ट्रांसफार्मर का आविष्कार किसने किया और यह कैसे काम करता है

ट्रांसफार्मर

ए° सी० बिजली किफायत की दृष्टि से 2000 या अधिक वोल्ट की तैयार की जाती है। घर के साधारण कामों के लिए इतना वोल्टेज बहुत अधिक है, और इसलिए कोई ऐसी मशीन चाहिए जो बिजली की मात्रा को तो कम न करे पर वोल्टेज को कम कर दे । यह काम ट्रांसफार्मर यंत्र द्वारा निकाला जाता है।

 

 

ट्रांसफार्मर का आविष्कार तथा ट्रांसफार्मर बनाने के सिद्धान्त का श्रेय भी माइकल फैराडे को है। उसने लोहे के गोल छड़ पर तारों की दो कुंडलियाँ लपेटी। एक कुंडली के दोनों सिरों को उसने बैटरी से संयुक्त कर दिया। दूसरी कुंडली के दोनों सिरों को उसने गैलवेनो मीटर ( धारा सूचक ) से जोड़ा। पहली कुंडली में जैसे ही बिजली की धारा भेजी गयी, गैलवेनो मीटर की सुई हिलने लगी जिससे स्पष्ट हो गया कि कहीं से दूसरी कुंडली में भी बिजली की धारा पैदा है। एक कुंडली की धारा ने दूसरी कुंडली में “आवेश धारा” (इंडयूस्ड करेंट) पैदा कर दी। इस प्रयोग ने ट्रांसफार्मर को जन्म दिया।

 

 

ट्रांसफार्मर का आविष्कार किसने किया

 

 

पहली कुंडली को जिसमें बिजली की धारा बैटरी से गई थी, हम प्राथमिक कुंडली (प्राइमरी कॉयल) कहेंगे, ओर दूसरी कुंडली की जिसमें धारा आवेश से उत्पन्न हुई, हम द्वतीयिक कुंडली
( सेकेंडरी कॉयल ) कहेंगे। यह बात बड़ी विलक्षण देखी गयी कि
दोनों कुंडलियों में तारो के लपेट की संख्या बराबर हो तो दोनों की धारायें भी एक ही बोल्ट की होंगी। पर यदि एक कुंडली में दूसरे की अपेक्षा 10 गुने अधिक लपेट हैं तो इसकी धारा का वोल्टेज भी दस गुना होगा।

 

ट्रांसफार्मर
ट्रांसफार्मर

 

मान लीजिए कि डायनेमो से 2000 बोल्ट वाली उत्पन्न बिजली प्राथमिक कुंडली में भेजी गयी। द्वितीयिक कुंडली इस प्रकार की ली गयी जिसमें तार के लपेटों को संख्या प्राथमिक के लपेटों की संख्या का 1/10 है। तो इस द्वैतीयिक कुंडली में उत्पन्न आवेश धारा का वोल्टन 200 ही होगा (प्राथमिक के वोल्टन का 1/10 )। यही ट्रांसफार्मर का सिद्धांत है और इसी सिद्धान्त पर ट्रांसफार्मर बनाए जाते हैं। उनकी प्राथमिक कुंडली में तार अधिक लपेटों के होते हैं, और द्वैतीयिक में कम।

 

 

यह याद रखना चाहिए कि यदि किसी धारा का वबोल्टन बढ़ा दिया जाय तो एम्पीयर मात्रा उसकी कम हो जायगी। अगर किसी धारा की माप 100 वोल्ट पर 10 एम्पीयर है, तो यदि वोल्टेज 1000 कर दिया जाय तो उसकी एम्पीयर मात्रा 1 हो जायगी। हम बिजली की सामर्थ्य को बहुधा वाट ( Watt) में नापते हैं। वोल्टेज को एम्पीयर मात्रा से गुणा करने पर जो अंक आता है वह वाट-संख्या होती है। 10 एम्पीयर ×100 वोल्ट= 1000 वाट (या एक किलोवाट)। वोल्टेज घटाने बढ़ाने पर एम्पीयर मात्रा इस प्रकार बढ़ती-घटती है कि वाट संख्या में कमी-बढ़ती नहीं होती।

 

 

यह ध्यान रखने की बात है कि ट्रांसफार्मरों का उपयोग केवल ए० सी० बिजली के लिए हो सकता है न कि डी० सी० के लिए। बात यह है कि जैसा हम ए० सी० बिजली बनाते समय कह आये हैं कि बिजली चुम्बक के धुमाने या बाहर खींचने पर ही पैदा होती थी, उसी प्रकार यहाँ भी द्वैतीयिक कुंडली में आवेश बिजली केवल उसी क्षण उत्पन्न होती हैं जिस क्षण प्राथमिक कुंडली में बिजली घुसती है, अथवा जिस क्षण इसका प्रवाह रोका जाता है। घुसने के समय उत्पन्न बिजली की दिशा और होती है ओर बंद हीने के क्षण पर ओर। आवेश से बिजली बराबर पैदा होती रहे इसके लिए यह आवश्यक है कि प्राथमिक कुंडली में लगातार धारा घुस और बन्द हो। ऐसा करने के लिए यंत्र में जोड़-तोड़’ ( मेक ओर ब्रेक ) का प्रबन्ध किया जाता है जैसा कि बिजली की घंटी में होता है।

 

 

बड़ी समाई वाले ट्रांसफार्मर काम करते-करते गरम हो उठते
हैं। अत: इनकी कुंडलियों को तेल में डुबा कर ठंढा रखना पड़ता
है। आजकल इतने भीमकाय ट्रांसफार्मर बन गए हैं कि यदि कहीं
फेरेडे जन्म लेकर आ जाय तो उसे स्वयं आश्चर्य होगा कि उसका
नन्हा सा ट्रांसफार्मर आज वाट का कितना बड़ा वृक्ष बन चुका है।

 

 

लंदन  के बार्किंग पॉवर स्टेशन में 3 ट्रांसफार्मर हैं जिनमें 12500
से लेकर 33000 वोल्ट धारा का प्रयोग होता है। इनकी सामर्थ्य
10 करोड़ वोल्ट-एम्पीयर ( 12500 अश्वबल है )। प्रत्येक
ट्रांसफार्मर में 43 मील लंबें ताँबें के तार हैं। कुंडली का भार 120 टन है, आर इसे ठंडा रखने के लिए 6000 गेलन तेल चक्कर
लगाता रहता है। तेल को पानी के प्रवाह में ठंडा रखते हैं।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

 

डायनेमो सिद्धांत
डायनेमो क्या है, डायनेमो कैसे बने, तथा डायनेमो का आविष्कार किसने किया अपने इस लेख के अंदर हम इन प्रश्नों Read more
बैटरी
लैक्लांशी सेल या सखी बैटरी को प्राथमिक सेल ( प्राइमेरी सेल) कहते हैं। इनमें रासायनिक योग के कारण बिजली की Read more
रेफ्रिजरेटर
रेफ्रिजरेटर के आविष्कार से पहले प्राचीन काल में बर्फ से खाद्य-पदार्थों को सड़ने या खराब होने से बचाने का तरीका चीन Read more
बिजली लाइन
कृत्रिम तरीकों से बिजली पैदा करने ओर उसे अपने कार्यो मे प्रयोग करते हुए मानव को अभी 140 वर्ष के Read more
प्रेशर कुकर
प्रेशर कुकर का आविष्कार सन 1672 में फ्रांस के डेनिस पपिन नामक युवक ने किया था। जब डेनिस पपिन इंग्लेंड आए Read more
इत्र
कृत्रिम सुगंध यानी इत्र का आविष्कार संभवतः सबसे पहले भारत में हुआ। प्राचीन भारत में इत्र द्रव्यो का निर्यात मिस्र, बेबीलोन, Read more
कांच की वस्तुएं
कांच का प्रयोग मनुष्य प्राचीन काल से ही करता आ रहा है। अतः यह कहना असंभव है, कि कांच का Read more
घड़ी
जहां तक समय बतान वाले उपरकण के आविष्कार का प्रश्न है, उसका आविष्कार किसी वैज्ञानिक ने नहीं किया। यूरोप की Read more
कैलेंडर
कैलेंडर का आविष्कार सबसे पहले प्राचीन बेबीलोन के निवासियों ने किया था। यह चंद्र कैलेंडर कहलाता था। कैलेंडर का विकास समय Read more
सीटी स्कैन
सीटी स्कैन का आविष्कार ब्रिटिश भौतिकशास्त्री डॉ गॉडफ्रे हान्सफील्ड और अमरीकी भौतिकविज्ञानी डॉ एलन कोमार्क ने सन 1972 मे किया। Read more
थर्मामीटर
थर्मामीटर का आविष्कार इटली के प्रसिद्ध वैज्ञानिक गेलिलियो ने लगभग सन्‌ 1593 में किया था। गेलिलियो ने सबसे पहले वायु का Read more
पेनिसिलिन
पेनिसिलिन की खोज ब्रिटेन के सर एलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने सन् 1928 में की थी, लेकिन इसका आम उपयोग इसकी खोज Read more
स्टेथोस्कोप
वर्तमान समय में खान पान और प्राकृतिक के बदलते स्वरूप के कारण हर मनुष्य कभी न कभी बिमारी का शिकार Read more
क्लोरोफॉर्म
चिकित्सा विज्ञान में क्लोरोफॉर्म का आविष्कार बडा ही महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। क्लोरोफॉर्म को ऑपरेशन के समय रोगी को बेहोश करने Read more
मिसाइल
मिसाइल एक ऐसा प्रक्षेपास्त्र है जिसे बिना किसी चालक के धरती के नियंत्रण-कक्ष से मनचाहे स्थान पर हमला करने के Read more
माइन
सुरंग विस्फोटक या लैंड माइन (Mine) का आविष्कार 1919 से 1939 के मध्य हुआ। इसका आविष्कार भी गुप्त रूप से Read more
मशीन गन
एक सफल मशीन गन का आविष्कार अमेरिका के हिरेम मैक्सिम ने सन 1882 में किया था जो लंदन में काम कर Read more
बम का आविष्कार
बम अनेक प्रकार के होते है, जो भिन्न-भिन्न क्षेत्रों, परिस्थितियों और शक्ति के अनुसार अनेक वर्गो में बांटे जा सकते Read more
रॉकेट
रॉकेट अग्नि बाण के रूप में हजारों वर्षो से प्रचलित रहा है। भारत में प्राचीन काल से ही अग्नि बाण का Read more
पैराशूट
पैराशूट वायुसेना का एक महत्त्वपूर्ण साधन है। इसकी मदद से वायुयान से कही भी सैनिक उतार जा सकते है। इसके Read more

write a comment

%d bloggers like this: