तरनतारन गुरूद्वारा साहिब का इतिहास – तरनतारन के प्रमुख गुरूद्वारे

तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है। तरनतारन साहिब की स्थापना गुरु अर्जन देव ने पांचवे सिख गुरु के रूप में की थी। उन्होंने श्री तरनतारन साहिब मंदिर की नींव रखी थी। 1947 में, भारत के विभाजन के वर्ष, तरनतारन पंजाब की एकमात्र तहसील थी, जिसमें बहुसंख्यक सिख आबादी थी। यह शहर 1980 और 1990 के दशक की शुरुआत में सिख उग्रवाद का केंद्र था जब तरनतारन साहिब को खालिस्तान की राजधानी के रूप में सुझाया गया था। खेती और कृषि-उद्योग क्षेत्र में मुख्य व्यवसाय है। हालाँकि, कुछ अन्य उद्योग विकसित हो रहे हैं। तरनतारन जिले का गठन 2006 में किया गया था। इस आशय की घोषणा पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने श्री गुरु अर्जन देव जी के शहादत दिवस के उपलक्ष्य में की थी। इसके साथ ही यह पंजाब का 19 वां जिला बनया गया था।

तरनतारन गुरूद्वारा साहिब का इतिहास

शहर में कई ऐतिहासिक गुरुद्वारे हैं, जिनमें दरबार साहिब श्री गुरु अर्जन देव जी, गुरुद्वारा गुरु का खोह (गुरूद्वारा गुरु का कुआं ), गुरुद्वारा बीबी भीनी दा खो, गुरुद्वारा बक्कर साहिब, गुरुद्वारा झील साहिब, गुरुद्वारा बाबा गरजा सिंह बाबा बोटा सिंह, गुरुद्वारा गुरुद्वारा झुलना महल, और थाटी खार। ऐतिहासिक महत्व के कई गुरुद्वारों के साथ, मांजी बेल्ट लंबे समय से सिख तीर्थाटन और पर्यटन का एक केंद्र रहा है। तरनतारन साहिब में मुख्य धार्मिक केंद्र श्री दरबार साहिब तरनतारन है, जिसे श्री गुरु अर्जन देव जी द्वारा बनाया गया है। गुरुद्वारा श्री दरबार साहिब तरन तारन में दुनिया का सबसे बड़ा सरोवर (पवित्र सरोवर) है।

तरनतारन गुरूद्वारा साहिब जिसे श्री दरबार साहिब भी कहते है। तरनतारन रेलवे स्टेशन से एक किमी तथा बस स्टैंड से आधा की दूरी पर स्थित हैं। तरनतारन अमृतसर से 24 किमी की दूरी पर अमृतसर-फिरोजपुर रोड़ पर स्थित है।

यह प्राचीन गुरूद्वारा साहिब दिल्ली लाहौर राजमार्ग पर स्थित है। तरनतारन पांचवे गुरू अर्जुन देव जी द्वारा बसाया गया पवित्र धार्मिक ऐतिहासिक शहर है।

गुरू अर्जुन देव जी ने खारा व पालासौर के गांवों की जमीन खरीदकर सन् 1590 में तरनतारन नगर की स्थापना की थी। मीरी-पीरी के मालिक गुरू हरगोविंद सिंह जी महाराज के पावन चरण भी इस पवित्र स्थान पर पड़े है।

तरनतारन साहिब का निर्माण कार्य अभी चल ही रहा था कि सराय नूरदीन का निर्माण सरकारी तौर पर शुरू हो गया। तरनतारन साहिब का निमार्ण कार्य रूकवा दिया गया। निमार्ण के लिए एकत्र ईंटें इत्यादि नूरदीन का पुत्र अमीरूद्दीन उठा कर ले गया।

सन् 1772 में सरकार बुध सिंह फैजल ने सराय नूरदीन पर कब्जा किया तथा नूरदीन की सराय को गिरवा दिया और गुरू घर की ईंटो को वापस लिया तथा गुरू की नगरी तरनतारन का निर्माण दुबारा शुरू करवाया।

शेरे पंजाब महाराजा रणजीत सिंह जी ने अपने राजकाल के दौरान श्री दरबार साहिब तरनतारन की ऐतिहासिक इमारत को नवीन रूप प्रदान किया तथा सोने की मीनाकारी का ऐतिहासिक कार्य करवाया।

साथ ही विशाल सरोवर की परिक्रमा को महाराजा रणजीत सिंह जी ने ही पक्का करवाया। तत्कालीन परिस्थितियों के अनुरूप सिख संगतो के आवागमन के लिए बहुत सारे बुर्ज भी बनाये गये, अंग्रेजों के समय में भी तरनतारन गुरूद्वारा साहिब का प्रबंध उदासी महंतों के पास था।

गुरूद्वारा प्रबंध सुधार लहर के समय 26 जनवरी 1920 को उदासियों के साथ संघर्ष करके सिक्खों ने इस स्थान का प्रबंध अपने हाथों में ले लिया। सन् 1930 को तरनतारन गुरूद्वारा साहिब का प्रबंध शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के पास आ गया।

श्री दरबार साहिब तरनतारन की अति सुंदर व आलिशान इमारत इसके विशाल सरोवर के एक किनारे पर स्थित है। इस पवित्र ऐतिहासिक स्थान पर सभी गुरू पर्व, श्री गुरू अर्जुन देव जी महाराज का शहीदी दिवस तथा वैशाखी बड़े स्तर पर मनाये जाते है।

तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य

श्री दरबार साहिब

गुरुद्वारा दरबार साहिब (तरनतारन) सरोवर के दक्षिण-पूर्वी कोने पर एक सुंदर तीन मंजिला संरचना है। एक डबल मंजिला धनुषाकार प्रवेश द्वार के माध्यम से स्वीकृत, यह एक संगमरमर के फर्श के बीच में खड़ा है। इमारत के ऊपरी हिस्से को चमचमाती हुई सोने की चादरों से ढंका गया कमल का गुंबद इसकी शान और बढ़ा देता है।, हालांकि यह एक प्राचीन गुरूद्वारा है जिसकी प्राचीन इमारत एक भूकंप में क्षतिग्रस्त हो गई थी जिसको बाद मे (4 अप्रैल 1905) में पुनर्निर्माण किया गया जिसमें एक छतरियों के साथ सोने के पंखों वाला एक सजावटी स्वर्ण शिखर है। जटिल डिजाइन में जटिल रूप से निष्पादित प्लास्टर का काम, कांच के टुकड़ों को प्रतिबिंबित करने के साथ इनसेट, सब कुछ सुंदर तरीके से डिजाइन किया गया है।। गुरु ग्रंथ साहिब को एक सिंहासन पर रखा गया है, जो सोने से बनी धातु की चादर से ढका हुआ है।

पवित्र सरोवर

यहां स्थित सरोवर, पवित्र सिख सरोवरों में सबसे बड़ा है, सरोवर आकार में आयताकार है। इसके उत्तरी और दक्षिणी हिस्से क्रमशः 289 मीटर और 283 मीटर और पूर्वी और पश्चिमी पक्ष क्रमशः 230 मीटर और 233 मीटर हैं। सरोवर मूल रूप से बारिश के पानी से भरा जाता था जो आसपास की भूमि से बहता था। 1833 में, Jmd के महाराजा रघुबीर सिंह ने एक पानी चैनल खोदा था, जो टैंक को दक्षिण पूर्व में 5 किमी दूर रसूलपुर के ऊपरी बान दोआब नहर की निचली कसूर शाखा से जोड़ता था। संत गुरुमुख सिंह और संत साधु सिंह द्वारा चैनल को सीमेंट से कवर (1927-28) किराया गया। उन्होंने 1931 में टैंक के कारसेवा (स्वैच्छिक सेवा के माध्यम से टैंक के पूर्ण डिसिल्टिंग) का भी निरीक्षण किया। यह ऑपरेशन 1970 में संत जीवन सिंह के नेतृत्व में दोहराया गया था।

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—

ककार का अर्थ

लोहगढ़ साहिब का इतिहास

गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब

गुरूद्वारा गुरू का महल

खालसा पंथ की स्थापना

आनंदपुर साहिब का इतिहास

हेमकुण्ड साहिब का इतिहास

दमदमा साहिब का इतिहास

पांवटा साहिब का इतिहास

सिख परंपरा के अनुसार, पुराने तालाब का पानी औषधीय गुणों के लिए पाया जाता था, खासकर कुष्ठ रोग के इलाज के लिए। इस कारण सरोवर को पहले दुखन निवारन के नाम से जाना जाता था, जो विपत्ति के उन्मूलनकर्ता थे। अकाल बुंगा (द हॉल ऑफ द एवरलास्टिंग (भगवान), एक चार मंजिला इमारत, जो निशान साहिब (सिख झंडा) के पास है, का निर्माण 1841 में कंवर नौ निहाल सिंह ने करवाया था। महाराजा शेर सिंह ने फिनिशिंग टच दिया। गुरु ग्रंथ साहिब, के बाद। देर शाम भजनों के बीच सरोवर के आसपास एक जुलूस, रात के विश्राम के लिए यहां लाग जाता है। परिधिमूलक फुटपाथ के पूर्वी हिस्से में एक छोटा गुंबददार मंदिर, मंजी साहिब, उस स्थान को चिह्नित करता है जहां से गुरु अर्जन ने खुदाई की निगरानी की थी। सरोवर। एक दीवान हॉल, कंक्रीट का एक विशाल मंडप, अब इसके करीब बनाया गया है।

भारत के प्रमुख गुरूद्वारों पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—-

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state)
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है।
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर" कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है।
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की
खालसा पंथ
"खालसा पंथ" दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *