बड़ा इमामबाड़ा कहां स्थित है – बड़ा इमामबाड़ा किसने बनवाया था?

ऐतिहासिक इमारतें और स्मारक किसी शहर के समृद्ध अतीत की कल्पना विकसित करते हैं। लखनऊ में बड़ा इमामबाड़ा उन शानदार स्मारकों में से एक है जो पर्यटकों को बीते युग के आभासी दौरे पर ले जाने में सक्षम हैं। नवाबों की भूमि लखनऊ में कुछ अद्भुत स्मारक हैं जैसे बड़ा इमामबाड़ा, छोटा इमामबाड़ा, रूमी दरवाजा, घंटा घर, ब्रिटिश रेजीडेंसी, बारादरी, छतर मंजिल और बेगम हजरत महल स्मारक। इन स्मारकों में एक शानदार वास्तुकला और एक विशाल आकार है जिसमें शानदार डिजाइनों के साथ विक्टोरियन, फारसी और मुगल प्रभाव का अद्भुत समामेलन शामिल है। नवाबों के शहर के प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्मारकों में, पौराणिक बड़ा इमामबाड़ा को लखनऊ में वास्तुकला के बेहतरीन नमूनों में से एक कहा जा सकता है। नवाबों के शहर का गौरवशाली प्रतिबिंब माने जाने वाला बड़ा इमामबाड़ा हर साल हजारों की संख्या में पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

 

 

बड़ा इमामबाड़ा का इतिहास

 

 

अवध के चौथे नवाब, प्रसिद्ध नवाब आसफुद्दौला ने लखनऊ में बड़ा इमामबाड़ा बनवाया। स्मारक का निर्माण 1775 से 1797 तक अवध के नवाब के शासनकाल के दौरान किया गया था। नवाब आसफुद्दौला को इस अद्भुत संरचना के प्रारंभिक विकास और सौंदर्यीकरण का श्रेय दिया जाता है। वह अवध के पहले नवाब थे, जिन्होंने धार्मिक महत्व के कई खूबसूरत उद्यान, महल और इमारतें बनाईं। प्रारंभ में, बड़ा इमामबाड़ा नवाब आसफुद्दौला के सम्मान के प्रतीक के रूप में इमामबाड़ा-ए-असफी के रूप में जाना जाता था। बड़ा इमामबाड़ा आज भी लखनऊ का सबसे बड़ा ऐतिहासिक स्मारक है।

 

 

किंवदंती है कि नवाब आसफुद्दौला ने 1783 के भीषण सूखे से प्रभावित अपने वंचित लोगों की मदद के लिए बड़ा इमामबाड़ा बनाने की परियोजना शुरू की थी। वह इस जगह पर धार्मिक सभाओं और आयोजनों को आयोजित करने के लिए इमामबाड़े का निर्माण करना चाहते थे।

 

 

ऐसा माना जाता है कि भव्य संरचना के निर्माण कार्य ने उस दौरान 20,000 से अधिक लोगों को रोजगार प्रदान किया। नवाब ने निर्माण कार्य को सूर्यास्त के बाद भी जारी रखने की अनुमति दी ताकि प्रतिष्ठित परिवारों के पुरुषों को रोजगार मिल सके, जिन्हें अन्यथा दिन में मजदूर के रूप में काम करना अपमानजनक लगता था। निर्माण कार्य में अप्रशिक्षित होने के कारण जो लोग रात में काम करते थे, वे संरचना में भव्यता और सुंदरता नहीं ला पाते थे। इसलिए नवाब घटिया निर्माण को गिराने का आदेश देते थे। लेकिन अकुशल मजदूरों को अभी भी शाम को काम करने की इजाजत थी क्योंकि उन्हें काम करने से मना करने से वे बेरोजगार हो जाते। नवाब के करुणामय तरीके ऐसे ही थे।

 

 

पूरी निर्माण-विध्वंस-पुनर्निर्माण प्रक्रिया में धन और संसाधनों की अत्यधिक बर्बादी हुई, लेकिन नवाब आसफुद्दौला एक नेक काम के लिए थे और इसलिए, इस अभ्यास पर बर्बाद हुए पैसे के बारे में कम से कम चिंतित थे। उनके करीबी रईसों में से एक, तहसीन अली खान ने नवाब से अनुरोध किया कि वह उन्हें उस मलबे को ढोने दे जिससे वह एक बड़ी मस्जिद का निर्माण करेगा। नवाब ने अनुमति दी और तहसीन अली खान ने पुराने शहर के चौक इलाके में अकबरी गेट के पास उस मलबे के साथ एक मस्जिद का निर्माण किया।

 

बड़ा इमामबाड़ा
बड़ा इमामबाड़ा

 

इमामबाड़े का शाब्दिक अर्थ है ‘प्रार्थना का स्थान। श्री बसन्त कुमार वर्मा अपनी किताब लखनऊ में लिखते हैं—एक रवायत के मुताबिक दिल्ली के बादशाह मुहम्मद शाह रंगीले से बंगाल के नवाब ने बहुत बड़ी संख्या में अमरूद खरीदना चाहा, सौदा तय हो गया। अमरूद से लदे हुए 32 हाथी दिल्‍ली से बंगाल की तरफ जा रहे थे। जब यह कारवाँ अवध की सरहद से गुज़र रहा था तभी आसिफुद्दौला ने उसमें से 12 हाथी अपने सिपाहियों की मदद से लुटवा लिए। यह माल उस वक्‍त दो हजार करोड़ रुपये का था।

 

 

किशोरी लाल गोस्वामी के अनुसार जब इस इमामबाड़े की बुनियाद खोदी जा रही थी तो मजदूरों को जमीन में गड़ा खजाना मिला। यह खजाना खजान-ए-गैब के नाम से मशहूर हुआ। कहते हैं नवाब साहब ने सारे खजाने का उपयोग करना उचित न समझा । सिर्फ दो अरब रुपये निकाल लिये। जो इमामबाड़े के अलावा अन्य दूसरी इमारतों के बनवाने में खर्चे हुए। बाकी बचे खजाने को गहराई में दबा दिया गया। उसके ऊपर इमामबाड़े की विशाल इमारत खड़ी कर दी गयी। इमामबाड़े में बनी ‘भूल-भुलैया’ को ‘इमारत-ए-गैब’ भी कहा जाता है। इसमें एक ही तरह के 489 दरवाजे हैं। इस भूल भुलैया का सम्बन्ध एक गुप्त सुरंग से था। यह सुरंग जमीन में दबे खजाने तक पहुँचती थी। खजाने तक पहुँचने का रास्ता बावली में भी कहीं था। अंग्रेजों ने इस गुप्त रास्ते को खूब ढूंढा पर असफल रहे बाद में सुरंग को बन्द कर दिया गया।

 

 

लखनऊ की इस भूल भूलैया के सम्बन्ध में श्री भगवत शरण उपाध्याय जी ने कहा है– लखनऊ मेडिकल कालेज के पास अवध के नवाब के इमामबाड़े की भूल भूलैया में चक्कर लगाने वालों को शायद गुमान भी न होगा कि इसके पीछे हजारों साल का इतिहास है और उसका मूल हजारों मील दूर ग्रीस के दक्खिन क्षेत्र में स्थित टापू में है। भूल-भुलैया का चक्कर आज मनोरंजन का साधन है। पर एक जमाना था, जब यह खतरे का जरिया थी।अनेक बार इसका प्रयोग खतरनाक दुश्मनों की कैद के लिए हुआ करता था। लखनऊ के इमामबाड़े की भूल-भलैया की कितनी ही रोमांचक कहानियाँ बन जाती हैं।” इस भूल-भुलैया की एक खुसूसियत यह है कि यदि इसके ऊपर के आखिरी द्वार पर खड़े होकर आवाज लगायी जाए तो नीचे प्रथम प्रवेश द्वार पर खड़ा व्यक्ति उसे साफ सुन सकता है।

 

 

बड़ा इमामबाड़ा की वास्तुकला

 

 

नवाब आसफुद्दौला ने बड़ा इमामबाड़ा के निर्माण के लिए लगभग एक करोड़ रुपये खर्च किए, जिसे पूरा होने में 6 साल लगे। कहा जाता है कि प्रसिद्ध मुगल वास्तुकार हाफिज किफायतुल्ला ने इस अद्भुत स्मारक की वास्तुकला की योजना बनाई और डिजाइन किया था। राजपूत, फारसी और मुगल स्थापत्य सुविधाओं के सुखद मिश्रण के साथ संरचना में इंडो-सरसेनिक शैली है।

 

भवन परिसर में ऊंचे प्रवेश द्वारों के साथ दो अद्भुत उद्यान हैं। संरचना में गुंबददार दरवाजों का एक सुंदर क्रम है। नवाबों के शासनकाल के दौरान इन गुंबददार दरवाजों को गुलाम गार्डिश के नाम से जाना जाता था। इमामबाड़ा परिसर में लखनऊ के लोगों द्वारा आसफी मस्जिद नामक एक बड़ी मस्जिद भी है। शिया मुसलमान यहां शुक्रवार और ईद की नमाज अदा करने के लिए इकट्ठा होते हैं

 

 

इसके अलावा, इमामबाड़ा परिसर में एक बावली (भूलभुलैया) है जिसे एक जलाशय के ऊपर बनाया गया था। इमामबाड़ा के निर्माण के लिए पानी जमा करने के लिए बावली का निर्माण किया गया था। नवाबों ने बड़े पैमाने पर 5 मंजिला इमामबाड़े का इस्तेमाल एक महलनुमा महमान खाना के रूप में किया, जो विशेष मेहमानों के लिए एक जगह थी। हालांकि, अब इस महमान खाने का एक छोटा सा हिस्सा ही बचा है

 

 

इमामबाड़े के विपरीत दिशा में बना नौबत खाना है। इस नौबत खान का निर्माण ढोल वादकों को समायोजित करने के लिए किया गया था, जो दिन के समय की घोषणा करने के लिए अपने नगाड़े (ढोल) बजाते थे, और विशेष आयोजनों पर विशिष्ट अतिथियों और नवाबों के आगमन की घोषणा करते थे।

 

 

भव्य संरचना के पूर्वी और पश्चिमी किनारों पर दो भव्य प्रवेश द्वार बनाए गए थे। वर्तमान में, पश्चिमी तरफ केवल प्रसिद्ध रूमी दरवाजा ही बचा है। वर्ष 1857 में लखनऊ की घेराबंदी के दौरान ब्रिटिश सैनिकों द्वारा दूसरे दरवाजे को ध्वस्त कर दिया गया था। ब्रिटिश सैनिकों ने बड़ा इमामबाड़ा को एक किले में बदल दिया था। मुख्य परिसर को तब एक शस्त्रागार के रूप में उपयोग किया जाता था जहां भारी बंदूकें, टैंक और तोप के गोले संग्रहीत और परिवहन किए जाते थे।

 

 

परिसर के अंदर का मुख्य हॉल 162 फीट लंबा और 53 फीट चौड़ा है। इस गुंबददार हॉल की धनुषाकार छत को एक वास्तुशिल्प चमत्कार के रूप में प्रतिष्ठित किया गया है, क्योंकि 16 फीट मोटे स्लैब का समर्थन करने के लिए कोई सुपरसीडिंग सपोर्ट या बीम नहीं दिखाई देता है, जिसका वजन 2,00,000 टन होने का अनुमान है। इसके अलावा, छत फर्श से 50 फीट ऊंची है।

 

 

इमामबाड़े के मुख्य हॉल में उत्तर और दक्षिण दिशा में दो गैलरी हैं। दक्षिण दिशा में बंद गैलरी को ऊंचा किया जाता है। इमामबाड़े के अंदर देखे जा सकने वाले हीरे, सोने और चांदी के बैनर जैसे अन्य पवित्र अलंकरणों के साथ इस गैलरी का उपयोग शाहनाशिन नामक पोडियम के रूप में ज़ारिअंद ताज़िया (ताज़िया एक मकबरे की लकड़ी, धातु और कागज़ की प्रतिकृति है) लगाने के लिए किया जाता है।

 

 

बड़ा इमामबाड़ा की वर्तमान स्थिति

 

बड़ा इमामबाड़ा हुसैनाबाद ट्रस्ट और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा संयुक्त रूप से संरक्षित है। शानदार संरचना हर साल हजारों घरेलू और अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित करती है। भवन परिसर में प्रवेश करने के लिए मामूली प्रवेश शुल्क है। यहां प्रशिक्षित गाइड उपलब्ध हैं जो आगंतुकों को बड़ा इमामबाड़ा देखने में मदद करते हैं। ये गाइड आपको स्मारक के चारों ओर ले जाएँगे और इस अद्भुत संरचना के निर्माण और विशिष्टता के बारे में दिलचस्प किस्से सुनाएँगे।

 

 

पर्यटक परिसर के अंदर विभिन्न प्रकार के हस्तशिल्प और अन्य वस्तुओं को बेचने वाले स्टालों का भी पता लगा सकते हैं। इस लुभावने स्मारक की आभा और पुरानी दुनिया का आकर्षण आपको नवाबी अपव्यय के इस प्रतीक के बारे में विस्मित करने के लिए निश्चित है। अधिकांश पर्यटक लखनऊ के पुराने शहर क्षेत्र में स्थित इस स्थापत्य कृति की भव्यता और आकर्षण की अथक प्रशंसा करते हैं।

 

 

लखनऊ के नवाब:—

 

सआदत खां बुर्हानुलमुल्क
सैय्यद मुहम्मद अमी उर्फ सआदत खां बुर्हानुलमुल्क अवध के प्रथम नवाब थे। सन्‌ 1720 ई० में दिल्ली के मुगल बादशाह मुहम्मद Read more
नवाब सफदरजंग
नवाब सफदरजंग अवध के द्वितीय नवाब थे। लखनऊ के नवाब के रूप में उन्होंने सन् 1739 से सन् 1756 तक शासन Read more
नवाब शुजाउद्दौला
नवाब शुजाउद्दौला लखनऊ के तृतीय नवाब थे। उन्होंने सन् 1756 से सन् 1776 तक अवध पर नवाब के रूप में शासन Read more
नवाब आसफुद्दौला
नवाब आसफुद्दौला-- यह जानना दिलचस्प है कि अवध (वर्तमान लखनऊ) के नवाब इस तरह से बेजोड़ थे कि इन नवाबों Read more
नवाब वजीर अली खां
नवाब वजीर अली खां अवध के 5वें नवाब थे। उन्होंने सन् 1797 से सन् 1798 तक लखनऊ के नवाब के रूप Read more
नवाब सआदत अली खां
नवाब सआदत अली खां अवध 6वें नवाब थे। नवाब सआदत अली खां द्वितीय का जन्म सन् 1752 में हुआ था। Read more
नवाब गाजीउद्दीन हैदर
नवाब गाजीउद्दीन हैदर अवध के 7वें नवाब थे, इन्होंने लखनऊ के नवाब की गद्दी पर 1814 से 1827 तक शासन किया Read more
नवाब नसीरुद्दीन हैदर
नवाब नसीरुद्दीन हैदर अवध के 8वें नवाब थे, इन्होंने सन् 1827 से 1837 तक लखनऊ के नवाब के रूप में शासन Read more
नवाब मुहम्मद अली शाह
मुन्नाजान या नवाब मुहम्मद अली शाह अवध के 9वें नवाब थे। इन्होंने 1837 से 1842 तक लखनऊ के नवाब के Read more
नवाब अमजद अली शाह
अवध की नवाब वंशावली में कुल 11 नवाब हुए। नवाब अमजद अली शाह लखनऊ के 10वें नवाब थे, नवाब मुहम्मद अली Read more
नवाब वाजिद अली शाह
नवाब वाजिद अली शाह लखनऊ के आखिरी नवाब थे। और नवाब अमजद अली शाह के उत्तराधिकारी थे। नवाब अमजद अली शाह Read more

 

लखनऊ के पर्यटन स्थल:–

 

 

दिलकुशा कोठी
दिलकुशा कोठी, जिसे "इंग्लिश हाउस" या "विलायती कोठी" के नाम से भी जाना जाता है, लखनऊ में गोमती नदी के तट Read more
लखनऊ की बिरयानी
लखनऊ  का व्यंजन अपने अनोखे स्वाद के लिए प्रसिद्ध है। यह शहर अपने कोरमा, बिरयानी, नहरी-कुलचा, जर्दा, शीरमल, और वारकी Read more
रहीम के नहारी कुलचे
रहीम के नहारी कुलचे:--- लखनऊ शहर का एक समृद्ध इतिहास है, यहां तक ​​​​कि जब भोजन की बात आती है, तो लखनऊ Read more
टुंडे कबाब
उत्तर प्रदेश  की राजधानी लखनऊ का नाम सुनते ही सबसे पहले दो चीजों की तरफ ध्यान जाता है। लखनऊ की बोलचाल Read more
गोमती रिवर फ्रंट
लखनऊ  शहर कभी गोमती नदी के तट पर बसा हुआ था। लेकिन आज यह गोमती नदी लखनऊ शहर के बढ़ते विस्तार Read more
अंबेडकर पार्क लखनऊ
नवाबों का शहर लखनऊ समृद्ध ऐतिहासिक अतीत और शानदार स्मारकों का पर्याय है, उन कई पार्कों और उद्यानों को नहीं भूलना Read more
वाटर पार्क इन लखनऊ
लखनऊ शहर जिसे "बागों और नवाबों का शहर" (बगीचों और नवाबों का शहर) के रूप में जाना जाता है, देश Read more
काकोरी शहीद स्मारक
उत्तर प्रदेश राज्य में लखनऊ से 18 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक छोटा सा नगर काकोरी अपने दशहरी आम, जरदोजी Read more
नैमिषारण्य तीर्थ
लखनऊ शहर में मुगल और नवाबी प्रभुत्व का इतिहास रहा है जो मुख्यतः मुस्लिम था। यह ध्यान रखना दिलचस्प है Read more
कतर्नियाघाट सेंचुरी
प्रकृति के रहस्यों ने हमेशा मानव जाति को चकित किया है जो लगातार दुनिया के छिपे रहस्यों को उजागर करने Read more
नवाबगंज पक्षी विहार
लखनऊ में सर्दियों की शुरुआत के साथ, शहर से बाहर जाने और मौसमी बदलाव का जश्न मनाने की आवश्यकता महसूस होने Read more
बिठूर दर्शनीय स्थल
धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व वाले शहर बिठूर की यात्रा के बिना आपकी लखनऊ की यात्रा पूरी नहीं होगी। बिठूर एक सुरम्य Read more
लखनऊ चिड़ियाघर
एक भ्रमण सांसारिक जीवन और भाग दौड़ वाली जिंदगी से कुछ समय के लिए आवश्यक विश्राम के रूप में कार्य Read more
जनेश्वर मिश्र पार्क
लखनऊ में हमेशा कुछ खूबसूरत सार्वजनिक पार्क रहे हैं। जिन्होंने नागरिकों को उनके बचपन और कॉलेज के दिनों से लेकर उस Read more
लाल बारादरी
इस निहायत खूबसूरत लाल बारादरी का निर्माण सआदत अली खांने करवाया था। इसका असली नाम करत्न-उल सुल्तान अर्थात- नवाबों का Read more
सफेद बारादरी
लखनऊ वासियों के लिए यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है यदि वे कहते हैं कि कैसरबाग में किसी स्थान पर Read more
मकबरा सआदत अली खां
उत्तर प्रदेश राज्य की राजधानी लखनऊ बहुत ही मनोरम और प्रदेश में दूसरा सबसे अधिक मांग वाला पर्यटन स्थल, गोमती नदी Read more
भूल भुलैया
इस बात की प्रबल संभावना है कि जिसने एक बार भी लखनऊ की यात्रा नहीं की है, उसने शहर के Read more
रूमी दरवाजा
1857 में भारतीय स्वतंत्रता के पहले युद्ध के बाद लखनऊ का दौरा करने वाले द न्यूयॉर्क टाइम्स के एक रिपोर्टर श्री Read more
चंद्रिका देवी मंदिर
चंद्रिका देवी मंदिर-- लखनऊ को नवाबों के शहर के रूप में जाना जाता है और यह शहर अपनी धर्मनिरपेक्ष संस्कृति के Read more
रामकृष्ण मठ लखनऊ
लखनऊ शहर के निरालानगर में राम कृष्ण मठ, श्री रामकृष्ण और स्वामी विवेकानंद को समर्पित एक प्रसिद्ध मंदिर है। लखनऊ में Read more
छोटा इमामबाड़ा
लखनऊ पिछले वर्षों में मान्यता से परे बदल गया है लेकिन जो नहीं बदला है वह शहर की समृद्ध स्थापत्य Read more
शाह नज़फ इमामबाड़ा
शाही नवाबों की भूमि लखनऊ अपने मनोरम अवधी व्यंजनों, तहज़ीब (परिष्कृत संस्कृति), जरदोज़ी (कढ़ाई), तारीख (प्राचीन प्राचीन अतीत), और चेहल-पहल Read more
रेजीडेंसी
नवाबों के शहर के मध्य में ख़ामोशी से खडी ब्रिटिश रेजीडेंसी लखनऊ में एक लोकप्रिय ऐतिहासिक स्थल है। यहां शांत Read more
बीबीयापुर कोठी
बीबीयापुर कोठी ऐतिहासिक लखनऊ की कोठियां में प्रसिद्ध स्थान रखती है। नवाब आसफुद्दौला जब फैजाबाद छोड़कर लखनऊ तशरीफ लाये तो इस Read more
खुर्शीद मंजिल लखनऊ
खुर्शीद मंजिल:- किसी शहर के ऐतिहासिक स्मारक उसके पिछले शासकों और उनके पसंदीदा स्थापत्य पैटर्न के बारे में बहुत कुछ Read more
मोती महल लखनऊ
मुबारिक मंजिल और शाह मंजिल के नाम से मशहूर इमारतों के बीच 'मोती महल' का निर्माण नवाब सआदत अली खां ने Read more
छतर मंजिल लखनऊ
अवध के नवाबों द्वारा निर्मित सभी भव्य स्मारकों में, लखनऊ में छतर मंजिल सुंदर नवाबी-युग की वास्तुकला का एक प्रमुख Read more
पिक्चर गैलरी लखनऊ
सतखंडा पैलेस और हुसैनाबाद घंटाघर के बीच एक बारादरी मौजूद है। जब नवाब मुहम्मद अली शाह का इंतकाल हुआ तब इसका Read more
सतखंडा पैलेस
सतखंडा पैलेस हुसैनाबाद घंटाघर लखनऊ के दाहिने तरफ बनी इस बद किस्मत इमारत का निर्माण नवाब मोहम्मद अली शाह ने 1842 Read more
फिरंगी महल
गोल दरवाजे और अकबरी दरवाजे के लगभग मध्य में फिरंगी महल की मशहूर इमारतें थीं। इनका इतिहास तकरीबन चार सौ Read more
मच्छी भवन लखनऊ
लक्ष्मण टीले के करीब ही एक ऊँचे टीले पर शेख अब्दुर्रहीम ने एक किला बनवाया। शेखों का यह किला आस-पास Read more
परीखाना
लखनऊ का कैसरबाग अपनी तमाम खूबियों और बेमिसाल खूबसूरती के लिए बड़ा मशहूर रहा है। अब न तो वह खूबियां रहीं Read more
टीले वाली मस्जिद
लक्ष्मण टीले वाली मस्जिद लखनऊ की प्रसिद्ध मस्जिदों में से एक है। बड़े इमामबाड़े के सामने मौजूद ऊंचा टीला लक्ष्मण Read more