दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन क्या आप इनके बारे में जानते है

दिल्ली शहर और एन.सी.आर क्षेत्र की धूल भरी, गर्म और भाग-दौड की जिंदगी से अक्सर हम इतना परेशान हो जाते है, कि सोचते है कि काश कोई तो ऐसी जगह हो जहां इन सबसे छुटकारा मिल सके। और तब हम सोचते है, ऐसी जगह पर घूमने जाने के बारे में, जहां वातावरण शांत हो, चारो तरफ मन को शांत करने वाले दृश्य हो, और ठंडी हवा के झौके हों, और जब ऐसी किसी जगह घूमने की बात चलती है तो सबसे पहले हम दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन की तलाश करते है।

 

 

दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन, दिल्ली के पास हिल स्टेशन, दिल्ली के आसपास अच्छे वातावरण वाले मानोरम दृश्यों से भरपूर पर्यटन स्थल, दिल्ली से 1-2 दिन की यात्रा वाले पर्यटन स्थल, दिल्ली से एक दो दिन की यात्रा पर कहां जाए। दिल्ली से कम समय की यात्रा वाले हिल स्टेशन, आदि विषय दिमाग में रखते हुए, हम कम से कम समय खर्च करके किसी अच्छे हिल स्टेशन की तलाश मे रहते है।

 

दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन के सुंदर दृश्य
दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन के सुंदर दृश्य

 

 

 

यदि आप दिल्ली के नजदीक वाटफॉल, या दिल्ली से कम दूरी पर वाटफॉल की तलाश कर रहे है तो आप हमारा यह लेख पढ़ें:—-

दिल्ली के पास वाटफॉल

 

दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन या दिल्ली से कम दूरी वाले हिल स्टेशन तलाशने के पिछे हमारा मुख्य कारण ऑफिस का व्यस्त कार्यक्रम, बच्चों के स्कूल की छूट्टी न होना, और भी अन्य कई कारण होते है। जिनकी वजह से हम दिल्ली से कम दूरी वाले हिल स्टेशनों की तलाश करते है

 

 

यदि आप भी दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन या दिल्ली से कम दूरी के किसी हिल स्टेशन की तलाश कर रहे है तो हमारा यह लेख आपके लिए ही है। अपने इस लेख मे हम दिल्ली के नजदीक और दिल्ली से कम दूरी वाले अच्छे हिल स्टेशनों की सूची और उनके बारे मे विस्तार से नीचे बता रहे है। हमारे द्वारा सुझाए गए इन हिल स्टेशनों पर आप दिल्ली से 1-2 दिन की अच्छी यात्रा का आनंद उठा सकते है। और समय की बचत करते हुए दिल्ली की गर्मी और भागदौड भरी जिंदगी से अलग कुछ सकून भरे पल गुजार सकते है।

 

 

दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन

 

 

कार्तिक कृष्णा द्वादशी को गोधूलि-बेला मे, जब गाये चर- कर जंगल से वापस आती हैं, उस समय उन गायों और बछडों
कार्तिक कृष्णा-अष्टमी या अहोई अष्टमी को जिन स्त्रियों के पुत्र होता है वह अहोई आठे व्रत करती है। सारे दिन
अश्विन शुक्ला अष्टमी को जीवित्पुत्रिका व्रत होता है। इस व्रत को जीतिया व्रत के नाम से भी जाना जाता है।
भाद्रपद शुक्ल सप्तमी को संतान सप्तमी व्रत किया जाता है। इसे मुक्ता-भरण व्रत भी कहते है। यह व्रत सध्यान्ह तक
भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तीज हस्ति नक्षत्र-युक्त होती है। उस दिन व्रत करने से सम्पूर्ण फलों की प्राप्ति
श्रावण मास की शुक्ला चतुर्थी से लगाकर भादों की शुक्ला चतुर्थी तक जो मनुष्य एक बार भोजन कर के एक
गणेशजी के सम्पूर्ण व्रतों में सिद्धिविनायक व्रत प्रधान है। सिद्धिविनायक व्रत भाद्र-शुक्ला चतुर्थी को किया जाता है। पूजन के आरम्भ
भाद्र शुक्ला द्वितीया को अधिकांश गृहस्थो के घर बापू की पूजा होती है। यह बापू की पूजा असल में कुल-देवता
भारत भर में हरछठ जिसे हलषष्ठी भी कहते है, कही कही इसे ललई छठ भी कहते है। हरछठ का व्रत
कजरी की नवमी का त्योहार हिन्दूमात्र में एक प्रसिद्ध त्योहार है। श्रावण सुदी पूर्णिमा को कजरी पूर्णिमा कहते है। इसी

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *