न्यूट्रॉन तारें की खोज किसने की थी – आकाशगंगा में दूसरी सभ्यता के संकेत

सन्‌ 1961 की बात है। कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी की खगोल वेधशाला में प्रोफेसर एंथोनी ह्यूइश के साथ काम कर रहे उनके एक सहयोगी जोसलीन बैन ने पाया कि अचानक वेधशाला के संवेदनशील यंत्रों को कही से रेडियो संकेत मिल रहे हैं। ये संकेत 1.3 सेकंड के अंतर पर लगातार आ रहे थे और इनकी यह आवृत्ति बिल्कुल निश्चित थी। इस खोज के बारे में जिसने सुना वही हैरान रह गया। हैरानी की बात ही थी। आखिर अंतरिक्ष की गहराई मे वह क्या चीज हो सकती थी, जिससे रह-रह कर ये
संकेत आ रहे थे मानो अंतरिक्ष के दिल की धड़कन हो। कई वैज्ञानिक यह अनुमान लगा बैठे की जरूर ये संकेत हमें आकाशगंगा में स्थित कोई अन्य सभ्यता भेज रही है। एक विशेष समयांतर पर प्राप्त होने वाले इन रेडियो संकेतों की व्याख्या कई
प्रकार से करने की कोशिश की गई, पर बाद में वैज्ञानिक विश्लेषण से यह सिद्ध हो गया कि ये संकेत हमें न्यूट्रॉन तारें से मिलते हैं।

 

 

 

न्यूट्रॉन तारें की खोज

 

न्यूट्रॉन तारें अपनी धुरी पर घूमते रहते हैं इसीलिए वे एक निश्चित समयांतर पर रेडियो संकेत भेजते हैं! ये न्यूट्रॉन तारें क्या हैं आखिर? इस विषय में वैज्ञानिकों की धारणा है कि जब किसी तारें की ऊर्जा खत्म हो जाती है, तो वह अपनी स्वयं की गुरूत्वाकर्षण शक्ति से पिचक जाता है। यह दबाव इतना अधिक हो जाता है कि तारें के पदार्थ के परमाणु एक दूसरे में एकाकार हो जाते हैं और अविश्वसनीय रूप से भारी पिड बन जाता है। इकट्ठा होने की यह क्रिया इतनी शक्तिशाली होती है कि खाली स्थान तो रहता ही नही। बस पूरा पदार्थ टकराकर तरंगें पैदा करता है।

 

 

तारें पृथ्वी से 330,000 गुना है पर अगर इसका ऊर्जा समाप्त हो जाए तो यह पिचक कर दस किलोमीटर व्यास का एक गोला बन जाएगा। इस प्रकार की क्रिया मे भार तो वही रहता है, पर आयतन में बहुत कमी आ जाती है। इस तरह घनीभूत हुए पदार्थ से ही न्यूट्रॉन तारा बनता है और यह रेडियो तरंगो का एक
शक्तिशाली स्रोत होता है। घनीभूत होने के कारण इन तारों की चुंबकीय शक्ति भी बहुत प्रबल होती है। क्योंकि न्यूट्रॉन तारें अपनी धुरी के इर्द-गीर्द घूमते हैं। इसीलिए हमें रह रहकर रेडियो संकेत प्राप्त होते रहते है। ये न्यूट्रॉन तारें ही अंतरिक्ष का धड़कता दिल है, जिन्हें वैज्ञानिकों ने नाम दिया है पलसर’ यानी
पल्ससेंटिग सोर्स। अब तक कई पलसर खोजे जा चुके हैं। पलसर्स से मिलने वाले रेडियो संकेतों की आवृत्ति 1/10 सेकंड से ले कर कई मिनटों तक पायी गई है। न्यूट्रॉन तारें लट॒टू की तरह अपनी धुरी पर घूमते हैं और हर चक्कर में जो शक्ति इन धड़कते पिंडों से छिटक जाती है, उसकी वजह से इनकी गति धीमी पड़ती
जाती है। गति का हिसाब-किताब लगाने से यह पता चल सकता है कि कौन-सा पलसर कितना पुराना है। इनकी आयु से ब्रह्मांड की आयु पता कर सकते हैं।

 

 

 

एक रहस्यमय पलसर तथा आकाशगंगा में दूसरी सभ्यता के संकेत

 

वैसे तो पलसर की गुत्थी सुलझ गईं 2408 एक विशेष पलसर जे, पलसर-153 अभी रहस्य बना हुआ है। कई वैज्ञानिकों के विचार मे यह पलसेटिंग पिंड ब्रह्मांड की अनुमानित आयु से भी बूढ़ा है। इससे यही धारणा बनती है कि यह पिंड शायद
इससे पहले के ब्रह्मांड का कोई छूटा हुआ अंश है। कुछ वर्ष पहले खोजा गया यह पलसर-153 अपनी धुरी के ग्रिर्द चक्कर भी नहीं खाता, जिसके कारण वैज्ञानिक और भी चकरा गए है।

 

 

न्यूट्रॉन तारें
न्यूट्रॉन तारें

 

ब्रह्मांड की संरचना का सिद्धांत यह है कि यह किसी घनीभूत पदार्थ से छिटका हुआ अंश है, जो चारों ओर बाहर की तरफ फैल रहा है। एक समय आएगा जब यह फैलाव थम जाएगा और करीबी नक्षत्र मंडलों का चुम्बकीय खिचाव भी समाप्त हो जाएगा। इस दशा में ब्रह्मांड का पदार्थ सिमटने लगेगा और फिर एक नये सिरे से ब्रह्मांड का निर्माण होगा। पर यह स्थिति आएगी कब? वैज्ञानिको का अनुमान है कि यह लगभग सात हजार करोड़ वर्षो बाद होगा क्योंकि ब्रह्मांड के निर्माण और अंत का एक चक्र होता है, जो करोड़ों वर्षों बाद पूरा होता है। इस बीच थोड़े समय के लिए ब्रह्मांड बहुत गर्म हो जाता है। तब ऊर्जा के अलावा और कुछ नहीं रहता। पर जे पलसर-153 कैसे बच गया? एक वैज्ञानिक फ्रैंक ड्रेक का विचार है कि शायद इस ब्रह्मांड के कुछ अंश इतने गर्म नहीं हुए थे कि वे ऊर्जा में बदल जाते। शायद जे. पलसर-153 भी इसी कारण से पदार्थ का बचा हुआ एक अंश है।

 

 

 

रेडियो तरंग पैदा करने वाले अन्य पिंड

 

 

क्या पलसर पिंड ही रेडियो तरंगो के स्रोत है? जी नही। पलसरों के अतिरिक्त ब्रह्मांड में रेडियो तरंगो के दूसरे और स्रोत भी
मिले हैं। ये स्रोत है क्वासर या ‘क्याजी स्टैलर रेंडियो सोर्स’ और रेडियो गैलेक्सी क्वासर वे रहस्यमय पिंड हैं, जो सितारों से मिलते-जुलते हैं, यानी इनका द्रव न्यूट्रॉन सितारों की तरह घनीभूत हुआ है। ये आकाशीय पिंड साधारण प्रकाश, इन्फ्रारेड और रेडियो तरंगों के शक्तिशाली स्रोत हैं। इनकी खोज सन्‌ 1950 में कैम्ब्रिज वेधशाला में ही हुई थी। पहला क्वासर 3-सी 48 था, जो सन्‌ 1960 में खोजा गया था। यह हल्का नीला रंग लिए हुए है। तब से अब तक सैकडों क्वासर खोजे जा चुके है। कुछ तो 284,580 किमी. मील प्रति सेकंड की अप्रत्याशित गति
से दौड़ रहे हैं। हमसे इनकी दूरी एक प्रकाश वर्ष से लेकर नौ सौ करोड प्रकाश वर्ष तक आंकी गई है (एक प्रकाश वर्ष बह दूरी है जो प्रकाश एक वर्ष में तय करता है)। आश्चर्य की बात तो यह है कि एक छोटा-सा क्वासर हमारी पूरी गैलेक्सी से सैकडों
गुना ज्यादा ऊर्जा ब्रह्मांड में छोड़ रहा है। यह रहस्य वैज्ञानिकों की समझ में अभी तक नहीं आया है।

 

 

कुछ आकाश गंगाएं भी रेडियो तरंगों की शक्तिशाली स्रोत हैं। यह है रेडियो गैलेक्सी। जिस आकाशगंगा में हमारी पृथ्वी स्थित है, वह भी रेडियो तरंगें रेडिएट तो करती है, पर यह इतना शक्तिशाली स्रोत नही है कि इसे रेडियो गैलेक्सी की संज्ञा दी जाए। एम-87 एक बहुत बड़ी अंडाकार गैलेक्सी है, जो शक्तिशाली रेडियो तरंगों को भेज रही है। एम-82 गैलेक्सी तो और भी रहस्मयी है। लगता है कि जैसे इसका विस्फोट हो रहा हो। रेडियो तरंगे इसके मध्य भाग से निकलती है। रेडियो गैलेक्सी क्यो इतनी ऊर्जा रेडियो तरंगों के रूप में छोड़ रही है, इसका उत्तर अभी तक खोजा नहीं जा सका है। शायद भविष्य मे पता चल जाए, तथा ब्रह्मांड की कई गुत्थियां सुलझ सकेंगी। अंतरिक्ष में और भी कई रेडियो तरंगों के स्रोत हैं, पर वे इतने रहस्यमय नहीं हैं। शायद अंतरिक्ष के कक्ष में कुछ और अनजाने दिल धड़क रहे हों।

 

 

 

इन रेडियो तरंगों के साथ किसी अन्य विकसित सभ्यता के अस्तित्व की संभावना अभी भी जुड़ी हुई है। कुछ वैज्ञानिकों के मतानुसार हो सकता है कि रेडियो संकेतों द्वारा अंतरिक्ष के किसी पिंड पर विकसित कोई सभ्यता रेडियो तरंगों से अपने अस्तित्व का संदेश दे रही हो, पर इसके प्रत्युत्तर तक तो कई पीढ़ियां खत्म हो चुकी होगी। पर क्या इससे वैज्ञानिक हताश हो गए हैं? इसका उत्तर है–नही। किसी दूसरी सभ्यता के अस्तित्व को परखने के लिए कुछ समय पहले पृथ्वी से एक शक्तिशाली रेडियो संकेत भेजा गया है, जो हमारी आकाशगंगा के किनारे
पर पहुंचने तक 24,000 वर्ष लेगा। यह हमारी सभ्यता के अस्तित्व का संकेत है। ब्रह्मांड मे अगर कही कोई विकसित सभ्यता हुई तो हो सकता है कि हमारे संकेत का उत्तर हमारी दसवीं,पंद्रहवी या पचासवीं पीढ़ी प्राप्त करे।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें

 

 

ट्रांसफार्मर
ए° सी० बिजली किफायत की दृष्टि से 2000 या अधिक वोल्ट की तैयार की जाती है। घर के साधारण कामों के Read more
डायनेमो सिद्धांत
डायनेमो क्या है, डायनेमो कैसे बने, तथा डायनेमो का आविष्कार किसने किया अपने इस लेख के अंदर हम इन प्रश्नों Read more
बैटरी
लैक्लांशी सेल या सखी बैटरी को प्राथमिक सेल ( प्राइमेरी सेल) कहते हैं। इनमें रासायनिक योग के कारण बिजली की Read more
रेफ्रिजरेटर
रेफ्रिजरेटर के आविष्कार से पहले प्राचीन काल में बर्फ से खाद्य-पदार्थों को सड़ने या खराब होने से बचाने का तरीका चीन Read more
बिजली लाइन
कृत्रिम तरीकों से बिजली पैदा करने ओर उसे अपने कार्यो मे प्रयोग करते हुए मानव को अभी 140 वर्ष के Read more
प्रेशर कुकर
प्रेशर कुकर का आविष्कार सन 1672 में फ्रांस के डेनिस पपिन नामक युवक ने किया था। जब डेनिस पपिन इंग्लेंड आए Read more
इत्र
कृत्रिम सुगंध यानी इत्र का आविष्कार संभवतः सबसे पहले भारत में हुआ। प्राचीन भारत में इत्र द्रव्यो का निर्यात मिस्र, बेबीलोन, Read more
कांच की वस्तुएं
कांच का प्रयोग मनुष्य प्राचीन काल से ही करता आ रहा है। अतः यह कहना असंभव है, कि कांच का Read more
घड़ी
जहां तक समय बतान वाले उपरकण के आविष्कार का प्रश्न है, उसका आविष्कार किसी वैज्ञानिक ने नहीं किया। यूरोप की Read more
कैलेंडर
कैलेंडर का आविष्कार सबसे पहले प्राचीन बेबीलोन के निवासियों ने किया था। यह चंद्र कैलेंडर कहलाता था। कैलेंडर का विकास समय Read more
सीटी स्कैन
सीटी स्कैन का आविष्कार ब्रिटिश भौतिकशास्त्री डॉ गॉडफ्रे हान्सफील्ड और अमरीकी भौतिकविज्ञानी डॉ एलन कोमार्क ने सन 1972 मे किया। Read more
थर्मामीटर
थर्मामीटर का आविष्कार इटली के प्रसिद्ध वैज्ञानिक गेलिलियो ने लगभग सन्‌ 1593 में किया था। गेलिलियो ने सबसे पहले वायु का Read more
पेनिसिलिन
पेनिसिलिन की खोज ब्रिटेन के सर एलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने सन् 1928 में की थी, लेकिन इसका आम उपयोग इसकी खोज Read more
स्टेथोस्कोप
वर्तमान समय में खान पान और प्राकृतिक के बदलते स्वरूप के कारण हर मनुष्य कभी न कभी बिमारी का शिकार Read more
क्लोरोफॉर्म
चिकित्सा विज्ञान में क्लोरोफॉर्म का आविष्कार बडा ही महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। क्लोरोफॉर्म को ऑपरेशन के समय रोगी को बेहोश करने Read more
मिसाइल
मिसाइल एक ऐसा प्रक्षेपास्त्र है जिसे बिना किसी चालक के धरती के नियंत्रण-कक्ष से मनचाहे स्थान पर हमला करने के Read more
माइन
सुरंग विस्फोटक या लैंड माइन (Mine) का आविष्कार 1919 से 1939 के मध्य हुआ। इसका आविष्कार भी गुप्त रूप से Read more
मशीन गन
एक सफल मशीन गन का आविष्कार अमेरिका के हिरेम मैक्सिम ने सन 1882 में किया था जो लंदन में काम कर Read more
बम का आविष्कार
बम अनेक प्रकार के होते है, जो भिन्न-भिन्न क्षेत्रों, परिस्थितियों और शक्ति के अनुसार अनेक वर्गो में बांटे जा सकते Read more
रॉकेट
रॉकेट अग्नि बाण के रूप में हजारों वर्षो से प्रचलित रहा है। भारत में प्राचीन काल से ही अग्नि बाण का Read more

write a comment