तीस वर्षीय युद्ध – तीस सालों तक चलने वाला युद्ध कारण और परिणाम

यूरोप मे धार्मिक मतभेदों विशेष रुप से कैथोलिक (Catholic) तथा प्रोस्टेंटस (Protestents) के बीच मतभेदों के कारण हुए युद्धों में तीस वर्षीय युद्ध भी एक है। इस तीस वर्षीय युद्ध का आरंभ 1618 तब हुआ जब पवित्र रोमन साम्राज्य के प्रोस्टेंटस धर्मावलंबी बाहुल्य वाले बोहेमिया क्षेत्र के निवासियों ने कैथोलिक धर्म में आस्था रखने वाले आस्ट्रियाई मूल के फेर्डिनंड द्वितीय(Ferdinand ll) को अपना शासक मानने से इंकार कर दिया। इसके बाद तीस वर्षीय युद्ध धीरे धीरे राजनीतिक स्वरूप लेने लगा। जब अपने अपने लाभ के लिए यूरोप के कई अन्य देश धर्म के बहाने एक दूसरे के विरुद्ध सेनाएं भेजने लगे। इस प्रकार तीस वर्षों तक यह युद्ध लगातार चलता रहा। इस तीस वर्षीय युद्ध की समाप्ति 1648 में वेस्टफेलिया की संधि के साथ हुई। अपने इस लेख में हम इसी तीस वर्षीय लड़ाई का उल्लेख करेंगे और निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर विस्तार से जानेंगे:—-

 

तीस वर्षीय युद्ध कब से कब तक हुआ? तीस वर्षीय युद्ध के कारण क्या थे? तीस वर्षीय युद्ध की प्रकृति? तीस वर्षीय युद्ध के परिणाम क्या हुए? तीस वर्षीय युद्ध के प्रभाव क्या पड़े? तीस वर्षीय युद्ध in hindi? तीस वर्षीय युद्ध का काल क्या था? 30 वर्षीय युद्ध की मूल प्रकृति क्या थी? वेस्टफेलिया की संधि के महत्व क्या थे? आग्सबर्ग की संधि क्या थी? धर्म युद्ध के परिणामों की विवेचना? Thirty years bettel in hindi?

 

तीस वर्षीय युद्ध का कारण

सहत्रवीं शताब्दी में यूरोप के देशों में शांक्ति संतुलन का व्यापक संघर्ष चला। जर्मन इतिहासकारों ने इसे तीस वर्षीय युद्ध का नाम दिया और इसका काल 1618 से 1648 तक निर्धारित किया। उन्होंने इसे धार्मिक कारणों से लड़े गये युद्धों के रूप में चित्रित किया। यद्यपि इन युद्धों को आज भी ‘तीस वर्षीय युद्ध ‘ के नाम से ही जाना जाता है, किंतु अब अधिकांश इतिहासकार इसका काल-निर्धारण 1610 से 1660 तक करते हैं ओर इन्हें पचास वर्षों तक लडे गये अलग-अलग उदेश्यों वाले युद्ध मानते हैं।

 

इसमे कोई संदेह नही कि इन युद्धों के पीछे धार्मिक कारण (जर्मन प्रोटेस्टेंटों तथा कैथोलिकों के बीच विवाद) थे किन्तु वैधानिक तथा राजनितिक प्रश्नों (Constitutional and Political Questions) की भी अवहेलना नही की जा सकती। सच तो यह है कि धार्मिक, राजनीतिक, वैधानिक तथा आर्थिक कारणों में
कौन अधिक महत्त्वपूर्ण है ओर कौन कम महत्वपूर्ण है, यह बताना लगभग असंभव ही है। हां, यह जरूर है कि धार्मिक प्रश्नों ने इन युद्धों के पीछे सैदांतिक ओर प्रचारात्क आधारो का काम किया।

 

 

तीस वर्षीय युद्ध
तीस वर्षीय युद्ध

 

तीस वर्षीय युद्ध की प्रकृति

यदि हम मान ले कि ‘तीस वर्षीय युद्ध’ 1648 में वेस्टफेलिया की सन्धि के साथ समाप्त हो गया तो इन तीस वर्षों मे कम से कम दस युद्ध लड़े गये जो इस प्रकार है:—

  1. ज्यूलिस के उत्तराधिकार का युद्ध (War of the julich succession 1609-1614)
  2. बोहेमियाई ओर पेलेटाइन युद्ध (Bohemian and Palatine war 1618-1623)
  3. ग्राउब्यूनडेन की लड़ाई (Struggle for Graubunden 1620-1639)
  4. स्वीडन और पौलेंड का युद्ध (Swedish polish war 1621-1629)
  5. डेनिश युद्ध और प्रत्यानयन का आदेश (Denish war and the edict of restitution 1625-1629)
  6. मेटोवा का उत्तराधिकार युद्ध, (war of the Mantuav succession 1628-1631)
  7. स्वीडिश युद्ध और प्राग की शांति सन्धि (Swedish war and peace of Prague 1630-1635)
  8. स्मोलेस्क का युद्ध, (War of Smolensk 1632-1634)
  9. फ्रांसीसी स्वीडिश युद्ध, (Francisco- Swedish war 1635-148)
  10. स्वीडिश-डेनिश युद्ध, (Swedish-Denish war 1643-1645)

1648 मे वेस्टफेलिया की सन्धि तो अवश्य हुई किन्तु इन्ही युद्धों की श्रृंखला में दो अन्य युद्ध भी लड़े गये:– फ्रांसीसी-स्पेनी युद्ध (Franco-spenish war 1648-1659) और प्रथम उत्तरी युद्ध (First Northern war 1655-1660)
सुविधा के लिए इन युद्धों को चार चरणों में भी विभाजित किया जाता है’

  1. पैलेटाइन
  2.  डेनिश
  3.  स्वीडिश
  4.  फ्रांसीसी

 

पैलेटइन चरण

पैलेटाइन चरण युद्ध के प्रारम्भ होने से पाच वर्ष बाद तक (1623) माना जाता है। इस चरण मे प्रोटेस्टेंट ऐक्य के अध्यक्ष फ्रेडरिक की हार हुई। सम्राट फर्डिनिंड ने बवेरिया के राजा मेक्सीमीलियन तथा कैंथोलिक संघ की सहायता से प्रोटेस्टेंट दल पर आक्रमण किया। फ्रेडरिक के कमजोर नेतृत्व तथा लापरवाही के कारण 1620 में प्राग के पास उसकी पराजय हुई। फलत: उसे देश से निर्वासित कर दिया गया तथा प्रोटेस्टेंट ऐक्य विखंडित हो गया। धीरे-धीरे कैथोलिक मत वालो के अत्याचार को देखकर प्रोठेस्टेंट एकजुट होने लगे तथा उन्होने डेनमार्क के राजा क्रिश्चियन चतुर्थ तथा इग्लैंड को सहायता के लिए प्रार्थना की।

 

डेनिश चरण

डेनमार्क के रणक्षेत्र मे कूदने से युद्ध का दूसरा चरण 1624 से प्रारम्भ हुआ। कैथोलिक लीग के प्रसिद्ध जनरल टिली और अन्य सैनिक अफसर वेलेंस्टाइन की सहायता से सम्राट फर्डिनिंड ने प्रोटेस्टेंट मत वालो को कई स्थानों पर हराया। 1625 मे हैप्सबर्ग की शक्ति से डरते हुए डेनमार्क ने उत्तरी जर्मनी पर आक्रमण कर दिया किन्तु 1629 मे उसे पराजित होना पड़ा। सम्राट फर्डिनिंड द्वितीय को सभी अधिकृत क्षेत्र रोमन कैथोलिक चर्च को लौटाने पर सहमत होना पड़ा।

स्वीडिश चरण

1630 मे स्वीडन के राजा गुस्तावस अडॉल्फूस ने फर्डिनेड के विरुद्ध प्रोटेस्टेंट जर्मन राज्यो का नेतृत्व किया किन्तु 1632 मे लुटजन के युद्ध मे चारो ओर घिरे कूहरे में शत्रु की गोलियों से घायल होकर वह गिर पडा और मर गया।

 

फ्रांसीसी चरण

1635 तक आते-आते जर्मनी ने स्वीडन को समर्थन देना बंद कर दिया। बेलेंस्टाइन की सेनाएं भी पीछे हट गयीं किन्तु इसी समय रिचल्यू के नेतृत्व में फ्रांस के हस्तक्षेप से युद्ध का रूका हुआ सिलसिला फिर से शुरू हुआ। रिचंल्यू के साथ इस चरण में इटली, हॉलैंड, स्वीडन के सैनिक थे। स्वीडन के जनरल बरनार्ड तथा डच लोगो ने मिलकर सम्राट तथा स्पेन की सेना को कई बार
हराया। इसी दौरान बरनार्ड, रिचल्यू तथा फ्रांस के शासक लुई तेरहवां की मृत्यु हो गयी।

1637 में फर्डिनेड द्वितीय की मृत्यु के बाद फर्डिनेंड तृतीय सम्राट हुआ। 1640 में शांति वार्ताएं प्रारम्भ हुईं किन्तु सन्धि न हो सकी। फ्रांस के जनरल कोण्डी तथा ट्यूरेन के नेतृत्व में सेना ने सम्राट की सेना को फ्रीबर्ग (1642) नाराडिगन (1645) और लेंस (1648), आदि कई स्थानों पर हराया। अन्ततः 1648 में वेस्टफेलिया की सन्धि के साथ युद्ध विराम हुआ।

 

तीस वर्षीय युद्ध का परिणाम

 

यूरोप के इतिहास में इस सन्धि से धर्म संशोंधन का काल समाप्त हो गया। ऑग्सबर्ग की सन्धि के अनुसार राजकुमारो को अपने राज्यों का धर्म नियत करने का अधिकार दे दिया गया। कैथोलिक, लूथर तथा काल्विन, आदि सभी मतावलबियों को बराबरी का अधिकार दिया गया। सभाओं आदि में भी उनकी संख्या बराबर नियत की गयी। कैथोलिक-प्रोटेस्टेंट मतों की जब्त की गयी संपत्ति वापस लौटा दी गयी।

 

जर्मन एकीकरण की बात समाप्त हो गयी। ब्रेडनबर्ग, बवेरिया, सैक्सोनी तथा अन्य छोटी-छोटी लगभग 350 रियासतों को पूर्ण स्वतन्त्रता मिली। अपने से सबंधित प्रत्येक कार्य का निर्णय करने का दायित्व भी उन्हें सौप दिया गया। फलत: सम्राट नाममात्र के लिए रह गया। आलसेस तथा लॉरेन दोनों प्रांत फ्रांस के अधिकार में रहे परन्तु इसका झगड़ा फ्रांस तथा जर्मनी के बीच रुक-रुक कर अनेक वर्षों तक चलता रहा। युद्ध तथा अकालों के कारण जर्मनी की आबादी एक-तिहाई अर्थात 3 करोड़ से घटकर केवल एक करोड़ 20 लाख रह गयी। इसके अलावा कृषि, उद्योग, साहित्य, कला, विज्ञान, आदि सबका ह्वास हुआ।

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

ईरान इराक का युद्ध
1979 में ईरान के शाह रजा पहलवी के गद्दी छोड़कर भागने तथा धार्मिक नेता अयातुल्लाह खुमैनी के आगमन से आंतरिक Read more
फॉकलैंड द्वीपसमूह
भोगौलिक एवं सांस्कृतिक दृष्टि से फॉकलैंड ब्रिटेन की अपेक्षा अर्जेण्टीना के काफी निकट है किन्तु ब्रिटेन उसे अपना उपनिवेश मानता Read more
वियतनाम का युद्ध
भारत के दक्षिण-पूर्व में एक छोटा-सा देश है वियतनाम सोशलिस्ट रिपब्लिक। 69 वर्षों तक फ्रांसीसी उपनिवेश रहने के बाद 1954 Read more
प्रथम विश्व युद्ध
यूं तो प्रथम विश्व युद्ध का आरंभ सर्ब्रियनवासी राष्ट्रवादी (Serbian Nationalist) द्वारा आस्ट्रिया के राजकुमार आर्कडयूक फ्रैंज फर्डिनैंड (Archduke Franz Ferdinand) Read more
अरब इजरायल युद्ध
द्वितीय विश्य युद्ध की समाप्ति के बाद 14 मई, 1948 में संयुक्त राष्ट्र संघ ने ब्रिटिश आधिपत्य के फिलिस्तीनी भू-क्षेत्र Read more
बाल्कन युद्ध
दक्षिण पूर्वी यूरोप के बाल्कन प्रायद्वीप (Balkan Peninsula) के देश तुर्क साम्राज्य की यातनापूर्ण पराधीनता से मुक्त होना चाहते थे। Read more
रूस जापान युद्ध
20वीं सदी के प्रारम्भ में ज़ारशाही रूस ने सुदूर पूर्व एशिया (For East Asia) के दो देशों, मंचूरिया और कोरिया पर Read more
फ्रांस प्रशिया युद्ध
प्रिंस ओट्टो वॉन बिस्मार्क (Prince Otto Van Bismarck) को इसी युद्ध ने जर्मन साम्राज्य का संस्थापक और प्रथम चांसलर बना Read more
क्रीमिया का युद्ध
तुर्क साम्राज्य के ईसाइयों को सुरक्षा प्रदान करने के बहाने रूस अपने भू-क्षेत्र का विस्तार कॉस्टेंटिनोपल (Constantinople) तक करके भूमध्य सागर Read more
वाटरलू का युद्ध
वाटरलू का युद्ध 1815 में लड़ा गया था। यह युद्ध बेल्जियम में लडा़ गया था। नेपोलियन का ये अन्तिम युद्ध Read more
Battle of Salamanca
स्पेन फ्रांस का मित्र देश था किंतु नेपोलियन नहीं चाहता था कि यूरोप में कोई भी ऐसा देश बचा रह Read more
Austerlitz war
जुलाई, 1805 में ब्रिटेन, आस्ट्रिया, रूस और प्रशिया ने मिलकर नेपोलियन से टककर लेने का निर्णय किया। जवाब में नेपोलियन ने Read more
सप्तवर्षीय युद्ध
सात वर्षों तक चलने वाले इस युद्ध मे एक ओर ऑस्टिया, फ्रांस, रूस, सैक्सोनी, स्वीडन तथा स्पेन और दूसरी तरफ Read more
गुलाब युद्ध
पंद्रहवीं शताब्दी में ब्रिटेन मे भयानक गृहयुद्ध हुए। इनकी शुरुआत तब हुई जब ब्रिटेन का, तत्कालीन शासक हेनरी छठम (Henri Read more
सौ वर्षीय युद्ध
लगभग 135 वर्षों तक फ्रांस और ब्रिटेन के बीच चलने वाले इस सौ वर्षीय युद्ध का आरम्भ तब हुआ जब ब्रिटेन Read more
धर्मयुद्ध
येरूशलम (वर्तमान मे इसरायल की राजधानी) तीन धर्मों की पवित्र भूमि हैं। ये धर्म हैं- यहूदी, ईसाई और मुस्लिम। समय-समय Read more
रोमन ब्रिटेन युद्ध
महान रोमन सेनानायक जूलियस सीजर (Julius Caesar) ने दो बार ब्रिटेन पर चढ़ाई की। 55 ई.पू. और 54 ई.पू. में। Read more
प्यूनिक युद्ध
813 ई.पू. में स्थापित उत्तरी अफ्रीका का कार्थेज राज्य धीरे-धीरे इतना शक्तिशाली हो गया कि ई.पू तीसरी-दूसरी शताब्दी में भूमध्यसागरीय Read more
एथेंस स्पार्टा युद्ध
प्राचीन यूनान के दो राज्य-प्रदेशो एथेंस और स्पार्टा में क्षेत्रीय श्रेष्ठता तथा शक्ति की सर्वोच्चता के लिए प्रतिदंद्धिता चलती रहती थी। Read more
थर्मापायली का युद्ध
पूर्व-मध्य यूनान में एक बड़ा ही सेकरा दर्रा है- थर्मापायली। यह दर्रा उत्तरी मार्ग से यूनान में आने-जाने का मुख्य Read more
मैराथन का युद्ध
ई.पू. पांचवीं-छठी शताब्दी में फारस के बादशाहों का बड़ा बोलबाला था। एजियन सागर (Aegean sea) के निकट के लगभग सभी Read more
ट्रॉय का युद्ध
1870 में जर्मन पुरातत्ववेत्ता (Archaeology) हेनरिक श्लिमैन (Henrich Schliemann) ने पहली बार सिद्ध किया कि टॉय का युद्ध यूनानी कवि होमर Read more
1971 भारत पाकिस्तान युद्ध
भारत 1947 में ब्रिटिश उपनिषेशवादी दासता से मुक्त हुआ किन्तु इसके पूर्वी तथा पश्चिमी सीमांत प्रदेशों में मुस्लिम बहुमत वाले क्षेत्रों Read more

write a comment