी के किनारे पर शिरवाल नामक गांव, पश्चिम में राजगढ़ और तोरना नामक किले और दक्षिण पश्चिम में रोहिरा का किला है। पूना, उत्तर पश्चिम दिशा में स्थित लोहागढ़ और दक्षिण दिशा में स्थित सिंहगढ़ से समान अन्तर पर है। ससबद नामक स्थान ऐसे मौके पर बसा हुआ है कि वहां से पुरन्दर, राजगढ़, सिंहगढ़ और पूना आदि स्थानों पर सुगमता से चढ़ाई की जा सकती है। इतना ही नहीं, परन्तु इस स्थान के दक्षिण में मैदान होने के कारण यहां से बीजापुर पर भी हमला किया जा सकता है तथा उधर से आने वाली शत्रु की मदद को भी रोका जा सकता है। इस समय भी ससबद में पाँच मुख्य मुख्य रास्ते मिलते हैं। इस प्रकार युद्ध की दृष्टि से ससबद एक अत्यन्त महत्त्व पूर्ण स्थान है।

 

महाराजा जयसिंह जी
महाराजा जयसिंह जी

 

महाराजा जयसिंहजी एक कुशल सेनानायक थे। उन्होंने सूक्ष्म सैनिक दृष्टि से इन सब स्थानों पर हमला करने के लिये ससबद नामक स्थान पर अपनी छावनी डाल दी। पूना पर बड़ी ही मज़बूत सैनिक किले बंदी की गई थी। लोहागढ़ के सामने एक सैनिक थाना स्थापित किया गया। जिसका काय लोहागढ़ पर दृष्टि रखना तथा उस रास्ते की रक्षा करता था जो कि उत्तर की ओर जुनार के पास मुगल सीमा से जा मिलता था। इतना हो जाने पर एक ऐसी फौजी टुकड़ी बनाई गई जो इधर उधर घूम फिरकर ससबद से पश्चिम ओर दक्षिण पश्चिम में स्थित मरहठे के गाँवों को नष्ट करे। पूर्व की ओर से आक्रमण होने की कोई सम्भावना नहीं थी क्योंकि एक तो उस ओर बीजापुर-राज्य की सीमा आ गई थी, ओर दूसरे मुगल सेना की एक टुकड़ी भी उस ओर गई हुई थी। तीसरे वहाँ की प्राकृतिक स्थिति ही कुछ ऐसी थी कि जिसके कारण दुश्मन उस ओर से आक्रमण नहीं कर सकते थे।

 

 

तीसरी मार्च के दिन जयसिंह जी पूना पहुँचे। यहां पर जयसिंह जी
ने कुछ दिन प्रजा को शान्त करने तथा ऐसे सैनिक स्थान कायम करने में बिताये जो कि उनके ख़्याल से इस युद्ध की सफलता के खास स्तंभ थे। 10 वीं मार्च के दिन पुरन्दर के किले पर घेरा डालने का निश्चय कर वे ससबद के लिये रवाना हो गये। 29 वीं तारीख को वे एक ऐसे स्थान पर जा पहुँचे जहां से एक दिन में ससबद पहुँच सकें यहाँ से ससबद जाते समय एक दर्रा पार करना पड़ता था। जयसिंहजी ने पहले दिलेर खां को अपने सवारों और तोपखाने के साथ उस दर्रे को पार करने ओर चार मील आगे चल कर ठहरने का हुक्म दिया। दूसरे दिन राजा जयसिंह जी पहाड़ को लाँध कर दिलेर खाँ के खेमे में जा पहुँचे और दाऊद खाँ को इस लिये दर्रे के नीचे छोड़ गये कि बह दुपहर तक फौज को सकुशल दरें में प्रवेश करते हुए देखता रहे। सब से पीछे वाली फौज की टुकड़ी को भूले भटके सिपाहियों को मार्ग बतलाने का कार्य सौंपा गया था। इसी दिन ( 30 मार्च ) सुबह दिलेरखाँ अपनी टुकड़ी के साथ पड़ाव के लिये योग्य स्थान की तलाश में निकला। ढूंढ़ते ढूंढते वह पुरन्दर के किले के पास जा पहुँचा। यहाँ पर मराठे बन्दूकचियों के एक बड़े भारी झुन्ड ने, जो कि एक बाड़ी में ठहरा हुआ था, शाही फौज़ पर हमला कर दिया। परन्तु शाही सेना ने उनको परास्त कर बाडी पर अधिकार कर लिया । इसके बाद दिलेर खां की सेना ने आस पास के मकानों को जला दिये और वह पुरन्दर के किले के जितने नज़दीक जा सकी, चली गई। वहाँ पहुँच कर इस सेना ने किले से इतनी दूरी पर जहाँ कि गोला नहीं आ सके, पड़ाव डाला और अपनी रक्षा के लिये अपने आस पास खाइयाँ खोद लीं।

 

 

जब यह ख़बर जयसिंहजी ने सुनी तो उन्होंने तुरन्त किरत सिंह जी, रायसिंह जी चौहान, कुबदख खाँ, मित्रसेन, इन्द्रभान बुन्देला और दूसरे अधिकारियों की आधीनता में अपने 3000 सैनिक भेजे। उन्होंने दाऊद खाँ के नाम एक ज़रूरी हुक्म इस आशय का भेजा कि वह आकर पड़ाव का चार्ज ले ले; जिससे कि वे खुद घेरे की निगरानी के लिये जा सकें। परन्तु यह समाचार सुनकर दाऊद खाँ जयसिंहजी के पास न आते हुए स्वयं दिलेर खां के पास चला गया। यह दिन इसी प्रकार बीता। छावनी की रक्षा के लिये कोई उच्च अधिकारी मौजूद नहीं था इस वजह से जयसिंह जी को मजबूरन वहीं ठहरना पड़ा। परन्तु उन्होंने दिलेर खाँ की मदद के लिये बहुत से रास्ता साफ करने वाले, भिस्ती, निशाने बाज और लड़ाई का सामान पहले ही रवाना कर दिया था। दूसरे दिन सुबह (31 मार्च ) जयसिंह जी ने बड़ी सावधानी के साथ तम्बू आदि फौज का तमाम सामान स्थायी पड़ाव पर भेज दिया जो कि ससबद और पुरन्दर के बीच मे निश्चित किया गया था। यह स्‍थान पुरन्दर से सिर्फ चार मील के अन्तर पर था। जब जयसिंहजी ने दाऊद खां और किरत सिंह जी जहाँ थे वहाँ से किले की स्थिति पर दृष्टि डाली तब उन्हें मालूम हुआ कि पुरन्दर का किला कोई एक किला नहीं है परन्तु पहाड़ियों के एक समूह की मजबूत दीवारों से घिरा है। इसलिये उसको चारों ओर से घेर लेना असम्भव है।

 

 

पुरंदर का किला घेर लिया गया

 

ससबद से छः मील दक्षिण में पुरन्दर की पर्वतमाला है। इसकी सबसे ऊँची चोटी समुद्र की सतह से 4564 फीट और अपने आसपास के मैदान से 25000 फीट से भी ज्यादा ऊँचाई पर है। यह एक दुहरा किला है और इसके पास ही पूर्व दिशा में एक और स्वतंत्र और बहुत ही मजबूत किला है जिसका नाम वज्रगढ़ है। पुरंदर का किला इस प्रकार बना हुआ है:–एक पहाड़ी की चोटी पर एक किला है जहाँ से गोलाबारी की जा सके। इसके चारों तरफ की जमीन ढालू है। इसके 300 फीट नीचे एक और छोटा किला है जिसको माची कहते हैं। यह माची चट्टानों की एक लाइन है जो कि पहाड़ के मध्य भाग के चारों तरफ फैली हुई है। यह माची उत्तर की तरफ कुछ और फेल गई है जिससे वहाँ इसका आकार एक झरोखे के समान हो गया है। इस जगह किले के रक्षक सिपाहियों की कचहरियाँ एवं मकान बने हुए हैं। इस झरोखे की आकृति वाले स्थान के पूर्व में भैरवखिड नामक पहाड़ी स्थित है। यह पहाड़ी पुरन्दर की पहाड़ी के ढाल की सतह से उठी हुई है ओर किले के ऊपरी भाग के उत्तर पूर्वीय हिस्से पर झुकी हुई है। यह भैरवखिंड नामक पहाड़ी इसी प्रकार एक मील तक पूर्व की तरफ फैली हुई है जहाँ जाकर एक टेबुल लेन्ड में इसका अन्त होता है। यह Table land समुद्र की सतह से 3618 फीट ऊँचा है और इसी पर रुद्रमाला का किला ( वर्तमान वज्रगढ़ ) बना हुआ है।

 

 

यह वज्रगढ़ पुरन्दर के नीचे के किले (माची) के उस अत्यन्त महत्वपूर्ण उत्तरीय विभाग की रक्षा करता था जहाँ कि किले के रक्षक सैनिक रहते थे। इसी वज्रगढ़ के हस्तगत कर लेने के कारण इ० सन्‌ 1665 में जयसिंह जी ने और सन्‌ 1817 में अंग्रेजों ने मराठों को पुरन्दर की रक्षा करने में असमर्थ बना दिया था। एक दूरदर्शी सेना नायक की तरह जयसिंहजी ने पहले वज्रगढ़ पर धावा करने का निश्चय किया। दिलेर खाँ ने अपने भतीजे, अफगान सेना, हरिभान और उदयभान गौर आदि के साथ पुरन्दर और रुद्रमंडल के बीच अपना मोर्चा कायम किया। दिलेरखाँ के आगे तोपखाने का अफसर तरकताजखाँ और जयसिंहजी के द्वारा भेजी गई टुकड़ी थी। किरतसिंह जी ने 3000 सवारों और कुछ दूसरे मन्सबदारों के साथ पुरन्दर के उत्तरीय दरवाजे के सामने मोर्चा बन्दी की। दाहिनी बाजू पर राजा नरसिंह गौर, कर्ण राठोर, नरवर के राजा जगत सिंह जी और सैयद माकूल आलम ने अपनी मोर्च बन्दी की। पुरन्दर के पीछे की तरफ खिड़की के सामने दाऊद खाँ, राजा रायसिंह राठोड़, मोहम्मद सालेह तरखान, रामसिंह हाड़ा, शेरसिंह राठोर, राजसिंह गौर और दूसरे सरदार कायम किये गये थे। इस स्थान से दाहिनी बाजू पर रसूल बेग रोजभानी और उसके आधीनस्थ सेना नियुक्त थी। रुद्रमाला के सामन दिलेर खां के कुछ सिपाहियों के साथ, चर्तुभुज चौहान ने मोर्च बन्दी की ओर इनके पीछे मित्रसेन, इन्द्रभान बुन्देला और कुछ दूसरे अधिकारी गण रहे।

 

 

जयसिंह जी अपने सिपाहियों को किले के नजदीक पहाड़ी की
सतह में ले गये। इन सिपाहियों ने पहाड़ी की बाजू पर अपने डेरे गाड़ दिये। जयसिंहजी प्रति दिन खाइयों को देखने जाते, अपने आदमियों को उत्साहित करते और इस प्रकार इस घेरे का निरीक्षण करते रहते थे। पहले पहल उन्होंने अपनी सारी शक्तियाँ तोपों को ढालू और मुश्किल पहाड़ियों पर चढ़ाने की तरफ लगा दीं। अब्दुल्ला खां नामक एक तोप को रुद्रमाल के सामने के मोर्चे पर चढ़ाने में तीन दिन लग गये। इसके बाद फतेहलश्कर नामक तोप चढ़ाई गई जिसमें साढ़े तीन दिन लगे। तीसरी तोप भी जिसका नाम हाहेली था, बड़ी मुश्किल से वहाँ तक चढ़ाई गई। इसके बाद मुगल सेना ने लगातार गोलाबारी शुरू की जिससे कि किले के सामने की दीवारों का नीचे का हिस्सा नष्ट भ्रष्ट हो गया। इसके बाद रास्ता साफ करने वाले ( Pioneers) उन दीवारों की सतह में छेद करने के लिये भेजे गये। 13वीं अप्रैल अर्ध रात्रि के समय दिलेर खाँ की टुकड़ी ने किले पर भयंकर गोलाबारी करके नष्ट भ्रष्ट कर डाला और शत्रु की उसके पीछे के अहाते में हटा दिया। इस कार्य में सात आदमी काम आये और चार घायल हुए। इधर जयसिंह जी ने दिलेर खाँ की मदद के लिये अपने कुछ और आदमी भेज दिये। दूसरे दिन विजयी मुगल सेना और भी अन्दर के भाग में बढ़ी और सीढ़ियों द्वारा अन्दर जाने का प्रयत्न करने लगी। इस दिन सायंकाल के समय मुगलों के गोलाबारी से तंग आकर मराठा सैनिकों ने किले के बाहर आकर अस्त्र-शस्त्र रख दिये और आत्मसमपर्ण कर दिया । इस समय जयसिंहजी ने बड़ी बुद्धिमानी का कार्य किया। उन्होंने इन मराठा सैनिकों को सकुशल अपने अपने घर लौट जाने दिया। इतना ही नहीं, वरन इनके खास खासनेताओं को उनकी बहादुरी के उपलक्ष में बढियाँ कई बहुमूल्य राजसी पोशाकें इनाम में दीं। शत्रु के साथ यह नम्रता का बर्ताव इसलिये किया गया था कि जिस से दूसरे मराठा सरदार व सैनिक भी लड़ मरने के बजाय जल्दी ही आत्मसमर्पण कर दें। आज की लड़ाई में मुगल सेना के 80 आदमी मारे गये और 109 घायल हुए।

 

 

वज्रगढ़ पर अधिकार करना ही पुरन्दर के किले पर विजय प्राप्ति
करने के मार्ग की पहली सीढ़ी थी अथवा स्वयं महाराजा जयसिंह जी के शब्दों में यों कह लीजिये कि “ वह पुरन्दर के किले की कुंजी थी। अब दिलेर खां पुरन्दर के किले की तरफ अग्रसर हुआ । इधर जयसिंह जी ने छत्रपति शिवाजी के राज्य में लूट खसोट करना शुरू कर दिया। इसका कारण जैसा कि उन्होंने औरंगजेब को लिख भेजा था वह यह था “इससे शिवाजी और बीजापुर के सुल्तान को यह विश्वास हो जायगा कि मुग़लों के पास इतनी विशाल सेना है कि घेरा डालने के अतिरिक्त भी फौज बच जाती है। दूसरा फ़ायदा इस से यह होगा कि शिवाजी के राज्य में लगातार धूम मचाये रखने के कारण उनकी सेनाएँ किसी एक स्थान पर इकट्ठी नहीं होने पायेगी। इस प्रकार अपने कुछ जनरलों को इधर उधर भेज देने में उनका एक मतलब यह भी था कि उनके कुछ सेना नायक आज्ञा-पालक नहीं थे,
ओर इसलिये उनके वहां रहने से नहीं रहना ही अच्छा था। दाऊद खाँ कुरेशी किले की खिड़की पर दृष्टि रखने के लिये नियुक्त किया गया था, परन्तु कुछ ही दिन बाद यह मालूम हुआ कि मराठा लोगों का एक दल दाऊद खां की आंखों में धूल झोंक कर उस खिड़की द्वारा किले में प्रविष्ट हो गया है। इस पर दिलेर खां ने दाऊद खां को खूब लानत-मलामत की, जिससे दोनों में तनाज़ा हो गया। जब यह बात जयसिंह जी को मालूम हुई तो उन्होंने दाऊद खाँ को अपने पहले के स्थान पर वापस भेज दिया और खिड़की के सामने पुरदिलखांओर शुभकरण बुन्देला को नियुक्त किया। परन्तु इससे भी कुछ फायदा नहीं हुआ। शुभकरण ने इस कार्य में बिलकुल दिलचस्पी नहीं दिखाई। दिलचस्पी दिखाना तो दूर रहा, वह तो शिवाजी के साथ सहानुभूति दिखलाने लगा। उधर दाऊद खाँ भी अपने स्थान पर उधम मचाने लगा। वह बार बार यह अफ़वाह फेलाने लगा कि पुरन्दर के किले पर अधिकार कर लेना बिलकुल असंभव है इसलिये इस पर घेरा डालना सेना और द्रव्य का दुरुपयोग करना है। जयसिंहजी के मतानुसार यह अफवाह फलाने में दाऊद खाँ का आशय यह था कि इससे खास सेना नायक निराश हो जाये और वह दिलेर खाँ को हृदय से मदद न दे ताकि दिलेर खाँ पर घेरे का तमाम भार पड़ जाये और अन्त में वह अपने कार्य में असफल मनोरथ होकर लज्जा के साथ वापस लौट जाये

 

 

जयसिंह जी दाऊद खां के हृदयगत भावों को ताड़ गये। इसलिये उन्होंने तुरन्त एक युक्ति ढूंढ़ निकाली। एक इधर उधर घूमती रहने वाली सेना की टुकड़ी बनाई गई ओर दाऊद खाँ को उसका नायक
नियुक्त करके आसपास के भिन्न भिन्न मराठों के गाँवों पर लगातार हमले करते रहने के लिये भेज दिया। 25 वीं अप्रेल को दाऊद खां की अधीनता में 6000 मज़बूत सिपाहियों की उक्त टुकड़ी, जिसमें कि राजा रायसिंह, शरजाखाँ ( बीजापुरी जनरल ) अमरसिंह चन्दावत, अचलसिंह कछवा और खुद जयसिंहजी के 400 सिपाही भी थे। दोनों बाजुओं से उनकी सेना राजगढ़, सिंहगढ़ और रोहिरा की सीमा में लूट खसोट मचाने के लिये रवाना हुईं। इस सेना को रवाना होते समय यह हुक्म दिया गया था कि “उक्त प्रदेश में एक भी खेत व गाँव का निशान तक न रहने पाये तमाम बर्बाद कर दिये जाये”। फौज़ की एक दुसरी टुकड़ी कुतुबुद्दीनखाँ और लूदीखाँ की आधीनता में उत्तरीय ज़िलों को बर्बाद करने के लिये भी भेज दी गई कि जिससे शिवाजी सब तरह से बर्बाद होकर घबरा जांये। 27 वीं तारीख को दाऊद खाँ की सेना रोहिरा के किले के पास पहूँची। उसने क़रीब क़रीब 50 गाँवों को जलाकर बिलकुल तहस-नहस कर डाले। कुछ मुगल सैनिक चार ऐसे आबाद गाँवों में जा पहुँचे जहाँ कि मुगल-सेना पहले कभी नहीं पहुँची थी। फिर कया था। उन सैनिकों ने तमाम सेना को वहाँ बुलाली। जिन जिन ने सामना किया वे धराशायी कर दिये गये, गाँवों पर अधिकार कर लिया गया, वे लूट लिये गये और अन्त में जला दिये गये। यहां एक दिन ठहर कर मुग़ल सेना 30वीं तारीख को राजगढ़ की तरफ अग्रसर हुई। रास्ते में जो जो गाँव आये, वे सब के सब जला दिये गये। किले पर अधिकार नहीं करते हुए, जिसके लिये कि वे तेयार भी नहीं थे— उन्होंने आसपास के गांवों को लूटना और नष्ट भ्रष्ट करना शुरू किया। यह सब भयंकर कार्य राजगढ़ के किले के रक्षक सैनिक, तौपों की आड़ में बैठे बैठे देख रहे थे परन्तु मुगल सेना पर आक्रमण करने की उनकी हिम्मत नहीं हुई। इस जिले के आस पास की ज़मीन विषम और पहाड़ी थी। इस लिये मुग़ल सेना चार मील पीछे हटकर गुंजनखोरा के दर्रें के पास की सम भूमि में ठहरी। आज रात को इस सेना ने यहीं विश्राम किया। दूसरे दिन यह सेना शिवापुर पहुँची। यहाँ से दाऊद खाँ ने सिंहगढ़ की तरफ जाकर उसके आसपास के मुल्क को बर्बाद किया। अन्त में 3 मई को महाराजा जयसिंह जी के हुक्म से वह पूना जा हाज़िर हुआ।

 

 

इस समय कुतुबुद्दीन खाँ, कुनारी के किले के पास के पुरखौरा और तासीखोरा नामक दर्रों में स्थित गांवों को बर्बाद करने में लगा हुआ था। जयसिंह जी ने इसे भी एक दम पूने बुला लिया। इस नये हुक्म का कारण यह था कि शिवाजी ने इस समय लोहगढ़ के पास एक बड़ी भारी सेना एकत्रित कर ली थी जिसको कि नष्ठ करना जयसिह जी ने ज्यादा जरूरी समझा। उक्त निश्चय के अनुसार जयसिंह जी ने दाऊद खां और कुतुबुद्दीन खां को अपनी 4 टुकड़ियों के साथ लोहगढ़ की तरफ रवाना किया। पूना से प्रस्थान करके यह सेना 4 मई तारीख को चिंचचाड़ ठहरी और 5 वीं तारीख को लोहगढ़ जा पहुँची। ज्योंही मुगल सेना के कुछ सिपाही किले के पास पहुँचे त्योंही मराठी सेना के 500 सवारों और 1000 पैदल सिपाहियों ने उन पर आक्रमण कर दिया।परन्तु शाही सिपाहियों ने उन का अच्छा मुकाबिला किया। इतने ही में और शाही सेना आ गई। भयंकर युद्ध होने के बाद मराठे हार गये और उनका नुकसान भी बहुत हुआ। विजयी मुग़ल सेना ने पहाड़ी की तलहटी में स्थित कई गाँवों को जला दिया। जाते समय वे कई जानवर भी पकड़ ले गये। मराठों के कई आदमी मुगलों के कैदी बने। इसके बाद मुगल सेना ने लोहगढ़, तिकोना, बिसापुर और तांगाई के किलों के आसपास के प्रदेश और बालाघाट तथा मैनघाट के प्रदेशों पर हाथ साफ किया। इतना हो जाने पर मुगल सेना वापस लौट गई। कुतुबुद्दीन खाँ पूने के पास के थाने पर चला गया और दाऊद खाँ अपने साथियों सहित 15 दिन की गेरहाज़िरी के बाद 19 वीं मई को फिर से मुग़ल सेना में जा मिला।

 

 

घेरे को विफल करने के लिये मराठों के प्रयत्न

 

इधर जयसिंह जी शिवाजी को कुचल डालने के प्रयत्न कर रहे थे।
उधर मराठा सेना नायक भी चुप नहीं बेठे हुए थे। वे मुगल सेना को त्रस्त करके घेरे को उठा देने के लिये जी तोड़ परिश्रम कर रहे थे। अप्रेल के आरंभ में नेताजी पालकर ने–जो कि शिवाजी के रिश्तेदार ओर घुड़ सवारों के नायक थे, परेन्दा के किले पर भयंकर आक्रमण किया; परन्तु सूपा नामक स्थान से मुगल सेना के आने के समाचार सुनकर मराठी सेना इधर उधर बिखर गई। इससे शत्रु का मुकाबला न हो सका। इसके बाद मई के अन्त में उरोदा नामक स्थान पर मराठे एकत्रित हुए थे, पर कुतुबुद्दीन को यह खबर लग गई। उसने वहाँ जाकर उन्हें इधर उधर बिखेर दिया । रास्ते में जो जो गाँव आये, कुतुबुद्दीन ने सबको लूट लिया। उसने जहाँ कहीं मराठों को अपने किलों के पास एकत्रित होते देखा कि तुरन्त उनको तितर बितर कर दिया। लोहगढ़ के किले पर हमला कर दिया गया और वहाँ पर स्थित मराठे सैनिक कत्ल कर दिये गये तथा भगा दिये गये। दाऊद खाँ 300 कैदियों और 3000 चौपायों के साथ वापस लौट आया। इसके पश्चात्‌ नारकोट में 3000 मराठे घुड सवार एकत्रित हुए पर पूना के नवीन थानेदार कुबदखाँ ने उनको वहाँ से भी भगा दिया। लौटते समय उक्त थानेदार कई किसानों और चौपायों को पकड़ लाया। पाठक ? उपरोक्त बातों से यह खयाल न कर लें कि मराठे जगह जगह हारते ही गये। उन्होंने भी कई जगह मुगल-सेना को बड़ी बुरी तरह झकाया था। स्वयं जयसिंहजी ने कहा था कि “कहीं कहीं हमें शत्रुओं द्वारा चली हुई चालों को रोकने में विफल मनोरथ भी होना पड़ा है।” सफीखाँ ने तो ओर भी साफ साफ कहा है कि “शत्रुओं ने कई बार अँधेरी रात में अचानक हमले करके, रास्तों तथा मुश्किल दर्रों की नाके बंदी करके और जंगलों में आग लगाकर शाही सैनिकों की गतिविधि को एकदम बन्द कर दी थी। मराठों द्वारा उपस्थित की गई उपरोक्त बाधाओं के कारण मुगलों को कई आदमी तथा चौपायों से हाथ धोना पड़ा था।अप्रैल मास के मध्य में जब वज्रगढ़ पर मुगलों का अधिकार हो गया तब दिलेरखाँ ने आगे बढ़कर माची (पुरन्दर के नीचे के किले) पर घेरा डाल दिया। उसने किले के उत्तर पूर्वीय कोण तक अर्थात् खण्डकाला के किले तक खाइयाँ खुदवा दीं। किले की रक्षक सेना ने घेरा डालने वालो का विरोध किया। एक दिन रात्रि के समय उन्होंने किरत सिंह पर हमला किया, पर किरत सिंह लड़ने के लिये बिलकुल तैयार था इसलिए उसने उन्हें वापस हटा दिया। इस हमले में मराठों के बहुत से आदमी काम आये। इसके बाद एक दिन अंधेरी रात में मराठों ने रसूलबेग रोजभानी के मोर्चो पर अचानक हमला कर दिया। रसूलबेग के 15 सिपाही घायल हुए और उसकी तोपों में कीले ठोक दिये गये। पर हल्ले-गुल्ले के कारण आसपास के मोर्चों के मुगल सैनिक रसूलबेग की सहायतार्थ आ गये जिससे मराठों को वापस हट जाना पड़ा। दूसरे दिन फिर एक छोटी सी लड़ाई हुईं जिसमें मुगलों के 8 आदमी मारे गये। पर दिलेर खाँ इससे तनिक भी विचलित नहीं हुआ ओर कृतान्त के समान पुरन्दर के सामने डटा ही रहा। उसके सिपाही भी बड़े उत्साह से काम करते थे। जिस कार्य को करने में दूसरा आदमी एक मास लगा देता उसी को वे एक दिन में कर डालते थे।

 

 

पुरंदर की बाहरी दीवार पर गोलाबारी

 

 

दिलेरखाँ ने भयानक गोलाबारी करके दोनों किलों की बाहरी दीवारों को बिलकुल नष्ट भ्रष्ट कर डाला मई के मध्य तक मुगल- सेना के मोर्चे उक्त किलों की सतह तक जा पहुँचे। अब किलों की रक्षक सेना ने शत्रुओं पर जलता हुआ तेल, बारूद की थेलियाँ, बम तथा भारी भारी पत्थर बरसाने शुरू किये। इससे मुगल सेना की गति रुक गई। यह देख जयसिंहजी ने लक्कड़ों और पटियों द्वारा एक ऊँचा मचान बनवाने तथा इस मचान पर दुश्मन का मुकाबला करने के लिये तोपें चढ़ाई जाने और साथ ही कुछ बन्दुकची भी यहाँ खड़े किये जाने का हुक्म दिया। दो वक्त मचान खड़ा किया गया, पर दोनों ही बार वह शत्रुओं द्वारा जला दिया गया। इसके लिये भी जयसिंहजी ने युक्ति ढूँढ़ निकाली। उन्होंने रूपसिंह राठोर और गिरिधर पुरोहित को हुक्म देकर पहले किले के सामने एक दीवार खड़ी करवा दी। साथ ही उन्होंने कुछ राजपूत तीरंदाजों को अपने तीरों के निशाने किले की तरफ करके खड़े कर दिये। इन्होंने मराठों को किले के ऊपर चढ़ने न दिया। इस प्रकार का बन्दोबस्त कर लेने पर मचान निर्विष्नता पूर्वक बनाया जाने लगा। इस समय सूर्यास्त होने में दो घंटे शेष रह गये थे। अभी तोपें मचान पर चढ़ाई भी नहीं गईं थीं कि कुछ रोहिले सिपाहियों ने बिना दिलेर खाँ को सूचित किये ही सफ़ेद किले पर गोले बरसाना शुरू कर दिया। मराठे सैनिकों के झुन्ड के झुन्ड दीवार पर इकट्ठे हो गये ओर उन्होंने मुगलों की गोलाबारी बन्द कर दी। पर मुगल सेना की सहायतार्थ और भी बहुत सी सेना आ गई और साथ ही दोनों तरफ के मोर्चों पर सैनिक सीढ़ियों द्वारा चढ़ चढ कर मराठों की तरफ झपटने लगे। जयसिंहजी की तरफ का भूपतसिंह पवार जो कि 500 सैनिकों का नायक था सफ़ेद किले की दाहिनी बाजू पर कई राजपूतों के साथ काम आया। बाई बाजू पर बालकृष्ण सम्बावल ओर दिलेरखाँ के कुछ अफगान सिपाही लड़ रहे थे। इसी समय किरत सिंह और अचलसिंह भी, जो कि अभी तक लकड़ी के मचान का आश्रय लिये बेठे थे, लडाई के मैदान में आ धमके। भयंकर मारकाट चलने लगी। मराठों का बहुत नुकसान हुआ और उन्होंने पीछे हटकर काले किले में जाकर आश्रय लिया। यहाँ से इन्होंने फिर मुगल-सेना पर बम गोले, बारूद, पत्थर और जलनेवाले पदार्थ फेंकना शुरू किया। आगे बढ़ना असम्भव समझ महाराजा जयसिंह जी को आज तीन ही बुर्जों पर अधिकार कर सन्तोष मानना पड़ा। उन्होंने अपनी सेना को वहीं ( जहाँ तक कि वे पहुँच गये थे ) अपने मोर्चे क़ायम करने का हुक्म दिया। और सफेद किले को अधिकृत कर उस दिन आगे बढ़ने के कार्य को उन्होंने स्थगित रखा।

 

 

इसके बाद दो दिन उक्त लकड़ी के मचान को सम्पूर्ण करने में लगे। सम्पूर्ण कर लेने पर दो हलकी तोपें भी उस पर चढ़ा दी गई। अब मुगल सेना ने यहाँ से शत्रु की काली बुर्जे पर गोलाबारी करना शुरू किया। इस गोलाबारी से तंग आकर मराठे सैनिक काली बुर्ज एवं उसके पास की दूसरी बुर्ज़ से भी पीछे हट गये। उन्होंने किले की दीवार से लगे हुए मोर्चों में जाकर शरण ली, पर अब वे अपने सिरो को ऊपर नहीं निकाल सकते थे। निदान उक्त मोर्चा में भी उनकी रक्षा नहा सकी। और आखिरकार वे उसके पीछे की खाइयों के पास चले गये। इस प्रकार पुरन्दर के नीचे के किले की 5 बुर्जो’ और किले के एक मोर्चे पर मुगलों का अधिकार हो गया। अब मराठों के हाथों में पुरन्दर के रह जाने की कोई आशा नहीं रह गई थी ‘ वह तो पहिले ही करीब करीब मुगलों के अधिकार में आ सा गया था कि इधर जयसिंह जी की माँग के मुवाफिक़ बादशाह ने एक भारी तोपखाना और भी रवाना कर दिया। किले के रक्षक सिपाही गिनती में कुल 2000 थे जिनमें से कई तो लगातार दो महीने की लड़ाई में काम आ गये थे। घेरे के आरंभ में ही उनका बहादुर सेनानायक मुरार बाजीराव वीरगति को प्राप्त हो गया था। इधर मुगल सेना की संख्या मराठों की सेना से क़रीब करीब दस गुनी थी। मुरार बाजीराव ने अपने 700 चुने हुए वीर सिपाहियों के साथ दिलेर खां पर उस समय हमला किया था जब कि वह अपने 5000 अफ़गान सैनिकों व कुछ दूसरे सिपाहियों के साथ पहाड़ी पर चढ़ने की कोशिश कर रहा था। इस समय मराठे सैनिक एक दम शत्रु पर टूट पढ़े। वे शत्रु-सेना में मिश्रित हो गये। भयंकर मार-काट चलने लगी। मुरार बाजीराव ने बात की बात
में अपने सैनिकों की सहायता से 500 पठानों व दूसरे सैनिकों को धराशायी कर दिया। अब वह अपने 60 मजबूत साथियों के साथ दिलेरखां के खेमे की तरफ झपटा। उसके कई साथी मुग़लों की अगणित सेना के हाथों मारे गये। परन्तु इससे मुरार बाजीराव की गति रुकी नहीं। वह दिलेरखाँ की तरफ बढ़ता ही गया। दिलेरखाँ भी मरार बाजीराव के अद्वितीय साहस को सराहने लगा। उसने उन्हें कहला भेजा कि अगर आत्मसमर्पण कर दोगे तो हम तुम्हारे प्राणों की रक्षा करेंगे और साथ ही तुम्हें अपनी सेना में एक उच्च स्थान भी प्रदान करेंगे। पर वीर मुरार ने शत्रु के इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया। इतना ही नहीं, वह दिलेर खाँ पर वार करने के लिये झपटा कि इतने ही में दिलेर खाँ ने एक तीर में उसका काम तमाम कर दिया। इस प्रकार मराठा सेना-नायक वीर मुरारबाजी अपने स्वामी की सेवा करते करते परलोक सिधारा। इस लड़ाई में मराठी सेना के 300 आदमी कास आये और बाकी बचे हुए वापस किले में लोट गये। मुरारबाजी के अधीनस्थ सैनिकों की बहादुरी एवं साहस को देखकर ग्रीस के स्पार्टंन लोगों की बात याद आ जाती है। अपने सेना-नायक के वीर-गति को प्राप्त हो जाने पर भी उक्त महाराष्ट्र वीर बहादुरी के साथ मुग़लों का सामना करते रहे। वे कहते रहे कि “मुरारबाजी के मर जाने से क्‍या हुआ ? प्रत्येक सैनिक मुरारबाजी है। इसलिये हम उसी साहस और उत्साह के साथ लड़ते रहेंगे। पर जयसिंहजी भी मज़बूती और सफलता के साथ आगे बढ़ते ही गये। पुरन्दर चारों तरफ से बिलकुल घेर लिया गया। दो मास की लगातार लड़ाई के कारण उसके रक्षक सैनिकों की संख्या बहुत कम रह गईं थी। इधर नीचे के किले की पाँच बुर्जो ‘ पर मुगलों का अधिकार हो ही गया था। उक्त कारणों से अब पुरन्दर की रक्षा करना मराठों के लिये दुस्साध्य हो गया। मालूम नहीं होता था कि किस समय पुरन्दर पर मुगलों का अधिकार हो जाये। छत्रपति शिवाजी को महसूस होने लग गया था कि अब किले की रक्षा करते रहना निर्थक होगा। इसके अतिरिक्त उनको यह भी ख्याल हुआ कि अगर इस दुर्ग पर मुगलों का अधिकार हो गया तो इसमें रक्षित समस्त मराठे सरदारों के कुटुम्बी जन मुग़ल सेना के हाथ पड़ जायेगे। मुगल सेना उनका निरादर करेगी। इधर उधर घूमकर देश को नष्ट भ्रष्ट करने वाली मुग़ल सेना को वे रोकने में असमर्थ हुए। इस प्रकार इस समय शिवाजी जिधर दृष्टि डालते, उधर ही उन्हें असफलता और विनाश का दृश्य दिखाई पड़ता था। मुगलों द्वारा 2 जून को प्राप्त की गई विजय तथा पुरन्दर के नीचे वाले किले के अपने हाथों से निकल जाने की संभावना, आदि आदि कुछ ऐसी घटनाएँ उपस्थित हो गई थीं जिनके कारण शिवाजी ने महाराजा जयसिंह जी से मिलकर मुगलों के साथ सुलह करने का निश्चय कर लिया अपने उक्त निश्चय के अनुसार शिवाजी ने जयसिंह जी से कहला भेजा कि अगर आप शपथ के साथ मेरी प्राण-रक्षा और सकुशल वापस घर लौट आने का जिम्मा लें तो में आप से मिल सकता हूँ। यह बात दूसरी है कि मेरी शर्तें आपको मंजूर हों या न हों।

 

 

शिवाजी और महाराजा जयसिंह जी

मिर्जाराजा जयसिंहजी ने पुरन्दर में शिवाजी पर विजय प्राप्त की।
पुरन्दर के किले एक एक करके जयसिंह जी के हाथ में आ गये। अब शिवाजी ने जयसिंहजी से मिलकर सुलह की नई शर्तें पेश करने का निश्चय किया। पर साथ ही में शिवाजी ने जयसिंह जी से प्रतिज्ञा पुर्वक इस बात का आश्वासन ले लिया कि चाहे सुलह की शर्तें मंजूर हों, या न हों, पर उनकी सुरक्षिता में किसी प्रकार की बाधा उपस्थित न होने पावेगी। तारीख 11 जून को शिवाजी पालकी में बैठकर जयसिंह जी से मिलने के लिये डेरे पर गये। जयसिंहजी ने अपने मंत्री उदयराज और उग्रसेन कछवा को बहुत दूर तक उनकी अगवानी के लिये भेजा, साथ ही यह भी कहलवाया कि अगर आप सब किले हमारे सुपुर्द कर देने को तैयार हों तो आवे वरना लौट जायें। शिवाजी ने यह बात स्वीकार कर ली ओर वे अपने दो आदमियों के साथ जयसिंह जी के डेरे पर आ गये। जयसिंहजी ने कुछ आगे बढ़कर उनका स्वागत किया। उन्हें अपने गले लगाया तथा अपने पास बैठाया। इतना होते हुए भी जयसिंह जी ने कुछ खतरा समझकर सहस्त्र आदमियों का पहरा रखा। आधी रात तक महाराजा जयसिंह जी और शिवाजी में बातचीत होती रही। सुलह की शर्तों के सम्बन्ध में बहुत बहस हुई। जयसिंह जी को अपनी सुदृढ़ स्थिति का पूरा पूरा विश्वास था। उनके पीछे हिन्दुस्तान के बादशाह की ताक़त का पूरा पूरा ज़ोर था। अतएव इस समय उन्‍होंने शिवाजी पर दबाव डालकर अपने अनुकुल शर्तें तय करवाई। वे इस प्रकार हैं:—

छत्रपति शिवाजी के किलों में से 23 किले जिनकी जमीन की आय 4 लाख है, मुगल साम्राज्य में मिला लिये जावें, शेष 12 किले जिनकी जमीन की आमदनी 1 लाख है– शिवाजी के आधीन इस शर्ते पर रहें कि वे शाही तख्त के खेरख्वाह बने रहें। इसके दूसरे दिन (12 जून को) मुगल सेना ने पुरन्दर में प्रवेश कर उस पर अधिकार कर लिया। तमाम फौजी सामान मुगल अफसरों के हाथ लगा। शिवाजी ने सुलह के अनुसार 23 किले जयसिंहजी के सुपुर्द कर दिये। इतना होने के पश्चात्‌ जयसिंहजी शिवाजी को मुगल दरबार में उपस्थित करने का प्रयत्न करने लगे। यह काम बड़ा ही मुश्किल था। क्योंकि सुलह की बातचीत के समय शिवाजी ने मुगल दरबार में हाजिर न होने के लिये साफ साफ कह दिया था। हाँ, उन्होंने अपने पुत्र को मुगल दरबार में भेजना स्वीकार कर लिया था। इसके कई कारण थे। पहली बात तो यह थी कि, शिवाजी को धूर्त औरंगजेब पर बिलकुल विश्वास न था। वे उसे पक्का विश्वासघाती और दुष्ट-स्वभाव का समझते थे। दूसरी बात यह थी कि उन्हें मुसलमान बादशाह के सामने सिर झुकाना बहुत बुरा मालूम होता था। वे बादशाह से दिली नफरत करते थे। महाराज शिवाजी स्वतंत्रता के पवित्र वायु-मंडल में पले थे। उनकी नस नस में स्वतंत्रता का पवित्र रक्त प्रवाहित हो रहा था। ऐसी दशा में उन्हें शाही तख्त के सामने हाथ जोड़े हुए खड़ा रहना कब पसन्द हो सकता था। जयसिंहजी ने शिवाजी को बहुत कुछ प्रलोभन दिया और कहा कि बादशाह आपको दक्षिण का वायसराय (सूबेदार) बनाकर भेज देंगे। साथ ही साथ इसी प्रकार के ओर भी कई प्रलोभन दिये गये। जयसिंहजी ने शपथ पूर्वक इस बात की प्रतिज्ञा की कि दिल्ली में आपको किसी प्रकार का धोखा न होगा। तब शिवाजी ने अपने कई मराठा सहयोगियों की सलाह से दिल्ली जाना निश्चय किया। सन्‌ 1666 के तीसरे सप्ताह में वे अपने बड़े पुत्र सम्भाजी, 7 विश्वासपात्र अधिकारी और 4 हज़ार सेना के सहित आगरा के लिये रवाना हुए। उन्हें मुगल सम्राट की आज्ञा से दक्षिण के खजाने से 1 लाख रुपया मार्ग-व्यय के लिये दिया गया। जयसिंहजी ने गाजीबैग नामक एक फौजी अधिकारी को शिवाजी के साथ भेजा। 9 मई को शिवाजी आगरा पहुँचे। 12 मई का दिन सम्राट से आपकी मुलाकात के लिये निश्चित किया गया।

 

 

इस दिन सम्राट औरंगजेब की 50 वीं वर्षगाँठ थी। आगरा का किला खूब सजाया गया था। बड़े बड़े राजा महाराजा तथा अन्य दरबारी सम्राट का अभिवादन करने के लिये उपस्थित हो रहे थे। ये सब लोग शाही तख्त के सामने बढ़े अदब के साथ खड़े थे। जब शिवाजी वहाँ पहुँचे तो कुंवर रामसिंह जी ने आगे बढ़ कर उनका स्वागत किया। शिवाजी ने सम्राट को 1500 सोने की मुहरें नज़र की और 6000 उन पर न्योछावर किये। ओरंगजेब जोर से बोला “आवो राजा शिवाजी पर थोड़ी ही देर के बाद सम्राट के संकेत से वे पीछे ले जाये गये और वे वहाँ खड़े किये गये जहाँ तीसरे दर्जे के सरदार खड़े थे। यह व्यवहार शिवाजी को बहुत बुरा मालूम हुआ। इस अपमान से उनका अन्तःकरण जलने लगा, उनकी आँखों से मानों चिंगारियाँ निकलने लगीं। वे कुंवर रामसिंह जी से गुस्सा होकर जोर से बोलने लगे। इस समय बादशाह और सब दरबारियों का ध्यान इस घटना की ओर गया। रामसिंह जी ने शिवाजी को शान्त करने का बहुत यत्न किया, पर कोई फल नहीं हुआ।शिवाजी गुस्से से इतने बेकाबू हो गये कि वे नीचे गिर पड़े। इस पर बादशाह ने पूछा, क्या बात है ? रामसिंह जी ने उत्तर दिया “यह सिंह जंगल का जानवर है, यहाँ की गर्मी इसके लिये असहय है, इसीलिये यह बीमार हो गया है।” इसके बाद कुँवर रामसिंह जी ने मज़लिसे ए आम में शिवाजी के इस व्यवहार के लिये क्षमा प्राथना करते हुए कहा कि–“थे दक्षिणी है ओर दरबार तथा शिष्टाचार की पद्धवियों से अपरिचित हैं।” औरंगजेब ने शिवाजी को वहाँ से हटा कर एक अलग कमरे में ले जाने की आज्ञा दी, साथ ही साथ उन पर गुलाब जल छिड़कने के लिये भी कहा। दरबार से लौट जाने पर शिवाजी ने औरंगजेब पर विश्वास घात का आरोप लगाया और उसे कहलवाया कि इससे तो बेहतर है कि तुम मेरी जान ले लो। यह बात औरंगजेब के कानों तक पहुँची। वह बहुत नाराज हुआ, उसने कुँवर रामसिंह जी को आज्ञा दी कि वह शिवाजी को शहरपनाह के बाहर जयपुर हाऊस में रख दे और उसकी निगरानी के लिये जिम्मेवार बने।

 

बीजापुर का युद्ध
बीजापुर का युद्ध

 

बस, फिर क्या था, शिवाजी बंदीगृह में पड़ गये। वे इस व्यवहार
से महादुखी हुए। उन्होंने अपनी मुक्ति के लिये कई ज़रियों से बड़ी कोशिश की पर असफल हुए। आखिर में शिवाजी ने किस युक्ति से अपनी मुक्ति की, यह बात इतनी जनश्रुत है कि यहाँ इस पर विशेष प्रकाश डालने की आवश्यकता नहीं। हाँ, यहाँ हम एक बात पर अवश्य पाठकों का ध्यान आकर्षित करेंगे। राजा जयसिंहजी ओर उनके पुत्र रामसिंह जी ने शिवाजी की सुरक्षिता के लिये जो प्रतिज्ञा की थी, उसका यथाशक्ति पालन किया। राजा जयसिंहजी ने जब शिवाजी की इस अवस्था का समाचार सुना तो वे दुःखी हुए । उन्होंने सम्राट से यह अनुरोध किया कि शिवाजी को कैद करने या मारने से ये किसी प्रकार का लाभ न उठा सकेंगे। शिवाजी को मित्र बनाने ही से सम्राट दक्षिण में अपनी सल्तनत को मज़बूत कर सकते हैं, और इसी से वे लोगों का विश्वास भी ग्रहण कर सकते हैं। उस समय राजा जयसिंह जी ने अपने पुत्र रामसिंह जी को जो अनेक पत्र लिखे थे, उसमें शिवाजी की सुरक्षिता के लिये बड़ा अनुरोध किया गया था। कुछ फ़ारसी इतिहास वेत्ताओं का मत है कि शिवाजी के निकल भागने के षड्यंत्र में महाराजा जयसिंह जी ओर उनके कुँवर रामसिंह जी का भी अप्रत्यक्ष हाथ था।

 

 

बीजापुर पर महाराजा जयसिंह जी (1665-66 )

 

 

महाराजा जयसिंह जी को दक्षिण भेजते समय औरंगजेब ने उनसे कह दिया था कि शिवाजी और बीजापुर के शासक दोनों ही को सजा दी जाये। पर जयसिंह जी ने यह कह कर कि “दोनों ही मूर्खों पर एक साथ हमला करना बुद्धिमानी का कार्य न होगा। इसलिये पहले अपनी सारी शक्तियों को शिवाजी के खिलाफ़ लगा देना चाहिये। इसी अनुसार जयसिंह जी ने अपनी सारी शक्ति का प्रयोग शिवाजी के विरुद्ध किया था। पुरन्दर की सन्धि के अनुसार महाराजा शिवाजी को अपने दो-तिहाई राज्य से हाथ धोकर मुगल साम्राज्य के आज्ञाकारी सरदारों की गिनती में अपना नाम लिख- वाना पड़ा। अतएव अब मुगल सेना की वक्र दृष्टि बीजापुर की आदिल शाही पर पड़ी। बीजापुर वालों के अपराध भी बहुत थे। सन्‌ 1657 के अगस्त की सन्धि के अनुसार उसने ( बीजापुर के शासक ने ) 1 करोड़ रुपये बतौर हर्जाने के और साथ ही साथ परेन्दा का किला उसके आस पास का प्रदेश ओर निजामशाही कोकन, सम्राट को दे देना मंजूर किया था। पर इसके बाद शाहजहाँ की बीमारी एवं तख्तनशीनी के लिये होने वाले झगड़ों से फायदा उठाकर उसने अपनी शक्ति प्रतिज्ञा का पालन नहीं किया। हाँ, औरंगजेब की तख्तनशीनी के समय उसने 86 लाख रुपये अवश्य सम्राट को नज़र किये थे। इसके अतिरिक्त सन्‌ 1665 के जनवरी मास में भी उसने अपने कोर्ट में स्थित मुगल राजदूत द्वारा सम्राट के पास 7 लाख रुपये नकद और 6 जवाहिरात से भरी हुई छोटी छोटी सन्दूकें भेजी थीं। पर यह रकम हर्जाने की कुल रकम के सामने कुछ भी नहीं थी। इसके सिवा अभी तक उसने सन्धि की शर्तों के अनुसार उक्त किला और उसके आसपास का प्रदेश भी सम्राट के सुपुर्द नहीं किया था। इसमें कोई शक नहीं कि सन्‌ 1660 के सितंबर सास में परेन्दा के किले पर मुगलों ने अधिकार कर लिया था। पर यह कार्य आदिलशाह की मर्जी से नहीं, बल्कि उक्त किले के सूबेदार को घूस देकर किया गया था। आदिलशाह की यह इच्छा नहीं थी कि किला मुगल सम्राट फो सौंप दिया जाये।

 

 

सन्‌ 1660 में बीजापुर के शासक ने शिवाजी पर आक्रमण किया
था। इस समय उसने मुगल सम्राट को कुछ और खिराज देने का अभिवचन देकर उसके साथ सहयोग कर लिया था। सम्राट ने भी इस बात को मंजूर कर लिया था। इस समय शाइस्ताखाँ द्वारा शिवाजी के किलों पर आक्रमण किये जाने का आदिलशाह ने बड़ा फायदा उठाया। मराठों का ध्यान शाइस्ताखाँ के आक्रमणों की तरफ बट जाने के कारण इस समय आदिलशाह अपने पन्हाला, पवनगढ़़ और दूसरे कई किलों को मराठों से मुक्त करने में समर्थ हुआ। पर अली आदिलशाह यह द्वितीय खिराज़ भी सम्राट को न दे सका। इतना ही नहीं, बल्कि वह यह कहने लगा कि मैंने तों अपनी मद॒द भेज कर शाइस्ताखाँ की सहायता की है। इस सहायता के लिये शाइस्ताखाँ ने भी मुझे यह अभिवचन दिया था कि वह सम्राट द्वारा मेरी खिराज की रकम में 10 लाख रुपये की कमी करवा देगा। इसमें तनिक भी सन्देह नहीं कि जब जयसिंहजी ने शिवाजी पर चढ़ाई की थी तब बीजापुर के सुलतान ने खवासखाँ की आधीनता में फौज की एक टुकड़ी मुगलों के सहायतार्थ भेजी थी। पर मदद मिलना तो दूर रहा, उल्टा जयसिंह जी को इस सेना से धोखा बना रहता था। मालूम नहीं होता था कि किस समय यह सेना बदल जाये। जयसिंह जी ने बीजापुरी जनरल पर इस बात का दोषा रोपण किया था कि वह जी लगा कर नहीं लड़ता था। उन्होंने इस सेना के लिये निम्न लिखित उद्गार प्रगट किये थे। “आदिलशाह ने मूर्खतावश मेरे साथ दगा किया है। बाहर से दिखाने के लिये उसने शिवाजी के राज्य पर सेना तो भेज दी, पर वह यह समझता है कि शिवाजी के बिलकुल नाश में मेरा भी अहित है। वह शिवाजी को अपने और मुगलों के बीच की दीवार समझ कर उसके गिरा दिये जाने में सहमत नहीं है। इसीलिये उसने शिवाजी से एक गुप्त सन्धि की है ओर उसी की तन, मन, धन से सहायता भी की है। उसने गोलकुंडा वाले को भी इस नीति में सहमत होने और शिवाजी को आर्थिक सहायता पहुँचाने के लिये समझाया है। एक तरफ तो वह यह कार्यवाहीयाँ कर रहा है, दूसरी तरफ सम्राट के पास ऐसे पत्र भेज रहा है कि जिनसे राज भक्ति टपकी पड़ती है।

 

 

असल बात यह थी कि सम्राट अकबर से लेकर औरंगजेब तक जितने भी मुगल सम्राट हुए, उन सबकी लोलुप दृष्टि बीजापुर पर लगी रहती थी। वे मौका पाते ही बीजापुर को हज॒म कर जाने की ताक में लगे रहते थे। यह बात बीजापुर के सुल्तान को भली भाँति विदित थी। वह जानता था कि मुगल सम्राट के साथ अपनी मित्रता बहुत समय तक नहीं टिक सकेगी। यही कारण था कि सुलतान ऊपरी दिल से तो सम्राट के प्रति मित्रता के भाव प्रदर्शित करता रहता था पर आन्तरिक हृदय से शिवाजी के साथ मेत्री कायम किये हुए था। शिवाजी की शक्ति को बिलकुल विनाश कर देने वाले किसी भी षड़यन्त्र में शामिल हो जाना उसके लिये नितान्त असंभव था। इस समय जयसिंह जी ने सम्राट को जो पत्र भेजा था इसकी एक पंक्ति हम यहाँ उद्धृत करते हैं। इस पंक्ति को पढ़ने से पाठकों को मालूम हो जायेगा कि मुगलों की बीजापुर के प्रति इस समय क्या नीति थी। वह पंक्ति ओर कुछ नहीं, यह थी कि “बीजापुर पर विजय प्राप्त कर लेना मानो दक्षिण विजय की प्रस्तावना है। शिवाजी के साथ होने वाले युद्ध के शान्त हो जाने पर महाराजा जयसिंह जी के पास की विशाल मुगल सेना बेकार पड़ी हुई थी। अतएव बीजापुर के साथ युद्ध छेड़ देना ही इस सेना को उपयोग में लाने का अच्छा साधन समझा गया।

 

 

महाराजा जयसिंह जी की विशाल नीति-मत्ता

 

 

अब महाराजा जयसिंहजी ने अपनी बुद्धिमत्ता से सुलतान के साथ युद्ध छेड़ने का क्षेत्र तैयार करना शुरू किया। उन्होंने ऐसे उपायों का अवलम्बन किया, जिनसे कि बीजापुर सुल्तान त्रस्त हो जाये। इस सम्बन्ध में जयसिंह जी का पहला कार्य शिवाजी और सुल्तान के बीच वेमनम्य पैदा करा देना था। इसी विचार को ध्यान में रखते हुए पुरन्दर की सन्धि के समय उन्होंने बीजापुर वालों का समुद्र के किनारे का प्रान्त और साथ ही पश्चिमीय घाट का कुछ प्रदेश शिवाजी को हमेशा के लिये दे डाला था। इस भूभाग के बदले में उन्होंने शिवाजी से 40 लाख हन अर्थात 2 करोड़ रुपया प्रति वर्ष लेना निश्चित किया। जयसिंहजी के इस बुद्धिमत्तापूर्ण कार्य से मुगल-साम्राज्य का तीन तरह से फायदा हुआ। एक तो यह कि 2 करोड़ रुपया प्रतिवर्ष सम्राट के खजाने में जमा होने लगा। दूसरा शिवाजी और बीजापुर के सुल्तान के बीच झगड़ा शुरू हो गया और तीसरे यह कि मुगल सेना की उक्त जंगली प्रान्तों में जाकर युद्ध करने की तकलीफ बच गई। इतना ही नहीं, वरन इस समझौते के अनुसार शिवाजी ने जयसिंह जी को बीजापुर सुल्तान के खिलाफ 9000 सेना के साथ मदद देने का भी वचन दे दिया। महाराजा जयसिंह जी इतना ही करके चुप नहीं रह गये। उन्होंने बीजापुर के कई जमींदारों से भी मुगलों के आश्रय में आ जाने के लिये पत्र-व्यवहार शुरू कर दिया। उक्त ज़मीदारों को इस बात का प्रलोभन दिखाया गया कि अगर वे शाही आधीनता स्वीकार कर लेंगे तो उनको मुगल सेना में अच्छे अच्छे पद प्रदान किये जावेंगे। जब आदिलशाह ने इस बात का विरोध किया तो उससे कहा गया कि मुगल सम्राट के प्रतिनिधि हमेशा से ऐसा करते आये हैं। शरणागत की आश्रय देना उनका कर्तव्य है। कर्नाटक के जमीदार और कर्नूल तथा जंजीरा प्रान्त स्थित अबीसीनियन लोग भी महाराजा जयसिंह जी द्वारा अपने पक्ष में मिला लिये गये। यहाँ तक कि बीजापुर के जनरल और,मंत्री तक मुग़लों के पक्ष में कर लिये गये। इन कार्यों में जयसिंह जी को रुपया भी बहुत खर्च करना पडा।

 

 

मुल्ला अहमद नामक एक अरब बीजापुर दरबार में अच्छे पद पर
नियुक्त था। वहाँ के प्रधान अधिकारियों में प्रधान मंत्री अबुल महमद को छोड़ कर दूसरा नंबर उसी का था। महाराजा जयसिंह जी ने इसको भी अपने चंगुल में ले लिया। औरंगजेब से कह कर उसे अपनी सेना में 6000 सैनिकों का संचालक नियुक्त कर दिया। इसके अतिरिक्त 22 लाख रुपये उसे खर्च के लिये भी दिये गये। इसमें कोई शक नहीं कि जयसिंहजी युद्ध-नीति के प्रकाण्ड परिणत थे। उन्होंने बीजापुर के सुल्तान को शान्ति कायम रखने का वचन दे दिया जिससे कि वह युद्ध की तैयारी भी न कर सका। अपनी कोटे में स्थित बीजापुर के राजदूत को उन्होंने यह कह कर समझा दिया कि “सम्राट की तरफ से बीजापुर पर आक्रमण करने का हमको कोई हुक्म नहीं मिला है। हां, खिराज के एक लम्बे अर्से से चले आये हुए झगड़े को सुलझाने का हुक्म जरूर मिला है। इधर तो बीजापुर राजदूत को इस प्रकार समझा दिया ओर उधर अपने रामा और गोविन्द नामक दो पडितों को आदिलशाह के पास इसलिये भेज दिये कि वे वहां जाकर सुल्तान के हृदय में इस बात का विश्वास जमा दें कि जयसिंह जी की इच्छा बिलकुल युद्ध करने की नहीं है। पर सच पूछा जाय तो जयसिंह जी की इच्छा शान्ति कायम रखने की कदापि नहीं थी। उन्होंने अपने एक गुप्त-पत्र में सम्राट को लिखा था कि “अगर आदिलशाह मेरे पास खिराज़ का झगड़ा तय करने के लिये अपना दूत भेजेगा तो में उसके सामने ऐसी ऐसी कठिन शर्तें पेश करूगां जिनको संभव है कि वह मंजूर ही न कर सके। इधर गोलकुंडा के सुल्तान कुतुब शाह से भी जयसिंह जी ने अपनी तरफ मिल जाने का अनुरोध किया। इस सम्बन्ध में जयसिंह जी ने औरंगजेब को जो पत्र लिखा था उसकी कुछ पंक्तियों का सारांश नीचे दिया जाता है। “अब कुतुबशाह को बीजापुर सुल्तान से विमुख करके सम्राट की तरफ मिलाना अत्यन्त अनिवार्य है। अतएव मेंने उसको आश्वासन देकर उसके साथ मेत्री स्थापित कर ली है। अगर पर्दा खुल गया और उसको (कुतुब शाह को) असली बात का पता चल गया तो वह आदिलशाह की तरफ मिल सकता है।

 

 

जयसिंह जी की फौजी तैयारियों

 

 

इस प्रकार चारों तरफ अपनी राजनीति का जाल बिछा कर जय सिंह जी अपनी सैनिक तैयारियों करने लगे। उनकी आधीनता में इस समय 40 हजार थल सेना थी। यहाँ यह बात ध्यान में रखनी चाहिये कि उक्त 40 हजार सेना में वह सहायक-सेना शामिल नहीं है, जो कि शिवाजी तथा दूसरे सहायकों द्वारा मुगलों की मदद पर आई हुई थी। शिवाजी ने 7000 बहादुर मराठा सैनिक नेताजी परलकर की आधीनता में तथा 2000 सैनिक अपने पुत्र के साथ जयसिंह जी की मदद के लिये भेजे। पाठकों को मालूम होगा कि उक्त नेताजी परलकर अपनी बहादुरी एवं रण-पटुता के कारण महाराष्ट्र भर में “दूसरे शिवाजी” के नास से सम्बोधित होते थे। इस समय शिवाजी बीजापुर-राज्य के दूसरे प्रान्तों में स्थित किलों पर अधिकार करने तथा आसपास के मुल्कों में गड़बड़ मचाने में लगे हुए थे। इस कार्य को जयसिंह जी ने अपने लिये हितकर समझा और यही कारण था कि उन्होंने इस समय शिवाजी से मुगल सेना में सम्मिलित होने के लिये आग्रह नहीं किया। जयसिंह जी छत्रपति शिवाजी को एक चतुर सेना नायक समझते थे। इसके लिये उन्होंने एक समय अपने पत्र में बादशाह को भी लिख भेजा था। उन्होंने लिखा था कि “ इस युद्ध में शिवाजी अत्यन्त बहुमूल्य सहायक हो सकते हैं। अतएव इसमें उनकी उपस्थिति एकान्त अनिवार्य है। अब खफीखाँ शिवाजी की उपयोगिता के सम्बन्ध में क्‍या उद्धार प्रगट करते हैं, वह भी सुन लीजिये। उन्होंने कहा था कि “शिवाजी और नेताजी किलों पर अधिकार करने के कार्य में प्रकाण्ड पंडित और सिद्धहस्त हैं। चूंकि बीजापुर वालों के साथ प्रसिद्ध ‘मालिक-सेदान’ नामक तोप मौजूद थी इसलिये जयसिंह जी ने भी युद्ध शुरू करने के पहले 40-50 तोपें दक्षिण के किलों से अपने पास मंगवा लीं। इस प्रकार युद्ध सम्बन्धी तमाम तैयारियाँ कर लेने पर जयसिंह जी ने सम्राट औरंगजेब को एक पत्र लिखा। इस पत्र में उन्होंने लिखा कि “हमारी सेना बिलकुल तैयार है। अब युद्ध छेड़ने में एक दिन की भी देर करना मानो एक वर्ष का नुक्सान करना होगा क्योंकि शत्रु भी अपनी तैयारी करने में लग गया है। महाराजा जयसिंह जी की इच्छा थी कि आदिलशाह को सावधान होने का मौका ही न दिया जाय और अचानक उस पर हमला कर दिया जाये। इसी समय उनको अपने बीजापुर स्थित संवाददाता से खबर लगी कि शत्रु की सेना इस समय बिलकुल अव्यवस्थित दशा में है और आपस में लड़ाई झगडू करने में लगी हुईं है। यहाँ की सेना अपने शत्रु का मुक़ाबला करने के लिये बिलकुल तैयार नहीं है। अतएव ज्योंही सम्राट की सेना यहां आ धमकेगी त्योंही आदिलशाह के बहुत से सरदार इसमें आ मिलेंगे। इस प्रकार बिना किसी कठिन प्रयास के ही बीजापुर सुल्तान हरा दिया जा सकेगा।

 

 

अब तो जयसिंहजी युद्ध छेड़ने के लिये बड़े उत्सुक हो गये। पर मन मसोस कर रह जाने के सिवाय वे कुछ नहीं कर सके। इस सुवर्ण अवसर का वे सदुपयोग नहीं कर सके। इसका कारण और कुछ नहीं, सिर्फ रुपयों की कमी थी। शिवाजी के साथ के युद्ध में वे 22 लाख रुपये खर्च कर चुके थे इसलिये अब उनके पास कुछ नहीं रह गया था। सिपाहियों की छः छः महीनों की तनख्वाहें चढ़ गई थीं और वे भूखों मरने लग गये थे। अतएव महाराजा जयसिंह जी ने युद्ध न छेड़कर पहले सम्राट को रुपयों के लिये लिखा। जयसिंह जी ने 20 नवम्बर को ही बीजापुर पर आक्रमण करने का निश्चय किया था परन्तु रुपये समय पर न आने के कारण उनको रुकना पड़ा। निदान 12 नवम्बर को सम्राट के पास से 20 लाख रुपये आये और साथ ही 10 लाख रुपये दक्षिण के दीवान ने भी भिजवा दिये। रुपयों के आते ही महाराजा जयसिंह जी ने अपने सैनिकों की तनख्वाहें चुका दीं और 19 वीं तारीख को पुरन्दर से प्रस्थान कर दिया। रास्ते में बीजापुर का अब्दुल महमद मियाना नामक सरदार अपने अफगान सिपाहियों सहित मुगल सेना में आ मिला। पर आदिलशाही सेना के अफगानों का खास जत्था जो कि अब्दुल करीम बहलोल की आधीनता में था स्वामिभक्त बना रहा। युद्ध के पहले महीने में तो महाराजा जयसिंह जी को विजय पर विजय प्राप्त होती गई। किसी ने उनका विरोध तक नहीं किया। पुरन्दर से मंगल वारिया तक के तमाम बीजापुरी किलों पर मुग़लों का आधिपत्य हो गया। निदान 24वीं दिसंबर को बीजापुरी सेना से मुगल सेना का मुक़ाबिला हुआ।

 

 

पहली लड़ाई

 

 

25 दिसम्बर के दिन दिलेर खाँ और शिवाजी अपने कैम्प से 10
मील आगे बढ़कर बीजापुरी सेना पर आक्रमण करने के लिये भेजे गये। बीजापुर सुल्तान की तरफ से शारजाखाँ ओर खबासखाँ नामक बहादुर जनरल 12000 सेना के साथ इनका मुकाबला करने के लिये आ डटे। कल्याण के सरदार यदुराव और शिवाजी के सौतेले माई बेंकोजी भी बीजापुरी सेना की तरफ से इस लड़ाई में शामिल थे। इस युद्ध में बीजापुरी सेना थे बड़ी बहादुरी और रण-कुशलता का परिचय दिया, पर दिलेरखाँ और शिवाजी के सामने उनकी एक न चली। शाम होते होते बीजापुरी सेना युद्ध- क्षेत्र से पीछे हट गई। इसका एक जनरल और 157 कप्तान काम आये। पर ज्योंहि मुगल सेना ने अपने कैम्प की तरफ मुँह फेरा कि बीजापुरी सेना ने उस पर फिर से भयंकर आक्रमण कर दिया। अब मुगल सेना को लेने के देने पड़ गये। मुगल सेना पर आपत्ति का पहाड़ टूट देख जयसिंह जी ने उसकी मदद के लिये और सेना भेजी। निदान यदुराव को गोली लग जाने के कारण बीजापुरी सेना वापस लीट गई। दोनों पक्षों का भयंकर नुक्सान हुआ। दो दिन इस स्थान पर ठहर कर जयसिंह जी फिर आगे बढ़ने लगे। 28 तारीख की दुपहर को उन्हें ख़बर मिली कि शत्रु की सेना एक मील के अन्तर पर है और बड़े जोरों से आगे बढ़ रही है। योग्य रक्षकों की आधीनता में कैम्प को छोड़कर वे मुकाबले के लिये आगे बढ़े। भयंकर युद्ध हुआ ओर अन्त में बीजापुरी सेना मैदान छोड़कर भागी। मुगल सेना ने छः मील तक उनका पीछा किया।

 

 

तारीख 29 को जयसिंह जी ने बीजापुर से 12 मील के अन्तर पर
अपना पड़ाव जा डाला। हम ऊपर कह चुके हैं कि आर्थिक कठिनाई के कारण महाराजा जयसिंह जी को पुरन्दर से रवाना होने में बहुत देर हो गई थी। अतएवं उनके बीजापुर के पास पहुँचने न पहुँचने तक अली आदिलशाह अपनी तमाम तैयारियाँ कर चुका था। उसने अपने आधीनस्थ तमाम सरदारों को बीजापुर में एकत्रित कर लिये थे किले की मरम्मत करवा ली थी और युद्ध में काम आने वाली समग्र सामग्री भी जुटा ली थी। उसने 30 हज़ार कर्नाटकी सिपाहियों को जो कि अपनी बहादुरी के लिये मशहूर होते हैं, तमाम आवश्यक सामग्री सहित दुर्ग की रक्षा के लिये नियुक्त कर दिये। इतना ही नहीं उसने बीजापुर के पास के नोरासपुर ओर शाहपुर नामक दोनों तालाबों के बाँध तुड़वा दिये तथा आसपास के छः छः मील तक की दूरी के कुँओ को मिट्टी से भरवा दिये जिससे कि मुगल सेना को पानी तक पीने के लिये न मिले। इधर तो शत्रु ने इतने जोरों की तैयारियाँ कर ली थीं और उधर जयसिंह जी जल्दबाजी में पूरा तोपखाना भी अपने साथ नहीं लाये थे। उनकी भारी भारी तोपें परेन्दा के किले में ही रह गई थीं। निदान 20 हजार बीजापुरी सेना मुग़ल सेना का सामना करने के लिये मैदान में आ डटी। इसी बीच में खबर लगी कि गोलकुंडा से भी एक विशाल सेना आदिलशाह की मदद के लिये आ रही है। बीजापुर वालों द्वारा अपने आस पास के जलाशयों को नष्ट कर डालने से महाराजा जयसिंह जी की सेना को केवल जल कष्ट ही उठाना पड़ा हो ऐसी बात नहीं थी, वरन उन्हें भूखों भी मरना पड़ा था। कारण की उसके साथ के अन्न से लदे हुए बैल भी घास पानी न मिलने से आगे न बढ़ सके थे। उक्त कारणों से “युद्ध की कौन्सिल ने मुगल सेना को वापस लौट जाने की सलाह दी।

 

 

सन्‌ 1666 की 5वीं जनवरी को मुगल सेना वापस लौट गई इस महीने में मुगल सेना को कई बड़ी बड़ी मुसीबतों का सामना करना पड़ा। 12वीं जनवरी को मुग़लों का बहादुर कप्तान सिकन्दर खां अपनी सेना के साथ बीजापुरियों द्वारा कत्ल कर दिया गया। तारीख 16 को पन्हाला के किले पर आक्रमण करते समय शिवाजी के एक हज़ार सिपाही शत्रुओं द्वारा काट डाले गये और शिवाजी की हार हुई। तारीख 20 के दिन समाचार मिला कि नेताजी परलकर बीजापुरियों से जा मिल है। 31 वीं जनवरी को रजाकुली की आधीनता में 12 हजार सवार और 40 हजार पैदल सेना मुगलों के खिलाफ बीजापुर के सुल्तान से आ मिली।

 

 

जयसिंह जी आपत्ति में

 

जयसिंहजी बीजापुर पर चढ़ाई करके बड़ी आपत्ति में आ फंसे उनकी दशा साँप छछूंदर की सी हो गई। वे न तो बीजापुर पर आक्रमण ही कर सकते थे और न वापस ही लौट सकते थे। वे चारों तरफ से शत्रु-सेन्य से घिर गये थे। निदान बड़ी मुश्किलों से वे वापस लौटने में समर्थ हुए। फिर भी लोहारी आदि स्थानों पर उनको शत्रु का मुकाबला करना ही पड़ा। यह लड़ाई बड़ी ही भयंकर थी। इसमें मुगल सेना के 180 आदमी मारे गये और 250 घायल हुए। इसके विपरीत शत्रु सेना के 400 आदमी मारे गये और 1000 घायल हुए बीजापुरी सेना जयसिंह जी तक आ पहुँची थी कि उनके बहादुर राजपूत सिपाहियों ने बड़ी वीरता के साथ उसे पीछे हटने को मजबूर किया। एक ही मास के अन्दर इस प्रकार की 4-5 लड़ाईयां लड़ लेने के कारण मुगल सेना बिलकुल थक गई थी। इतने ही में समाचार मिला कि मंगलवीरा के किले को शत्रु ने घेर लिया है। इससे महाराजा जयसिंह जी की सेना में और भी निराशा फेल गई। जयसिंह जी ने दाऊदखाँ और कुतुबुद्दीन खाँ को किले की रक्षा के लिये जाने का हुक्म दिया, परन्तु उक्त जनरलों ने इस हुक्म पर कुछ भी ध्यान नहीं दिया। इस विषय में जयसिंह जी ने बादशाह को इस प्रकार लिखा था–”इन सेना नायकों ने कुछ दिन तो व्यर्थ के वाद विवाद में बिता दिये, अन्त में जब इन पर दबाब डाला गया तो इन्होंने जाने से इन्कार कर दिया और कहा कि वामपार्श्व की सेना राजा रायसिंह जी की आधीनता में भेजी जाये तो हम जाने को तैयार हैं। में इस प्रस्ताव में सहमत होन के सिवाय और कुछ नहीं कर सका। जब ये तीनों जनरल अपनी सेना सहित मंगलबीरा पहुँचे तो शत्रु-सेन्य घेरा उठा कर लौट गई। बहलोल खाँ और नेताजी ने बिडर कल्याणी जिले में उत्पात मचा रखा था। इनको शांत करना भी अत्यंत आवश्यक था। अतएव जयसिंह जी 20 फरवरी को उधर की तरफ रवाना हुए।

 

 

भीमा-मंजीरा का युद्ध

 

अब युद्ध ने कुछ ओर ही रंग बदला। युद्ध साढ़े तीन महीने तक
रहा। इस अवधि में जयसिंहजी को 4 और भीषण युद्ध करने पड़े । हर बार बीजापुरी सेना को हारकर पीछे हटना पड़ता था। पर मुगल-सेना उसे पूर्ण रूप से नहीं हरा पाई थी। अतएव उसका मुगल सेना के आसपास चक्कर लगाते रहना और मौक़ा पाते ही उस पर आक्रमण कर देने का कार्यफिर भी जारी रहा। यद्यपि धोकी, गंजोटी ओर नीलांग के किलों पर मुगलों का अधिकार हो गया तथापि इससे विशेष फायदा कुछ नहीं हुआ। निदान मई मास में युद्ध की नयी स्कीम तैयार की गई। चूंकि मुगल सेना के साथ बहुत सा युद्ध सम्बन्धी सामान रहता था अतएव बहुत दूर तक दुश्मन का पीछा करके उसे बिलकुल परास्त कर देना उसके लिये बहुत मुश्किल था। इस कठिनाई से मुक्त होने के लिये जयसिंहजी ने अपनी सेना को बहुत कम करने का निश्चय किया। इस निश्चय के अनुसार उन्होंने युद्ध सम्बन्धी तमाम आवश्यकता से अधिक सामान को धरूर नामक स्थान में रख दिया ओर उसकी रक्षा के लिये मज़बूत सेना भी वहाँ रख दी। इस प्रकार अपनी सेना को कम करके फिर युद्ध आरम्भ कर दिया। 16 वीं मई को यह सेना संजीरा के किनारे से चलकर सीना नदी को पार करती हुईं भीमा के किनारे पर जा पहुँची, पर यहाँ पहुँचते पहुंचते मुगल सेना बिलकुल अस्त व्यस्त हो गई थी। मुगल सैनिक खाद्य सामग्री की कमी और लम्बी मंजिलों को तय करने के कारण थक गये थे। वर्षा-ऋतु आरंभ हो गई थी अतएवं सम्राट ने जयसिंह जी को औरंगाबाद लौट जाने का हुक्म दिया। इसके साथ ही तमाम सेना को भी कुछ समय के लिये आराम करने का हुक्म दे दिया गया। इस प्रकार युद्ध स्थगित कर दिया गया।

 

 

मंगलवीरा का किला मुगल सरहद से बहुत दूर पर था जिसके कारण उसकी रक्षा के लिये वहाँ बड़ी भारी सेना का रखना आवश्यक था। अतएव जयसिंह जी ने वहाँ से अपनी सेना और युद्ध सम्बन्धी तमाम सामान हटवा लिया। जो कुछ बचा रह गया वह जला दिया गया। फल्टन के किले से भी मुगल सेना हटा ली गई और वह शिवाजी के दामाद महादजी निम्बालकर को दे दिया गया। इस प्रकार मुगलों के अधिकार में इस समय पहली विजय द्वारा प्राप्त स्थानों में से एक भी स्थान नहीं रहा। 31 वीं मार्च के दिन महाराजा जयसिंह जी ने सम्राट की आज्ञानुसार उत्तर की तरफ प्रस्थान कर दिया। 10 वीं जून को जयसिंह जी भूम नामक स्थान पर पहुँचे। यहाँ साढ़े तीन महीने रहकर 28 सितंबर के दिन बीर नामक स्थान की तरफ रवाना हुए। 17 नवम्बर तक आपने यहाँ मुकाम रखा और फिर औरंगाबाद जाकर मुकाम किया। इधर बीजापुर और गोलकुंडा की सेना भी थक गई थी अतएव उन्होंने सुलह के लिये पैग़ाम भेजे।

 

 

महाराजा जयसिंह जी का दुखमय अंत

 

बीजापुर के साथ होने वाले युद्ध में पराजय मिलने के कारण सम्राट औरंगजेब जयसिंह जी से असंतुष्ट हो गया। उसने जयसिंह जी की पूर्व सेवाओं का कुछ भी खयाल न करते हुए उन्हें अपने पद से अलग कर दिया और युवराज मुअज्जम को उससे चार्ज ले लेने के लिये भेज दिया। इतना ही नहीं, सम्राट ने वह एक करोड़ रुपया भी जयसिंह जी को वापस नहीं लौटाया जो कि उन्होंने अपनी जेब से युद्ध में खर्च किया। सन 1667 के मई मास में औरंगाबाद में जयसिंह जी ने मुअज्जम को चार्ज दे दिया। चार्ज दे देने पर वे उत्तर हिन्दुस्तान की तरफ रवाना हुए। पर सम्राट द्वारा किया हुआ अपमान तथा वृद्धावस्था ओर तिसपर भी रोगग्रस्त होने के कारण 2 जुलाई सन्‌ 1667 में बुरहान में आपका स्वर्गवास हो गया। इस प्रकार इस वीर सेना-नायक ने आजन्म अपने कृतज्ञ स्वामी की सेवा करते करते अपने प्राण विसर्जन किये।

 

 

जयसिंह जी की निर्दोषिता

 

जयसिंहजी अपने जीवन में सिर्फ एक ही वक्त हारे पर अहसान
फ्रामोश औरंगजेब उन्हें एक बार भी माफी देने की उदारता नहीं दिखा सका। स्मरण रहे कि इस युद्ध में जयसिंह जी के सामने कई कठिनाइयाँ दरपेश थीं। उनकी थोड़ी सी मुगल सेना बीजापुर के समान विशाल और समृद्धिशाली राज्य पर विजय प्राप्त करने के लिये बिलकुल ही अयोग्य थी। उनके पास का युद्ध सम्बन्धी सामान और खाद्य पदार्थ इतना कम था कि वह दो महीने भी मुश्किल से चल सके। इतना ही नहीं, उनके पास घेरा डालने के काम में आने लायक तोपें तक न थीं। इसके विपरीत बीजापुर राज्य कटी दशा इस समय वैसी गिरी हुई नहीं थी, जैसी कि कुछ वर्ष बाद स्वयं औरंगजेब द्वारा उस पर की गई चढ़ाई के समय हो गई थी। बीजापुर सुल्तान एक योग्य और कार्य-शील शासक था। अतएव उसके प्रयत्नों से बीजापुर के सरदार अपने आपसी झगड़ों को भुला कर जयसिंह जी के विरुद्ध लड़ने के लिये तैयार हो गये थे। इतना ही नहीं, कुतुबशाह आदि आस पास के कई जमींदार तक अपने सर्वसामान्य शत्रु ( जयसिंहजी ) को विफल मनोरथ करने पर तुल गये।

 

 

स्वयं महाराजा जयसिंह जी ने सम्राट को इस विषय पर लिखा था आप जानते हैं कि शिवाजी का राज्य कितना छोटा सा है। तिसपर भी मुगल सेना को उससे कितने दिनों तक लड़ते रहना पड़ा था। सचमुच बीजापुर के समान राज्य के विरुद्ध युद्ध छेड़ने के पहले बड़े संगठन की आवश्यकता है।” महाराजा जयसिंह जी की सेना सिर्फ कम ही हो, सो बात नहीं थी । उसमें नियम-पालकता की भी कमी थी । उनकी सेना में ऐसे आदमी भी थे जो कि शत्रुओं से मिले हुए थे। जयसिंह जी के पास शत्रु की गति विधि का सन्देशा पहुँचाने वाले तमाम दूत दक्षिणी थे; जो कि पैसे के बड़े लोभी होते हैं। अतएव बीजापुर सुल्तान उनके द्वारा मुगल सेना की गति विधि को जान लिया करता था। ऐसी स्थिति में विजय प्राप्त कर लेना जयसिंहजी के लिये तो क्या किसी भी सेना-नायक के लिये असम्भव था। जयसिंहजी की राजनीतिज्ञता और युद्ध चातुर्यता के लिये हम इतना ही कह देना पर्याप्त समझते हैं कि स्वयं औरंगजेब अपनी समस्त शक्तियों को लगा कर भी 18 महीने तक लगातार घेरा डाले रहने पर–बीजापुर को हस्तगत कर सका था। जयसिंहजी की मृत्यु के सम्बन्ध में भिन्न भिन्न इतिहास लेखकों के भिन्र भिन्न मत हैं । सुप्रख्यात इतिहास-वेत्ता टॉड साहब का कथन है कि “जयसिंहजी अपने पुत्र किरतसिंह जी द्वारा मारे गये” पर History of Aurangzeb के लेखक यदुनाथ सरकार इससे मतभेद प्रगट करते हैं। इनका कहना है कि “ महाराजा जयसिंह जी की मृत्यु का आरोप उनके सेक्रेटरी उदयराज पर लगाया गया था। मनुस्सी के कथनानुसार सम्राट औरंगजेब ने महाराजा जयसिंह जी को विष दिलवा दिया था। उक्त किंवदंतियों में कौन सी सत्य है ओर कौन सी झूठ है इसका निर्णय हम पाठकों पर ही छोड़ते हैं। महाराजा जयसिंह जी के बाद रामसिंह जी और रामसिंह जी के बाद बिशनसिंह जी आमेर की राजगद्दी पर बिराजे। पर ये दोनों ही नरेश शक्तिहीन थे। सन्‌ 1677 में बिशनसिंह जी का स्वर्गवास हो गया। अब महाराजा जयसिंह जी ( द्वितीय ) जो कि सवाई जयसिंह जी के नाम से प्रसिद्ध हैं, राज्य-सिंहासन पर बिराजे।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

 

नवाब सुल्तान जहां बेगम
नवाब शाहजहां बेगम के बाद भोपाल की बेगम साहबा, नवाब सुल्तान जहां बेगम जी० सी० एस० आई०, जी० सी० आई० Read more
नवाब सिकन्दर जहां बेगम
सन्‌ 1857 में भारत में भयंकर विद्रोह अग्नि की ज्वाला भड़की। इस की चिनगारियाँ देखते देखते सारे भारतवर्ष में फैल Read more
नवाब शाहजहां बेगम भोपाल रियासत
सन्‌ 1844 में केवल 27 वर्ष की उम्र में नवाब जहांगीर मोहम्मद खान ने परलोक-यात्रा की। नवाब जहांगीर मोहम्मद खान ने Read more
नवाब जहांगीर मोहम्मद खान का मकबरा
नवाब नजर मोहम्मद खान के कोई पुत्र न था। उनकी सिकन्दर बेगम नाम की केवल एक पुत्री थी। अतएव ब्रिटिश Read more
नवाब हयात मोहम्मद खान चित्र उपलब्ध नहीं
नवाब फैज मोहम्मद खान के कोई पुत्र न था। अतएव उनके भाई हयात मोहम्मद खान मसनद पर बेठे। इस पर मृत Read more
नवाब फैज मोहम्मद खान का मकबरा भोपाल
नवाब यार मोहम्मद खान के पाँच पुत्र थे। सब से बढ़े पुत्र का नाम फैज मोहम्मद था। मसनद के लिये फिर Read more
यार मोहम्मद खान चित्र उपलब्ध नहीं
भोपाल रियासत के संस्थापक व भोपाल रियासत के प्रथम नवाब दोस्त मोहम्मद खान थे, सन् 1726 में दोस्त मोहम्मद खान Read more
नवाब दोस्त मोहम्मद खान
भोपाल रियासत के मूल संस्थापक का नाम नवाब दोस्त मोहम्मद खान है। आपने सन् 1708 में अफगानिस्तान के खैबर प्रान्त Read more

 

 

मलिका किश्वर
मलिका किश्वर साहिबा अवध के चौथे बादशाह सुरैयाजाहु नवाब अमजद अली शाह की खास महल नवाब ताजआरा बेगम कालपी के नवाब Read more
बेगम कुदसिया महल
लखनऊ के इलाक़ाए छतर मंजिल में रहने वाली बेगमों में कुदसिया महल जेसी गरीब परवर और दिलदार बेगम दूसरी नहीं हुई। Read more
बेगम शम्सुन्निसा
बेगम शम्सुन्निसा लखनऊ के नवाब आसफुद्दौला की बेगम थी। सास की नवाबी में मिल्कियत और मालिकाने की खशबू थी तो बहू Read more
बहू बेगम
नवाब बेगम की बहू अर्थात नवाब शुजाउद्दौला की पटरानी का नाम उमत-उल-जहरा था। दिल्‍ली के वज़ीर खानदान की यह लड़की सन्‌ 1745 Read more
नवाब बेगम
अवध के दर्जन भर नवाबों में से दूसरे नवाब अबुल मंसूर खाँ उर्फ़ नवाब सफदरजंग ही ऐसे थे जिन्होंने सिर्फ़ एक Read more
सआदत खां बुर्हानुलमुल्क
सैय्यद मुहम्मद अमी उर्फ सआदत खां बुर्हानुलमुल्क अवध के प्रथम नवाब थे। सन्‌ 1720 ई० में दिल्ली के मुगल बादशाह मुहम्मद Read more
नवाब सफदरजंग
नवाब सफदरजंग अवध के द्वितीय नवाब थे। लखनऊ के नवाब के रूप में उन्होंने सन् 1739 से सन् 1756 तक शासन Read more
नवाब शुजाउद्दौला
नवाब शुजाउद्दौला लखनऊ के तृतीय नवाब थे। उन्होंने सन् 1756 से सन् 1776 तक अवध पर नवाब के रूप में शासन Read more
नवाब आसफुद्दौला
नवाब आसफुद्दौला– यह जानना दिलचस्प है कि अवध (वर्तमान लखनऊ) के नवाब इस तरह से बेजोड़ थे कि इन नवाबों Read more
नवाब वजीर अली खां
नवाब वजीर अली खां अवध के 5वें नवाब थे। उन्होंने सन् 1797 से सन् 1798 तक लखनऊ के नवाब के रूप Read more
नवाब सआदत अली खां
नवाब सआदत अली खां अवध 6वें नवाब थे। नवाब सआदत अली खां द्वितीय का जन्म सन् 1752 में हुआ था। Read more
नवाब गाजीउद्दीन हैदर
नवाब गाजीउद्दीन हैदर अवध के 7वें नवाब थे, इन्होंने लखनऊ के नवाब की गद्दी पर 1814 से 1827 तक शासन किया Read more
नवाब नसीरुद्दीन हैदर
नवाब नसीरुद्दीन हैदर अवध के 8वें नवाब थे, इन्होंने सन् 1827 से 1837 तक लखनऊ के नवाब के रूप में शासन Read more
नवाब मुहम्मद अली शाह
मुन्नाजान या नवाब मुहम्मद अली शाह अवध के 9वें नवाब थे। इन्होंने 1837 से 1842 तक लखनऊ के नवाब के Read more
नवाब अमजद अली शाह
अवध की नवाब वंशावली में कुल 11 नवाब हुए। नवाब अमजद अली शाह लखनऊ के 10वें नवाब थे, नवाब मुहम्मद अली Read more
नवाब वाजिद अली शाह
नवाब वाजिद अली शाह लखनऊ के आखिरी नवाब थे। और नवाब अमजद अली शाह के उत्तराधिकारी थे। नवाब अमजद अली शाह Read more

write a comment

%d bloggers like this: