दतिया का इतिहास – दतिया महल या दतिया का किला किसने बनवाया था

दतिया महल या दतिया का किला

दतिया जनपद मध्य प्रदेश का एक सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक जिला है इसकी सीमाए उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद से मिलती है। यहां एक किला तथा उसके कुछ भग्नावशेष देखने को मिलते है। जिसे दतिया का किला या दतिया महल के नाम से स्थानीय लोगों द्वारा पुकारा जाता है।

 

 

 

दतिया का इतिहास

जनश्रुति के अनुसार कहा जाता है कि यहाँ पहले बक्रदन्त नामक दैत्य का राज्य था। उसी के नाम पर इस स्थान का नाम दतिया पडा। पहले दतिया गुप्त सम्राज्य के अन्तर्गत था। उसके पश्चात यहाँ गुर्जर प्रतिहारों का राज्य रहा है। गुर्जर प्रतिहारों के बाद यहाँ चन्देलों का राज्य रहा, उसके पश्चात यहाँ बुन्देलों का राज्य रहा इस सुप्रसिद्ध स्थल पर एक किला तथा अनेक आवासीय महल उपलब्ध होते है।

 

 

वीर सिंह जी देव की मित्रता मुगल समाज्य जहाँगीर से थी। इस मित्रता को वे कभी नहीं भूले। सन्‌ 1625 में जब जहाँगीर काबुल की यात्रा कर रहे थे। उस समय माहवत खाँ ने उनका अपहरण कर लिया। उन्हे छुडाने के लिये अपने छोटे पुत्र भगवान राव को जहाँगीर की मदद के लिये भेजा। वहाँ से लौटकर उन्होने दतिया नगर में महल बनवाया और भगवानराव को वहाँ का राजा नियुक्ति किया। इस समय खान जहान लोदी बीजापुर के असत खाँ की मदद कर रहा था। उसकी मृत्यु सन्‌ 1656 में हो गयी थी। उसकी याद में सुरही छतरी नामक स्मारक दतियाँ के समीप बना।

 

 

दतिया महल या दतिया का किला
दतिया महल या दतिया का किला

 

भगवान राव का उत्तराधिकारी शुभकरण हुआ, उसने अपने जीवनकाल में 22 युद्ध किये मुख्य रूप से बादक सान और आलाजान उनके नजदीकी थे। जब शाहजहाँ के लडको के मध्य सत्ता के लिये संघर्ष छिड गया, उस समय उसे बुन्देलखण्ड का सूबेदार बनाया गया था। सन्‌ 1659 में औरंगजेब दिल्‍ली का शासक बना। उसके पश्चात औरगंजेब के अनेक युद्ध मराठों से हुए, इस युद्ध में दतिया नरेश ने मुगलशासक का साथ दिया। सन्‌ 1679 मे शुभकरण की मृत्यु हो गयी। उसके पश्चात उसका पुत्र दलपतिराव उत्तराधिकारी हुआ और वह भी अपने पिता के समान मराठों के विरूद्ध औरंगजेब की मदद करता रहा इसलिए मुगल दरबार में उसे सम्मान दिया गया और वे उनके विशेष विश्वास पात्रों में हो गया।

 

 

इसी समय -सन्‌ 1694 में जिन्जी के कुछ भाग पर अधिकार हो जाने पश्चात मुगल बादशाह ने उसे दो द्वार भेंट किये। ये दोनों द्वार फूलबाग दतिया में बने हुए हैं। दलपति राव की मृत्यु सन् 1707 मे जजऊ के युद्ध मे हो गई। इसी साल औरंगजेब की भी मृत्यु हो गई।

 

 

औरंगजेब की मृत्य के पश्चात स्वभाविक रूप से मराठों बुन्देली और मुगलो में सत्ता संघर्ष तीव्रगति से चालू हुआ। औरंगजेब के जीवन के अन्तिम वर्ष में मुगल सत्ता कमजोर पड गयी और बुन्देलखण्ड के देशी नरेश स्वतंत्र हो गये। इस समय दतियाँ के नरेश सत्यजीत थे। इनका युद्ध ग्वालियर के सिन्धियाँ नरेश से हुआ। इस समय सिन्धियाँ की ओर से पेग्ल युद्ध कर रहा था। उससे दतिया का कुछ इलाका मराठो के अधिकार में चला गया और सत्यजीत युद्ध में मारे गये उसके बाद उनके पुत्र परीक्षक दतिया के नरेश बने उन्होने मराठों से युद्ध करना उचित नही समझा। इसलिये 1801 से लेकर 1804 के बीच मराठों से सन्धि कर ली। इसी प्रकार की एक सन्शि अंग्रेजो से भी हुई और यहाँ स्थाई शान्ति भी स्थापित हुई। राजा परिक्षक ने यहाँ परकोटे का निर्माण कराया और नगर में प्रवेश करने के लिये चार द्वारों का निर्माण कराया। ये दरवाजे रिक्षरा द्वार, लसकरद्वार, भाण्डेय द्वार और झाँसी के द्वार के नाम से जाने जाते है। सन्‌ 1818 में अंग्रेज गर्वनर जनरल वारेनहेस्टिंग यहाँ आये थे। जब 1902 में लार्ड कर्जन यहाँ आये उस समय दतिया की स्थित नाजुक हो गयी थी, और वह उजडने लगा था।

 

 

दतिया महल – दतिया का किला

दतिया महल, दतिया के इतिहास की सबसे खुबसूरत और ऐतिहासिक धरोहर है। दतिया महल को सतखंडा महल, पुराना महल, बीर सिंह देव महल, दतिया का किला और गोविन्द महल आदि नामों से भी जाना है। यह महल एक पहाड़ी पर बना हुआ है। दतिया महल धरातल से पांच मंजिला बना है। हकीकत में यह सात मंजिला है। दो तल इस किले के नीचे बताये जाते है। यह महल हिन्दू मुस्लिम वास्तुकला का विशेष नमूना है।

 

दतिया के दर्शनीय स्थल निम्नलिखित है।

1. दतिया किले का परकोटा
2. दतिया दुर्ग के चार प्रवेश द्वार
3. दतिया दुर्ग का गोविन्द महल
4. अन्य अवासीय महल

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:——

 

 

चौरासी गुंबद कालपी
चौरासी गुंबद यह नाम एक ऐतिहासिक इमारत का है। यह भव्य भवन उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना नदी
श्री दरवाजा कालपी
भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में कालपी एक ऐतिहासिक नगर है, कालपी स्थित बड़े बाजार की पूर्वी सीमा
रंग महल कालपी
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले के कालपी नगर के मिर्जामण्डी स्थित मुहल्ले में यह रंग महल बना हुआ है। जो
गोपालपुरा का किला जालौन
गोपालपुरा जागीर की अतुलनीय पुरातात्विक धरोहर गोपालपुरा का किला अपने तमाम गौरवमयी अतीत को अपने आंचल में संजोये, वर्तमान जालौन जनपद
रामपुरा का किला
जालौन  जिला मुख्यालय से रामपुरा का किला 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 46 गांवों की जागीर का मुख्य
जगम्मनपुर का किला
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना के दक्षिणी किनारे से लगभग 4 किलोमीटर दूर बसे जगम्मनपुर ग्राम में यह
तालबहेट का किला
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी – सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील
कुलपहाड़ का किला
कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक
पथरीगढ़ का किला
पथरीगढ़ का किला चन्देलकालीन दुर्ग है यह दुर्ग फतहगंज से कुछ दूरी पर सतना जनपद में स्थित है इस दुर्ग के
धमौनी का किला
विशाल धमौनी का किला मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह 52 गढ़ों में से 29वां था। इस क्षेत्र
बिजावर का किला
बिजावर भारत के मध्यप्रदेश राज्य के छतरपुर जिले में स्थित एक गांव है। यह गांव एक ऐतिहासिक गांव है। बिजावर का
बटियागढ़ का किला
बटियागढ़ का किला तुर्कों के युग में महत्वपूर्ण स्थान रखता था। यह किला छतरपुर से दमोह और जबलपुर जाने वाले मार्ग
राजनगर का किला
राजनगर मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में खुजराहों के विश्व धरोहर स्थल से केवल 3 किमी उत्तर में एक छोटा सा
पन्ना के दर्शनीय स्थल
पन्ना का किला भी भारतीय मध्यकालीन किलों की श्रेणी में आता है। महाराजा छत्रसाल ने विक्रमी संवत् 1738 में पन्‍ना
सिंगौरगढ़ का किला
मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के दमोह जिले में सिंगौरगढ़ का किला स्थित हैं, यह किला गढ़ा साम्राज्य का
छतरपुर का किला
छतरपुर का किला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में अठारहवीं शताब्दी का किला है। यह किला पहाड़ी की चोटी पर
चंदेरी का किला
भारत के मध्य प्रदेश राज्य के अशोकनगर जिले के चंदेरी में स्थित चंदेरी का किला शिवपुरी से 127 किमी और ललितपुर
ग्वालियर का किला
ग्वालियर का किला उत्तर प्रदेश के ग्वालियर में स्थित है। इस किले का अस्तित्व गुप्त साम्राज्य में भी था। दुर्ग
बड़ौनी का किला
बड़ौनी का किला,यह स्थान छोटी बड़ौनी के नाम जाना जाता है जो दतिया से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर है।
कालपी का किला
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई
उरई का किला और माहिल तालाब
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर
एरच का किला
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या
चिरगाँव का किला
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील
गढ़कुंडार का किला
गढ़कुण्डार का किला मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में गढ़कुंडार नामक एक छोटे से गांव मे स्थित है। गढ़कुंडार का किला बीच
बरूआ सागर का किला
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर
मनियागढ़ का किला
मनियागढ़ का किला मध्यप्रदेश के छतरपुर जनपद मे स्थित है। सामरिक दृष्टि से इस दुर्ग का विशेष महत्व है। सुप्रसिद्ध ग्रन्थ
मंगलगढ़ का किला
मंगलगढ़ का किला चरखारी के एक पहाड़ी पर बना हुआ है। तथा इसके के आसपास अनेक ऐतिहासिक इमारते है। यह हमीरपुर
जैतपुर का किला या बेलाताल का किला
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर
सिरसागढ़ का किला
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में
महोबा का किला
महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी
कल्याणगढ़ का किला मंदिर व बावली
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा
भूरागढ़ का किला
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान
रनगढ़ दुर्ग या जल दुर्ग
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग
खत्री पहाड़ का दुर्ग व मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात
मड़फा दुर्ग
मड़फा दुर्ग भी एक चन्देल कालीन किला है यह दुर्ग चित्रकूट के समीप चित्रकूट से 30 किलोमीटर की दूरी पर
रसिन का किला
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा
अजयगढ़ का किला
अजयगढ़ का किला महोबा के दक्षिण पूर्व में कालिंजर के दक्षिण पश्चिम में और खुजराहों के उत्तर पूर्व में मध्यप्रदेश
कालिंजर का किला
कालिंजर का किला या कालिंजर दुर्ग कहा स्थित है?:— यह दुर्ग बांदा जिला उत्तर प्रदेश मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर बांदा-सतना
ओरछा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
शक्तिशाली बुंदेला राजपूत राजाओं की राजधानी ओरछा शहर के हर हिस्से में लगभग इतिहास का जादू फैला हुआ है। ओरछा

%d bloggers like this: