दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन क्या आप इनके बारे में जानते है

दिल्ली शहर और एन.सी.आर क्षेत्र की धूल भरी, गर्म और भाग-दौड की जिंदगी से अक्सर हम इतना परेशान हो जाते है, कि सोचते है कि काश कोई तो ऐसी जगह हो जहां इन सबसे छुटकारा मिल सके। और तब हम सोचते है, ऐसी जगह पर घूमने जाने के बारे में, जहां वातावरण शांत हो, चारो तरफ मन को शांत करने वाले दृश्य हो, और ठंडी हवा के झौके हों, और जब ऐसी किसी जगह घूमने की बात चलती है तो सबसे पहले हम दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन की तलाश करते है।

 

 

दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन, दिल्ली के पास हिल स्टेशन, दिल्ली के आसपास अच्छे वातावरण वाले मानोरम दृश्यों से भरपूर पर्यटन स्थल, दिल्ली से 1-2 दिन की यात्रा वाले पर्यटन स्थल, दिल्ली से एक दो दिन की यात्रा पर कहां जाए। दिल्ली से कम समय की यात्रा वाले हिल स्टेशन, आदि विषय दिमाग में रखते हुए, हम कम से कम समय खर्च करके किसी अच्छे हिल स्टेशन की तलाश मे रहते है।

 

दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन के सुंदर दृश्य
दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन के सुंदर दृश्य

 

 

 

यदि आप दिल्ली के नजदीक वाटफॉल, या दिल्ली से कम दूरी पर वाटफॉल की तलाश कर रहे है तो आप हमारा यह लेख पढ़ें:—-

दिल्ली के पास वाटफॉल

 

दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन या दिल्ली से कम दूरी वाले हिल स्टेशन तलाशने के पिछे हमारा मुख्य कारण ऑफिस का व्यस्त कार्यक्रम, बच्चों के स्कूल की छूट्टी न होना, और भी अन्य कई कारण होते है। जिनकी वजह से हम दिल्ली से कम दूरी वाले हिल स्टेशनों की तलाश करते है

 

 

यदि आप भी दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन या दिल्ली से कम दूरी के किसी हिल स्टेशन की तलाश कर रहे है तो हमारा यह लेख आपके लिए ही है। अपने इस लेख मे हम दिल्ली के नजदीक और दिल्ली से कम दूरी वाले अच्छे हिल स्टेशनों की सूची और उनके बारे मे विस्तार से नीचे बता रहे है। हमारे द्वारा सुझाए गए इन हिल स्टेशनों पर आप दिल्ली से 1-2 दिन की अच्छी यात्रा का आनंद उठा सकते है। और समय की बचत करते हुए दिल्ली की गर्मी और भागदौड भरी जिंदगी से अलग कुछ सकून भरे पल गुजार सकते है।

 

 

दिल्ली के नजदीक हिल स्टेशन

 

 

प्राचीन काल से ही संसार के सभ्य देशों में चीन का स्थान अग्रणी था। कहते हैं चीन ही वह देश
श्री हंस जी महाराज का जन्म 8 नवंबर, 1900 को पौढ़ी गढ़वाल जिले के तलाई परगने के गाढ़-की-सीढ़ियां गांव में
हिन्दू धर्म में परमात्मा के विषय में दो धारणाएं प्रचलित रही हैं- पहली तो यह कि परमात्मा निर्गुण निराकार ब्रह्म
हम सब लोगों ने यह अनुभव प्राप्त किया है कि श्री चैतन्य महाप्रभु की शिष्य परंपरा में आध्यात्मिक गुरु किस
मैं एक ऐसी पद्धति लेकर हिमालय से उतरा, जो मनुष्य के मन और हृदय को उन, ऊंचाइयों तक ले जा
मैं देख रहा हूं कि मनुष्य पूर्णतया दिशा-भ्रष्ट हो गया है, वह एक ऐसी नौका की तरह है, जो मझदार
ईश्वर की प्राप्ति गुरु के बिना असंभव है। ज्ञान के प्रकाश से आलोकित गुरु परब्रह्म का अवतार होता है। ऐसे
भारत में राजस्थान की मिट्टी ने केवल वीर योद्धा और महान सम्राट ही उत्पन्न नहीं किये, उसने साधुओं, संतों, सिद्धों और गुरुओं
में सनातन पुरुष हूं। मैं जब यह कहता हूं कि मैं भगवान हूं, तब इसका यह अर्थ नहीं है कि
श्री साईं बाबा की गणना बीसवीं शताब्दी में भारत के अग्रणी गरुओं रहस्यवादी संतों और देव-परुषों में की जाती है।

Add a Comment