बेंजामिन फ्रैंकलिन का जीवन – बेंजामिन फ्रैंकलिन की खोज?

बेंजामिन फ्रैंकलिन

“डैब्बी”, पत्नी को सम्बोधित करते हुए बेंजामिन फ्रैंकलिन ने कहा, “कभी-कभी सोचता हूं परमात्मा ने ये दिन हमारे लिए यदि दुगुने लम्बे बनाए होते, तभी मैं वास्तव में कुछ काम की चीज़ दे जा सकता।”— वास्तव में कुछ काम की चीज़ दे जा सकता ? बेंजामिन फ्रैंकलिन की दुनिया को कितनी ही देने हैं, और सभी एक से एक बढ़कर–राष्ट्रीय जीवन में भी, अन्तर्राष्ट्रीय जीवन में भी, विज्ञान में, आविष्कारों में, शिक्षा में, साहित्य में, प्रकाशन-व्यवस्था में, सामाजिक सेवा में, तथा अन्तर्राष्ट्रीय राजनीति में। कुछ कल्पना कर सकना मुश्किल हैं कि, यदि दिन सचमुच दुगुने या तिगुने बड़े होते तो, वह और क्या-कुछ कर जाता ?। इसी महान वैज्ञानिक का उल्लेख हम अपने इस लेख में करेंगे और निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर विस्तार से जानेंगे :—

 

 

बेंजामिन फ्रैंकलिन की आत्मकथा? बेंजामिन फ्रैंकलिन कौन थे? बेंजामिन फ्रैंकलिन किसके वैज्ञानिक थे? बेंजामिन फ्रैंकलिन के विचार क्या थे? बेंजामिन फ्रैंकलिन ने कितनी शिक्षा प्राप्त की थी? बेंजामिन फ्रैंकलिन ने बिजलु का आविष्कार कब किया, बिजली का आविष्कार किस देश में हुई हुआ था? बिजली का आविष्कार कब और किसने किया

 

 

बेंजामिन फ्रैंकलिन का जीवन परिचय

 

 

बेंजामिन फ्रैंकलिन का जन्म मेसेचुसेट्स कॉलोनी के बोस्टन शहर में 17 जनवरी, 1706 को हुआ था। 15 भाई-बहिन उससे पहले पैदा हो चुके थे, और कुल मिलाकर परिवार में 17 बच्चे थे। बाप का पेशा था मोमबत्तियां बनाना। काम तो बड़ा महत्त्वपूर्ण था, किन्तु उसी पर गुजर कर सकना कोई आसान नहीं था।

 

 

बेंजामिन फ्रैंकलिन ने अपनी पढ़ाई-लिखाई खुद शुरू कर दी, और आठ वर्ष का होते ही स्कूल में दाखिल हो गया। किन्तु स्कूल की यह पढ़ाई भी उसकी दो साल बाद बन्द कर दी गई। उन दिनों शिक्षा मुफ्त नहीं हुआ करती थी। बाप के पास इतना पैसा था नहीं, सो बेंजामिन को भी स्कूल से उठाकर दूकान में डाल दिया गया कि वह भी मोमबत्तियां बनाया करे। किन्तु बेंजामिन को चैन नहीं था। वह हमेशा बोस्टन बन्दर॒गाह की ओर देखता रहता और कहता कि मैं समुद्र जाऊंगा। बाप को यह सुनकर डर लगने लगा और उसने जेम्स से कहा कि बेंजामिन को छापाखाने का काम सिखाया जाए। जेम्स बेंजामिन से कुछ बड़ा था और वह एक साप्ताहिक पत्र प्रकाशित किया करता था— दि न्यू इंग्लैंड कूरैण्ट। यहां आकर अलबत्ता, 12 साल के बालक को कुछ शान्ति मिली और वह टाइप सेट करना, और प्रेस की मशीनों को चालू करना सीख गया।

 

 

फ्रेकलिन को शिक्षा ग्रहण करने का शौक था। जो कुछ हाथ में आया आद्योपान्त पढ डाला, यहा तक कि कोई किताब खरीदने के लिए एक-दो वक्‍त रोटी भी छोडनी पडे तो कोई बात नही। और इसी तरह करते-करते वह गणित, बीजगणित ज्यामिति,नौचालन, व्याकरण तथा तर्क-सिद्धान्त मे प्रवेश पा गया। यही नहीं, उसने लेखन कला पर भी अच्छा अधिकार प्राप्त कर लिया। मरने पर जब उसकी आत्मकथा छपी, अमेरिका के साहित्य मे उसका स्थान उसी क्षण से स्थायी बन गया।

 

बेंजामिन फ्रैंकलिन
बेंजामिन फ्रैंकलिन

 

बेंजामिन के मन में समा गया कि उसके लेख दि न्यू इग्लैड क्रेण्ट’ मे भी छपने चाहिए, किन्तु भाई को विश्वास नही आया कि बेंजामिन फ्रैंकलिन सचमुच एक लेखक भी बन सकता है। बेंजामिन ने नाम बदल लिया और मिसेज साइलैन्स डॉगवुड के नाम से लेख भेजने शुरू कर दिए। आखिर जब जेम्स को पता लग गया इन लेखों का लेखक कौन था, उसे अपने पर काबू न रह सका और बेंजामिन के लिए भी जीना उसने दुश्वार कर दिया। फ्रेंकलिन ने भी निश्चय कर लिया कि अब वक्‍त अपने पैरो पर खडा होने का आ गया है। वह 18 का हो चुका था। घर छोड वह फिलाडेल्फिया चला गया।

 

 

फिलाडेल्फिया मे पहुंचते ही लोगो को पता लग गया कि वह प्रिंटिंग मे किस कदर माहिर है, सभी ने उसे नौकरी पेश की। किन्तु उसका अपना ख्याल अपना स्वतंत्र छापाखाना चालू करने का था। कॉलोनियों में तब छापेखाने की मशीनरी बनाने का कोई प्रबन्ध नही था। खैर, पेनसिल्वेनिया की कॉलौनी के गवर्नर सर विलियम कीथ ने उसे आंशिक सहायता का वचन दिया और वह प्रिंटिंग प्रेस चुनने के लिए इंग्लेंड के लिए जहाज पर सवार हो गया।

 

किन्तु वायदे की वह रकम पहुंची नही, कुछ बात हो गई थी; सो बेंजामिन डेढ साल इंग्लैंड मे ही किसी न किसी काम में लगा रहा कि रकम इकट्ठी हो सके। उधर फिलाडेल्फिया में जब उसकी कोई खबर देर तक न पहुची तो प्रेयसी डेबोरा रीड ने एक और सख्स से शादी कर ली। किन्तु कुछ वर्ष पश्चात जब उसका प्रथम पति लापता हो गया बेंजामिन और डेबोरा विधिवत पति-पत्नी बन गए। उनके तीन बच्चे हुए।

 

फिलाडेल्फिया लौटकर उसने ‘पेनसिल्वेनिया गजेट’ की स्थापना की। इसके अतिरिक्‍त एक वार्षिक प्रकाशन पुअर रिचर्डस आल्मेनेक’ भी उसके यहां से प्रकाशित होता था, जिसमे सूर्योदय, सूर्यास्त, चान्द्रतिथियों, मौसम की खबरों और धार्मिक छुट्टियों वगैरह का पूरा-पूरा ब्यौरा हुआ करता था। “आल्मेनेक’ का अर्थ होता है– जन्नी। यही नही, जन्नी में कुछ ‘नीति के दोहे वगैरह भी दर्ज होते थे– ईमानदारी, कार्यकुशलता, मितव्ययिता, देशभक्ति आदि पर छोटे-छोटे वाक्य, जिनमे कुछ तो आज’ भी सजीव है।

 

परमेश्वर उन्ही की सहायता करता है जो खुद परिश्रमी होते है।
जल्दी सोना और जल्‍दी ही जग उठना– स्वास्थ्य, सपद्, और बुद्धिमत्ता की कुंजी यही है। जो कुछ आज कर सकते हो कल पर कभी मत छोडो। 42 बरस की उम्र तक पहुचते-पहुचते बेंजामिन फ्रैंकलिन काफी पैसा कमा चुका था। अब उसे काम-धंधे मे जुते रहने की ज़रूरत नहीं थी, मुक्त होकर वह अब समाज-सेवा मे और वैज्ञानिक अनुसंधान मे लग सकता था। छपाई वगैरह के काम मे लगे रहने पर भी उसकी प्रवृत्ति इधर सक्रिय हो चुकी थी।

 

 

21 साल की आयु मे उसने फिलाडेल्फिया के मिस्त्रियों और व्यापारियों मे वाद-विवाद संस्था जैसी एक संस्था स्थापित भी कर दी थी। किन्तु इस मण्डल की गतिविधि फिलाडेल्फिया तक ही सीमित नही रही, फैलता-फैलता आखिर वह ‘अमरीकन फिलो-सॉफिकल सोसाइटी ‘ मे परिणत हो गया। उपनिवेशो के सभी प्रबुद्ध विद्वान इस सोसाइटी के सदस्य थे। इन्होने ही ‘कमेटी आफ सीक्रेट कारस्पाण्डेन्स’ नामक कुछ समितियां स्थापित की थी, जिनके द्वारा ही कभी स्वतन्त्रता के घोषणापत्र तथा अमरीका की क्रांति की आधारशिला पडी थी। अमरीकन फिलोसॉफिकल सोसाइटी का वह कार्यालय आज भी फिलाडेल्फिया मे स्थित है।

 

1753 में बेंजामिन फ्रैंकलिन को कॉलोनियो का पोस्टमास्टर जनरल नियुक्त कर दिया गया। फ्रैंकलिन मे योग्यता भी थी, शक्ति भी थी। नये ओहदे को संभालते ही उसने कॉलोनियो मे डाक के आवागमन को सुधारना शुरू कर दिया। यही नही इससे डाकखाने को अब कुछ कमाई भी होने लगी। 1847 मे जब अमरीका में पहली-पहली टिकटें चली, तो उन पर बेंजामिन फ्रैंकलिन का ही चित्र अंकित था। डाक के महकमे मे उसकी सेवाओ के प्रति राष्ट्र की यह एक श्रद्धांजलि थी।

 

 

25 साल की उम्र मे बेंजामिन फ्रैंकलिन ने अमरीका की पहली चलती-फिरती लाइब्रेरी प्रवर्तित की। उसे अपने बचपन के दिन याद थे जब एक किताब खरीदने के लिए उसे कई बार उपवास तक करना पडता था। फिलाडेल्फिया मे आग बुझाने के लिए एक महकमा भी उसने खोल दिया, और अग्नि पीडितों को और मुश्किले पेश न आए इसलिए अमरीका की पहली आग-बीमा कम्पनी भी उसने चालू कर दी। पेनसिल्वेनिया एकेडमी की स्थापना में भी उसका हाथ था, और यही एकेडमी आगे चलकर पेनसिल्वेनिया विश्वविद्यालय बन गई। कॉलोनियो मे फिलाडेल्फिया की जो कुछ समृद्धि व प्रतिष्ठा थी वह बहुत कुछ बेंजामिन फ्रैंकलिन की महिमा एवं प्रभाव के कारण ही थी। और वह विज्ञान मे भी एक महान विभूति माना जाता है।

 

 

बेंजामिन फ्रैंकलिन के आविष्कार

 

बेंजामिन फ्रैंकलिन का विज्ञान कार्य उसके 38वें वर्ष से शुरू होता है। इससे पहले उसकी कीर्ति व्यापार और समाज-सेवा के क्षेत्रों मे स्थिर हो चुकी थी। विज्ञान मे उसका सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण कार्य “इलेक्ट्रोस्टैटिक्स– स्थिति की अवस्था में विद्युत की प्रवत्ति के क्षेत्र मे है।

 

 

आज सभी जानते हैं कि किस प्रकार उसने विद्युत से प्रभावित तुफान पंतग उडाई थी और सिद्ध कर दिखाया था कि यह कृत्रिम विद्युत और आकाश की प्राकृतिक बिजली दोनों एक ही वस्तु हैं। अमेरीका में यह कथा एक सर्वाधिक लोकप्रिय कथा है किन्तु अन्य उपाख्यानों की भांति यह कथा झूठ नही सच है। बेंजामिन ने इसे उन दिनों साइंटिफिक जर्नल में प्रकाशित किया था और दुनिया-भर के वैज्ञानिकों ने तभी खुद इस परीक्षण की आवृत्ति अपने-अपने यहां की भी थी।

 

 

फ्रेकलिन का इलेक्ट्रोस्टेटिक्स सम्बन्धी नियम एक बहुत ही सरल सिद्धान्त है जो आज तक वैसा ही अपने मूल, अपरिवर्तित रूप में विज्ञान-जगत्‌ को ग्राह्म चला आता है। उसका कहना था कि– सभी प्रदनों के निर्माण में दो तत्त्व काम में आते हैं– पृथ्वी तत्व तथा विद्युत तत्व । शुन्य’ सामान्य अवस्था में हर वस्तु में विद्युत एक अन्तर्‌-द्रववतअभिव्याप्त रहती है–किन्तु वस्तुओं में इस विद्युत-तत्व में घटती-बढ़ती आ सकती है। विद्युत अंश में यह कमी-बेशी आते ही वस्तु में एक प्रकार का आवेश आ जाता है, एक प्रकार की विद्युत्मयता सी आ जाती है। विद्युत्मयता बढ़ने का अर्थ होता है कि वस्तु का आवेश अब शून्य नहीं रहा, योगात्मक हो गया है, और विद्युत्मयता घट जाने का अर्थ होता है–आवेश में ऋणात्मकता।

 

 

आजकल की परिभाषा में शायद हम यह कहना अधिक पसन्द करें कि हर वस्तु प्रोटॉन्स तथा इलेक्ट्रॉन्स के व्यामिश्रण का परिणाम होती है: आवेश-शून्य वस्तु में ये इलेक्ट्रान और प्रोटॉन समान सख्या मे होते है। किन्तु मूल दृष्टि दोनो सिद्धान्तों की एक ही है।

 

 

बेंजामीन फ्रैंकलिन ने इस सिद्धान्त के समर्थन मे कुछ परीक्षण आविष्कृत किए। शीशे की एक छड को जब हम रेशम के रूमाल पर रगडते है तो छड मे पाजिटिव चार्ज भर जाता है और रेशम मे नेगेटिव। कितने ही वैज्ञानिको का विचार था कि रगड से बिजली पैदा हो जाती है। फ्रैकलिन की स्थापना यह थी, और यही युक्तियुक्त स्थापना भी थी कि विद्युत की उत्पत्ति नहीं होती–वैद्युत द्रव” केवल रेशम से निकलकर शीशे मे चला गया है। वैद्युत द्रव के संचार के सम्बन्ध में फ्रैंकलिन ने जो परीक्षण किए, मूल सिद्धान्त की पुष्टि मे उनसे कुछ नाटकीयता सी भी आ जाती थी। उसने दो स्टूल लिए और दो आदमियों को उन पर अलग-अलग बिठा दिया, जमीन पर शीशा बिछा दिया, एक मे घनात्मक बिजली भर दी गई और दूसरे मे ऋणात्मक, आर्थात एक मे विद्युत का यह आवेश जितना ही अधिक था, दूसरे मे उतना ही कम था। जब दोनो ने हाथ मिलाया, दोनो का ही आवेश जाता रहा और परिणामत दोनो ने महसूस किया, जैसे उन्हें अकस्मात कोई धक्का लग गया हो। इस प्रकार विद्युत संचरण द्वारा एक की कसर दूसरे ने पूरी कर दी। अब, यदि कोई आवेश रहित व्यक्ति भी इनमे किसी को छू देता, धक्का उसे लगता ही– क्योकि शुन्यवस्था जहां घनावस्था से कुछ कम आवेशमय होती है, वहां वह ऋणावस्था से उसी कदर कुछ ज्यादा आवेशमय भी तो हुआ करती है।

 

 

बेंजामिन फ्रैंकलिन के विद्युत सम्बन्धी अध्ययनों का स्वाभाविक विकास था। बिजली की छड’ (बिजली को निष्किय कर देने वाला तार) का आविष्कार। उसने देखा कि यदि किसी नोकदार चीज़ को एक आवेश-युक्त वस्तु के निकट ले जाए तो वह आवेश इस नोक के जरिये दूसरी ओर पहुंच जाता है। उसे यह भी मालूम था कि बादलों मे विद्युत भरी होती है। अब उसने सुझाया कि लोहे के एक निहायत नुकीले तार को मकान के शिखर पर टिका दे और एक ओर तार के जरिये इस छड का सम्बन्ध जमीन से कर दिया जाए, तो इस तरह बादल की बिजली धीरे-धीरे (एकदम झटके से नहीं) आवेश शून्य होती जाएगी और मकान मे कोई दुर्घटना अब नही घटित हो सकेगी। परीक्षणो द्वारा फ्रैंकलिन इस नतीजे पर पहुचा कि बादलों की यह बिजली नेगेटिव भी हो सकती है, पाजिटिव भी, अर्थात बिजली जहा आसमान से जमीन पर गिर सकती है, वहा वह उठकर ज़मीन से बादलों को विचलित भी कर सकती है। आधुनिक अनुसन्धान इस का समर्थन करता है।

 

 

बेंजामिन फ्रैंकलिन ने ‘लीडन जार’ का सूक्ष्म अध्ययन किया। उन दिनों विद्युत संचय के लिए हर कही इसी का इस्तेमाल हुआ करता था। लीडन जार शीशे की एक बोतल ही होती है। बाहर किसी धातु की पतली-सी पतरी मढ़ी होती है और अन्दर पानी भरा होता है। लीडन जार में होता क्या-कुछ है। इसका सूक्ष्म विश्लेषण जब फ्रैंकलिन ने कर दिखाया तो विज्ञान जगत सचमुच चकित रह गया। उसने जार के पानी को फेंक दिया ओर उसकी जगह ताजा पानी उसमे डाल दिया, किन्तु जार मे अब भी आवेश था। अर्थात वैद्युतावेश धातु में था, पानी मे नही। अब तक वैज्ञानिक उल्टा ही माने बैठे थे। इन परीक्षणों के आधार पर उसने एक ‘पैरेलल प्लेट कैपेसिटर का आविष्कार भी किया। जिसका प्रयोग हम आज अपने टेलीविजन और रेडियो-सेटो मे करते है।

 

 

 

विद्युत के सम्बन्ध मे जो कुछ प्रेक्षण तथा प्रयोग फ्रैंकलिन ने सिद्ध किए, वे उसकी पाण्डित्यपूर्ण पुस्तक अमेरीका के फिलाडेल्फिया शहर मे विद्युत-पूरक प्रेक्षण एवं प्रयोग” मे संगृहीत है। इस महान ग्रन्थ का विश्व भर में प्रकाशन हुआ और जर्मन, फ्रेंच तथा
इटेलियन मे अनुवाद भी हुआ। विश्व के मुर्धघन्य वैज्ञानिकों ने इसकी तुलना न्यूटन के प्रिंसीपिया के साथ की। डाक्टर फ्रैंकलिन के ये अन्वीक्षण तथा परीक्षण विद्युत के प्रिंसीपिया अथवा मूल सिद्धान्त हैं। इनमें भी एक ऐसी व्यवस्था अनुसूत्रित है जो कि अन्त संगति में उतनी ही सरल एवं आधारभूत भी है। एक पत्र मे उसकी इस प्रकार आलोचना भी हुई थी। फ्रैंकलिन को हर किस्म के वैज्ञानिक सम्मान मिले। उसे लन्दन की रॉयल सोसाइटी का तथा पेरिस की रॉयल एकेडमी ऑफ लाइसेज का सदस्य चुना गया। आज हम कहते है विद्युत, प्रकृत्या, इलेक्ट्रॉनो की एक धारा के अतिरिक्त कुछ नही है, और फ्रैंकलिन कहा करता था कि विद्युत एक द्रव है (वाहिनी है)। दोनो दृष्टियों मे मूल भेद है कितना ?।

 

 

विज्ञान में ये अनुसन्धान भी होते रहे, प्रकाशन भी होते रहे, और लोक सेवा के लिए समय भी निकल ही आता। वे अमरीकी क्रांति के दिन थे और कॉन्टिनेंटल कांग्रेस ने टामस जेफरसन, जॉन एडम्स और बेंजामिन फ्रैकलिन की एक समिति नियुक्त कर दी कि वे स्वतन्त्रता का घोषणापत्र तैयार कर दें। बेंजामिन फ्रैंकलिन अमरीका के सामाजिक तथा राजनीतिक जीवन का एक माना हुआ दिग्गज, फ्रैंकलिन विद्युत के विषय मे अपने मूत्र सिद्धान्त का प्रतिपादन करने के कारण विज्ञान के दिग्गजों में भी उतना ही अग्रणी है, उतना ही महान है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े—-

 

एनरिको फर्मी
एनरिको फर्मी— इटली का समुंद्र यात्री नई दुनिया के किनारे आ लगा। और ज़मीन पर पैर रखते ही उसने देखा कि Read more
नील्स बोर
दरबारी अन्दाज़ का बूढ़ा अपनी सीट से उठा और निहायत चुस्ती और अदब के साथ सिर से हैट उतारते हुए Read more
एलेग्जेंडर फ्लेमिंग
साधारण-सी प्रतीत होने वाली घटनाओं में भी कुछ न कुछ अद्भुत तत्त्व प्रच्छन्न होता है, किन्तु उसका प्रत्यक्ष कर सकने Read more
अल्बर्ट आइंस्टीन
“डिअर मिस्टर प्रेसीडेंट” पत्र का आरम्भ करते हुए विश्वविख्यात वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने लिखा, ई० फेर्मि तथा एल० जीलार्ड के Read more
हम्फ्री डेवी
15 लाख रुपया खर्च करके यदि कोई राष्ट्र एक ऐसे विद्यार्थी की शिक्षा-दीक्षा का प्रबन्ध कर सकता है जो कल Read more
मैरी क्यूरी
मैंने निश्चय कर लिया है कि इस घृणित दुनिया से अब विदा ले लूं। मेरे यहां से उठ जाने से Read more
मैक्स प्लांक
दोस्तो आप ने सचमुच जादू से खुलने वाले दरवाज़े कहीं न कहीं देखे होंगे। जरा सोचिए दरवाज़े की सिल पर Read more
हेनरिक ऊ
रेडार और सर्चलाइट लगभग एक ही ढंग से काम करते हैं। दोनों में फर्क केवल इतना ही होता है कि Read more
जे जे थॉमसन
योग्यता की एक कसौटी नोबल प्राइज भी है। जे जे थॉमसन को यह पुरस्कार 1906 में मिला था। किन्तु अपने-आप Read more
अल्बर्ट अब्राहम मिशेलसन
सन् 1869 में एक जन प्रवासी का लड़का एक लम्बी यात्रा पर अमेरीका के निवादा राज्य से निकला। यात्रा का Read more
इवान पावलोव
भड़ाम! कुछ नहीं, बस कोई ट्रक था जो बैक-फायर कर रहा था। आप कूद क्यों पड़े ? यह तो आपने Read more
विलहम कॉनरैड रॉटजन
विज्ञान में और चिकित्साशास्त्र तथा तंत्रविज्ञान में विशेषतः एक दूरव्यापी क्रान्ति का प्रवर्तन 1895 के दिसम्बर की एक शरद शाम Read more
दिमित्री मेंडेलीव
आपने कभी जोड़-तोड़ (जिग-सॉ) का खेल देखा है, और उसके टुकड़ों को जोड़कर कुछ सही बनाने की कोशिश की है Read more
जेम्स क्लर्क मैक्सवेल
दो पिन लीजिए और उन्हें एक कागज़ पर दो इंच की दूरी पर गाड़ दीजिए। अब एक धागा लेकर दोनों Read more
ग्रेगर जॉन मेंडल
“सचाई तुम्हें बड़ी मामूली चीज़ों से ही मिल जाएगी।” सालों-साल ग्रेगर जॉन मेंडल अपनी नन्हीं-सी बगीची में बड़े ही धैर्य Read more
लुई पाश्चर
कुत्ता काट ले तो गांवों में लुहार ही तब डाक्टर का काम कर देता। और अगर यह कुत्ता पागल हो Read more
लियोन फौकॉल्ट
न्यूयार्क में राष्ट्रसंघ के भवन में एक छोटा-सा गोला, एक लम्बी लोहे की छड़ से लटकता हुआ, पेंडुलम की तरह Read more
चार्ल्स डार्विन
“कुत्ते, शिकार, और चूहे पकड़ना इन तीन चीज़ों के अलावा किसी चीज़ से कोई वास्ता नहीं, बड़ा होकर अपने लिए, Read more
“यूरिया का निर्माण मैं प्रयोगशाला में ही, और बगेर किसी इन्सान व कुत्ते की मदद के, बगैर गुर्दे के, कर Read more
जोसेफ हेनरी
परीक्षण करते हुए जोसेफ हेनरी ने साथ-साथ उनके प्रकाशन की उपेक्षा कर दी, जिसका परिणाम यह हुआ कि विद्युत विज्ञान Read more
माइकल फैराडे
चुम्बक को विद्युत में परिणत करना है। यह संक्षिप्त सा सूत्र माइकल फैराडे ने अपनी नोटबुक में 1822 में दर्ज Read more
जॉर्ज साइमन ओम
जॉर्ज साइमन ओम ने कोलोन के जेसुइट कालिज में गणित की प्रोफेसरी से त्यागपत्र दे दिया। यह 1827 की बात Read more
ऐवोगेड्रो
वैज्ञानिकों की सबसे बड़ी समस्याओं में एक यह भी हमेशा से रही है कि उन्हें यह कैसे ज्ञात रहे कि Read more
आंद्रे मैरी एम्पीयर
इतिहास में कभी-कभी ऐसे वक्त आते हैं जब सहसा यह विश्वास कर सकता असंभव हो जाता है कि मनुष्य की Read more
जॉन डाल्टन
विश्व की वैज्ञानिक विभूतियों में गिना जाने से पूर्वी, जॉन डाल्टन एक स्कूल में हेडमास्टर था। एक वैज्ञानिक के स्कूल-टीचर Read more
काउंट रूमफोर्ड
कुछ लोगों के दिल से शायद नहीं जबान से अक्सर यही निकलता सुना जाता है कि जिन्दगी की सबसे बड़ी Read more
एडवर्ड जेनर
छः करोड़ आदमी अर्थात लन्दन, न्यूयार्क, टोकियो, शंघाई और मास्कों की कुल आबादी का दुगुना, अनुमान किया जाता है कि Read more
एलेसेंड्रा वोल्टा
आपने कभी बिजली 'चखी' है ? “अपनी ज़बान के सिरे को मेनेटिन की एक पतली-सी पतरी से ढक लिया और Read more
एंटोनी लेवोज़ियर
1798 में फ्रांस की सरकार ने एंटोनी लॉरेंस द लेवोज़ियर (Antoine-Laurent de Lavoisier) के सम्मान में एक विशाल अन्त्येष्टि का Read more
जोसेफ प्रिस्टले
क्या आपको याद है कि हाल ही में सोडा वाटर की बोतल आपने कब पी थी ? क्‍या आप जानते Read more
हेनरी कैवेंडिश
हेनरी कैवेंडिश अपने ज़माने में इंग्लैंड का सबसे अमीर आदमी था। मरने पर उसकी सम्पत्ति का अन्दाजा लगाया गया तो Read more
सर आइज़क न्यूटन
आइज़क न्यूटन का जन्म इंग्लैंड के एक छोटे से गांव में खेतों के साथ लगे एक घरौंदे में सन् 1642 में Read more
रॉबर्ट हुक
क्या आप ने वर्ण विपर्यास की पहेली कभी बूझी है ? उलटा-सीधा करके देखें तो ज़रा इन अक्षरों का कुछ Read more
एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक
सन् 1673 में लन्दन की रॉयल सोसाइटी के नाम एक खासा लम्बा और अजीब किस्म का पत्र पहुंचा जिसे पढ़कर Read more
क्रिस्चियन ह्यूजेन्स
क्रिस्चियन ह्यूजेन्स (Christiaan Huygens) की ईजाद की गई पेंडुलम घड़ी (pendulum clock) को जब फ्रेंचगायना ले जाया गया तो उसके Read more
रॉबर्ट बॉयल
रॉबर्ट बॉयल का जन्म 26 जनवरी 1627 के दिन आयरलैंड के मुन्स्टर शहर में हुआ था। वह कॉर्क के अति Read more
इवेंजलिस्टा टॉरिसेलि
अब जरा यह परीक्षण खुद कर देखिए तो लेकिन किसी चिरमिच्ची' या हौदी पर। एक गिलास में तीन-चौथाई पानी भर Read more
विलियम हार्वे
“आज की सबसे बड़ी खबर चुड़ैलों के एक बड़े भारी गिरोह के बारे में है, और शक किया जा रहा Read more
“और सम्भव है यह सत्य ही स्वयं अब किसी अध्येता की प्रतीक्षा में एक पूरी सदी आकुल पड़ा रहे, वैसे Read more
गैलीलियो
“मै गैलीलियो गैलिलाई, स्वर्गीय विसेजिओ गैलिलाई का पुत्र, फ्लॉरेन्स का निवासी, उम्र सत्तर साल, कचहरी में हाजिर होकर अपने असत्य Read more
आंद्रेयेस विसेलियस
“मैं जानता हूं कि मेरी जवानी ही, मेरी उम्र ही, मेरे रास्ते में आ खड़ी होगी और मेरी कोई सुनेगा Read more
निकोलस कोपरनिकस
निकोलस कोपरनिकस के अध्ययनसे पहले– “क्यों, भेया, सूरज कुछ आगे बढ़ा ?” “सूरज निकलता किस वक्त है ?” “देखा है Read more
लियोनार्दो दा विंची
फ्लॉरेंस ()(इटली) में एक पहाड़ी है। एक दिन यहां सुनहरे बालों वाला एक नौजवान आया जिसके हाथ में एक पिंजरा Read more
गैलेन
इन स्थापनाओं में से किसी पर भी एकाएक विश्वास कर लेना मेरे लिए असंभव है जब तक कि मैं, जहां Read more
आर्किमिडीज
जो कुछ सामने हो रहा है उसे देखने की अक्ल हो, जो कुछ देखा उसे समझ सकने की अक्ल हो, Read more
एरिस्टोटल
रोजर बेकन ने एक स्थान पर कहा है, “मेरा बस चले तो मैं एरिस्टोटल की सब किताबें जलवा दू। इनसे Read more
हिपोक्रेटिस
मैं इस व्रत को निभाने का शपथ लेता हूं। अपनी बुद्धि और विवेक के अनुसार मैं बीमारों की सेवा के Read more
यूक्लिड
युवावस्था में इस किताब के हाथ लगते ही यदि किसी की दुनिया एकदम बदल नहीं जाती थी तो हम यही Read more

write a comment

%d bloggers like this: