ध्वनि तरंगों की प्रकृति क्या होती है तथा आवाज की गति की खोज

हमारे आसपास हवा न हो, तो हम किसी भी प्रकार की आवाज नहीं सुन सकते, चाहे वस्तुओं में कितना ही कंपन क्‍यों न होता रहे। निस्संदेह पानी में रहने वाले वे जीव, जिनके कान हाते हैं, जल में चलने वाली ध्वनि की लहरों से कुछ आवाजों को
जरूर सुन सकते हैं। पर हमारे कानों के परदे केवल हवा या किसी गैस से ही स्पर्श करने योग्य बनाए गए हैं। इसलिए हवा या किसी गैस के बिना हम किसी प्रकार की ध्वनि नही सून सकते।

 

 

 

जो साधारण आवाज हम सुनते हैं, वह हमारे आसपास की हवा में चलने वाली लहरों का प्रभाव मात्र होती है और ये लहरें किसी वस्तु के कंपन से पैदा होती हैं। इस बुनियादी बात को यदि हम ठीक समझ ले, तो फिर आवाज में वास्तविकता तथा का क्षेत्र में होने वाले अनेक विचित्र अनुभवों का रहस्य सहज ही समझ में आ जाता है।

 

ध्वनि तरंगों की खोज

 

क्या वस्तुओं के हर कंपन से हवा मे लहरें अवश्य उठती हैं और क्या उन लहरों की हम आवाज के रूप में सुन सकते हैं? इस सवाल के पहले अंश का उत्तर है ‘ हां और दूसरे का ‘नहीं’। कोई आवाज हम सुन सके, इसके लिए जरूरी है कि वस्तु में जो कंपन हो और उस से हवा में जो लहरें उठें, उनकी कंपन गति कम से कम 16 बार प्रति सेकंड हो। इससे भी कम गति का जो कंपन होगा, उसकी आवाज हम नहीं सुन सकते।

 

 

ध्वनि तरंगें
ध्वनि तरंगें

 

लेकिन इसका यह अर्थ नही कि आवाज की लहरों का कंपन शून्य से लेकर अनंत तक हो सकता है। वास्तव मे कंपन की एक हद तो वह है, जिससे ऊपर हम आवाज को सुन ही नहीं सकते, और एक हद खुद कंपन की है, जिससे ज्यादा या कम हवा में कंपन हो ही नहीं सकता। सुनने की हद को विज्ञान मे ‘श्रवण सीमा’ कहते हैं। यह 20,000 बार प्रति सेकंड तक कंपन गति पर समाप्त हो जाती है। अर्थात्‌ इससे ज्यादा कंपन गति वाली लहरों की आवाज हम नहीं सुन सकते। इससे प्रकट है कि हमारी श्रवण शक्ति का क्षेत्र 16 से लेकर 20,000 बार प्रति सेकंड तक की कंपन गति है। 16 से कम गति की तमाम आवाजों (लहरों) को विज्ञान में इंफ़ासोनिक (अश्रव्य) और 20,000 से ज्यादा गति की लहरों को अल्ट्रासोनिक (पराश्रव्य) कहते हैं।

 

 

आवाज की गति की समस्या पर ध्यान देने वाले पहले वैज्ञानिक ब्रिटेन के सर आइजक न्यूटन (17वीं सदी) थे। उन्होंने अपना प्रथम प्रयोग सन्‌ 1686 मे किया था। जो तरीका उन्होंने अपनाया, वह प्रकाश व आवाज के अंतर का साधारण तरीका था, जिसका अनुभव बादलों मे बिजली की चमक के दिखाई देने और गरज के सुनाई देने के बीच के समय अंतर से कोई भी कर सकता है। न्यूटन ने इसका हिसाब लगाने के लिए काफी दूरी पर छूटने वाली एक तोप का प्रयोग किया था। उन्होने अपनी घड़ी में दो समय लिए एक तो तोप के छूटने और प्रकाश दिखने का
समय और दूसरा उसके धमाके की आवाज के उनके कानो तक पहुंचने का समय। इन दोनों स॒मयों के बीच जितने सेकंडों का अंतर उन्हें मिला, उस पर बीच की दूरी को फैलाकर उन्होने आवाज की गति प्रति सेकंड निर्धारित कर ली।

 

 

 

हवा के तापमान संबंधी तथ्य का आविष्कार न्यूटन से लगभग 130 वर्ष बाद फ्रांसीसी गणित ज्योतिषी लाप्लास ने किया। उसने प्रयोगात्मक रूप से यह सिद्ध किया कि आवाज की गति पर तापमान का बहुत असर पड़ता है। आवाज गर्म हवा मे ठंडी हवा के मुकाबले कहीं तेज चलती है। अतः आज जो आवाज की प्रामाणिक गति (1088 फुट प्रति सेकंड या लगभग 744 मील प्रति घंटा) निर्धारित है, वह आवाज की वह गति है, जो समुद्र तल पर शून्य अंश सेंटीग्रेड के तापमान में होगी।

 

 

आवाज की लहरें आखिर कितनी दूरी तक जा सकी हैं? यह एक रोचक विषय है। ऐसे कई ऐतिहासिक उदाहरण है। जिनमे आवाज हजारों मील तक गई है। इनमें सबसे प्रसिद्ध घटना सन्‌ 1883 में क्राकाटोआ ज्वालामुखी (इंडोनेशिया) के फटने की है। उसके धमाके से लगभग सारी पृथ्वी ही कांप उठी थी। और उसकी आवाज दुनिया के लगभग 1/13 भाग में सुनी गई थी।

 

 

आवाज की लहरें जब हवा में से चलती हैं, तो उनका आकार प्रकार प्रकाश-तरंगों जैसा हो जाता है। वे किसी ठोस सतह से टकराकर लौट या मुड़ सकती हैं। एक समतल दीवार से टकरा कर वह फिर सीधी अपने स्रोत के पास लौट सकती हैं। प्रति ध्वनि इसी प्रतिक्रिया का नाम है।

 

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े

 

 

ट्रांसफार्मर
ए° सी० बिजली किफायत की दृष्टि से 2000 या अधिक वोल्ट की तैयार की जाती है। घर के साधारण कामों के Read more
डायनेमो सिद्धांत
डायनेमो क्या है, डायनेमो कैसे बने, तथा डायनेमो का आविष्कार किसने किया अपने इस लेख के अंदर हम इन प्रश्नों Read more
बैटरी
लैक्लांशी सेल या सखी बैटरी को प्राथमिक सेल ( प्राइमेरी सेल) कहते हैं। इनमें रासायनिक योग के कारण बिजली की Read more
रेफ्रिजरेटर
रेफ्रिजरेटर के आविष्कार से पहले प्राचीन काल में बर्फ से खाद्य-पदार्थों को सड़ने या खराब होने से बचाने का तरीका चीन Read more
बिजली लाइन
कृत्रिम तरीकों से बिजली पैदा करने ओर उसे अपने कार्यो मे प्रयोग करते हुए मानव को अभी 140 वर्ष के Read more
प्रेशर कुकर
प्रेशर कुकर का आविष्कार सन 1672 में फ्रांस के डेनिस पपिन नामक युवक ने किया था। जब डेनिस पपिन इंग्लेंड आए Read more
इत्र
कृत्रिम सुगंध यानी इत्र का आविष्कार संभवतः सबसे पहले भारत में हुआ। प्राचीन भारत में इत्र द्रव्यो का निर्यात मिस्र, बेबीलोन, Read more
कांच की वस्तुएं
कांच का प्रयोग मनुष्य प्राचीन काल से ही करता आ रहा है। अतः यह कहना असंभव है, कि कांच का Read more
घड़ी
जहां तक समय बतान वाले उपरकण के आविष्कार का प्रश्न है, उसका आविष्कार किसी वैज्ञानिक ने नहीं किया। यूरोप की Read more
कैलेंडर
कैलेंडर का आविष्कार सबसे पहले प्राचीन बेबीलोन के निवासियों ने किया था। यह चंद्र कैलेंडर कहलाता था। कैलेंडर का विकास समय Read more
सीटी स्कैन
सीटी स्कैन का आविष्कार ब्रिटिश भौतिकशास्त्री डॉ गॉडफ्रे हान्सफील्ड और अमरीकी भौतिकविज्ञानी डॉ एलन कोमार्क ने सन 1972 मे किया। Read more
थर्मामीटर
थर्मामीटर का आविष्कार इटली के प्रसिद्ध वैज्ञानिक गेलिलियो ने लगभग सन्‌ 1593 में किया था। गेलिलियो ने सबसे पहले वायु का Read more
पेनिसिलिन
पेनिसिलिन की खोज ब्रिटेन के सर एलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने सन् 1928 में की थी, लेकिन इसका आम उपयोग इसकी खोज Read more
स्टेथोस्कोप
वर्तमान समय में खान पान और प्राकृतिक के बदलते स्वरूप के कारण हर मनुष्य कभी न कभी बिमारी का शिकार Read more
क्लोरोफॉर्म
चिकित्सा विज्ञान में क्लोरोफॉर्म का आविष्कार बडा ही महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। क्लोरोफॉर्म को ऑपरेशन के समय रोगी को बेहोश करने Read more
मिसाइल
मिसाइल एक ऐसा प्रक्षेपास्त्र है जिसे बिना किसी चालक के धरती के नियंत्रण-कक्ष से मनचाहे स्थान पर हमला करने के Read more
माइन
सुरंग विस्फोटक या लैंड माइन (Mine) का आविष्कार 1919 से 1939 के मध्य हुआ। इसका आविष्कार भी गुप्त रूप से Read more
मशीन गन
एक सफल मशीन गन का आविष्कार अमेरिका के हिरेम मैक्सिम ने सन 1882 में किया था जो लंदन में काम कर Read more
बम का आविष्कार
बम अनेक प्रकार के होते है, जो भिन्न-भिन्न क्षेत्रों, परिस्थितियों और शक्ति के अनुसार अनेक वर्गो में बांटे जा सकते Read more
रॉकेट
रॉकेट अग्नि बाण के रूप में हजारों वर्षो से प्रचलित रहा है। भारत में प्राचीन काल से ही अग्नि बाण का Read more

write a comment