द्वारकाधीश मंदिर जालौन उत्तर प्रदेश

द्वारकाधीश मंदिर जालौन नगर के मुरली मनोहर नामक मुहल्ले में स्थित है यह उत्तर प्रदेश का प्रसिद्ध मंदिर है । द्वारकाधीश मन्दिर जालौन का निर्माण सन 1880 से 1885 के बीच सेठ चतुर्भुज दास मारवाड़ी पुत्र श्री नत्थूलाल मारवाड़ी द्वारा कराया गया। सेठ चतुर्भुज दास, ग्राम बाउली से गोद आये थे। इनके पूर्वज मूल रूप से जैसलमेर (राजस्थान) के निवासी थे। द्वारकाधीश मन्दिर के निर्माण का मुख्य उद्देश्य ईश्वर के चरणों में समर्पण कर निजी पुण्य लाभ अर्जित करना तो था ही साथ ही साथ वंश वृद्धि की कमना भी थी। इनके तीन विवाह हुए थे। प्रथम विवाह के उपरान्त मन्दिर की आधारशिला रखी गयी। पर प्रथम पत्नी के स्वर्गवास के पश्चात्‌ जब दूसरा विवाह होने पर दूसरी धर्मपत्नी भी अल्पकाल में ही स्वर्गवासी हो गयी तो उनका तृतीय विवाह हुआ। तृतीय धर्मपत्नी के सामने मंदिर में भगवान द्वारकाधीश जी की प्राण प्रतिष्ठा हुईं और उसके परिणामस्वरूप इस वंश को एक मात्र कुल दीपक प्राप्त हुआ। जिसे गोकुलदास जी के नाम से जाना गया ।

 

 

सेठ चतुर्भुज दास जी ने अपनी जमींदारी के समय ग्राम हरदोई राजा की जमीन पर गोकुलपुरा नामक ग्राम की नींव डाली और उस पर हरिजनों को आबाद किया और आज भी यह हरिजनो की अच्छी आबादी का ग्राम है। इस मन्दिर की सेवा पूजा वैष्णव सम्प्रदाय की बल्लभ कुलीन पुष्टि मार्गीय सेवा नियमों पर आधारित है। श्री नाथ ( राजस्थान) से प्राप्त होने वाली वार्षिक निर्देशिका से मन्दिर के सभी कार्य संचालित होते है। इस मन्दिर में भगवान के दर्शन प्रातः मंगला, अंगार एवं राजभोग तथा सायंकाल में उत्थापन संध्या आरती एवं रात्रि में शयन आरती के समय ही निर्धारित समय पर होते है।

 

द्वारकाधीश मंदिर जालौन
द्वारकाधीश मंदिर जालौन

 

सावन के महीने में झूलों का विशेष उत्सव चलता है। उस समय द्वारकाधीश मंदिर जालौन में मथुरा वृन्दावन जैसा वातावरण हो जाता है। यह कार्यक्रम जन्माष्टमी के दूसरे दिन दधिखाना उत्सव तक चलता है। वैसे तो लगभग सभी त्यौहार इस मन्दिर में मनाये जाते है। परन्तु अन्नकूट उत्सव अपना विशेष महत्व रखता है। देवोत्थान एकादशी पर पूर्ण रात्रि दर्शन खुले रहते हैं। शरदपूर्णिमा पर ठाकुर जी को चौक पर ले जाया जाता है। जिससे चन्द्रमा की स्वच्छ शीतल धवल चाँदनी में उनके दर्शन हो सके। उस रात्रि शग” नहीं होता है क्योंकि यह रात्रि में ही भगवान जी द्वारा रासलीला की जाती है। इसी भाँति रामनवमी को दोपहर 11 बजे से 12 बजे तक राम जन्मोत्सव एवं कृष्णा जन्माष्टमी को रात्रि 11 बजे से 12 तक कृष्ण जन्मोत्सव सम्पन्न होता है।

 

 

सेठ चतुर्भुज दास पूरे धार्मिक आस्था वाले व्यक्ति थे। जिन्होंने अपनी आय का अधिकांश भाग कई बड़े मन्दिरों के निर्माण में लगाया। जिनमें जालौन में स्थित बड़ी देवी, छोटी देवी भैरो जी और हनुमान जी आदि के मन्दिर प्रमुख है। अपनी जमींदारी के गांव गोरा भूपका में भी रामचन्द्र जी तथा देवी जी के विशाल मन्दिरों का निर्माण कराया। सेठ चतुर्भुज दास जी अन्य जमींदारों के मुकाबले में अधिक जमींदारी न खरीद लें इस कारण ब्रिटिश सरकार ने व्यक्तिगत जमींदारी खरीदने पर पाबन्दी लगा दी थी तथा उन्होंने कई पूरे के पूरे गाँव जैसे हरदोई राजा , पारेन तथा कुसमरा, पनिहार आदि के कुछ भाग खरीद कर भरी द्वारकाधीश जी के मन्दिर में लगा दिये। चूँकि द्वारकाधीश मन्दिर जालौन के निर्माण के साथ वंश वृद्धि की भावना भी जुड़ी थी जो आजतक श्री द्वारकाधीश जी की कृपा से फलीभूत हो रही है। परिणाम स्वरूप सेठ चतुर्भुज दास जी के पुत्र श्री गोकुल दास इनके पुत्र श्री द्वारिका दास उपनाम सीताराम महेश्वरी तथा इनके पुत्र श्री विनय कुमार जी एक मात्र पुत्र होने का सुयोग चलता चला आ रहा है। यह भगवान द्वारकाधीश के आशीर्वाद का ही प्रतिफल माना जाता है।

 

 

द्वारकाधीश मंदिर जालौन का स्थापत्य

 

 

मन्दिर के मूल भवन का निर्माण ककैय्या ईटों तथा चूने से हुआ था जिसका जीर्णोद्वार सन 1964 से 1972 के मध्य सेठ द्वारकादास जी उपनाम सीताराम जी ने कराया। मन्दिर के निर्माण में तत्कालीन समय में चांदी के 25000 रूपये व्यय होना बतलाया जाता है। उस समय चित्रकार तथा शिल्पी लोगों में पतिस्पर्धा जगाकर पर्दा डाल दिया जाता था कि कौन कितनी अच्छु’ शिल्प या चित्रकारी कर पायेगा। उनको पारितोषक भी दिया जाता था। विशेषकर गर्भगृह के ऊपर बने हुए तीन मंगला कमरा इसका मुख्य प्रमाण है। समस्त मन्दिर का भवन तीन मंजिला है जोकि बगीचा एवं खुले परिसर सहित है। गर्भगृह आयताकार है। जिसके पश्चिम में एक बगीचा है तथा जिसके पूर्व में दालान तथा फिर चौक है और चौक के उत्तरी ओर मन्दिर बड़ी देवी जी का तथा चौक के पश्चात्‌ एक दालान है और दालान के बाद एक चबूतरा बना हुआ है। द्वारकाधीश मंदिर जालौन कुल 136 फुट चौड़ाई एवं 209 फुट लम्बाई में सीमित है। द्वारकाधीश मंदिर जालौन पूर्वाभिमुख है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

 

चौरासी गुंबद कालपी
चौरासी गुंबद यह नाम एक ऐतिहासिक इमारत का है। यह भव्य भवन उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना नदी
श्री दरवाजा कालपी
भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में कालपी एक ऐतिहासिक नगर है, कालपी स्थित बड़े बाजार की पूर्वी सीमा
रंग महल कालपी
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले के कालपी नगर के मिर्जामण्डी स्थित मुहल्ले में यह रंग महल बना हुआ है। जो
गोपालपुरा का किला जालौन
गोपालपुरा जागीर की अतुलनीय पुरातात्विक धरोहर गोपालपुरा का किला अपने तमाम गौरवमयी अतीत को अपने आंचल में संजोये, वर्तमान जालौन जनपद
रामपुरा का किला
जालौन  जिला मुख्यालय से रामपुरा का किला 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 46 गांवों की जागीर का मुख्य
जगम्मनपुर का किला
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना के दक्षिणी किनारे से लगभग 4 किलोमीटर दूर बसे जगम्मनपुर ग्राम में यह
तालबहेट का किला
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी - सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील
कुलपहाड़ का किला
कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक
पथरीगढ़ का किला
पथरीगढ़ का किला चन्देलकालीन दुर्ग है यह दुर्ग फतहगंज से कुछ दूरी पर सतना जनपद में स्थित है इस दुर्ग के
धमौनी का किला
विशाल धमौनी का किला मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह 52 गढ़ों में से 29वां था। इस क्षेत्र
बिजावर का किला
बिजावर भारत के मध्यप्रदेश राज्य के छतरपुर जिले में स्थित एक गांव है। यह गांव एक ऐतिहासिक गांव है। बिजावर का
बटियागढ़ का किला
बटियागढ़ का किला तुर्कों के युग में महत्वपूर्ण स्थान रखता था। यह किला छतरपुर से दमोह और जबलपुर जाने वाले मार्ग
राजनगर का किला
राजनगर मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में खुजराहों के विश्व धरोहर स्थल से केवल 3 किमी उत्तर में एक छोटा सा
पन्ना के दर्शनीय स्थल
पन्ना का किला भी भारतीय मध्यकालीन किलों की श्रेणी में आता है। महाराजा छत्रसाल ने विक्रमी संवत् 1738 में पन्‍ना
सिंगौरगढ़ का किला
मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के दमोह जिले में सिंगौरगढ़ का किला स्थित हैं, यह किला गढ़ा साम्राज्य का
छतरपुर का किला
छतरपुर का किला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में अठारहवीं शताब्दी का किला है। यह किला पहाड़ी की चोटी पर
चंदेरी का किला
भारत के मध्य प्रदेश राज्य के अशोकनगर जिले के चंदेरी में स्थित चंदेरी का किला शिवपुरी से 127 किमी और ललितपुर
ग्वालियर का किला
ग्वालियर का किला उत्तर प्रदेश के ग्वालियर में स्थित है। इस किले का अस्तित्व गुप्त साम्राज्य में भी था। दुर्ग
बड़ौनी का किला
बड़ौनी का किला,यह स्थान छोटी बड़ौनी के नाम जाना जाता है जो दतिया से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर है।
दतिया महल या दतिया का किला
दतिया जनपद मध्य प्रदेश का एक सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक जिला है इसकी सीमाए उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद से मिलती है। यहां
कालपी का किला
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई
उरई का किला और माहिल तालाब
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर
एरच का किला
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या
चिरगाँव का किला
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील
गढ़कुंडार का किला
गढ़कुण्डार का किला मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में गढ़कुंडार नामक एक छोटे से गांव मे स्थित है। गढ़कुंडार का किला बीच
बरूआ सागर का किला
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर
मनियागढ़ का किला
मनियागढ़ का किला मध्यप्रदेश के छतरपुर जनपद मे स्थित है। सामरिक दृष्टि से इस दुर्ग का विशेष महत्व है। सुप्रसिद्ध ग्रन्थ
मंगलगढ़ का किला
मंगलगढ़ का किला चरखारी के एक पहाड़ी पर बना हुआ है। तथा इसके के आसपास अनेक ऐतिहासिक इमारते है। यह हमीरपुर
जैतपुर का किला या बेलाताल का किला
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर
सिरसागढ़ का किला
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में
महोबा का किला
महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी
कल्याणगढ़ का किला मंदिर व बावली
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा
भूरागढ़ का किला
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान
रनगढ़ दुर्ग या जल दुर्ग
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग
खत्री पहाड़ का दुर्ग व मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात
मड़फा दुर्ग
मड़फा दुर्ग भी एक चन्देल कालीन किला है यह दुर्ग चित्रकूट के समीप चित्रकूट से 30 किलोमीटर की दूरी पर
रसिन का किला
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा
अजयगढ़ का किला
अजयगढ़ का किला महोबा के दक्षिण पूर्व में कालिंजर के दक्षिण पश्चिम में और खुजराहों के उत्तर पूर्व में मध्यप्रदेश
कालिंजर का किला
कालिंजर का किला या कालिंजर दुर्ग कहा स्थित है?:--- यह दुर्ग बांदा जिला उत्तर प्रदेश मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर बांदा-सतना
ओरछा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
शक्तिशाली बुंदेला राजपूत राजाओं की राजधानी ओरछा शहर के हर हिस्से में लगभग इतिहास का जादू फैला हुआ है। ओरछा

write a comment