तेल की खोज, जिसे खोजने वाले वैज्ञानिक की मूर्खता समझा गया था

धरती की लगभग आधा मील से चार मील की गहराई से जो गाढा कीचड़ मिला पदार्थ निकलता है, उसी को खनिज तेल कहा जाता है। वर्तमान संसार को आधुनिक बनाने में इस बहुमूल्य पदार्थ का बहुत बडा हाथ है। आज संसार को आधुनिक बनाने वाली करीब-करीब नब्बे प्रतिशत वस्तुएं इसी पदार्थ से निर्मित हैं।

 

 

तेल की खोज किसने की थी

 

 

सन्‌ 1859 में तेल तथा पैट्रोल का आविष्कार एडविन एवं ड्रेक एक बेरोजगार व अशिक्षित व्यक्ति ने किया था। उसे न्यूयार्क के एक वकील ने तेल की खोज के लिए प्रेरित किया। सन्‌ 1854 की शरद ऋतु में एक प्राध्यापक ने वकील जार्ज एच. बिसेल को एक खनिज तेल का नमूना दिखाया था। प्राध्यापक महोदय प्रयोगशाला में उस नमूने का परीक्षण कर रहे थे। प्राध्यापक ने वकील बिसेल को आश्वस्त किया कि यदि इस खनिज तेल को ठीक तरह से शुद्ध किया जाए तो कोयले से निकाले तेल की जगह यह अधिक अच्छी रोशनी दे सकेगा। ह्वेल मछली के तेल
और बत्ती में प्रयुक्त होने वाले मोम का अभाव देखते हुए स्कॉटलैण्ड में उन दिनों कोयले से Oil निकालने के प्रयत्न चल रहे थे। प्राध्यापक के सिद्धांत ने बिसेल को इतना अधिक प्रभावित किया कि उसने एक कम्पनी बना डाली। फलतः कोयला तेल के व्यापारियों ने मिट्टी के Oil को 20 डालर प्रति बैरल खरीदने का प्रस्ताव भी कर डाला।

 

 

 

लेकिन बिसेल के प्रयत्न सफल न हो सके। उसका सारा धन खर्च हो गया। इस मौके पर ड्रेक ने अपनी भूमिका का निर्वाह किया। उसने किसी विद्यालय में शिक्षा नहीं पाई थी। वह एक रोजगार से दूसरे रोजगार में भटक रहा था। हां, उसे पानी के कुंए खोदने का अनुभव था। स्थानीय जनता ड्रेक के दुस्साहस को उसकी मूर्खता करार दे रही थी कि 69 फूट की गहराई पर एक दिन oil निकल आया। टिट्सविले में तो तेल भू-तल तक आ गया था। पम्प लगाने पर कुंए से प्रतिदित 20 बैरल oil निकलने लगा।

 

 

तेल
तेल

 

ड्रेक की मूर्खता रंग लाई। सन 1867 तक कोयले के तेल के स्थान पर किरोसिन-मिट्॒टी का oil छा गया। इस oil से उत्तरी अमेरिकी राज्यों को अमेरिकी गृहयुद्ध में मदद मिली, साथ ही दक्षिणी राज्यों को कपास के स्थान पर विदेशी विनिमय का एक नया साधन भी मिला। युद्ध के बाद oil अमेरिका के महान औद्योगिक जीवन का आधार बन गया। इसके बाद यूरोप और अमेरिका में तेल के नए स्रोत मिले, पर विश्व का सबसे बड़ा तेल उत्पादक क्षेत्र मध्यपूर्व बहुत समय तक oil की दृष्टि से उपेक्षित ही रहा।

 

 

सन्‌ 1870 मे लार्ड रायटर ने फारस की सरकार से खनिज और तेल निकालने का पट्टा प्राप्त किया। 20 वर्ष तक प्रयत्न करने के बाद भी सफलता न मिलने पर रायटर पत्रकारिता के धंधे में चले गए। रायटर के पदचिह्नों पर विलियम कॉक्स दा अर्की ने इस क्षेत्र में प्रवेश किया। आस्ट्रेलिया मे सोने की खान से उन्हें विशाल
धनराशि मिली थी। दा अर्की ने फारस के क्षेत्रों की जांच-पड़ताल के लिए एक भूगर्भशास्त्री को भेजा। इस अंग्रेज उद्योगपति ने 20,000 पौण्ड देकर 4,80 हजार वर्ग मील मे तेल की खोज का अधिकार प्राप्त कर लिया। भारतीय सार्वजनिक निर्माण विभाग के एक अवकाश प्राप्त अधिकारी रेनाल्‍ट्स ने खुदाई का काम शुरू किया। जनवरी, सन्‌ 1904 में सफलता मिली और तैल प्राप्त हो गया, पर जल्दी एक समस्या पैदा हो गई। पहला कुंआ सूख गया। मध्यपूर्व के oil अभियान में दी अर्की के सवा लाख पौण्ड डूब चुके थे। कई प्रयत्नों के विफल होने के बाद रेनाल्टस
अंततः 26 मई, सन्‌ 1908 को सफल हुआ। उस दिन एक oil का फब्वारा फूट पड़ा।

 

 

अंततोगत्वा फारस में ऑयल मिल गया था और मध्यपूर्व में ऑयल उद्योग की प्रतिष्ठा हो गई। इस तेल उद्योग के संचालन के लिए एंग्लो-परशियन तेल कम्पनी स्थापित की गई। समूद्र तल तक 130 मील लंबी पाइप लाइन बिछाने तथा साल भर तक oil की एक बूंद भी न बिकने से कम्पनी के सम्मुख आर्थिक संकट पैदा हो गया। तत्कालीन नौसेना मंत्री विंस्टन चर्चिल ने ब्रिटिश नौसेना के लिए वाष्प चालित शक्ति के स्थान पर तेल का प्रयोग उचित ठहरा कर मध्यपूर्व के oil उत्पादन को उचित ठहराया। चर्चिल के विवेक के कारण मध्यपूर्व का तैल उद्योग पनप गया और प्रथम महायुद्ध में ब्रिटेन की स्थिति तेल के कारण मजबूत हो गईं।

 

 

 

भारत में तेल की खोज

 

भारत में पहला तेल का कुआं असम में सन्‌ 1866 में नाहार पोग में खोदा गया। इस कुएं मे oil नही निकला लेकिन सन्‌ 1867 मे माकुम नामक स्थान पर खोदे गए कुएं में पहली बार तेल निकला। असम रेलवे एण्ड कंपनी तथा आयल सिंडिकेट ने 1890-1893 के बीच चार तेल कुएं खोदे। दोनो कंपनियों को काफी सफलता मिली। सन 1898 तक इन कंपनियों ने 5 कुएं खोद डाले थे। ये दोनो कंपनियां मिलकर असम आयल कंपनी कहलाने लगी।

 

 

कुछ समय बाद सन्‌ 1901 में डिगबोई मे कारखाना खोला गया। सन 1920 तक असम कंपनी 80 कुएं खोद चुकी थी और 14,000 गैलन खनिज तेल प्रतिदिन निकालने लगी थी। इसी वर्ष बर्मा आयल कंपनी ने इंतजाम अपने हाथ मे ले लिया। सन्‌ 1959 में खंभात में पहले कुएं से oil निकला और अब गुजरात में खंभात, अंकलेश्वर और कलोल मे तेल निकाला जाने लगा है।

 

 

तेल की खोज में भारत को रूस ने बडी मदद की है। उसने तेल की खोज, सफाई और वितरण के काम में मदद दी है। कुछ विदेशी और देशी विशेषज्ञों का मत है कि हमारे देश में 4 अरब टन से अधिक ऑयल का भंडार है। एक रूसी विशेषज्ञ ने तो यहां तक कहा है कि 20 वर्ष के भीतर भारत को 5 करोड टन तेल प्रति वर्ष निकालना चाहिए। इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए जांच-पडताल और कुएं खोदने की गति तेज की जा रही है।

 

 

उसके बाद ईराक, कुवैत और सऊदी अरब में तेल उद्योग की प्रतिष्ठा हुई। इस समय उत्तरी ध्रुव से दक्षिणी ध्रुव तक व एशिया से दक्षिणी अमेरिका तक तेल की खोज जारी है। मध्यपूर्व इस समय विश्व के तेल उत्पादन का मुख्य स्रोत है। अनुमान है कि वहां पर 3,34,000 करोड बैरल, रूस मे 2,800 करोड तथा रूमानिया मे 100 करोड़ बैरल ऑयल का भण्डार है। यूरोप, अमेरिका, एशिया और हमारे अपने देश में तेल की खोज जारी है। संसार का औद्योगीकरण ही नही, विश्व की सामान्य संस्कृति दूसरे किसी भी पदार्थ की अपेक्षा ऑयल पर अधिक निर्भर है।

 

 

19वीं शताब्दी में विद्युत के विकास से पूर्व मिट्टी का oil प्रकाश देता था। अब वह पृथ्वी, समुद्र और वायु यातायात का आधार बन गया है, इसी की शक्ति द्वारा अंतरिक्ष में रॉकेट भेजे जाते हैं। आज इसी के बलबूते पर उद्योग मे ऊष्मा, ऊर्जा और शक्ति प्राप्त की जा रही है। Oil अब जलाया नही जाता, परंतु इसके दूसरे
उत्पादनों प्लास्टिक शोधक, नाइलान, टेरीलिन और दूसरे कृत्रिम उत्पादनों ने औद्योगिक क्षेत्र में क्रांति कर दी है। रासायनिक खाद तथा कीटाणु निरोधक औषधियां इसी से निर्मित हो रही हैं। संभवत: कुछ वर्षों मे यह प्रोटीन का मुख्य स्रोत भी बन जाए। एक समय जिस Oil को ड्रेक की मूर्खता समझा गया था, आज वह मानव का रक्षक व भक्षक दोनों ही बन गया है।

 

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े

 

 

अंकगणित
जो अंकगणित प्रणाली आज संसार में प्रचलित है, उसे विकसित और पूर्ण होने मे शताब्दियां लगी है। यद्यपि इसका आविष्कार Read more
प्लास्टिक
प्लास्टिक का अर्थ है- सरलता से मोड़ा जा सकने बाला। सबसे पहले प्लास्टिक की खोज अमेरिका के एक वैज्ञानिक जान बैसली Read more
रबड़
रबड़ आधुनिक सभ्यता की बहुत बड़ी आवश्यकता है। यदि हम रबर को एकाएक हटा लें, तो आज की सभ्यता पंगु Read more
उल्कापिंड
हवार्ड वेधशाला (अमेरिका) के प्रसिद्ध खगोलशास्त्री ह्विपल ने उल्कापिंड की खोज की तथा उन्होंने इसके प्रकुति-गुण, आकार, गति पर अनेक खोजें Read more
निऑन गैस
निऑन गैस के बढ़ते हुए उपयोग ने इसकी महत्ता को बढा दिया है। विज्ञापन हेतु भिन्न रंग के जो चमकदार Read more
ध्वनि तरंगें
हमारे आसपास हवा न हो, तो हम किसी भी प्रकार की आवाज नहीं सुन सकते, चाहे वस्तुओं में कितना ही Read more
धातुओं
वास्तव में वर्तमान सभ्यता की आधाराशिला उस समय रखी गई जब धातु के बने पात्र, हथियार तथा अन्य उपकरणों का Read more
रेडियो तरंगों की खोज
हम प्रतिदिन रेडियो सुनते है लेकिन हमने शायद ही कभी सोचा हो कि रेडियो सैकडों-हजारो मील दूर की आवाज तत्काल Read more
अवरक्त विकिरण
ब्रिटिश खगोलविद सर विलियम हर्शेल ने 19वीं शताब्दी के प्रारंभ में एक प्रयोग किया, जिसे अवरक्त विकिरण (infra red radiation) की Read more
अंतरिक्ष किरणों की खोज
अंतरिक्ष किरणों की खोज की कहानी दिलचस्प है। सन्‌ 1900 के लगभग सी.टी,आर. विल्सन, एन्स्टर और गीटल नामक वैज्ञानिक गैस Read more
प्रकाश तरंगों
प्रकाश तरंगों की खोज--- प्रकाश की किरणें सुदूर तारों से विशाल आकाश को पार करती हुई हमारी पृथ्वी तक पहुंचती Read more
परमाणु किरणों
परमाणु केन्द्र से निकली किरणों की खोज- कुछ पदार्थ ऐसे होते हैं कि यदि उन्हें साधारण प्रकाश या अन्य प्रकार Read more
एक्सरे
सन्‌ 1895 के एक सर्द दिन जर्मनी के वैज्ञानिक राण्ट्जन (Roentgen) फैथोड किरण विसर्जन नलिका (Cathode ray discharge tube) के साथ Read more
इलेक्ट्रॉन
इंग्लैंड के वैज्ञानिक जे जे थाम्सन ने सन्‌ 1897 में इलेक्ट्रॉन की खोज की। उन्होंने यह भी सिद्ध कर दिया कि Read more
धूमकेतु
अंतरिक्ष में इधर-उधर भटकते ये रहस्यमय धूमकेतु या पुच्छल तारे मनुष्य और वैज्ञानिकों के लिए हमेशा आशंका, उलझन तथा विस्मय Read more
पेड़ पौधों
इस समय हमारे भारतीय वैज्ञानिक सर जगदीशचंद्र बसु ने यह सिद्ध किया कि पेड़ पौधों में भी जीवन होता हैं, सारे Read more
मस्तिष्क
सन्‌ 1952-53 में अमेरिका के मांट्रियल न्यूरॉलॉजिकल इंस्टीट्यूट में एक 43 वर्षीय महिला के मस्तिष्क का आपरेशन चल रहा था। उसके Read more
एंटीबायोटिक
आधुनिक चिकित्सा के बढ़ते कदमों में एंटीबायोटिक की खोज निस्संदेह एक लंबी छलांग है। सबसे पहली एंटीबायोटिक पेनिसिलीन थी, जिसकी अलेग्जेंडर Read more
प्लूटो ग्रह
प्लूटो ग्रह की खोज किसने की और कैसे हुई यह जानकारी हम अपने इस अध्याय में जानेंगे। जैसा हमने पिछले Read more
नेपच्यून ग्रह
नेपच्यून ग्रह की खोज कैसे हुई यह हम इस अध्ययन में जानेंगे पिछले अध्याय में हम यूरेनस ग्रह के बारे Read more
यूरेनस ग्रह
बुध, शुक्र, बृहस्पति मंगल और शनि ग्रहों की खोज करने वाले कौन थे, यह अभी तक ज्ञात नहीं हो पाया Read more
बुध ग्रह
बुध ग्रह के बारे में मनुष्य को अब तक बहुत कम जानकारी है। मेरीनर-10 ही बुध ग्रह की ओर जाने Read more
बृहस्पति ग्रह
बृहस्पति ग्रहों में सबसे बड़ा और अनोखा ग्रह है। यह पृथ्वी से 1300 गुना बड़ा है। अपने लाल बृहदाकार धब्बे Read more
मंगल ग्रह
मंगल ग्रह के बारे में विगत चार शताब्दियों से खोज-बीन हो रही है। पिछले चार दशकों में तो अनंत अंतरिक्ष Read more
शुक्र ग्रह
शुक्र ग्रह तथा पृथ्वी सौर-मंडल में जुड़वां भाई कहे जाते हैं, क्योंकि इन दोनों का आकार तथा घनत्व करीब-करीब एक-सा Read more
चांद की खोज
जुलाई, सन्‌ 1969 को दो अमेरिकी अंतरिक्ष यात्रियों नील आर्मस्ट्रांग और एडविन आल्डिन ने अपोलो-11 से निकलकर चांद पर मानव Read more
सौर वायुमंडल
सूर्य के भीतर ज्वालाओं की विकराल तरंगे उठती रहती हैं। सूर्य की किरणों की प्रखरता कभी-कभी विशेष रूप से बढ़ Read more
सूर्य की खोज
दोस्तों आज के अपने इस लेख में हम सूर्य की खोज किसने कि तथा सूर्य के रहस्य को जानेंगे कहने Read more
अंतरिक्ष की खोज
अंतरिक्ष यात्रा के बारे में आज से लगभग 1825 वर्ष पूर्व लिखी गई पुस्तक थी-'सच्चा इतिहास'। इसके रचियता थे यूनान Read more

Add a Comment