दुर्गा पूजा पर निबंध – दुर्गा पूजा त्योहार के बारें में जानकारी हिन्दी में

दुर्गा पूजा भारत का एक प्रमुख त्योहार है। जो भारत के राज्य पश्चिम बंगाल का मुख्य त्योहार होने के साथ साथ भारत के अन्य राज्यों में बडी धूम धाम से मनाया जाता है। यह त्योहार हिन्दू देवी माँ दुर्गा को समर्पित है।अपने इस लेख में हम दुर्गा पूजा का इतिहास, दुर्गा पूजा क्यों मनाते है। दुर्गा पूजा कैसे मनाते है। दुर्गा पूजा कब मनाते हैं। आदि के बारें में विस्तार से जानेगें। हमारा यह लेख उन विद्यार्थियों के लिए भी उपयोगी है। जिनके प्रश्नपत्रों में दुर्गा पूजा पर निबंध लिखने को आता है।

 

 

 

दुर्गा पूजा के बारें में जानकारी हिन्दी में

 

 

जैसा की हमने ऊपर बताया दुर्गा पूजा बंगाल का सबसे बड़ा त्यौहार है। और बंगाल के साथ साथ यह अन्य राज्यों में भी बडी धूमधाम से मनाया जाता है। बंगाल की राजधानी कोलकाता की दुर्गा पूजा तो विश्व भर में प्रसिद्ध है। बंगाल मे इस त्योहार की तैयारी दो महिने पहले से शुरु हो जाती है। और जगह जगह प्रत्येक मौहल्ले, गांव, बाजार तथा सार्वजनिक स्थानों पर बडे बड़े पंडाल बनाये जाते है।

 

 

जिनमें माँ दुर्गा, गणेशजी, लक्ष्मी जी, कार्तिकेय तथा सरस्वती देवी की विशाल मूर्तियां सजाई जाती है। माँ दुर्गा के दस हाथ होते है। और वे शरीर र की सवारी पर राक्षस महिषासुर को मारते हुए विराजमान होती है। उनकी एक तरफ गणेशजी तथा लक्ष्मी जी और दूसरी तरफ कार्तिकेय तथा सरस्वती देवी विराजमान रहती है।

 

 

 

 

 

एक एक पंडाल बनाने में कई कई लाख रुपए खर्च हो जाते है। जिसमें श्रृद्धालु लोग दिल खोलकर खर्च करते है। सृष्टि को बोधन होता है, अर्थात वन्दना होकर दुर्गा पूजा आरंभ हो जाती है। सप्तमी, अष्टमी, नवमीं और दसमी तक दूर्गा पूजा चलती है। इस अवसर पर 4-5 दिन का सार्वजनिक अवकाश होता है। जिससे की सब लोग दुर्गा पूजा का उत्सव आनंदपूर्वक मना सके।

 

 

 

सारी रात स्त्री, पुरूष और बच्चे अपने नये नये और सबसे बढिय़ा कपडें पहनकर पंडालों में जाकर माँ दुर्गा की पूजा करते है। पंडालों मे सभी धर्मों, जातियों के लोग हिस्सा लेते है। और फिर एक निश्चित समय पर प्रसाद दिया जाता है। कलकत्ता का दुर्गा पूजा का त्यौहार साम्प्रदायिक एकता का प्रतीक है। हिन्दू, मुसलमान, सिख, ईसाई सब नये कपडें पहनते है, और सड़कें और गलियां मनुष्यों से भरी रहती है। लगभग प्रातःकाल माँ की आरती होती है। पांचों मूर्तियों की पूजा एक साथ होती है। अलग अलग नही होती। दुर्गा माँ के दो पुत्र तथा दो पुत्रियां मानी गई है। गणेश तथा कार्तिकेय जी पुत्र तथा लक्ष्मी जी और सरस्वती जी पुत्रियां मानी गई है। काली माता, दुर्गा माँँ का ही एक रूप माना गया है।

 

 

 

दुर्गा पूजा का त्यौहार साल में दो बार आता है। एक चेत्र म़े और दूसरा अश्विन मास में शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तक। अश्विन मास का दुर्गा पूजा का त्योहार बड़ा माना गया है। क्योंकि भगवान श्री रामचंद्र जी ने इसी मास में लंका पर चढ़ाई करने से पूर्व माँ दुर्गा का आहवान किया था। पूजा दसमी को खत्म हो जाती है। और मूर्तियों को रथों, ट्रकों और टेम्पो में सजाकर बैंड बाजों तथा डी जे के साथ नाचते गाते मूर्तियों को जल में विसर्जित कर देते है।

दुर्गा पूजा की कथा, दुर्गा पूजा का इतिहास, दुर्गा पूजा फेस्टिवल स्टोरी इन हिन्दी, मां दुर्गा का अवतार कैसे हुआ, माँ दुर्गा का अवतार क्यों हुआ

 

 

Durga pooja history in hindi, Durga pooja story in hindi, Durga pooja festival history in hindi, Durga pooja festival story in hindi

 

 

कहा जाता है कि राक्षस महिषासुर को मारने के लिए माँ ने दूर्गा का रूप धारण किया था। प्राचीन काल में देवता तथा दैत्यों में दो वर्ष तक युद्ध हुआ। दैत्यों का स्वामी महिषासुर था और देवताओं का स्वामी इंद्र देव था। युद्ध में देवता हार गए। और महिषासुर इंद्रलोक पर राज्य करने लगा।

 

 

देवता सृष्टि रचियता ब्रह्मा जी को अपने साथ लेकर भगवान विष्णु और भगवान शंकर जी के पास गए, और कहा कि महिषासुर ने स्वर्ग को जीत लिया है। और सभी देवताओं को स्वर्ग से निकाल दिया है। अब हम आपकी शरण में आये है। आप महिषासुर के वध का उपाय किजिए। यह सुनकर भगवान विष्णु की की भौंहें क्रोध से तन गई, और एक उनके मुख से एक तेज निकला तथा ब्रह्मा जी तथा भगवान शंकर के मुख से भी तेज प्रकट हुआ। इंद्र देव और अन्य देवताओं के मुख से भी तेज प्रकट हुआ। सभी तेज मिलकर एक हो गए, और एक होने पर उस तेज से माँ दूर्गा का रूप प्रकट हुआ। माँ दूर्गा ने प्रकट होते ही शेर पर सवार होकर ऊंचे स्वर में गर्जना की।

 

 

उनके इस भयानक नाद से सारा आकाश भर गया। देवतागण यह देखकर प्रसन्न होकर माँ दूर्गा की जय जयकार करने लगे। उन्होंने विनम्र होकर मां दूर्गा की स्तुति की। देवताओं को प्रसन्न देख तथा माँ दुर्गा का सिंहनाद सुनकर राक्षस महिषासुर अपनी सेना लेकर माँ दुर्गा से युद्ध करने आया। उसने अपने सेनापति चिक्षुर को मां दुर्गा के साथ युद्ध करने भेजा। दोनों का युद्ध होने लगा। चामर, उद्रग, महासनुदैत्य, असिलोमा, वाष्भकाल, पारिवरित, विडाल, आदि आदि अन्य दैत्य भी अपनी अपनी सेनाएँ लेकर आयें। माँ दुर्गा ने उन पर अस्त्रों शस्त्रों की वर्षा करके उन सबको हरा दिया।

 

 

माँ दुर्गा जी का वाहन सिंह भी क्रोध में आ गया। और दैत्यों की सेना को मारने लगा। देवी जी ने युद्ध करते हुए जितने श्वांस छोडे वे सब सैकडों हजारों गणों के रूप में प्रकट हो गए। उन गणों ने नगाड़े, शंख, तथा मृदंग बजाए जिससे कि युद्ध का उत्साह बढ़े। देवी दुर्गा जी ने त्रिशूल, गदा, तथा शक्तियों की वर्षा करके हजारों दैत्यों को मार गिराया। महा असुर चिक्षुर के बाणों को काट कर उसका धनुष और ऊंची लहराती ध्वज काट डाली और उसके सारथी और घोडों को मार डाला।

 

 

 

 

 

चिक्षुर पैदल ही तलवार और ढाल लेकर देवी की ओर दौडा और देवी के वाहन सिंह पर प्रहार किया। फिर देवी की बाईं भुजा पर प्रहार किया, लेकिन तलवार देवी जी की भुजा पर पहुंचते ही अपने आप टूट गई। तब चिक्षुर ने शूल चला दिया, देवी जी ने अपने शूल से उस शूल को तोड़कर टुकड़े टुकड़े कर दिये, और चिक्षुर महादैत्य को अपने शूल से मार दिया।

 

 

चिक्षुर के मरने पर चामर राक्षस हाथी पर चढ़कर देवी जी से युद्ध करने आया। देवी जी ने उसे भी अपने शूल से मार डाला। इसी तरह देवी दुर्गा ने वाष्भकाल, अंधक, महाहनु, आदि दैत्यों को भी मौत के घाट उतार दिया। महिषासुर अपने सेनापति तथा अन्य महादैत्यो को देवी के हाथों मरता देख क्रोधित होकर भैंसे का रूप धारण कर उनसे युद्ध करने स्वयं आया। और अपने थुथनों, खुरों तथा पूंछ से देवी के गणो को मारने लगा। सींगो से बडें बडे पहाड़ उठाकर फेकने लगा। पूंछ से समुद्र पर प्रहार किया पर्वत टूटने लगे। पृथ्वी डूबने लगी बादल फटने लगे और फिर महिषासुर गरजता हुआ देवी के वाहन सिंह पर झपटा। महिषासुर का यह सब उत्पात देख कर माँ दुर्गा को बहुत क्रोध आया, उन्होंने क्रोध में भरकर उसकी ओर अपना पाशा फेका और उसे बांध लिया। महिषासुर ने देवी जी के पाशे में बंधने पर अपना भैंसे का रूप त्याग दिया और सिंह रूप धारण कर लिया। जैसे ही माँ दुर्गा उसका सिर काटने लगी तो उसने सिंह रूप त्याग कर पुरुष रूप बना लिया। और हाथ में तलवार लेकर माँ दुर्गा के सामने आया। मां दुर्गा ने उसे तीरों से बींध डाला तब उसने हाथी का रूप धारण कर लिया। देवी जी ने अपनी खडग से उसकी सूंड काट डाली तब फिर महिषासुर भैंसे के रूप में आ गया। तब माँ दुर्गा मधुपान करने लगी और लाल लाल नेत्र करके हंसने लगी, और क्रोध में भरकर अपनी तलवार से महिषासुर का सिर काटकर नीचे गिरा दिया।

 

 

 

महिषासुर के मरने पर देवी जी ने उसकी सारी सेना को भी नष्ट कर दिया। महिषासुर के मरने पर सभी देवता देवी जी की जय जयकार करने लगे। और उन पर फूलों की वर्षा करने लगे। गंधर्व गाना गाने लगे और अप्सराएं नाचनें लगी। इस प्रकार माँ दुर्गा ने महिषासुर का वध कर दिया था। माँ दुर्गा का यही रूप दुर्गा पूजा में दर्शाया जाता है। जो सत्य की असत्य पर विजय का प्रतीक है।

 

 

 

माँ दुर्गा के नाम

 

माँ दुर्गा के नौ नाम है। जो इस प्रकार है:—

  1. शैलपुत्री
  2. ब्रह्मचारिणी
  3. चन्द्रघटा
  4. कुष्मांडा
  5. स्कंदमाता
  6. कात्यायनी
  7. कालरात्रि
  8. महागौरी
  9. सिद्धिदात्री

 

माँ दुर्गा का अवतार कैसे और किन कारणों से हुआ यह हम ऊपर जान ही चुके है। आइये जानते है किस देवता के तेज से मां दुर्गा को क्या रूप मिला।

 

  • महादेव जी के तेज से माँ का मुख बना
  • यमराज के तेज से कैश
  • विष्णु के तेज से भुजाएं
  • चंद्रमा के तेज से दोनों स्तन
  • इंद्र के तेज से कंठ
  • वरूण के तेज से जंघा व आरूस्थल
  • पृथ्वी के तेज से नितंब
  • ब्रह्मा के तेज से दोनों चरण
  • सूर्य के तेज से चरणों की उंगलियां
  • वासु के तेज से हाथों की उंगलियां
  • कुबेर के तेज से नासिका
  • प्रजापति के तेज से दांत
  • अग्नि के तेज से तीन नेत्र
  • दोनों संध्याओं के तेज से दोनों भौंहे
  • वायु के तेज से दोनों कान

 

इस प्रकार माँ दुर्गा का प्रादुर्भाव होने पर देवताओं ने देवी को विभिन्न अस्त्रशस्त्र व शक्तियां  प्रदान की।

 

  • महादेव जी ने मां दुर्गा को अपने त्रिशूल से शूल दिया
  • विष्णु जी ने अपने सुदर्शन चक्र से चक्र
  • वरूण ने शंख
  • अग्नि ने शक्ति
  • मारूति ने धनुष बाण और तरकश
  • देवराज इंद्र ने वज्र
  • सहस्त्र नेत्र इंद्र ने ऐरावत हाथी का घंटा
  • यमराज ने लाल दंड
  • सागर ने रूद्राक्ष माला
  • ब्रह्मा ने कमंडल
  • सूर्य ने किरण
  • काल ने तलवार और ढाल
  • क्षीर सागर ने हार, चूडामणी, दिव्य कुंडल, कभी पुराने न होने वाले दो वस्त्र, चमकता हुआ अर्धचंद्र, भुजाओं के लिए बाजूबंद, चरणो के लिए नूपुर, कंठ के लिए सर्वोत्तम कंठुला तथा उंगलियों के लिए रत्नजड़ित मुद्रिकाएं
  • विश्वकर्मा ने निर्मल परशु तथा अनेक रूपों वाले अस्त्र दिये थे।

 

 

 

दुर्गा पूजा का महत्व इतिहास और अन्य जानकारियों पर आधारित हमारा यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं यह जानकारी आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है।

 

 

 

 

 

भारत के प्रमुख त्योहारों पर आधारित हमारें यह लेख भी जरुर पढ़ें:—

 

 

 

 

 

 

 

ओणम दक्षिण भारत के सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों मे से एक है। यह केरल के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक
भारत विभिन्न संस्कृति और विविधताओं का देश है। यहा के कण कण मे संस्कृति वास करती है। यहा आप हर
थेय्यम केरल में एक भव्य नृत्य त्योहार है और राज्य के कई क्षेत्रों में प्रमुखता के साथ मनाया जाता है।
भारत के प्रसिद्ध त्यौहारों में से एक, केरल नौका दौड़ महोत्सव केरल राज्य की समृद्ध परंपरा और विविध संस्कृति को
अट्टूकल पोंगल केरल का एक बेहद लोकप्रिय त्यौहार है। अट्टुकल पोंगल मुख्य रूप से महिलाओं का उत्सव है। जो तिरुवनंतपुरम
तिरूवातिरा केरल का एक प्रसिद्ध त्यौहार है। मलयाली कैलेंडर (कोला वर्षाम) के पांचवें महीने धनु में क्षुद्रग्रह पर तिरुवातिरा मनाया
मंडला पूजा उत्सव केरल के त्योहारों मे एक प्रसिद्ध धार्मिक अनुष्ठान फेस्टिवल है। मंडला पूजा समारोह मलयालम महीने के वृश्चिक
अष्टमी रोहिणी केरल राज्य में ही नही बल्कि पूरे भारत मे एक प्रमुख त्यौहार है। यह त्यौहार भगवान कृष्ण के
भारत में अन्य त्योहारों की तरह, लोहड़ी भी किसानों की कृषि गतिविधियों से संबंधित है। यह पंजाब में कटाई के
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
मुहर्रम मुस्लिम समुदाय का एक प्रमुख त्यौहार है। जो बड़ी धूमधाम से हर देश हर शहर के मुसलमान बड़ी श्रृद्धा भाव
गणगौर का व्रत चैत्र शुक्ला तृतीया को रखा जाता है। यह हिंदू स्त्री मात्र का त्यौहार है। भिन्‍न-भिन्‍न प्रदेशों की
बिहू भारत के असम राज्य का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह तीन त्योहारों का मेल है जो अलग-अलग दिनों
भारत शुरू ही से सूफी, संतों, ऋषियों और दरवेशों का देश रहा है। इन साधु संतों ने धर्म के कट्टरपन
नौरोज़ फारसी में नए दिन अर्थात्‌ नए साल की शुरुआत को कहते हैं। ईरान, मध्य-एशिया, कश्मीर, गुजरात और महाराष्ट्र के
अगर भारत की मिली जुली गंगा-जमुना सभ्यता, हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे के आपसी मेलजोल को किसी त्योहार के रूप में देखना हो
ईद मिलादुन्नबी मुस्लिम समुदाय का प्रसिद्ध और मुख्य त्यौहार है। भारत के साथ साथ यह पूरे विश्व के मुस्लिम समुदाय
ईद-उल-फितर या मीठी ईद मुसलमानों का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह रमजान के महीने के समाप्त होने की खुशी
बकरीद या ईद-उल-अजहा ( ईदुलजुहा) ईदुलफितर के दो महीने दस दिन बाद आती है। यह ईद चूंकि महीने की दस
बैसाखी सिक्ख धर्म का बहुत ही प्रमुख त्योहार माना जाता है। इस दिन गुरु गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की
चैत्र शुक्ला प्रतिपदा को अरुंधती व्रत रखा जाता है। इस व्रत को रखने से पराये मर्द या परायी स्त्री से
रामनवमी भगवान राम का जन्म दिन है। यह तिथि चैत्र मास की शुक्ला नवमी को पड़ती है। चैत्र पद से चांद्र
चैत्र पूर्णिमा श्री रामभक्त हनुमान का जन्म दिवस हैं। इस दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है। कुछ लोग यह जन्म दिवस
वैशाख, आषाढ़ और माघ, इन्हीं तीनों महीनों की किसी तिथि में रविवार के दिन आसमाई की पूजा होती है। जो
ज्येष्ठ बदी तेरस को प्रातःकाल स्वच्छ दातून से दन्तधोवन कर उसी दिन दोपहर के बाद नदी या तालाब के विमल
ज्येष्ठ शुक्ला दशमी को गंगा दशहरा कहते हैं। गंगा दशहरा के व्रत का विधान स्कन्द-पुराण और गंगावतरण की कथा वाल्मीकि रामायण
रक्षाबंधन:-- श्रावण की पूर्णिमा के दिन दो त्योहार इकट्ठे हुआ करते है।श्रावणी और रक्षाबंधन। अनेक धर्म-ग्रंथों का मत है कि
श्रावण शुक्ला पंचमी को नाग-पूजा होती है। इसीलिये इस तिथि को नाग पंचमी कहते हैं। भारत में यह बडे हर्षोल्लास
कजरी की नवमी का त्योहार हिन्दूमात्र में एक प्रसिद्ध त्योहार है। श्रावण सुदी पूर्णिमा को कजरी पूर्णिमा कहते है। इसी
भारत भर में हरछठ जिसे हलषष्ठी भी कहते है, कही कही इसे ललई छठ भी कहते है। हरछठ का व्रत
भाद्र शुक्ला द्वितीया को अधिकांश गृहस्थो के घर बापू की पूजा होती है। यह बापू की पूजा असल में कुल-देवता
गणेशजी के सम्पूर्ण व्रतों में सिद्धिविनायक व्रत प्रधान है। सिद्धिविनायक व्रत भाद्र-शुक्ला चतुर्थी को किया जाता है। पूजन के आरम्भ
श्रावण मास की शुक्ला चतुर्थी से लगाकर भादों की शुक्ला चतुर्थी तक जो मनुष्य एक बार भोजन कर के एक
भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तीज हस्ति नक्षत्र-युक्त होती है। उस दिन व्रत करने से सम्पूर्ण फलों की प्राप्ति
भाद्रपद शुक्ल सप्तमी को संतान सप्तमी व्रत किया जाता है। इसे मुक्ता-भरण व्रत भी कहते है। यह व्रत सध्यान्ह तक
अश्विन शुक्ला अष्टमी को जीवित्पुत्रिका व्रत होता है। इस व्रत को जीतिया व्रत के नाम से भी जाना जाता है।
कार्तिक कृष्णा-अष्टमी या अहोई अष्टमी को जिन स्त्रियों के पुत्र होता है वह अहोई आठे व्रत करती है। सारे दिन
कार्तिक कृष्णा द्वादशी को गोधूलि-बेला मे, जब गाये चर- कर जंगल से वापस आती हैं, उस समय उन गायों और बछडों

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *