बरसाना मथुरा – हिस्ट्री ऑफ बरसाना – बरसाना के दर्शनीय स्थल

मथुरा से लगभग 50 किमी की दूरी पर, वृन्दावन से लगभग 43 किमी की दूरी पर, नंदगाँव से लगभग 9 किमी की दूरी पर स्थित बरसाना एक धार्मिक स्थान है। जब हम मथुरा की यात्रा पर जाते है तो मथुरा के साथ साथ वृन्दावन, नंदगाँव, गोवर्धन पर्वत और बरसाना यह सभी स्थान श्रीकृष्ण की लीलाओं से भरे है। और यह सभी स्थान हमारी मथुरा धाम की यात्रा के अंतर्गत ही आते है।

 

 

 

बरसाना राधा जी का जन्म स्थान है। राधा के पिता का नाम वृषभानु था तथा माता का नाम कीर्ति था। राधा का भगवान श्रीकृष्ण से अनन्य प्रेम था। और वे दोनों दो शरीर तथा एक प्राण थे। राधा के रोम रोम में श्रीकृष्ण का प्यार भरा था। उसे किसी लोक लाज का डर नहीं था।

 

 

 

श्रीकृष्ण भी राधा के विरह में व्याकुल रहते थे। और कदम के पेड़ पर चढकर राधा को बुलाने के लिए अपनी बांसुरी की मधुर धुन लगाते थे। बांसुरी की धुन सुनते ही राधा प्रेम मग्न होकर श्रीकृष्ण से मिलने आती थी।

 

 

 

श्रीकृष्ण अपनी माया से घटा और बादल उत्पन्न कर देते थे, और दोनों घनघोर घटा के अंधेरे में बैठकर प्रेमपूर्वक बातें किया करते थे। एक दिन राधा कृष्ण के प्रेम में इतनी मतवाली हो गई कि वह दही बेचने का बहाना करके श्रीकृष्ण के गांव में चली गई, और श्रीकृष्ण के घर के चारो तरफ घूम घूम कर पुकारने लगी! कोई दही ले लो! भाई दही ले लो!

 

 

 

यह पुकारते पुकारते राधा दही का नाम भूल गई और कहने लगी, कोई कृष्ण ले लो! कोई नंदकिशोर ले लो! कोई श्यामसुंदर ले लो! । श्रीकृष्ण उस समय भोजन कर रहे थे। वह राधा की आवाज सुनकर अपने मुख का ग्रास थाली में छोडकर राधा से मिलने के लिए दौड़ पडे थे ऐसा था श्रीकृष्ण और राधा का प्रेम। और इसी अमर प्रेम का रस बरसाना की गलियों में बसा है।

 

 

 

बरसाना की होली भी बहुत प्रसिद्ध है, जिसे लट्ठमार होली भी कहते है। फाल्गुन एकादशी को नंदगाँव वाले बरसाना में होली खेलने आते है। और दूसरे दिन बरसाना वाले नंदगाँव में होली खेलने जाते है। यह परम्परा श्रीकृष्ण के समय से चली आ रही है। कहते है श्रीकृष्ण अपने साथियों के साथ नंदगाँव से बरसाना होली खेलने के लिए आते थे। और राधा और गोपियों के साथ ठिठोलीयां करते थे। जिस पर राधा और उसकी सखियाँ डंडों से मार मार कर श्रीकृष्ण और ग्वालों को दौड़ाया करती थी। उसी समय से आज तक यह परम्परा चली आ रही है। और यह परम्परा आज लट्ठमार होली के रूप में दुनिया भर में प्रसिद्ध है। जिसे देखने के लिए हर वर्ष दूर दूर से हजारों लोग बरसाना और नंदगाँव आते है।

 

 

 

 

 

बरसाना का प्राचीन महत्व

बरसाना का मूल नाम वृषभानुपुरा है। राधिका के पिता, वृषभानु महाराज अपने परिवार के साथ यहां रहते थे। बरसाना गोवर्धन से चौदह मील पश्चिम और काम्यवन से छह मील पूर्व में स्थित है। वराह और पद्म पुराणों के अनुसार, ब्रह्मा ने अराधना पूजा करके सत्य युग के अंत में श्री हरि को प्रसन्न किया। तब ब्रह्मा ने निम्नलिखित वरदान के लिए कहा: “कृपया मेरे अत्यंत रूप पर ब्रज-गोपियों के साथ अपने मधुर अतीत का प्रदर्शन करें और मुझे इन लीलाओं को निहारने की अनुमति दें। कृपया वसंत ऋतु बारिश के मौसम में विशेष रूप से झूलों के साथ और होली खेलकर अपने जीवन को धन्य बनाएं।
ब्रह्मा से प्रसन्न होकर, श्री हरि ने उन्हें निर्देश दिया, “ब्रजभानुपुरा जाओ और वहां एक पहाड़ी का रूप ले लो। उस रूप में तुम हमारे सभी मधुर अतीत को देख सकोगे।” और इसलिए ऐसा हुआ कि ब्रह्मा ने ब्रज में इस स्थान पर एक पहाड़ी का रूप धारण किया और अपनी पोषित इच्छा को पूरा किया।

 

 

 

 

बरसाना के सुंदर दृश्य
बरसाना के सुंदर दृश्य

 

 

 

बरसाना के दर्शनीय स्थल

 

राधा कृष्ण मंदिर यहां का मुख्य मंदिर है। राधा कृष्ण मंदिर राधा जी का महल था। यहां पर जाने के लिए बहुत सारी सीढियां चढ़नी पड़ती है। राधा कृष्ण मंदिर में से ही महाराज जयपुर के मंदिर में जाने का रास्ता है। रास्ते में बहुत सुंदर फुलवारी तथा बाग बगीचे है। दूसरे रास्ते से कार द्वारा सीधे जयपुर महाराज मंदिर जा सकते है। इसके अलावा भी बरसाना में अनेक देखने योग्य स्थान मंदिर और कुंड है।

 

 

 

बरसाना की परिक्रमा चार मील लंबी है। ब्रज भक्ति विलास, पद्म पुराण के हवाले से, वृषभानुपुरा के अवगुणों का वर्णन इस प्रकार है: “पद्म पुराण के अनुसार, दो पहाड़ियाँ एक-दूसरे के आमने-सामने हैं – एक विष्णु-पर्वत है और दूसरा ब्रह्मा-पर्वत है। विष्णु-पार्वत बाईं ओर है और ब्रह्मा-पार्वत दाईं ओर है।
ब्रह्मा-पर्वत के शीर्ष पर श्री राधा-कृष्ण का मंदिर है। उत्तर की ओर, इस पहाड़ी के नीचे, महाराजा वृषभानु का महल है, जहाँ श्री वृषभानु महाराज, श्रीमति कीर्तिदा महारानी, ​​श्रीधाम और राधिका के दर्शन हो सकते हैं। पास में ललिता का मंदिर है, जिसमें नौ राखियों के साथ राधिका के दर्शन हो सकते हैं

 

 

 

इसके अलावा ब्रह्म-पर्वत के ऊपर दाना मंदिर, एक झूले (हिंडोला), मयूर-कुटी, रास-मंडल और राधा का मंदिर है। आगे दो पहाड़ियों के बीच सांकरी खोर है। शंकरी-खोर के पास विलास मंदिर है, और विलास मंदिर के बगल में गहवरवन है। गहवरवन के भीतर राधा-सरोवर और रास-मंडल हैं, और पास में दोहनी कुंड है। इस कुंड के बहुत पास मयूर-सरोवर है, जिसका निर्माण चित्रलेखा ने किया था। “भानु-सरोवर भी पास में है, और इसके किनारे पर ब्रजेश्वर, महारुद्र का एक देवता है। इसके बाईं ओर कीर्ति-सरोवर है।

 

बरसाना के आसपास चार सरोवर, या तालाब हैं:
पूर्व में वृषभानु कुंड,
उत्तर-पूर्व में कीर्तिदा कुंड,
दक्षिण-पश्चिम में विहार कुंड (जिसे बाद में तिलक-कुंड नाम दिया गया) और
चिखौली गाँव के दक्षिण, दक्षिण-पश्चिम में दोहनी कुंड।

 

 

 

 

शंकरी-खोर चिकसौली के उत्तर में है, और विष्णु-पर्वत पर, शंकरी-खोर के पूर्व में, विलास गढ़ है। यह रास-मंडल का स्थान है। विलास मंदिर के पास, जहाँ राधिका, एक बच्चे के रूप में, रेत के साथ खेलती थी, महलों का निर्माण करती थी। पर्वत के ऊपर शंकरी-खोर का पश्चिम, दाना गढ़ है; और शंकरी-खोर के दक्षिण-पश्चिम और चिकसौली गाँव के पश्चिम में गहवरवन और गहवर-कुंड हैं। गहवरवन में प्रवेश करते समय मयूर-कुटी दाईं ओर है। पहाड़ी की चोटी पर, गहवरवन के दक्षिण-पश्चिम, मान-गढ़ और मन मंदिर हैं; और नीचे और पास में मनापुरा गाँव है। मान-गढ़ के उत्तर में जयपुर के महाराजा का मंदिर है, और उस मंदिर के उत्तर में श्रीजी मंदिर है। श्रीजल मंदिर के ठीक नीचे, पहाड़ी पर अभी भी, एक ब्रह्माजी के मंदिर और राधिका के पितामह महिभानु के महल में आता है। उसके नीचे बरसाना गाँव है। पश्चिम का बरसाना मुक्ता कुंड या रत्न-कुंड है।

 

 

हिस्ट्री ऑफ बरसाना, बरसाना के मंदिर, बरसाना के दर्शनीय स्थल, बरसाना मंदिर टाइम आदि शीर्षक पर आधारित हमारा यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं। यह जानकारी आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है

 

 

 

उत्तर प्रदेश पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:–

 

 

राधा कुंड उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर को कौन नहीं जानता में समझता हुं की इसका परिचय कराने की शायद
प्रिय पाठको पिछली पोस्टो मे हमने भारत के अनेक धार्मिक स्थलो मंदिरो के बारे में विस्तार से जाना और उनकी
गोमती नदी के किनारे बसा तथा भारत के सबसे बडे राज्य उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ दुनिया भर में अपनी
इलाहाबाद उत्तर प्रदेश का प्राचीन शहर है। यह प्राचीन शहर गंगा यमुना सरस्वती नदियो के संगम के लिए जाना जाता
प्रिय पाठको अपनी उत्तर प्रदेश यात्रा के दौरान हमने अपनी पिछली पोस्ट में उत्तर प्रदेश राज्य के प्रमुख व धार्मिक
प्रिय पाठको अपनी इस पोस्ट में हम भारत के राज्य उत्तर प्रदेश के एक ऐसे शहर की यात्रा करेगें जिसको
मेरठ उत्तर प्रदेश एक प्रमुख महानगर है। यह भारत की राजधानी दिल्ली से लगभग 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित
उत्तर प्रदेश न केवल सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है बल्कि देश का चौथा सबसे बड़ा राज्य भी है। भारत
बरेली उत्तर भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का एक जिला और शहर है। रूहेलखंड क्षेत्र में स्थित यह शहर उत्तर
कानपुर उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक आबादी वाला शहर है और यह भारत के सबसे बड़े औद्योगिक शहरों में से
भारत का एक ऐतिहासिक शहर, झांसी भारत के बुंदेलखंड क्षेत्र के महत्वपूर्ण शहरों में से एक माना जाता है। यह
अयोध्या भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख शहर है। कुछ सालो से यह शहर भारत के सबसे चर्चित शहरो
मथुरा को मंदिरो की नगरी के नाम से भी जाना जाता है। मथुरा भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक
चित्रकूट धाम वह स्थान है। जहां वनवास के समय श्रीराजी ने निवास किया था। इसलिए चित्रकूट महिमा अपरंपार है। यह
पश्चिमी उत्तर प्रदेश का मुरादाबाद महानगर जिसे पीतलनगरी के नाम से भी जाना जाता है। अपने प्रेम वंडरलैंड एंड वाटर
कुशीनगर उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्राचीन शहर है। कुशीनगर को पौराणिक भगवान राजा राम के पुत्र कुशा ने बसाया
उत्तर प्रदेश के लोकप्रिय ऐतिहासिक और धार्मिक स्थानों में से एक पीलीभीत है। नेपाल की सीमाओं पर स्थित है। यह
सीतापुर - सीता की भूमि और रहस्य, इतिहास, संस्कृति, धर्म, पौराणिक कथाओं,और सूफियों से पूर्ण, एक शहर है। हालांकि वास्तव
अलीगढ़ शहर उत्तर प्रदेश में एक ऐतिहासिक शहर है। जो अपने प्रसिद्ध ताले उद्योग के लिए जाना जाता है। यह
उन्नाव मूल रूप से एक समय व्यापक वन क्षेत्र का एक हिस्सा था। अब लगभग दो लाख आबादी वाला एक
बिजनौर उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्रमुख शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। यह खूबसूरत और ऐतिहासिक शहर गंगा नदी
उत्तर प्रदेश भारत में बडी आबादी वाला और तीसरा सबसे बड़ा आकारवार राज्य है। सभी प्रकार के पर्यटक स्थलों, चाहे
अमरोहा जिला (जिसे ज्योतिबा फुले नगर कहा जाता है) राज्य सरकार द्वारा 15 अप्रैल 1997 को अमरोहा में अपने मुख्यालय
प्रकृति के भरपूर धन के बीच वनस्पतियों और जीवों के दिलचस्प अस्तित्व की खोज का एक शानदार विकल्प इटावा शहर
एटा उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्रमुख जिला और शहर है, एटा में कई ऐतिहासिक स्थल हैं, जिनमें मंदिर और
विश्व धरोहर स्थलों में से एक, फतेहपुर सीकरी भारत में सबसे अधिक देखे जाने वाले स्थानों में से एक है।
नोएडा से 65 किमी की दूरी पर, दिल्ली से 85 किमी, गुरूग्राम से 110 किमी, मेरठ से 68 किमी और
उत्तर प्रदेश का शैक्षिक और सॉफ्टवेयर हब, नोएडा अपनी समृद्ध संस्कृति और इतिहास के लिए जाना जाता है। यह राष्ट्रीय
भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश में स्थित, गाजियाबाद एक औद्योगिक शहर है जो सड़कों और रेलवे द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा
बागपत, एनसीआर क्षेत्र का एक शहर है और भारत के पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बागपत जिले में एक नगरपालिका बोर्ड
शामली एक शहर है, और भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश में जिला नव निर्मित जिला मुख्यालय है। सितंबर 2011 में शामली
सहारनपुर उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्रमुख जिला और शहर है, जो वर्तमान में अपनी लकडी पर शानदार नक्काशी की
ऐतिहासिक और शैक्षिक मूल्य से समृद्ध शहर रामपुर, दुनिया भर के आगंतुकों के लिए एक आशाजनक गंतव्य साबित होता है।
मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले के पश्चिमी भाग की ओर स्थित एक शहर है। पीतल के बर्तनों के उद्योग
संभल जिला भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक जिला है। यह 28 सितंबर 2011 को राज्य के तीन नए
बदायूंं भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख शहर और जिला है। यह पश्चिमी उत्तर प्रदेश के केंद्र में
लखीमपुर खीरी, लखनऊ मंडल में उत्तर प्रदेश का एक जिला है। यह भारत में नेपाल के साथ सीमा पर स्थित
बहराइच जिला भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के प्रमुख जिलों में से एक है, और बहराइच शहर जिले का मुख्यालय
भारत के राज्य उत्तर प्रदेश में स्थित, शाहजहांंपुर राम प्रसाद बिस्मिल, शहीद अशफाकउल्ला खान जैसे बहादुर स्वतंत्रता सेनानियों की जन्मस्थली
रायबरेली जिला उत्तर प्रदेश प्रांत के लखनऊ मंडल में स्थित है। यह उत्तरी अक्षांश में 25 ° 49 'से 26
दिल्ली से दक्षिण की ओर मथुरा रोड पर 134 किमी पर छटीकरा नाम का गांव है। छटीकरा मोड़ से बाई
नंदगाँव बरसाना के उत्तर में लगभग 8.5 किमी पर स्थित है। नंदगाँव मथुरा के उत्तर पश्चिम में लगभग 50 किलोमीटर
सोनभद्र भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का दूसरा सबसे बड़ा जिला है। सोंनभद्र भारत का एकमात्र ऐसा जिला है, जो
मिर्जापुर जिला उत्तर भारत में उत्तर प्रदेश राज्य के महत्वपूर्ण जिलों में से एक है। यह जिला उत्तर में संत
आजमगढ़ भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश का एक शहर है। यह आज़मगढ़ मंडल का मुख्यालय है, जिसमें बलिया, मऊ और आज़मगढ़
बलरामपुर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में बलरामपुर जिले में एक शहर और एक नगरपालिका बोर्ड है। यह राप्ती नदी
ललितपुर भारत के राज्य उत्तर प्रदेश में एक जिला मुख्यालय है। और यह उत्तर प्रदेश की झांसी डिवीजन के अंतर्गत
बलिया शहर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक खूबसूरत शहर और जिला है। और यह बलिया जिले का
उत्तर प्रदेश के काशी (वाराणसी) से उत्तर की ओर सारनाथ का प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थान है। काशी से सारनाथ की दूरी
बौद्ध धर्म के आठ महातीर्थो में श्रावस्ती भी एक प्रसिद्ध तीर्थ है। जो बौद्ध साहित्य में सावत्थी के नाम से
कौशांबी की गणना प्राचीन भारत के वैभवशाली नगरों मे की जाती थी। महात्मा बुद्ध जी के समय वत्सराज उदयन की
बौद्ध अष्ट महास्थानों में संकिसा महायान शाखा के बौद्धों का प्रधान तीर्थ स्थल है। कहा जाता है कि इसी स्थल
त्रिलोक तीर्थ धाम बड़ागांव या बड़ा गांव जैन मंदिर अतिशय क्षेत्र के रूप में प्रसिद्ध है। यह स्थान दिल्ली सहारनपुर सड़क
शौरीपुर नेमिनाथ जैन मंदिर जैन धर्म का एक पवित्र सिद्ध पीठ तीर्थ है। और जैन धर्म के 22वें तीर्थंकर भगवान
आगरा एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक शहर है। मुख्य रूप से यह दुनिया के सातवें अजूबे ताजमहल के लिए जाना जाता है। आगरा धर्म
कम्पिला या कम्पिल उत्तर प्रदेश के फरूखाबाद जिले की कायमगंज तहसील में एक छोटा सा गांव है। यह उत्तर रेलवे की
अहिच्छत्र उत्तर प्रदेश के बरेली जिले की आंवला तहसील में स्थित है। आंवला स्टेशन से अहिच्छत्र क्षेत्र सडक मार्ग द्वारा 18
देवगढ़ उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले में बेतवा नदी के किनारे स्थित है। यह ललितपुर से दक्षिण पश्चिम में 31 किलोमीटर
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा
महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई
कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी - सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील

 

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *