पेनिसिलिन का आविष्कार किसने किया और कब हुआ

पेनिसिलिन की खोज ब्रिटेन के सर एलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने सन् 1928 में की थी, लेकिन इसका आम उपयोग इसकी खोज के लगभग दस वर्ष बाद ही हो पाया। इसकी खोज से निमोनिया, खांसी गले की सूजन ओर घावों जैसे गंभीर रोगों पर विजय पाने का मार्ग खुल गया। इस पेनिसिलिन औषधि मे रोगों के कीटाणुओं को मारने का विलक्षण गुण है।

 

 

पेनिसिलिन एक प्रकार की फफूंद से बनती है। जिसे पेनसीलियम कहते हैं। यह फफूंद ठीक उसी तरह की होती है जो आमतौर पर कई दिनों तक खुले में रखने पर डबल रोटी संतरे, नींबू आदि पर लग जाती है। दूसरी प्रकार की फफूंदों से अनेक प्रकार की औषधियां बनायी जाती हैं जिन्हे एंटीबायोटिक औषधियां कहा जाता है।

 

 

पेनिसिलिन का आविष्कार किसने किया और कब हुआ

 

 

एक दिन प्रोफेसर फ्लेमिंग भिन्न-भिन्न वस्तुओं पर उगआयी फफूंद की प्यालियों पर कुछ परीक्षण कर रहे थे। उन्होनें फोडे से प्राप्त पस में विद्यमान जीवाणुओं पर परीक्षण करते हुए एक बडी हीं विचित्र चीज देखी। उन्होने देखा कि पस की जेली पर एक फफूंद उग आयी थी, लेकिन आश्चर्य था कि फफूंद के चारो ओर खाली जगह बची हुइ थी, जबकि फफूंद की प्लेट अच्छी तरह ढकी हुई थी। फ्लेमिंग ने देखा कि फफूंद ने अपने चारों ओर एक विशेष प्रकार का पदार्थ उत्पन्न किया है जिसने जीवाणुओं की वृद्धि मे रुकावट डाली है। अन्य प्रयोगों से उन्हे ज्ञात हुआ कि यह विशेष फफूंद पेनिसिलियम’ फफूंदों के एक बहुत बडे परिवार की एक सदस्या हैं।

 

पेनिसिलिन
पेनिसिलिन

 

फ्लेमिंग ने कई पदार्थों की फफूंद उगायी और विभिन्न प्रकार के जीवाणुओं पर फफूंद के प्रभाव के परीक्षण किए। सबसे पहले फ्लेमिंग ने एक विशेष रोग के रोगाणुओं को मांस के शोरबे की जेली में डाला और उसमे फफूंद के बीजाणु मिलाएं। फफूंद के आस-पास की जगह खाली रही। इसका अर्थ यह था कि यह फफूंद रोग के रोगाणुओं को रोकने में सफल रही। इसी प्रकार उन्होने कई रागों के रेगाणुओं पर फफूंद का प्रभाव ज्ञात किया। उन्होने पाया कि कुछ रोगाणुओं पर इसका प्रभाव पडता है और कुछ पर नही।

 

 

इसके बाद उन्होंने यह पता करने के लिए परीक्षण करने शुरू किए कि प्रभाव डालने वाला पदार्थ फफूंद में मौजूद है अथवा फफूंद से उत्पन होता है और किस प्रकार अलग किया जा सकता है ताकि जीवो के शरीर में प्रवेश कराकर उसका प्रभाव देखा जा सके।

 

 

फ्लेमिंग ने मांस के शोरबे मे फफूंद उगाकर शोरबे को छानकर अलग कर दिया। छाने गए द्रव मे उन्होंने रोगाणुओं की कल्चर मिलाकर देखा। यह द्रव रोगाणुओं के विरुद्ध उतनी ही तेजी से कार्य कर रहा था जितनी फफूंद के परीक्षण के समय। इस प्रयोग से फ्लेमिंग को ज्ञात हो गया कि फफूंद द्वारा उत्पन्न वह सक्रिय पदार्थ जो रोगाणुओं के विरुद्ध कार्य करता है। द्रव में घुलकर आ जाता है। इस तरह उन्होंने पेनिसिलिन का आविष्कार किया। रोगाणुओं को उत्पन्न होने से रोकने के लिए उन्होंने यह द्रव तैयार कर लिया था। इस द्रव को एंटीबायोटिक या अथवा प्रतिजीवी कहते हैं। इस द्रव का नाम फ्लेमिंग ने पेनिसिलिन रखा।

 

 

उसके बाद फ्लेमिंग ने पेनिसिलिन द्रव से अनेक परिक्षण किए। और अंत में इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि इस पेनिसिलिन द्रव को औषधि के रूप में इंजेक्शन द्वारा मनुष्य के शरीर में पहुंचाया जा सकता है। फ्लेमिंग ने इसका प्रयोग अनेक चर्म रोगों के इलाज में भी किया जिसके परिणाम बहुत ही उत्साह जनक निकले।

 

 

सबसे महत्वपूर्ण कार्य पेनिसिलिन पदार्थ को इस द्रव में से अलग करना था। जिसमें फ्लेमिंग को सफलता न मिली। इसका सबसे बड़ा कारण इस पदार्थ की विलक्षणता थी। यह पदार्थ परिक्षण करते वक्त तुरंत ही दूसरे पदार्थ में बदल जाता था।

 

 

पेनिसिलिन को द्रव से अलग करने में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय प्रोफेसर फ्लेरी ने किसी हद तक सफलता पाई। सन् 1938-39 में उन्होंने थोड़ी सी पेनिसिलिन अलग की और उसे इंजेक्शन के रूप में रोगी के शरीर में पहुंचाने के लिए तैयार किया। सन् 1941 में उन्होंने इसका परिक्षण कुछ रोगियों पर किया जिसके बहुत ही अच्छे परिणाम निकले।

 

 

उसके बाद अनेक वैज्ञानिकों ने बड़ी मात्रा में पेनिसिलिन उत्पादन करने के लिए मिलकर प्रयत्न किए। अमेरिका की अनेक प्रयोगशालाएं इस कार्य में महिनों तक लगी रही। तब कहीं जाकर बड़ी मात्रा में पेनिसिलिन प्राप्त करने का तरीका मालूम किया जा सका।

 

 

पेनिसिलिन डिफ्थीरिया, निमोनिया, रक्त विषाक्तता (Blood poisoning) फोड़े, गले का दर्द, खासी, दमा आदि अनेक रोगों के इलाज के लिए इंजेक्शन और गोलियों के रूप में प्रयोग की जाती है। ऑपरेशन के वक्त भी पेनिसिलिन का इंजेक्शन रोगी को दिया जाता है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

 

ट्रांसफार्मर
ए° सी० बिजली किफायत की दृष्टि से 2000 या अधिक वोल्ट की तैयार की जाती है। घर के साधारण कामों के Read more
डायनेमो सिद्धांत
डायनेमो क्या है, डायनेमो कैसे बने, तथा डायनेमो का आविष्कार किसने किया अपने इस लेख के अंदर हम इन प्रश्नों Read more
बैटरी
लैक्लांशी सेल या सखी बैटरी को प्राथमिक सेल ( प्राइमेरी सेल) कहते हैं। इनमें रासायनिक योग के कारण बिजली की Read more
रेफ्रिजरेटर
रेफ्रिजरेटर के आविष्कार से पहले प्राचीन काल में बर्फ से खाद्य-पदार्थों को सड़ने या खराब होने से बचाने का तरीका चीन Read more
बिजली लाइन
कृत्रिम तरीकों से बिजली पैदा करने ओर उसे अपने कार्यो मे प्रयोग करते हुए मानव को अभी 140 वर्ष के Read more
प्रेशर कुकर
प्रेशर कुकर का आविष्कार सन 1672 में फ्रांस के डेनिस पपिन नामक युवक ने किया था। जब डेनिस पपिन इंग्लेंड आए Read more
इत्र
कृत्रिम सुगंध यानी इत्र का आविष्कार संभवतः सबसे पहले भारत में हुआ। प्राचीन भारत में इत्र द्रव्यो का निर्यात मिस्र, बेबीलोन, Read more
कांच की वस्तुएं
कांच का प्रयोग मनुष्य प्राचीन काल से ही करता आ रहा है। अतः यह कहना असंभव है, कि कांच का Read more
घड़ी
जहां तक समय बतान वाले उपरकण के आविष्कार का प्रश्न है, उसका आविष्कार किसी वैज्ञानिक ने नहीं किया। यूरोप की Read more
कैलेंडर
कैलेंडर का आविष्कार सबसे पहले प्राचीन बेबीलोन के निवासियों ने किया था। यह चंद्र कैलेंडर कहलाता था। कैलेंडर का विकास समय Read more
सीटी स्कैन
सीटी स्कैन का आविष्कार ब्रिटिश भौतिकशास्त्री डॉ गॉडफ्रे हान्सफील्ड और अमरीकी भौतिकविज्ञानी डॉ एलन कोमार्क ने सन 1972 मे किया। Read more
थर्मामीटर
थर्मामीटर का आविष्कार इटली के प्रसिद्ध वैज्ञानिक गेलिलियो ने लगभग सन्‌ 1593 में किया था। गेलिलियो ने सबसे पहले वायु का Read more
स्टेथोस्कोप
वर्तमान समय में खान पान और प्राकृतिक के बदलते स्वरूप के कारण हर मनुष्य कभी न कभी बिमारी का शिकार Read more
क्लोरोफॉर्म
चिकित्सा विज्ञान में क्लोरोफॉर्म का आविष्कार बडा ही महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। क्लोरोफॉर्म को ऑपरेशन के समय रोगी को बेहोश करने Read more
मिसाइल
मिसाइल एक ऐसा प्रक्षेपास्त्र है जिसे बिना किसी चालक के धरती के नियंत्रण-कक्ष से मनचाहे स्थान पर हमला करने के Read more
माइन
सुरंग विस्फोटक या लैंड माइन (Mine) का आविष्कार 1919 से 1939 के मध्य हुआ। इसका आविष्कार भी गुप्त रूप से Read more
मशीन गन
एक सफल मशीन गन का आविष्कार अमेरिका के हिरेम मैक्सिम ने सन 1882 में किया था जो लंदन में काम कर Read more
बम का आविष्कार
बम अनेक प्रकार के होते है, जो भिन्न-भिन्न क्षेत्रों, परिस्थितियों और शक्ति के अनुसार अनेक वर्गो में बांटे जा सकते Read more
रॉकेट
रॉकेट अग्नि बाण के रूप में हजारों वर्षो से प्रचलित रहा है। भारत में प्राचीन काल से ही अग्नि बाण का Read more
पैराशूट
पैराशूट वायुसेना का एक महत्त्वपूर्ण साधन है। इसकी मदद से वायुयान से कही भी सैनिक उतार जा सकते है। इसके Read more