फॉकलैंड द्विप विवाद क्या है इसके लिए ब्रिटेन और अर्जेंटीना का युद्ध

भोगौलिक एवं सांस्कृतिक दृष्टि से फॉकलैंड ब्रिटेन की अपेक्षा अर्जेण्टीना के काफी निकट है किन्तु ब्रिटेन उसे अपना उपनिवेश मानता है और वहां के तेल भण्डारों से करोड़ों पौंड का मुनाफा कमाता है। दूसरी ओर, अर्जेंटीना इन द्वीपसमूहों को अपना भू- भाग मानता है। सही पुराना विवाद 1982 में तब नये सिरे से उभरा, जब अर्जेंटीना ने अपने सैनिक भेजकर फॉकलैंड द्वीपसमूहों पर अपना अधिकार जताया और ब्रिटेन ने जवाबी कार्रवाई करके उसे सबक सिखाना चाहा। यही फॉकलैंड द्विप का विवाद रहा।

 

 

फॉकलैंड द्विप विवाद के कारण

 

 

फॉकलैंड द्विपसमूह अर्जेंटीना से 500 कि.मी. दूर दक्षिण अटलांटिक महासागर में स्थित है। इसमे लगभग 200 द्वीप हैं। पूर्वी और पश्चिमी फॉकलैंड इनमे सबसे बडे द्वीप है। पिछले लगभग 50 वर्षो से अर्जेंटीना और ब्रिटेन के बीच इस द्वीपसमूह के स्वामित्व को लेकर विवाद चला आ रहा है। अर्जेंटीना कई अन्तर्राष्ट्रीय संगठनों तथा सम्मेलनो में अपने स्वामित्व के दावे को लगातार दोहराता रहा है किन्तु फॉकलैण्ड द्विपसमृह से 12,000 कि.मी. दूर स्थित ब्रिटेन इसे अपना उपनिवेश मानता है। अर्जेंटीना का दावा इसलिए तर्कसंगत लगता है क्योंकि यह द्वीपसमूह भौगोलिक, सास्कृतिक तथा ऐतिहासिक दृप्टि से अर्जेंटीना के निकट है। हालांकि 2,000 की जनसंख्या वाले इस द्वीपसमूह के 98 प्रतिशत लोगों को ब्रिटिश नागरिकता प्राप्त है, वे अपने को ब्रिटिश न कहकर ‘केल्पर’ (kelpers) कहते है। ब्रिटेन फ़ॉकलैंड को इसलिए अपना उपनिवेश बनाये रखना चाहता है क्योंकि फॉकलैण्ड ऑयल कम्पनी तथा तेल और प्राकृतिक गैस के विपुल भण्डारों से उसे करोड़ों पौंड का मुनाफा मिलता है। जल परिवहन के धंधे में लगी इस कम्पनी से पिछले 30 वर्षो के दौरान ब्रिटेन को एक करोड 20 लाख पौंड मुनाफे के रूप में मिले। इसमे 48 लाख पौंड की बह कर राशि सम्मिलित नही हैं जो ब्रिटेन ने बतौर उपनिवेश फॉकलैंड से वसूली। बात सिर्फ इतनी ही नहीं। 1976 मे लॉर्ड शैकेल्टन की अध्यक्षता में गठित कमैटी की एक रिपोर्ट के अनुसार तेल और प्राकृतिक गैस के अलावा यहां पर खनिज मौजूद हो सकती है, जिनमे प्रोटीन का अंश बहुत अधिक होता है। ब्रिटेन की दृष्टि इस भण्डार पर भी टिकी है।

 

 

इसके अलावा विवाद के राजनैतिक कारण भी हैं। 1805 में स्पेन ने फॉकलैंड स्थित किला और स्टेनली बंदरगाह (Port Stanley) को ब्रिटेन के हवाले करते हुए एक समझौता किया था। स्पेनी शासन से जब फ़ॉकलैंड मुक्त हुआ तो अर्जेण्टीना भी इस पर अपना दावा करते हुए विवाद मे शामिल हो गया और 1828 में उसने अंग्रेजों को वहां से खदेड कर अपना गवर्नर नियुक्त कर दिया। 1833 मे ब्रिटेन ने अमरीका की मदद से पुनः इसे छीन लिया और 1892 में अपना उपनिवेश घोषित कर दिया। तब से लेकर आज तक यह ब्रिटिश उपनिवेश है किन्तु अर्जेंटीना बराबर अपना दावा करता रहा। ब्रिटेन चाहता था कि अर्जेंटीना इस द्वीपसमूह को लम्बी अवधि के लिए उसे ‘लीज’ पर दे दे अर्जेंटीना ने ब्रिटेन की बात को नकार दिया। अन्तत आपसी खीचतान ने विवाद को युद्ध का रंग दे दिया।

 

 

फॉकलैंड द्वीपसमूह
फॉकलैंड द्वीपसमूह

 

 

फॉकलैंड युद्ध की शुरुआत

 

2 अप्रैल, 1982 को अर्जेण्टीना ने अपने 4000 नौ सैनिकों की सहायता से फॉकलैण्ड और सेट जार्जिया, आदि द्वीपो पर कब्जा कर लिया और ब्रिटिश गवर्नर रेक्स हण्ट को पोर्ट स्टेनली (Port Stanley) से बाहर कर दिया। ब्रिटिश प्रधानमंत्री मार्गरेट थैचर के मंत्रीमंडल की आपातकालीन बैठक हुई और दूसरे ही दिन एच.एम.एस. इनविसिबल (H.M.S Invincible) नामक युद्धपोत के नेतृत्व में ब्रिटिश नौसेना पोर्टस्माउथ बदरगाह के लिए रवाना हो गयी। विशाल ब्रिटिश नौसेना तथा वायुसेना के बमवर्षक विमानो ने फॉकलैण्ड स्थित अर्जेण्टीना के सैनिक ठिकानो पर हमला किया। प्रतिरोध में अर्जेण्टीना ने आणविक शस्त्रों से युक्‍त ब्रिटिश विध्वंसक ‘शैफील्ड’ (Sheffield) को तारपीडो का निशाना बनाकर ध्वस्त कर दिया। अर्जेण्टीना का विशाल पोत ‘जनरल बेलग्रानों (General Belgrano) भी 368 नौ सैनिकों सहित डूब गया।

 

 

अन्ततः मई के अन्त तक अर्जेंटीना के जनरल गैलतियेरी के सामने स्पष्ट हों गया कि अधिक देर तक जारी रखने से यह युद्ध आणविक युद्ध मे परिवर्तित हो सकता है, जिसका प्रतिरोध करने की क्षमता उनके पास नहीं है। दूसरी ओर, अमरीका ने जनरल गैलतियेरी के साथ हुए वायदों को ताक पर रखकर ब्रिटेन का साथ दिया। आखिर विश्व मानचित्र पर ब्रिटेन एक महाशक्ति था और अर्जेंटीना एक छोटा-सा देश। इसके साथ-साथ, अर्जेण्टीना की आर्थिक तथा आंतरिक परिस्थितियां भी प्रतिकूल होने लगी और 4 जुन को फॉकलैण्ड मे ब्रिटिश मेजर जनरल जे.जे. मूर के समक्ष अर्जेण्टीना के ब्रिगेडियर जनरल मारियों बेंजामिनों मेनेदेज (Mario Benjamino Menendez) ने ,845 सैनिकों सहित आत्म समर्पण कर दिया। इस तरह 72 दिवसीय युद्ध समाप्त हुआ।

 

 

परिणाम

 

दोनों ही देशो को युद्ध के भयंकर परिणाम भुगतने पडे। इस युद्ध से ब्रिटेन की आर्थिक स्थिति पर बुरा प्रभाव पड़ा। ब्रिटेन के विदेश मत्री लॉर्ड केरिंगटन को त्यागपत्र देना पडा और जनरल गैलतियेरी का भी यही हश्र हुआ। फॉकलैंड द्वीपसमूह पर ब्रिटेन का पुनः अधिकार हो गया किन्तु फॉकलैंड द्विपसमूह के स्वामित्व का प्रश्न अनसुलझा ही रहा।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

 

 

झेलम का युद्ध
झेलम का युद्ध भारतीय इतिहास का बड़ा ही भीषण युद्ध रहा है। झेलम की यह लडा़ई इतिहास के महान सम्राट Read more
चंद्रगुप्त मौर्य और सिकंदर का युद्ध
चंद्रगुप्त मौर्य और सिकंदर का युद्ध ईसा से 303 वर्ष पूर्व हुआ था। दरासल यह युद्ध सिकंदर की मृत्यु के Read more
शकों का आक्रमण
शकों का आक्रमण भारत में प्रथम शताब्दी के आरंभ में हुआ था। शकों के भारत पर आक्रमण से भारत में Read more
हूणों का आक्रमण
देश की शक्ति निर्बल और छिन्न भिन्न होने पर ही बाहरी आक्रमण होते है। आपस की फूट और द्वेष से भारत Read more
खैबर की जंग
खैबर दर्रा नामक स्थान उत्तर पश्चिमी पाकिस्तान की सीमा और अफ़ग़ानिस्तान के काबुलिस्तान मैदान के बीच हिन्दुकुश के सफ़ेद कोह Read more
अयोध्या का युद्ध
हमनें अपने पिछले लेख चंद्रगुप्त मौर्य और सेल्यूकस का युद्ध मे चंद्रगुप्त मौर्य की अनेक बातों का उल्लेख किया था। Read more
तराईन का प्रथम युद्ध
भारत के इतिहास में अनेक भीषण लड़ाईयां लड़ी गई है। ऐसी ही एक भीषण लड़ाई तरावड़ी के मैदान में लड़ी Read more
तराइन का दूसरा युद्ध
तराइन का दूसरा युद्ध मोहम्मद गौरी और पृथ्वीराज चौहान बीच उसी तरावड़ी के मैदान में ही हुआ था। जहां तराइन Read more
मोहम्मद गौरी की मृत्यु
मोहम्मद गौरी का जन्म सन् 1149 ईसवीं को ग़ोर अफगानिस्तान में हुआ था। मोहम्मद गौरी का पूरा नाम शहाबुद्दीन मोहम्मद गौरी Read more
चित्तौड़ पर आक्रमण
तराइन के दूसरे युद्ध में पृथ्वीराज चौहान के साथ, चित्तौड़ के राजा समरसिंह की भी मृत्यु हुई थी। समरसिंह के तीन Read more
मेवाड़ का युद्ध
मेवाड़ का युद्ध सन् 1440 में महाराणा कुम्भा और महमूद खिलजी तथा कुतबशाह की संयुक्त सेना के बीच हुआ था। Read more
पानीपत का प्रथम युद्ध
पानीपत का प्रथम युद्ध भारत के युद्धों में बहुत प्रसिद्ध माना जाता है। उन दिनों में इब्राहीम लोदी दिल्ली का शासक Read more
बयाना का युद्ध
बयाना का युद्ध सन् 1527 ईसवीं को हुआ था, बयाना का युद्ध भारतीय इतिहास के दो महान राजाओं चित्तौड़ सम्राज्य Read more
कन्नौज का युद्ध
कन्नौज का युद्ध कब हुआ था? कन्नौज का युद्ध 1540 ईसवीं में हुआ था। कन्नौज का युद्ध किसके बीच हुआ Read more
पानीपत का द्वितीय युद्ध
पानीपत का प्रथम युद्ध इसके बारे में हम अपने पिछले लेख में जान चुके है। अपने इस लेख में हम पानीपत Read more
पंडोली का युद्ध
बादशाह अकबर का चित्तौड़ पर आक्रमण पर आक्रमण सन् 1567 ईसवीं में हुआ था। चित्तौड़ पर अकबर का आक्रमण चित्तौड़ Read more
हल्दीघाटी का युद्ध
हल्दीघाटी का युद्ध भारतीय इतिहास का सबसे प्रसिद्ध युद्ध माना जाता है। यह हल्दीघाटी का संग्राम मेवाड़ के महाराणा और Read more
सिंहगढ़ का युद्ध
सिंहगढ़ का युद्ध 4 फरवरी सन् 1670 ईस्वी को हुआ था। यह सिंहगढ़ का संग्राम मुग़ल साम्राज्य और मराठा साम्राज्य Read more
दिवेर का युद्ध
दिवेर का युद्ध भारतीय इतिहास का एक प्रमुख युद्ध है। दिवेर की लड़ाई मुग़ल साम्राज्य और मेवाड़ सम्राज्य के मध्य में Read more
करनाल का युद्ध
करनाल का युद्ध सन् 1739 में हुआ था, करनाल की लड़ाई भारतीय इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान रखती है। करनाल का Read more
प्लासी का युद्ध
प्लासी का युद्ध 23 जून सन् 1757 ईस्वी को हुआ था। प्लासी की यह लड़ाई अंग्रेजों सेनापति रॉबर्ट क्लाइव और Read more
पानीपत का तृतीय युद्ध
पानीपत का तृतीय युद्ध मराठा सरदार सदाशिव राव और अहमद शाह अब्दाली के मध्य हुआ था। पानीपत का तृतीय युद्ध Read more
ऊदवानाला का युद्ध
ऊदवानाला का युद्ध सन् 1763 इस्वी में हुआ था, ऊदवानाला का यह युद्ध ईस्ट इंडिया कंपनी यानी अंग्रेजों और नवाब Read more
बक्सर का युद्ध
भारतीय इतिहास में अनेक युद्ध हुए हैं उनमें से कुछ प्रसिद्ध युद्ध हुए हैं जिन्हें आज भी याद किया जाता Read more
आंग्ल मैसूर युद्ध
भारतीय इतिहास में मैसूर राज्य का अपना एक गौरवशाली इतिहास रहा है। मैसूर का इतिहास हैदर अली और टीपू सुल्तान Read more
आंग्ल मराठा युद्ध
आंग्ल मराठा युद्ध भारतीय इतिहास में बहुत प्रसिद्ध युद्ध है। ये युद्ध मराठाओं और अंग्रेजों के मध्य लड़े गए है। Read more
1857 की क्रांति
भारत में अंग्रेजों को भगाने के लिए विद्रोह की शुरुआत बहुत पहले से हो चुकी थी। धीरे धीरे वह चिंगारी Read more
1971 भारत पाकिस्तान युद्ध
भारत 1947 में ब्रिटिश उपनिषेशवादी दासता से मुक्त हुआ किन्तु इसके पूर्वी तथा पश्चिमी सीमांत प्रदेशों में मुस्लिम बहुमत वाले क्षेत्रों Read more

 

write a comment